गृहशोभा विशेष

फरवरी के पहले हफ्ते में राज्य महिला आयोग के भोपाल के दफ्तर में सुमन की दास्तां सुन कर न केवल आयोग की मुखिया लता वानखेड़े, बल्कि मौजूद दूसरी मैंबर्स भी सकते में आ गई थीं.

सुमन की शादी पिछले साल 22 जनवरी को रेलवे कालोनी के वाशिंदे अमित गौतम के साथ हुई थी.

शादी के वक्त सुमन बहुत खुश थी क्योंकि पति फिल्में बनाने का काम करता था और रेलवे में अफसर भी था. सुमन को उम्मीद थी कि उसे ससुराल में किसी चीज की कमी नहीं होगी. जिंदगी खुशनुमा गुजरेगी क्योंकि रेलवे अफसर की पगार अच्छीखासी होती है और फिर फिल्में बनाने से भी बेशुमार पैसा मिलता है.

शादी के बाद कुछ दिन तो ठीकठाक गुजरे और सुमन ससुराल वालों की तिमीरदारी में लग गई. वह अपनी तरफ से किसी को शिकायत का मौका नहीं देना चाहती थी. यह बात उसे उस के मांबाप ने सिखाई भी थी कि ससुराल में सब से हिलमिल कर रहना, घर के काम करना और छोटीमोटी परेशानियां पेश आएं तो उन से घबराना नहीं बल्कि उन का मुकाबला करना और अपनी तरफ से समझौता करने से हिचकिचाना नहीं.

कुछ महीनों बाद ही सुमन को पता चल गया कि अमित न तो रेलवे में अफसर है और न ही फिल्में बनाता है, उस से झूठ बोल कर शादी की गई थी. बात गाज गिरने जैसी ही थी, लेकिन सुमन ने यह सोचते हुए खुद को तसल्ली दे ली कि इस झूठ की अनदेखी करना ही भविष्य के लिहाज से बेहतर होगा. हल्ला मचाने से कोई फायदा नहीं होने वाला. जो है उस से समझौता कर जिंदगी गुजारी जाए.

नशैला निकला पति

यहां तक तो बात बरदाश्त थी, लेकिन जल्द ही पति का दूसरा रूप भी सामने आया तो सुमन की सब्र जवाब दे गई. अमित तरहतरह के नशे का आदी था और इतना ही नहीं, नशा कर के ऐसी ऊटपटांग हरकतें करता था कि किसी भी बीवी की जिंदगी नर्क बन जाए.

पति के नशैले होने की शिकायतें ले कर आने वाली औरतों की तादाद कम नहीं होती, इसलिए महिला आयोग की अध्यक्ष को कोई खास हैरानी नहीं हुई थी पर जब उन्होंने सुबकती सुमन के मुंह से यह सुना कि पति रूमफ्रैशनर तक सूंघ कर नशा करता है और फिर नशे में नागिन डांस करता है तो उन्हें समझ आ गया कि सुमन की परेशानी वाकई बड़ी है.

सुनने वालों की आंखें उस वक्त और फटी की फटी रह गईं जब सुमन ने यह खुलासा भी किया कि पति की नशे की लत का बेजा फायदा ससुर भी उठाता है. वह अकसर उसे इधरउधर छूने की कोशिश करता है. इतना ही नहीं शायरमिजाज ससुर उस की आंखों और बालों पर गजलें भी लिखता है.

हालांकि सफाई मांगे जाने पर अमित और उस के पिता ने सुमन के आरोपों को झूठा बताया, लेकिन सुमन की बात में दम इसलिए भी था कि आमतौर पर ऐसे मामलों में बीवियां परेशान करने और दहेज का इलजाम लगाती हैं पर सुमन ने सीधे नशे की बात कही थी.

जब पति नशे की आदी हो तो बीवी को किन और कैसी दुश्वारियों से रूबरू होना पड़ता है यह सुमन की हालत से समझ आता है कि वे कहीं की नहीं रह जाती. मायके वालों से शिकायत करो तो वे समझाते हैं कि पति से निभाने की कोशिश करो. आजकल तो हर कोई नशा करता है.

मगर बीवी पर क्या गुजरती है यह तो नशैले पति के गले बंध गई या बांध दी गई बीवी ही बेहतर जानती है. पति की इस कमजोरी का फायदा उठाते हुए उस पर हर नीयत बिगाड़ लेता है और हैरत की बात तो यह है कि इस में घर के मर्द ससुर, जेठ और देवर अव्वल रहते हैं.

बीवी की परेशानियां उस वक्त और बढ़ जाती हैं जब नशे का गुलाम पति उस की न सुन कर घर वालों की ही तरफदारी करता है. ससुर, जेठ या देवर बुरी निगाह रखते हैं यह बात बीवी किसी से कहे तो खोट उस के ही चालचलन में लोग निकालना शुरू कर देते हैं.

कैसीकैसी परेशानियां

नशे के आदी मर्दों की बीवियों की जिंदगी आम बीवियों जैसी आसान नहीं रह जाती क्योंकि नशैला पति न केवल मारपीट करता है, बल्कि उसे तरहतरह से तंग कर अपनी कमजोरी को छिपाने की भी कोशिश करता है ताकि बीवी मुंह न खोले. इस मर्दानगी से परेशान बीवियों को सैक्स सुख भी ढंग से नहीं मिल पाता क्योंकि नशे के आदी पति सैक्स में फिसड्डी होते हैं.

बात सिर्फ सैक्स की नहीं रह जाती. इस से जुड़ी दूसरी ज्यादतियों का शिकार भी बीवी को होना पड़ता है तो उस का ससुराल में दम घुटने लगता है. पर कोई सहारा या ठिकाना न होने के चलते वह ज्यादतियां बरदाश्त करती जाती है, जिस से पति का हौसला बुलंद होने लगता है. इसी दौरान अगर एकाध बच्चा भी हो जाए तो नशैले पति से छुटकारा पाना और भी मुश्किल काम हो जाता है.

पैसों की बाबत भी बीवी कुछ नहीं बोल सकती क्योंकि कमाईका बड़ा हिस्सा तो पति नशे में ही उड़ा देता है और जब शरीर कमजोर पड़ने लगता है तो वह बेशर्मों, निकम्मों की तरह घर पर पड़ा रहता है. नशीले पति का उठनाबैठना भी नशैलों में रहता है. दिक्कत उस वक्त भी पेश आती है जब पति की ली गई उधारी का तकाजा करने देनदार घर आना शुरू कर देते हैं.

भोपाल के एक प्राइवेट दफ्तर में काम करने वाली सुधा 2 बच्चों की मां है. 5 साल पहले उस की शादी सुधीर से हुई थी. सुधीर को शराब की ऐसी लत थी कि जिस दिन शराब न मिले वह छटपटाने लगता था और खुदकुशी तक करने की धौंस देने लगता था. एक कंपनी में दिहाड़ी पर काम करने वाले सुधीर की नशे की लत से आजिज आ गई सुधा ने क्व6 हजार महीने की नौकरी कर ली तो सुधीर और भी मनमानी करने लगा.

शराब के लिए पैसे देने से सुधा मना करती तो वह चिल्लाचिल्ला कर उस के चालचलन पर उंगली उठाता था और जबरदस्ती पैसे छीन कर ठेके पहुंच जाता था. छोटेछोटे बेटों का मुंह देखती सुधा अब पछताती है कि फालतू इन्हें पैदा कर लिया जिन के हिस्से में बाप का सुख और हिफाजत नहीं.

सुधा को अब कुछ नहीं सूझ रहा है कि क्या करे. पति को छोड़ने पर उसे अंदाजा है कि जिंदगी और दुश्वार हो जाएगी. बाहर दूसरे मर्द भूखे भेडि़यों की तरह उस के जिस्म पर नजरें गड़ाए बैठे हैं जो अभी सुधीर की वजह से पूरी तरह अपनी बदनीयती जाहिर नहीं कर रहे पर इशारोंइशारों में दिल और दिमाग की गंदगी उस पर फेंकने से कतई नहीं चूकते.

क्या करें

धोखे या इत्तफाक से ही सही जब नशैला पति गले पड़ जाए तो बीवियां क्या करें, इस बात का सटीक जवाब या परेशानी का हल किसी के पास नहीं. यह फैसला तो खुद बीवियों को ही करना पड़ता है कि वे नशैले पति की ज्यादतियों को बरदाश्त करते हुए उस के गले से बंधी रहें या फिर छोड़ कर अलग जिंदगी जीएं.

खतरे घर में भी हैं और बाहर भी, इसलिए बीवियां फैसला लेने में देर कर देती हैं और बाद में पछताती ही हैं, क्योंकि बाहर के खतरे पति की नशे की लत के चलते धीरेधीरे घर में दाखिल हो कर उन्हें अपनी गिरफ्त में ले लेते हैं. पति की रजामंदी भी इस में होती है जिसे बीवी से ज्यादा नशे की जरूरत होती है.

सुमन ने ठीक किया जो वक्त रहते महिला आयोग पहुंच गई जहां से उस की परेशानी दूर न हुई तो तय है वह तलाक के लिए अदालत जाएगी और मुमकिन है तलाक के बाद कोई दूसरा अच्छा हमसफर मिल जाए और न भी मिले तो इस बदतर जिंदगी और घुटन से तो वह छुटकारा पा ही जाएगी.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं