गृहशोभा विशेष

पहलेजमाने में लड़केलड़की का विवाह कुंडली मिलान पर निर्भर करता था. पंडितजी कुंडली से लड़केलड़की के गुणों का मिलान करते थे. अगर ज्यादातर गुण मिल जाते थे तो दोनों परिवारों में खुशी की लहर दौड़ जाती थी कि अरे 34 गुण मिल रहे हैं. चलो अब पूरा रास्ता आगे के लिए साफ है. फिर गोद भराई, फलदान, सगाई आदि रस्मों की तिथि तय कर दी जाती थी. मगर इतने सारे गुणों के मिलने के बावजूद हर स्त्रीपुरुष में कुछ अवगुण या कहें कमियां तो होती ही हैं, जिन के कारण पतिपत्नी में मतभेद हो जाते हैं. यदि ये मतभेद बढ़तेबढ़ते मनभेद बन जाएं तो फिर अलगावरूपी नफरत व घृणारूपी अलाव में दोनों जलने लगते हैं और फिर जिंदगी की लौ बुझने की बेला आने तक यह अलगाव का अलाव जलता रहता है.

मगर अब नए दौर में कुंडली देख कर गुण मिलाने का चलन कम होता जा रहा है. अब तो दूसरी चीजें देखी जाती हैं. अब सब से बड़ा गुण लड़की की शिक्षा है और उस के ऊपर भी वह कितनी कमाऊ  है. लड़के में भी यही चीजें देखी जाती हैं. कमाऊ  लड़की बाकी गुणों के नाम से कितनी भी उबाऊ क्यों न हो वह सहर्ष पसंद कर ली जाती है. इस सब के बावजूद रिश्ते में अलगाव बढ़ता जा रहा है. ऐसे में मातापिता क्या करें कि ऐसा रिश्ता, ऐसी लड़की मिल जाए जिस से कि जिंदगी भर निभ जाए? वैसे अब निकट भविष्य में इस बात पर भी आश्चर्य प्रकट किया जाएगा… न कहो ऐसे लोगों को सार्वजनिक कार्यक्रमों में सम्मानित किया जाने लगे.

गंगू के पास एक लेटैस्ट तरकीब है. काफी मेहनत व अभ्यास के बाद यह विकसित हुई है. व्यक्तित्व का अनुमान लगाने के लिए हमारे यहां सैकड़ों तरीके हैं जैसे कोई किसी की हैंडराइटिंग देख कर व्यक्तित्व का अनुमान लगाता है, कोई नंबर के आधार पर यह काम करता है, तो कोई फूल देख कर, सूंघ कर पर्सनैलिटी व भविष्य बताता है. कोई किसी और आधार पर. लेकिन आजकल यह तकनीक भावी वधू के चयन में शतप्रतिशत कामयाब हो रही है. वैसे आजकल उलटा भी होने लगा है कि वधू वर को पसंद करने लगी है.

इस नई तकनीक में आप को ज्यादा कुछ नहीं करना है बस यह वाच करना है कि प्रोस्पैक्टिव वधू कार कैसे चलाती है? इस के पीछे भी एक कहानी है. एक दिन सुबहसुबह गंगू के वाक पर जाते समय बाजू से एक कार निकली. इस में क्या खास है? खास तब होता जब कार के स्टेयरिंग पर किसी खूसट के नहीं वरना एक खूबसूरत लड़की के कोमल हाथ होते.

सामने से एक कार आ रही थी. सड़क संकरी थी, लेकिन उस खूबसूरत मुहतरमा ने अपनी गाड़ी सड़क से नहीं उतारी, बल्कि सामने वाले को गाड़ी सड़क के नीचे उतारने के लिए मजबूर कर दिया. बस यहीं से यह विधा शुरू हुई. गंगू ने अब इस का अध्ययन करना शुरू कर दिया कि लड़कियां कार किस परिस्थिति में और कैसे चलाती हैं? इस में बड़ी मशक्कत करनी पड़ी. कई बार कार का पीछा करना पड़ा. पिटनेकुटने तक की भी नौबत आई. लेकिन 6 माह की कड़ी मेहनत के बाद कुछ तथ्य सामने आए हैं, जो आप के लाभार्थ पेश हैं. इसी से ‘कार पामिस्ट्री’ नामक व्यक्तित्व पढ़ने की एक नई विधा का जन्म भी हो गया है.

पहला तथ्य यह कि यदि आप इस तरह की लड़की को अपने घर की बहू बनाने की सोच रहे हैं, तो समझ लें कि यह पैट्रीआर्कल  नहीं मैट्रीआर्कल प्रकार के परिवार में विश्वास करने वाली है. भावी वर पर यह बम पर्सनैलिटी हावी होने की कोशिश हरदम करेगी. पति को कंट्रोल करने की चाबी कार की चाबी की तरह हमेशा इस के पास रहेगी. दूसरा यदि कार ट्रैफिक में फंसी है, आगे कारों का रेला है उस के बाद भी पीछे की कार में बैठी लड़की यदि तेज हौर्न लगातार बजा रही है, तो आप को वार्न किया जाता है कि यह बेहद तेज स्वभाव की लड़की है. यह इंतजार नहीं कर सकती. जो चाहती है वह उसे तुरंत चाहिए. यहां अंधेर चलेगा, लेकिन देर नहीं.

तीसरा कार का गियर बदलते समय यदि लड़की कार को झटका सा देती है तो मान कर चलिए कि इस में आत्मविश्वास की कुछ कमी है. कुछ किया तो किया नहीं किया तो नहीं किया. लेकिन वह ऐसा नहीं सोचती, वह समझती है कि वह शहर की सब से अच्छी कार चलाने वाली है. अत: ऐसी लड़की यदि रसोई में कोई डिश बनाती है और स्वाद में वह आप की विश से कम है, तो कमी का कमैंट न करने की सलाह है. घुमाफिरा कर बात करें वरना वह बुरा मान जाएगी. सचाई हमेशा कड़वी लगती है.

चौथा जो लड़की यह जान कर भी कि थोड़ी ही दूरी पर ट्रैफिक बहुत है या मोड़ अथवा स्पीड ब्रेकर है. जहां कार धीमे करनी ही होगी तो भी कार तेजी से चलाती हो तो मान कर चलिए कि यह सेव ऐनर्जी के सिद्धांत पर विश्वास नहीं करती. घर की लाइट, पंखे, एसी आदि बंद करने के लिए आप को एक आदमी अलग से रखना पड़ेगा या आप का लाड़ला यह काम करने का मन पक्का कर ले अथवा आप को बत्ती कनैक्शन वालों की तरह बिजली मुफ्त में मिलती हो तो चिंता की बात नहीं है.

5वां यदि लड़की कार बैक करते समय पीछे न देख कर यह मान कर चलती है कि पीछे वाला अपनेआप देख कर हट जाएगा, क्योंकि सब को अपनी जान प्यारी होती है तो यह बेपरवाह व्यक्तित्व की निशानी है. यह किसी की चिंताविंता नहीं करेगी. यदि घर में बै्रड के 2 ही पीस व 1 एग बचा है तो यह उन्हें गटक लेगी और यह सोचेगी कि जिसे जरूरत पड़ेगी अपनेआप और ले आएगा.

छटा इसे सुन कर तो आप को छटी का दूध याद आ जाएगा? यदि लड़की बहुत तेज स्पीड से कार चलाती है. फिर चाहे गलीमहल्ला हो या बाजार अथवा हाईवे, तो आप मान कर चलिए कि यह तनावयुक्त पर्सनैलिटी के लक्षण हैं, कोई काम सुकून से न करने की आदत की पहचान है. हमेशा टैंशन में जीने को फैशन मानने वाली है.

7वां यदि लड़की कार चलाते समय गड्ढों में भी तेज गति से कार डाल देती है, तो इस का मतलब है कि वह बिंदास स्वभाव की है, यदि मौल में आप के साथ जाएगी तो आप की जेब का सारा माल खत्म हो जाएगा? ऐसे में लड़के क्रैडिट कार्ड साथ न रखें वरना कंगाल हो जाएंगे. यदि बंगाल के हो कर दिल्ली में काम कर रहे हैं, तो वापस बंगाल जाना पड़ेगा, क्योंकि वह जानती है कि ऐसा करने से कार की मैंटेनैंस का बिल बढ़ेगा, लेकिन कौन कार धीमी करे. लेकिन इस का दूसरा पक्ष भी है कि ऐसी लड़की बोल्ड होती है. कहीं मौका आने पर साहस दिखाने के मामले में पति महोदय भले ही क्लीनबोल्ड हो जाएं, लेकिन वह हो सकता है चैन स्नैचर की तबीयत से धुलाई कर उसे फटीचर बना दे, क्योंकि जोखिम लेने में इसे आनंद आता है.

8वां पीछे से पौंपौं करती किसी गाड़ी को यदि यह तुरंत साइड दे दे तो यह ऐडजस्टिंग नेचर की है कि जाजा तू ही बड़े बाप का है. जल्दी से निकल जा और यदि पीछे से पौंपौं करती कार के पौ बजा दे यानी उसे साइड न दे तो यह आसानी से ऐडजस्ट न करने वाली है.

अब अगर आप भी अपने कपूत या सपूत का रिश्ता तय करने की सोच रहे हैं, तो लड़की देखनेदिखाने के दौरान और चीजों पर समय बरबाद न कर केवल लड़की से कार चलवा कर देख लें.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं