पिछले दिनों चेन्नई के एक स्कूल ने एक फरमान जारी किया कि जिस बच्चे का सोशल मीडिया पर अकाउंट होगा, उस का स्कूल में दाखिला नहीं होगा. स्कूल में दाखिला लेते समय दाखिले के फार्म पर इस बात की जानकारी देनी होगी. स्कूल ने बच्चों को सोशल नैटवर्किंग साइट पर प्रोफाइल न बनने की हिदायत दी है, साथ ही जब तक बच्चे स्कूल में हैं उन के प्रोफाइल बनाने पर भी रोक लगा दी गई है. दरअसल, इन दिनों किशोरवय बच्चों के बीच फेसबुक, इंस्टाग्राम जैसी सोशल साइट्स की लोकप्रियता में काफी वृद्धि दर्ज की गई है. लेकिन इन मीडिया मंचों पर 7-8 साल के बच्चों का यूजर प्रोफाइल मिलना और अधिक चौंकाने वाली बात है.

सोशल मीडिया पर सबसे ज्यादा मामले फोटो के दुरुपयोग के आते हैं, इसलिए अपनी निजी तस्वीरों को अपलोड ना ही करें तो बेहतर है. अगर कोई तस्वीर अपलोड करते भी हैं तो उसकी प्राइवेसी सेटिंग जरूरत के हिसाब से रखें. सोशल मीडिया पर सुरक्षा के विकल्प भी मौजूद होते हैं बस जरूरत है आपको जानकारी होने की.

सोशल मीडिया पर आजकल एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है इसमें एक लड़की अपने कपड़े बदलती हुई साफ देखी जा सकती है. इस वीडियो को स्पाई कैमरे के जरिए बनाया गया है, जिसमें साफ देखा जा सकता है कि लड़की किस तरह से अपने कपड़े बदल रही है किसी ने इस वीडियो को बनाकर सोशल मीडिया पर अपलोड कर दिया.

आजकल हर कोई सोशल मीडिया का इस्तेमाल करता है और हर कोई इसमें अपना खासा समय व्यतीत करता है, पर कुछ शरारती तत्व इस तरह की हरकत करने से बाज नहीं आते, किसी शरारती तत्वों ने गर्ल्स हॉस्टल के बाथरूम में स्पाई कैमरा छुपा रखा था, जिससे उसने इस लड़की का पूरा वीडियो अपने कैमरे में कैद कर लिया.

अक्सर देखा जाता है सोशल मीडिया पर इस तरह के वीडियो कि अब बाढ़ सी आ गई है, फिर भी लोगों को यह समझना चाहिए कि इस प्रकार की हरकत सभ्य समाज में उचित नहीं. इस तरह की हरकत करके ना केवल वह इस लड़की का अपमान कर रहे हैं बल्कि समाज में भी गलत संदेश दे रहे हैं.

इस तरह की हरकतों को जल्द से जल्द बंद करने की जरूरत है नहीं तो यह समाज को दूषित करके एक अलग ही तरह का समाज बना देगी जहां पर हर कोई एक दूसरे को शक की नजर से नजर से देखेगा.