गृहशोभा विशेष

सौफ्टवेयर इंजीनियर जैसा पति मिल जाए तो उम्र वाली युवतियों को विवाह की इतनी जल्दी पड़ जाती है कि वे आगापीछा भी देखने की कोशिश नहीं करतीं. दिल्ली की एक युवती ने 38 साला युवा से बहुत कम जानकारी पाए शादी कर डाली और 2 माह बाद जा कर उसे पता चला कि उस का पति तो विवाहित और 2 बच्चों का पिता था.

ये दोनों एक मैट्रोमोनियल साइट पर मिले थे जहां चालबाज ने खुद को अविवाहित व सौफ्टवेयर इंजीनियर बताया था. वह नकली परिवार लाया और युवती के परिवार के साथ मिलबैठ कर मामला तय कर लिया. आंख की अंधी और अक्ल में शून्य युवती ने अतापता किए बिना शादी कर ली और उस के साथ एक अलग घर में रह कर खुद को दुनिया की सब से खुशहाल मानने लगी.

वह तो अच्छा हुआ कि बच्चे होने से पहले ही लैपटौप पर पति के बच्चों को देख कर युवती को शक हुआ तो उस ने धमका कर पूछा तो युवक भाग खड़ा हुआ. बाद में पता चला कि वह तो और लोगों को भी ठगने की योजना बना रहा था.

सौफ्टवेयर इंजीनियर व नौनरैजिडैंट इंडियन का रिश्ता पता चलते ही आधे से ज्यादा घर वालों की आंखों पर खुशी का धुंधलापन छा जाता है और वे छानबीन भी नहीं करते कि कहीं भावी दामाद नाराज न हो जाए. ऊपरी बातों को मान कर वे विश्वास करने लगते हैं.

अब सरकार एनआरआई से शादी पर रजिस्ट्रेशन तुरंत अनिवार्य करने की सोच रही है जो इलाज अपनेआप में बीमारी में ज्यादा दर्द देने वाला होगा. साल भर में धोखे के केवल 300-350 मामलों को ले कर हजारों वरवधुओं को विवाह के तुरंत बाद कागजी काररवाई के लिए सरकारी दफ्तरों में झोंक दिया जाएगा.

कहीं ऐसा न हो कि सरकार नियम बनाने लगे कि हर शादी से पहले पुलिस वैरिफिकेशन करा कर लाना जरूरी होगा दोनों को, क्योंकि विवाह से पहले आवश्यक जानकारी लेने की मेहनत भावी वरवधू नहीं करना चाहते. विवाहपूर्व इतिहास पता करना कठिन नहीं है पर जब आंख पर लालच और प्यार का मिलाजुला परदा पड़ा हो तो कोई कुछ नहीं कर सकता.

अकसर जब युवकयुवती को बताया भी जाता है कि जिस से विवाह करने वाले हैं वह उपयुक्त नहीं है, लोग विवाह कर ही लेते हैं और फिर जीवन भर लड़तेमरते रहते हैं. युवक आजकल ज्यादा शिकार हो रहे हैं, क्योंकि विवाहित युवतियों को बहुत अधिकार मिले हैं. ऊपर के मामले में युवक गिरफ्तार हो गया है पर गलती तो युवती की भी है. कोई जोरजबरदस्ती थोड़ी थी?

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं