त्रिखा का बेटा सौरभ कानपुर के मेडिकल कौलेज में मेडिकल की पढ़ाई कर रहा था. गांव के लोग त्रिखा के बेटे की वजह से उसी अस्पताल में इलाज के लिए जाते थे. वो अपने गांव का पहला डाक्टर जो बनने  जा रहा था. पड़ोस के शर्मा जी की तबियत बिगड़ी तो सौरभ के मेडिकल कौलेज में इलाज कराने पहुंच गए, शर्मा जी कि बिगड़ी हालत तो सुधर गयी पर, पर जब वहां से लौटे तो सारे गांव  में ढिढोरा पीट दिया कि सौरभ जो अपने गुप्ता जी की बेटी के साथ शहर में पति पत्नी की तरह एक ही घर में रहते हैं.

जितने मुंह उतनी बातें, सुगंधा के मां बाप नहीं थे, भाइयों ने सोचा बला टली. त्रिखा के पति को जमाने के साथ चलना आता था क्योंकि वो शहर  में थे, पर त्रिखा हमेशा कस्बे में रही. उसकी सोच कस्बाई थी. शर्मा जी ने जैसे ही गुप्ता जी की लड़की का नाम लिया, पहले तो उसे विश्वास न हुआ क्योंकि वो तो वकालत पढ़ने गयी थी, उसके मन में विचार आया कि जरूर उनके मन में कोई गलत फहमी हुई होगी. वो दोनों तो बचपन से अच्छे दोस्त थे शायद इसलिए सौरभ के घर आती होगी, मन को समझाने की लाख कोशिश की पर मन में उठते सवालों की उथल पथल को न संभाल पायी.

अगली बस पकड़ कर बेटे के पास पहुंच गयी, चिंता और घबराहट में बीपी काफी बढ़ गया था. जल्दी जल्दी सीढ़ियां चढ़ कर बेटे के पास पहुंचना चाह रही थी कि अचानक पैर फिसला और सीढ़ियों से नीचे आ गिरी. गिरने की आवाज सुन सौरभ और सुगंधा दोनों रूम से बाहर आ गए. मां को इस तरह अचानक देख सौरभ घबरा गया. दोनों को साथ देख कर मां का गुस्सा सातवें आसमान पर चढ़ गया. बेटा बोला पहले आप ठीक हो जाओ फिर आराम से बैठ कर बात कर लेना और तुरंत दोनों उन्हें डौक्टर के पास ले गए, पता चला दायें पैर में फ्रैक्चर हो गया है. न चाहते हुए भी उसे बेटे के घर रुकना पड़ा.

त्रिखा ने महसूस किया कि सुगंधा को उसकी हर पसंद और न पसंद अच्छी तरह पता है. वो हर समय उनका ख्याल रखती. इस दौरान वो अपने कौलेज भी न गयी. सुगंधा और सौरभ के हाव भाव देख त्रिखा एक पल को भूल ही गयी कि सुगंधा उसकी बहू नहीं, बेटे की दोस्त है. सौरभ के मिड सेम के पेपर चल रहे थे. सुगंधा ने मां की जिम्मेदारी अपने ऊपर ले ली और सौरभ को मां की जिम्मेदारियों से फ्री कर दिया. उन दोनों की आपस की समझदारी को देख उसे आश्चर्य होता, वो दोनों एक दूसरे के साथ कितना सहज थे इतना तो वो तीस साल में भी अपने पति से सहज न थीं, आज भी दोनों के विचार विपरीत थे.

ये सब देख कर त्रिखा मन ही मन पिघल गई और पुरानी परम्परावादी सोच उस पिघले मन के साथ बह गयी. शाम को बेटे के आते ही उसने पूछा कि आखिर तुम दोनों क्या ……? हमेशा बिना शादी के पति पत्नी की तरह रहोगे? सौरभ ने कहा मां मैं सुगंधा को कई सालों से प्यार करता हूं और शादी भी करना चाहता हूं लेकिन पहले हम दोनों अपना कैरियर बनाना चाहते हैं, अभी हमे न तो किसी बंधन में बंधना है और न ही किसी रिश्ते में. पर हमें एक दूसरे के साथ की बहुत जरूरत है. हम साथ हैं तो अपने सारे सपने जरूर पूरे करेंगे.

फिलहाल हमारा शादी का कोई इरादा नही है. आगे क्या होगा…? हम शादी करेंगे या नही कुछ भी नहीं कह सकते, पर हम अच्छे दोस्त हमेशा रहेंगे. त्रिखा को ये नए जमाने का प्यार और दोस्ती का ये रिश्ता समझ न आया. त्रिखा का दिमाग ये रिश्ता मानने को को तैयार न था, पर दिल के हाथों मजबूर होकर बेटे को आशीर्वाद देकर वापस आ गयी.