दादी, नानी बन कर घर व नातीपोते तक ही सीमित न रहें बल्कि बढ़ते समय के साथ आप अपनी ग्रूमिंग करती रहें. अपने रंगरूप के प्रति सचेत रहें. फेशियल मसाज, बालों का रखरखाव आदि के प्रति बेरुखी न अपनाएं. माह में 1 बार ब्यूटीपार्लर जाएं या घर पर ही ब्यूटी ऐक्सपर्ट को बुलाएं. आजकल तो घर पर जा कर भी ब्यूटी ऐक्सपर्ट अपनी सेवाएं उपलब्ध कराती हैं. यह सब रही बौडी की ग्रूमिंग की बात.

मनमस्तिष्क की ग्रूमिंग के लिए आज के आवश्यक वैज्ञानिक उपकरणों का प्रयोग करना अवश्य सीखें. ‘अब क्या करना है सीख कर’ जैसा विचार अपने पास फटकने न दें. आज मोबाइल पर फोटो खींच कर व्हाट्सऐप से भेजना, फेसबुक पर पोस्ट करना और गूगल द्वारा नईनई जानकारी प्राप्त करना सहज हो गया है. रोजमर्रा के सोशल नैटवर्क को अपना कर आप, घर बैठे ही, सब से  जुड़ी रहेंगी.

बुजुर्ग महिला विमला चड्ढा अपने 75वें जन्मदिन पर मोबाइल में व्हाट्सऐप व फेसबुक पर उंगलियां चला रही थीं. उन की बहू के साथसाथ उन के नातीनातिन बड़े ही गर्व से उन्हें निहार कर खुश हो रहे थे.

1980 में सोशल साइंटिस्ट विलियम जेम्स ने कहा था कि 30 वर्ष की उम्र तक बना व्यक्तित्व एक प्लास्टर की भांति ठोस हो कर पूरे जीवन हमारे साथ रहता है. यानी इस उम्र तक हम जो बन जाते हैं, वैसे ही पूरे जीवन रहते हैं. यह धारणा 90 के दशक तक चली.  आज के सोशल साइंटिस्ट के अनुसार, हमारा व्यक्तित्व एक खुला सिस्टम है जिस में हम जीवन के किसी भी समय में, वर्तमान स्टाइल, जीवन का नया तरीका अपना सकते हैं. प्लास्टिसिटी सिद्धांत के अनुसार, जिंदगी में उम्र के किसी भी पड़ाव में परिवर्तन किया जा सकता है.

ऐसी कई छोटीछोटी राहें हैं, कदम हैं, जिन के द्वारा ग्रूमिंग होती रहती है, व्यक्तित्व निखरता रहता है, जैसे कि-

अंगरेजी शब्दों के आज के उच्चारण पर ध्यान दें. उन्हें याद रखें. जैसे कि ‘डाइवोर्स’ शब्द को आजकल ‘डिवोर्स’ बोला जाता है. ‘बाउल’ (कटोरा) को ‘बोल’ कहा जाता है. मुझे याद है, रीझ को ‘बीअर’ कहा जाता था अब ‘बेअर’ कहा जाता है. ऐसे और भी कई शब्दों के उच्चारण आत्मसात करते रहें.

औनलाइन शौपिंग करना, टिकट बुक कराना जैसे कार्य सीखें. हां, औनलाइन शौपिंग करने पर होशियार अवश्य रहें. शौपिंग से पूर्व, विके्रता कंपनी से वस्तु की गारंटी तथा उस की क्याक्या शर्तें हैं, यह जरूर जान लें. वस्तु पसंद न आने पर रुपयों के वापसी की गारंटी या वस्तु बदलने की गारंटी लें. एमेजोन और फ्लिपकार्ट जैसी शौपिंग साइटें गारंटी देती हैं. थर्डपार्टी से शौपिंग करने से बचें. इस में धोखा होने की संभावना होती है.

सांस्कृतिक कार्यों, गोष्ठियों में रुचि बनाए रखें. संभव हो तो उन में भाग लें. अपने विचारों का आदानप्रदान करें. इस से सकारात्मक भाव बना रहता है.

अपने बच्चों व नातीपोतों की फेवरिट बनी रहने के लिए नईनई रैसिपी सीखती रहें. इन्हें आप टीवी, यूट्यूब या गूगल द्वारा सीख सकती हैं. इस से आप में आत्मविश्वास, एक जोश पनपेगा. जब चाहें तब अपने बच्चों की पसंद की डिश बना कर आप उन्हें सरप्राइज दे सकती हैं.

