गृहशोभा विशेष

बाइयों यानी कामवालियों के बिना ज्यादातर गृहिणियों का जीवन अधूरा है और इसीलिए अगर बच्चे छोटे हों या खुद बीमार हों, तो उन्हें अपने साथ हर जगह ले जाना एक बाध्यता हो जाती है. आम जगह तो उन्हें नाकभौं चढ़ा कर प्रवेश मिल जाता है पर देश भर के गोरों के बनाए क्लबों और 5 सितारा होटलों में जगह नहीं मिलती. वे बच्चे की आया की तरह इन में घुसने की कोशिश करती हैं, तो उन्हें गेट पर ही रोक दिया जाता है.

दिल्ली के महंगे, अमीरों तक सीमित गोल्फ क्लब में भी कुछ ऐसा ही हुआ, जब मेघालय की एक औरत को पारंपरिक जैनसेम ड्रैस पहने मेहमानों के साथ कुरसी पर बैठा पाया गया. वह दिखने में मेड लग रही थी, इसलिए क्लब ने उसे बाहर जाने को कहा. चूंकि मेजबान कुछ हैसियत वाले थे, इसलिए इस इन्सल्ट को अपनी इन्सल्ट मानने लगे. विवाद तूल पकड़ गया और एक अंगरेजी अखबार को बड़ी खबर छापने के लिए पटा लिया गया.

बाइयों के साथ इस तरह का व्यवहार देश भर में होता है, क्योंकि शिक्षा की महीन परत के अंदर हम अभी भी घोर वर्गवादी, स्तरवादी और जातिवादी व्यवस्था में जी रहे हैं. हमें सेवा करने के लिए नौकर चाहिए पर उन्हें बराबरी का स्तर देना हमारे बस का नहीं है.

‘मेड इन मैनहट्टन’ नाम की एक हौलीवुड फिल्म खूब चली, क्योंकि उस में एक गोरा सीनेटर एक अश्वेत मेड से विवाह कर लेता है, पर इस फिल्म में भी उस का प्रेम पनपता तभी है जब वह उसे एक महंगा फर कोट पहने देखता है, जो मेड ने अपने होटल की एक मेहमान का पहन रखा था. यह बात भी फिल्म में जता दी गई कि मेड पढ़ीलिखी थी और एमबीए की तैयारी कर रही थी.

गरीब, अनपढ़ जाति विशेषों से आने वाली लड़कियां व औरतें ही मेड बनें यह क्यों जरूरी है? मेड का काम ऊंची जातियों की औरतें क्यों नहीं करतीं? घर की सफाई, कपड़े धोने या खाना बनाने का काम केवल बिहार, झारखंड, ओडिशा या पूर्वोत्तर की औरतें ही क्यों करेंगी?

काम तो काम है और हर काम चाहे उस में पैसा हो या न हो बराबर का सा हो क्या फर्क पड़ता है. गृहिणियों को काम निबटाने वाली चाहिए तो उन्हें बराबर का स्तर देना और उन से घर वालों सा व्यवहार करना जरूरी है. जो वेतन आज कामवालियों को मिल रहा है वही लाखों सेल्स गर्ल्स को मिल रहा है पर अलग जातियों से होने के कारण सेल्स गर्ल्स को कहीं ऊंचा स्तर मिल जाता है.

मन से यह जातिगत भेदभाव हटाना जरूरी है ताकि गृहिणियों को आसानी से हाथ बंटाने वाली मिल जाए. अब मेड या महरी नहीं, बेबी सिटर, होम सिटर या एल्डर सिटर चाहिए जो हर काम करने में निपुण हो और बराबर का स्तर पाने वाली हो.