गृहशोभा विशेष

सुझाव

– पुलिस का नंबर हमेशा मोबाइल में स्पीड डायल पर रखें.

– अगर कोई बस में छेड़खानी करे, कमर पर हाथ रखने की कोशिश करे तो तुरंत कुहनी से पीछे की ओर उस के पेट पर वार करें.

– अपने पास कुछ हेयर पिंस वगैरा जरूर रखें.

हर रोज युवतियों के साथ घरेलू हिंसा, शारीरिक शोषण, छेड़छाड़, चोरी, डकैती, लूटपाट, पीछा करना, डराना, धमकी देना जैसी घटनाएं घटित होती रहती हैं. अधिकांश  युवतियां ये सोच कर चुप रहती हैं कि अगर उन्होंने कुछ बोला तो वे बड़ी मुसीबत में फंस जाएंगी. लेकिन क्या इस तरह डर कर रहना सही है? सुरक्षित रहना तो हर किसी का अधिकार है और खुद को सुरक्षित रखना अपने हाथ में है.

खुद को सुरक्षित रखने के लिए जरूरी नहीं कि आप मार्शल आर्ट में ऐक्सपर्ट हों, बस थोड़ी सी सावधानी और सतर्कता से आप खुद को बचा सकती हैं. फिट कौंब की वूमन ट्रेनर दीप्ति शंकर कहती हैं कि युवतियां किसी भी चीज को अपना हथियार बना सकती हैं, फिर चाहे वह अखबार हो या ताला खोलने वाली चाबी. हमारे पास कई ऐसी छोटीछोटी चीजें होती हैं जिन का प्रयोग हम स्वयं को सुरक्षित रखने के लिए कर सकते हैं. ये कुछ चीजें हैं :

पैन : लिखने के काम आने वाला पैन सैल्फ डिफैंस का एक पावरफुल हथियार है. अगर कोई आप पर हमला करता है और आप के पास अपना बचाव करने के लिए कुछ भी नहीं है तो आप पैन को अपनी ताकत बनाइए और इस से उस के शरीर पर हमला कीजिए. इस से आप को उस की गिरफ्त से निकलने का पर्याप्त समय मिल जाएगा. अगर आप के पास पैन नहीं है तो आप नेल फाइलर का भी उपयोग कर सकती हैं. इन चीजों को पर्स में अवश्य रखिए.

पानी की बोतल : आप अपनी सुरक्षा के लिए पानी की बोतल का भी इस्तेमाल कर सकती हैं. जब हमलावर आप पर अटैक करे, तब आप उस के चेहरे पर पानी फेंक दें या पानी की बोतल से उस पर अटैक करें. अचानक आंखों पर पानी पड़ने से वह थोड़ी देर के लिए घबरा जाएगा और आप वहां से भागने में कामयाब हो जाएंगी.

छाता : छाता केवल धूप या बारिश से ही नहीं बचाता, बल्कि किसी हमलावर से भी रक्षा करता है. जैसे ही आप को लगे कि कोई आप पर हमला करने वाला है तो तुरंत अपना छाता खोल लें और हमलावर पर हमला करें. हमला करने के लिए आप बंद छाते का भी प्रयोग कर सकती हैं.

दुपट्टे का प्रयोग : अगर आप के पास दुपट्टा है तो इस में चाबी या सिक्के बांध कर हमला करें और यदि ये नहीं हैं तो आसपास अगर पत्थर दिख जाए तो इसे दुपट्टे में बांध कर मारें.

सैल्फ डिफैंस के हथियार

वैलेट अलार्म : वैलेट अलार्म सैल्फ डिफैंस का बैस्ट टूल है. इसे अपने बैग में जरूर रखें. इसे दबाने पर इस में से तेज आवाज निकलती है जो 400 से 600 मीटर की दूरी तक सुनाई देती है. जब कोई आप पर हमला करे तब जल्दी से इसे दबा दें ताकि आप के साथ कोई अनहोनी न हो.

स्पाइकी चेन : स्पाइकी चेन कीरिंग की तरह ही लगती है लेकिन यह बैस्ट डिफैंस टूल है. आप इसे अपनी उंगलियों में अच्छी तरह फिट कर के पंजा बना लें और सामने वाले पर हमला करें.