बच्चों की इच्छा पर रैस्टोरैंट जा कर, उन की पसंद की डिशेज खाएं. हो सकता है वह आप को पसंद न भी आए, पर सब की खुशी में शामिल हो कर स्वयं को उन डिशेज के टेस्ट से ग्रूमिंग करें.

पुरानी मानसिकता त्याग दें. सब से प्रथम, अपना भविष्य देखना, सुनना (टीवी व रेडियो), अखबार में पढ़ना तुरंत छोड़ दें. ‘वृद्धावस्था तो बस माला जपने, धार्मिक पोथी पढ़ने के लिए ही बुक होती है,’ जैसी पुरानी मानसिकता का त्याग कर दें.

किसी भी पुरानी आदत को स्वयं से चिपकाए न रखें. किसी ने कहा है कि ‘आदत एक जबरदस्त रस्सी होती है जिसे प्रतिदिन हम अपने ही हाथों बंटते हैं.’ सो, इसे अपने ही हाथों खोल डालें. खुले हृदय से परिवर्तन को स्वीकारें. उदाहरण के तौर पर, आज बर्गरपिज्जा के समय में आप अपने बच्चों को अपने समय का सत्तू, गुड़धानी खिलाने की जिद करेंगी तो परिणाम आप स्वयं जानती हैं. समय के साथ बदलना, जीवन को सार्थकता देता है.

सो, उम्र के नाम पर, ग्रूमिंग की पंक्ति में पीछे खड़ी न रहें. आज की सासबहू, मांबेटी स्मार्ट पोशाक, स्मार्ट व्यक्तित्व व आधुनिक वैज्ञानिक उपकरणों की जानकारी के साथ जब बराबर कदम उठा कर चलती हैं, तब आसपास की उठती निगाहें ‘वाह, वाह’ कह उठती हैं.

बस, आप को ग्रूमिंग करते रहना है बदलते समय के साथ. न पीछे मुड़ कर देखें और न अडि़यल बनें. फिर देखिए, आप के चारों ओर खुशी और ऊर्जा बिखरी होगी.                       

बैंकिंग कार्य से परिचित व जुड़ी रहें, जैसे चैक जमा करना, रुपए निकालना, अपना लौकर औपरेट करना आदि. आप ने यह कार्य छोड़ रखा है तो अब शुरू कर दें. अगर कभी किया ही नहीं है तो सीख लें. इस तरह एक अलग ही आत्मविश्वास पनपेगा आप के व्यक्तित्व में.

समयानुसार अपने विचारों को बदलते रहें. आज के तरीकों व परिवेश को सहजतापूर्वक स्वीकारें. आज से कुछ दशकों पूर्व, शादी से पहले लड़कालड़की का खुलेआम घूमना, साथ समय व्यतीत करना संभव न था. पर अब शादी से पूर्व घूमनेफिरने के साथसाथ रहना तक भी संभव हो रहा है ताकि एकदूसरे की कंपैटिबिलिटी जानी जा सके. ऐसी बातों पर आप तनावग्रस्त न हों.

अपने लिए कोई न कोई, चाहे छोटा ही हो, लक्ष्य चुनती रहें. चलते रहना जीवन है, रुक जाने का नाम मृत्यु है. तो चलती रहिए जीवनपर्यंत नईनई मंजिलों की ओर. इस तरह तनमन में एक जोश व ऊर्जा बनी रहती है. ‘अब तो आखिरी पड़ाव है, अब क्या करना है,’ ऐसे विचार को दिमाग से खुरच डालिए. अंगरेजी में कहावत है- ‘कावर्ड्स डाई मैनी टाइम्स, बिफोर देअर डैथ.

अपनी उम्र के अनुसार आधुनिक स्टाइल की पोशाकें खरीदें व बनवाएं. ‘अब तो उम्र निकल ही गई, अब क्या करना है नई पोशाकों का’, ऐसा बिलकुल न सोचें. अपनी वार्डरोब समयसमय पर बदलती रहें. बुजुर्ग महिला चांद वालिया अपनी उम्र के 80 दशक में भी कलफ लगी कौटन साड़ी, ट्राउजर आदि पहनती रहीं. सारा फ्रैंड सर्किल और पड़ोसी उन की पसंद पर दाद देते थे.