गृहशोभा विशेष

‘‘कितनी खुश होती हैं वे पत्नियां जिन के पति रोज सुबह उन्हें चाय का कप थमा कर जगाते हैं… चाय का कप तो दूर की बात है कभी 1 गिलास पानी तक नहीं मिला इन के हाथों से,’’ पत्नी शालू को हमेशा पति विवेक से शिकायत रहती. पत्नी की रोजरोज की शिकायत दूर करने के लिए एक दिन सुबह जल्द उठ कर विवेक ने 2 कप चाय बनाई और फिर जबान में मिठास घोलते हुए बोला, ‘‘गुडमौर्निंग डार्लिंग… गरमगरम चाय हाजिर है.’’

यह सुन शालू के आश्चर्य का ठिकाना नहीं रहा. मुसकराते हुए पति के हाथ से चाय का कप ले लिया. मगर एक घूंट पीते ही बुरा सा मुंह बना कर बोली, यह क्या बकवास चाय बनाई है? न चायपत्ती का कोई हिसाब न चीनी का… दूध तो जैसे डाला ही नहीं… सुबहसुबह मूड खराब कर दिया.

विवेक को भी गुस्सा आ गया. बोला, इधर गिरो तो कुआं उधर गिरो तो खाई… कुछ करो तो बुरा, न करो तो निकम्मा… मुझे तो बस बुराई ही मिलनी है…

रमेश औफिस से आ कर मूड फ्रैश करने के लिए अपना सोशल अकाउंट और मेल चैक करने लगा. तभी सीमा ने पूछा, ‘‘खाने में क्या बनाऊं?’’

कुछ भी बना लो, जो तुम्हें पसंद हो, रमेश ने फेसबुक पर दिनभर की पोस्ट पढ़ते हुए जवाब दिया.

‘‘क्यों, खाना क्या सिर्फ मैं खाती हूं? तुम्हारी कोई पसंद नहीं? पूछो तो नौटंकी और न पूछो तो ताने कि हमारी पसंद तो कोई पूछता ही नहीं,’’ सीमा ने भन्नाते हुए कहा.

तब रमेश को एहसास हुआ कि जानेअनजाने उस ने गृहविवाद की शुरूआत कर दी है. वह बहस को और आगे बढ़ा कर घर का माहौल खराब नहीं करना चाहता था, इसलिए हथियार डालते हुए बोला, ‘‘अच्छा, तुम अपने औप्शन बताओ.’’

‘‘आलूमटर, गाजरमटर या पनीरमटर,’’ सीमा बोली.

‘‘मतलब यह कि आज तो मटर खिला कर ही मानोगी. अच्छा तुम मटरपनीर बना लो,’’ रमेश ने सीमा को मनाने का प्रयास करते हुए कहा तो वह मुसकरा दी.

रमेश फिर से अपने लैपटौप में उलझ गया. लगभग 1 घंटे बाद सीमा ने खाने के लिए आवाज लगाई तो रमेश मन ही मन मटरपनीर का स्वाद याद करते हुए खाने की मेज पर गया. मगर यह क्या? टेबल पर कढ़ी देख कर उस का माथा ठनका, ‘‘मटरपनीर कहां है?’’ उस ने पूछा.

‘‘नहीं बनाया. फ्रिज खोलने पर मुझे दही दिखाई दिया तो मैं ने सोचा कढ़ी बना लूं वरना यह खट्टा हो जाएगा.’’ सीमा ने अपनी समझदारी पर तारीफ की उम्मीद से रमेश की तरफ देखा.

मगर रमेश का मूड खराब हो गया. बोला, ‘‘जब अपनी पसंद का ही बनाना होता है तो फिर पूछती ही क्यों हो?’’

‘‘आप कहना क्या चाहते हैं? क्या घर में मैं केवल अपनी ही चलाती हूं? सब कुछ पूछपूछ कर करने के बाद भी यही सुनने को मिलता है,’’ सीमा ने आंसू बहाते हुए कहा तो घर का माहौल तनावपूर्ण हो गया.

कुछ इसी तरह का नजारा हरीश के यहां देखने को मिला. पत्नी ने उस से मनुहार करते हुए कहा, ‘‘जल्दी से यह सब्जी काट दो ना… आज देर हो गई.’’

हरीश ने पत्नी की मदद करने की मंशा से फटाफट सब्जी काट दी.

कटी सब्जी देखते ही पत्नी ने ताने का गोला दागा, ‘‘सब्जी क्या ऐसे काटी जाती है? आलू बड़े और गोभी छोटी. आलू पकने तक तो गोभी की चटनी बन जाएगी. बेकार ही तुम से मदद मांगी. काम करवाने के बजाय मेरा काम बढ़ा दिया. सब्जी बरबाद हुई वह अलग.’’ हरीश उस पल को कोस रहा था जब उस ने पत्नी का हाथ बंटाने की सोची थी.

घरघर की कहानी

यह सिर्फ 1-2 घरों का ही किस्सा नहीं है, बल्कि घरघर की कहानी है. हर घर में कमोबेश ऐसे दृश्य आम बात हैं. पति बेचारा अगर रसोई में अपनी राय दे तो बुरा और न बोले तो निकम्मा.

आम गृहिणी चूंकि सारा दिन घर में रहती है, इसलिए शाम को पति से करने के लिए उन के पास ढेरों बातें होती हैं. साथ ही पति के प्रति अपना प्रेम प्रदर्शित करने के लिए उस का मनपसंद खाना बना कर खिलाना भी उन का प्रिय शगल होता है, इसलिए वे खाने में पति की पसंद पूछती हैं. मगर किफायत से घर चलाना भी वे अपनी जिम्मेदारी समझती हैं.