हेयर ब्रश : यह आम हेयर ब्रश की तरह होता है. इसे देख कर कोई सोच भी नहीं सकता कि इस के अंदर 3/2 इंच का चाकू होगा. इसे अपने बैग में रख कर आप अपने आप को सुरक्षित फील करेंगी.

टेजर : यह आम बंदूक से हट कर होता है. इस में से गोली नहीं निकलती बल्कि यह हमलावर को बिजली के झटके देता है.

लिपस्टिक नाइफ : यह नाइफ लिपस्टिक के आकार का होता है, जिसे खोलने पर इस में से चाकू निकलता है. इसे हमेशा हाथ में या जींस की पौकेट में रखें.

पेपर स्प्रे : पेपर स्पे्र एक बैस्ट डिफैंस टूल है. इसे स्प्रे करने पर सांस लेने में दिक्कत होती है, साथ ही आंखों में व त्वचा पर जलन शुरू हो जाती है, गले की नली के दोनों ओर तेज दर्द होने लगता है. इस का असर 30 मिनट तक रहता है. पेपर स्प्रे का इस्तेमाल करते समय सावधानी रखें, स्प्रे कुछ दूरी से करें और जल्दी से वहां से भाग जाएं, नहीं तो इस का प्रभाव आप पर भी पड़ सकता है.

कहां करें वार

शरीर के कुछ हिस्से बेहद नाजुक होते हैं, वहां हलकी चोट भी काफी जोर से लगती है. हमलावर के शरीर के इन हिस्सों पर वार करें :

आंख, नाक, चेहरा, सिर आदि भागों पर, राइवेट पार्ट (यहां मारते समय ध्यान रखें कि ज्यादा जोर से न मारें, वरना सामने वाले की जान भी जा सकती है.), गले व पेट पर और घुटनों के पीछे.

फोन का इस्तेमाल करें : आज मोबाइल तकनीक काफी विकसित हो गई है. इस पर कई तरह के ऐप्लिकेशंस आ गए हैं, जिन का प्रयोग मुसीबत के समय किया जा सकता है. आजकल स्मार्ट फोन जीपीएस लोकेशन ट्रैकिंग सर्विस उपलब्ध करा रहे हैं, जिस में फ्री और पेड कई सारे ऐप्स होते हैं, जिन्हें डाउनलोड करने के बाद ये आप के फोन में स्टोर नंबर को जानकारी देते हैं कि आप कहां हैं. लेकिन इन ऐप्स की सब से बड़ी कमी यह है कि यह केवल उन जगहों पर ही काम करते हैं जहां नैटवर्क हो.

घर पर भी रहें सुरक्षित : जब हम घर पर रहते हैं तब हमें लगता है कि हम सुरक्षित हैं लेकिन हमें घर पर भी कुछ सावधानियां बरतने की जरूरत होती है. अगर आप घर पर अकेली हैं तो बिना देखे कभी भी दरवाजा न खोलें. पहले जांच लें कि अजनबी व्यक्ति कौन है और किस काम से आप के घर आया है, दरवाजा खोलने से पहले दरवाजे पर लगी मैजिक आई का प्रयोग करें व घर पर कोई सामान बेचने वाला आए तो उसे घर में न घुसाएं. हो सके तो प्रवेश द्वार की लाइट जली रहने दें ताकि अंधेरे में भी चेहरा दिखाई दे.

खाली बस में न चढ़ें : ऐसी बस में बिलकुल न चढ़ें, जिस में सिर्फ ड्राइवर और कंडक्टर हों. जिस बस में सिर्फ 2-3 लोग हों उस में भी न चढ़ें, क्योंकि ये लोग ड्राइवर व कंडक्टर के दोस्त या जानकार हो सकते हैं. ऐसे में आप मुसीबत में फंस सकती हैं.

पार्टी के दौरान रहें अलर्ट : दोस्तों के साथ पार्टी में जाएं तो अलर्ट रहें. अनजान लोगों से ज्यादा नजदीकियां न बढ़ाएं. डांस के दौरान युवकों के ज्यादा करीब न जाएं, चाहे वे आप के जानकार ही क्यों न हों, सौफ्ट ड्रिंक या वाइन कुछ भी लें, ध्यान रखें कि उसे अपने सामने ही खुलवाएं और हमेशा ड्रिंक खत्म कर के ही उठें. अगर आप को बाहर जाना भी पड़े तो उस ड्रिंक को दोबारा न पिएं, दूसरा ड्रिंक बनवा लें.