इसलिए उन की कोशिश रहती है कि पहले वह बनाया जाए जिस के खराब होने या बिगड़ने की संभावना ज्यादा रहती है. तभी पति की पसंद को नजरअंदाज कर के वे अपने हिसाब से खाना बना लेती हैं. वहीं दूसरी तरफ  कामकाजी महिला सोचने में वक्त गंवाने के बजाय पति से पूछ कर सोचने की जिम्मेदारी उस पर डाल देती है और खुद किचन में संभावनाएं देखने लगती है. यदि पति की पसंद उस से मैच कर जाती है तो ठीक वरना वह पति के जवाब का इंतजार किए बिना खाना बना लेती है.

मजे की बात यह है कि महिलाओं को यदि खुद कुछ बनाने की समझ नहीं आती तो इस बात का ठीकरा भी पति के सिर ही फोड़ा जाता है. यह कह कर कि इतना सा काम ही कहा था वह भी ठीक से नहीं कर सकते. यह भी मुझे ही देखना पड़ता है.

क्या है उपाय

तो किया क्या जाए? क्या पत्नी का अपने पति से मदद की उम्मीद करना गलत है

या फिर पति को बिना प्रतिकार किए चुपचाप पत्नी की जलीकटी सुन लेनी चाहिए? नहीं, ये दोनों ही बातें सुखी दांपत्य के लिए सही नहीं कही जा सकतीं.

पति अगर पत्नी की घरेलू कामों में मदद करता है तो पत्नी की नजरों में उस की इज्जत और भी बढ़ जाती है वहीं यदि पति चुपचाप अपना अपमान सहन करता रहे तो उस का आत्मसम्मान दांव पर लग जाता है और उस का खुद पर से भरोसा भी उठने लगता है. तो क्या है बीच का रास्ता?

पत्नी क्या करे

– यदि पत्नी चाहती है कि पति उस की मदद करे तो सब से पहले यह देखा जाए कि वाकई पति के पास उस की मदद करने के लिए समय है भी या नहीं.

– पति पर रोब जमा कर मदद मांगने के बजाय मदद की रिक्वैस्ट की जाए.

– यह भी स्पष्ट किया जाए कि आप किस तरह की मदद चाहती हैं अन्यथा बाद में आशानुरूप न होने पर झल्लाहट हो सकती है.

– पति के औफिस से आते ही अपने कामों का पिटारा ले कर न बैठ जाएं, बल्कि उन के रिलैक्स होने के बाद ही अपनी बात रखें.

– मनमाफिक काम होने के बाद पति की तारीफ अवश्य करें. यदि सहेलियों और रिश्तेदारों के सामने उन की तारीफ करेंगी तो उन्हें और भी बेहतर लगेगा.

– यदि घरेलू कामों में पति की रुचि नहीं है तो आप उन से बच्चों का होमवर्क देखने को भी कह सकती हैं. यह भी आप की मदद ही होगी.

– जैसा आप चाहती हैं यदि काम वैसा न भी हुआ हो तो भी अपने जज्बात काबू में रखें, क्योंकि गुस्सा करने से कोई लाभ नहीं, बल्कि हो सकता है कि पति भविष्य में आप की मदद करने का खयाल ही त्याग दें.

पति क्या करे

– हर पत्नी की इच्छा होती है कि पति उस की परेशानियों को समझे, इसलिए जब भी मौका मिले पत्नी की मदद अवश्य कीजिए. पत्नी चाहे गृहिणी हो या कामकाजी, पति से मदद की उम्मीद सभी को होती है. मदद एक सहायक के रूप में ही कीजिए, पत्नी पर हावी होने की कोशिश करेंगे तो मात खा जाएंगे.

– यदि आप अतिव्यस्त रहते हैं तब भी कम से कम अवकाश के दिन तो पत्नी की कुछ मदद जरूर करें ताकि उसे भी फुरसत के कुछ पल मुहैया हों.

– जिस भी काम में आप पत्नी का हाथ बंटाने की कोशिश कर रहे हों उस की पूरी जानकारी अवश्य ले लें ताकि पत्नी को यह न लगे कि जैसा वह चाहती थी काम वैसा नहीं हुआ.

– पत्नी की चाहे जितनी भी मदद करें, मगर उस की सहेलियों के सामने यही कहें कि क्या करूं, बेचारी खुद ही लगी रहती है. मैं तो चाह कर भी इस की कोई मदद नहीं कर पाता. फिर देखिए, कैसे पत्नी की नजरों में आप हीरो बनते हैं.

– धुले बरतन सजा कर रखना भी पत्नी की एक बड़ी मदद हो सकती है. बस ध्यान रहे कि कुछ टूटे नहीं.

– हरी सब्जियां सेहत के लिए अच्छी होती हैं, मगर उन्हें साफ करने में बहुत समय लगता है. यदि इस काम में पत्नी का हाथ बंटाएंगे तो पत्नी तो खुश होगी ही, परिवार की सेहत भी दुरुस्त होगी.

सब से बड़ी बात यह कि आप पत्नी की मदद करें या न करें, उस के साथ किचन में खड़े भी होंगे तो भी उसे अच्छा लगेगा. आप दोनों को एकसाथ बिताने के लिए कुछ पल अतिरिक्त मिलेंगे. मगर हां, पत्नी के काम में मीनमेख निकालने की गलती कभी न कीजिए. कोई भी पत्नी अपनी सत्ता में दखल बरदास्त नहीं करती.

 

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं