गृहशोभा विशेष

जिममें ट्रेडमिल पर चलतेचलते वैशाली ने सामने लगे शीशे में खुद को देखा. फिर मन ही मन अपने रूपरंग और फिगर पर इतराई कि कौन कहेगा वह इस महीने 35 साल की हो गई है. वह चलने की स्पीड बढ़ाते हुए अब लगभग दौड़ने सी लगी थी. अचानक उसे महसूस हुआ कि उसे कोई देख रहा है. उस ने सामने शीशे में फिर देखा. करीब 25 साल का नवयुवक वेट उठाते हुए उसे चोरीचोरी देख रहा था. वह थोड़ी देर टे्रडमिल पर दौड़ी, फिर साइक्लिंग करने लगी. वह लड़का अब ट्रेडमिल पर था. जिम में हर तरफ शीशे लगे थे. शीशे में ही उस की नजरें कई बार उस लड़के से मिलीं, तो वह अनायास मुसकरा दी. उस की नजरों से शह पा कर वह लड़का भी मुसकरा दिया. दोनों अपनाअपना वर्कआउट करते रहे. अपनी सोसाइटी के इस जिम में वैसे तो वैशाली शाम को आती थी पर शाम को जिस दिन किट्टी पार्टी होती थी, वह जिम सुबह आती थी. अपने पति निखिल के औफिस और 5 वर्ष के बेटे राहुल को स्कूल भेजने के बाद वह आज सुबह 9 बजे ही जिम आ गई थी.

वैशाली ने उस लड़के से आंखमिचौली करते हुए खुद को एक नवयुवती सा महसूस किया. घर आ कर जब तक वह फ्रैश हुई, उस की मेड किरण आ गई, फिर वह काम में व्यस्त हो गई. अगले दिन वैशाली निखिल और राहुल के लिए नाश्ता बना रही थी, तभी अचानक जिम वाला लड़का ध्यान आ गया कि कहीं देखा तो है उसे. कहां, याद नहीं आया. होगा इसी सोसाइटी का, कहीं आतेजाते देखा होगा, फिर सोचा वह लड़का तो सुबह ही होगा. जिम में, शाम को तो दिखेगा नहीं. उस लड़के की तरफ वह पहली नजर में ही आकर्षित हो गई थी. स्मार्ट, हैंडसम लड़का था. वह अपना मन उस से हटा नहीं पाई और निखिल और राहुल के जाने के बाद जिम के लिए तैयार हो गई.

9 बज रहे थे. जा कर देखा, वह लड़का आ चुका था. वैशाली उसे देख कर मुसकरा दी. वह भी मुसकरा दिया. रोज की तरह दोनों अपनीअपनी ऐक्सरसाइज करते रहे. एकदूसरे से जब भी नजरें मिलीं, मुसकराते रहे, कोई बात नहीं हुई. 1 हफ्ता यही रूटीन चलता रहा. दोनों ही एकदूसरे के प्रति आकर्षित थे. वैशाली बहुत खूबसूरत थी, फिगर की उचित देखरेख से बहुत यंग दिखती थी. एक दिन वह लड़का वैशाली के जिम से निकलने पर साथसाथ चलता हुआ अपना परिचय देने लगा. ‘‘मैं विनय हूं, अभीअभी एक कंपनी में जौब शुरू की है.’’

वैशाली ने मुसकराते हुए कहा, ‘‘मैं वैशाली.

विनय बोला, ‘‘मैं जानता हूं, आप मेरे सामने वाली बिल्डिंग में ही रहती हैं.’’

वैशाली चौंकी, ‘‘आप को कैसे पता?’’

‘‘मैं आप की सहेली रेनू का देवर हूं, आप को मैं ने 1-2 बार अपने घर पर देखा भी है, शायद आप ने ध्यान नहीं दिया होगा. आप के बेटे राहुल की मेरी भाभी कभीकभी ड्राइंग में हैल्प करती हैं.’’

वैशाली हंस दी, ‘‘हां, रेनू की ड्राइंग अच्छी है, कई बार चार्ट बनाने में रेनू ने उस की हैल्प की है.’’

दोनों बातें करतेकरते अपनी बिल्डिंग तक पहुंच गए थे. वैशाली घर आ कर भी विनय के खयालों में डूबी रही… कितनी अच्छी स्माइल है, कितना स्मार्ट है और मुझ जैसी 1 बेटे की मां को पसंद करता है, यह उस की आंखों से साफ महसूस होता है. विनय को भी वैशाली अच्छी लगी थी. कहीं से एक बच्चे की मां नहीं लगती. जिम में वर्कआउट करते हुए तो एक कालेज गोइंग गर्ल ही लगती है. दोनों ही एकदूसरे के बारे में सोचने लगे थे. अब वैशाली शाम की जगह सुबह 9 बजे ही जिम जाने लगी थी, जहां अब मुख्य आकर्षण विनय ही था और यही हाल विनय का भी था. पहले वह कभीकभार जिम से छुट्टी भी कर लेता था पर जब से वैशाली से दोस्ती हुई थी, उसे देखने के चक्कर में कतई छुट्टी नहीं करता था. और अब तो दोनों के मोबाइल फोन के नंबरों का भी आदानप्रदान हो चुका था. सोमवार को जिम बंद रहता था. उस दिन दोनों बेचैनी से एकदूसरे से फोन पर बात करते. निखिल अपनी पत्नी की हरकतों से अनजान अपने काम और परिवार की जिम्मेदारियों को हंसीखुशी निभाने वाले एक सभ्य पुरुष थे. वैशाली के जोर देने पर विनय अब वैशालीजी की जगह वैशाली पर आ गया था. 2 साल पहले ही निखिल का ट्रांसफर दिल्ली से मुंबई हुआ था पर उन्हें अकसर किसी न किसी काम से दिल्ली जाना पड़ता रहता था.

एक दिन निखिल 3-4 दिनों के लिए दिल्ली गए तो वैशाली ने राहुल के स्कूल जाने के बाद विनय को घर बुलाया. जिम से दोनों ने छुट्टी कर पहली बार अपने रिश्ते को एक कदम और आगे बढ़ा दिया. विनय पहली बार वैशाली के घर आया था. दोनों के बीच पहली बार शारीरिक संबंध भी बन गए. 

विनय ने कहा, ‘‘सौरी वैशाली, शायद मुझे नहीं आना चाहिए था.’’

‘‘कोई बात नहीं विनय, बस अब मेरा साथ कभी न छोड़ना.’’

‘‘पर वैशाली, तुम्हारे पति को कभी भनक लग गई तो?’’

‘‘नहींनहीं, यह नहीं होना चाहिए, बहुत गड़बड़ हो जाएगी, बहुत संभल कर रहना होगा.’’

वैसे भी महानगरों में कौन क्या कर रहा है, इस बात से किसी को मतलब नहीं होता है और फिर किसी के पास समय ही कहां होता है. उस के बाद दोनों अकसर अकेले में मिलते रहते थे. वैशाली तनमन से विनय के प्यार में डूबी थी. विनय अकसर औफिस से हाफडे लेता था, दोनों के संबंधों के 6 महीने कब बीत गए, दोनों को ही पता न चला. वैशाली मशीनी ढंग से अपनी घर की जिम्मेदारियां पूरी करती और विनय के खयालों में डूबी रहती. एक दिन वैशाली किट्टी पार्टी में गई थी. वहां रेनू भी थी. रेनू ने उत्साहपूर्ण स्वर में सब को बताया, ‘‘बहुत जल्दी एक गुड न्यूज दूंगी तुम लोगों को.’’

सब पूछने लगीं, ‘‘जल्दी बताओ.’’

रेनू हंसी, ‘‘अभी नहीं, डेट तो पक्की होने दो.’’

अनीता ने पूछा, ‘‘कैसी डेट? बता न.’’

‘‘विनय के लिए लड़की देखी है, सब को पसंद आ गई है, बहुत अच्छी है, बस शादी की डेट फिक्स करनी बाकी है.’’

वैशाली को गहरा झटका लगा, ‘‘क्या? विनय के लिए?’’

‘‘हां भई, अब तो अच्छीखासी जौब कर रहा है… उस की जिम्मेदारी भी पूरी कर दें.’’

रेखा ने पूछा, ‘‘वैसे तो आजकल लड़के खुद ही लड़की पसंद कर लेते हैं. उस ने कोई लड़की खुद नहीं पसंद की?’’

‘‘नहीं भई, मेरा देवर तो बहुत ही प्यारा है, मांपिताजी ने कई बार पूछा, उस ने हमेशा यही कहा, आप लोग जहां कहोगे मैं कर लूंगा.’’

वैशाली ने अपनी कांपती आवाज पर नियंत्रण रखते हुए पूछा, ‘‘उस ने हां कर दी है?’’

‘‘और क्या?’’

वैशाली ने फिर पूछा, ‘‘उस ने देख ली लड़की?’’

‘‘हां भई, हम सब गए थे लड़की के घर. सब तय हो गया है. बस डेट फिक्स करनी है, 2-3 महीने के अंदर शादी हो जाएगी.’’

वैशाली के दिल पर गहरी चोट लगी. वह मन ही मन फुफकार रही थी. फिर, ‘‘कुछ जरूरी काम है,’’ कह कर वह किट्टी पार्टी से उठ कर बाहर निकल आई और फिर तुरंत विनय को फोन मिलाया, ‘‘मुझे तुम से मिलना है, विनय, अभी इसी वक्त.’’

‘‘कल जिम में मिलते हैं न सुबह.’’

‘‘नहीं, अभी, फौरन मुझ से मिलो.’’

‘‘क्या हुआ, अभी मुश्किल है, मैं औफिस में हूं.’’

‘‘ठीक है, जिम में सुबह मिलते हैं.’’

रात वैशाली ने जैसे जाग कर गुजारी, एक पल भी उसे नींद नहीं आई. निखिल ने उसे बेचैन सा देखा, तो कई बार उस का माथा सहलाया, पूछा, ‘‘तबीयत तो ठीक है न?’’

‘‘हां, ऐसे ही,’’ कह कर वह मन ही मन छटपटाती रही, पति के स्नेहिल स्पर्श से भी उसे चैन नहीं मिला. जिस विनय के प्यार में रातदिन डूब कर उसे अपना सब कुछ सौंप दिया और उस ने उसे कुछ बताया भी नहीं, इतना बड़ा धोखा…

सुबह निखिल और राहुल के जाते ही वैशाली जिम पहुंच गई. वहां अकेले एक कोने में पहुंच कर वैशाली गुर्रा पड़ी, ‘‘यह क्या सुना मैं ने कल? तुम विवाह कर रहे हो?’’

‘‘हां, मैं बताने वाला था पर मौका नहीं मिला, फिर मैं भूल गया, सौरी.’’

‘‘तुम्हें शर्म नहीं आई विवाह के लिए हां कहते हुए?’’

‘‘शर्म कैसी वैशाली?’’

‘‘हमारे बीच जो संबंध है उस के बाद भी यह पूछ रहे हो? धोखा दे रहे हो मुझे?’’ वैशाली का चेहरा गुस्से से तमतमा रहा था.

आतेजाते लोगों की नजरें उन पर न पड़ें, यह सोच कर विनय ने कहा, ‘‘अभी मैं तुम्हारे घर आता हूं, वहीं बात करते हैं, यहां ठीक नहीं रहेगा.’’ वैशाली उसी समय घर चली गई.

विनय भी थोड़ी देर में पहुंच गया. बोला, ‘‘क्या हो गया? इतना गुस्सा क्यों कर रही हो?’’

‘‘तुम किसी से विवाह करने की सोच भी कैसे सकते हो? हमारा जो रिश्ता है…’’

विनय ने बीच में ही बात काटी, ‘‘हमारा जो रिश्ता है, वह रहेगा न, परेशान क्यों हो?’’

‘‘कैसे रहेगा? कल तुम्हारी पत्नी होगी, कैसे रहेगा रिश्ता?’’

गृहशोभा विशेष

‘‘तुम्हारे भी तो पति हैं, तुम ने रखा न मुझ से रिश्ता?’’

‘‘नहीं, मैं यह नहीं सहन करूंगी, तुम शादी नहीं कर सकते किसी से.’’

‘‘यह तो गलत बात कर रही हो तुम.’’

‘‘नहीं, तुम सोचना भी मत यह वरना…’’

विनय को भी गुस्सा आ गया, ‘‘धमकी दे रही हो? मेरा परिवार है, मातापिता हैं… वे जहां कहेंगे, मैं विवाह करूंगा.’’

वैशाली जैसे फुफकार उठी, ‘‘मैं देखती हूं कैसे मेरे साथ रंगरलियां मना कर तुम कहीं और रिश्ता जोड़ते हो.’’

विनय उसे शांत करने की कोशिश में खुद को असफल होता देख बोला, ‘‘अभी मैं जा रहा हूं, कल मिलता हूं, जिम नहीं जाएंगे, यहीं बैठ कर बात करेंगे.’’ दिन में कई बार वैशाली ने विनय को फोन पर बुराभला कहा, उसे धमकी दी… पूरा दिन विनय को वैशाली के बिगड़े तेवर परेशान करते रहे. वैशाली का रौद्र रूप, उस का धमकी देना उसे बहुत कुछ सोचने के लिए मजबूर करता रहा. विनय बहुत तेज दिमाग का लड़का था. वह पूरी स्थिति को अच्छी तरह सोचतासमझता रहा. पहले की मोहिनी, गर्विता सुंदरी वैशाली एक घायल नागिन की तरह फुफकारती विनय को अपना नया रूप दिखा गई थी.

अगले दिन विनय वैशाली से मिलने नहीं जा पाया. उसे औफिस जल्दी जाना था. वैशाली फोन पर चिल्लाती रही. शाम को विनय घर पहुंचा तो हंसीखुशी का माहौल था. अगले महीने की डेट फिक्स हो चुकी थी. 10 दिन बाद सगाई थी. विनय को वैशाली का क्रोधित रूप याद आता रहा. वह मन ही मन बहुत परेशान था. अगली सुबह विनय ने वैशाली के फ्लैट की डोरबैल बजाई. उतरा मुंह लिए वैशाली ने दरवाजा खोला, विनय को दुख हुआ. अब कुछ भी हो रहा हो, दोनों ने इस से पहले काफी समय प्यार भरा बिताया था. उस ने वैशाली के कंधे पर हाथ रखते हुए प्यार से कहा, ‘‘क्यों टैंशन में हो? मैं कहीं भागा तो नहीं जा रहा… हम मिलते रहेंगे.’’

‘‘नहीं, तुम विवाह के लिए मना कर दो, मैं तुम्हारी पत्नी को सहन नहीं करूंगी.’’

‘‘क्यों? मैं ने कभी तुम्हारे पति को कुछ कहा है?’’

वैशाली गुर्राई, ‘‘वह सब मैं नहीं जानती, तुम ने विवाह किया तो मुझ से बुरा कोई न होगा.’’

विनय चुपचाप पैंट की जेब में हाथ डाल कर खड़ा हो गया, बोला, ‘‘मैं कुछ नहीं कर सकता अब… 10 दिन बाद सगाई है मेरी.’’

‘‘तो ठीक है, मैं भी देखती हूं कैसे विवाह करते हो तुम?’’

‘‘क्या करोगी?’’

‘‘मैं सब को बताऊंगी कि तुम ने मेरे साथ जबरदस्ती करने की कोशिश की. अभी इसी समय चिल्लाऊंगी, बदनाम कर दूंगी तुम्हें, इतने दिन मेरे साथ मौजमस्ती कर तुम आराम से किसी और के साथ घर नहीं बसा सकते.’’ वैशाली गुस्से में चिल्लाए जा रही थी.

अचानक विनय ने कहा, ‘‘ठीक है, फिर अब मैं चलता हूं और तुम्हें नेक सलाह देना चाहता हूं, कोई गलत हरकत करने की स्थिति में तुम नहीं हो इसलिए मेरे बारे में कुछ गलत कहनेकरने की सोचना भी मत.’’

‘‘मतलब? क्या कर लोगे?’’

‘‘चाहता तो नहीं था यह सब पर तुम्हारी धमकियां और गुस्सा यह सब करने पर मजबूर कर गया, लो सुनो,’’ कह कर विनय ने पैंट की जेब से अपना फोन निकाला और बटन औन करते ही वैशाली की गुस्से से भरी आवाज कमरे में गूंज गई, ‘इतने दिन मेरे साथ मौजमस्ती…’

यह सुनते ही वैशाली के चेहरे का रंग उड़ गया. विनय कह रहा था, ‘‘यह सब मैं करना नहीं चाहता था पर अगर तुम ने मुझे बदनाम किया तो तुम्हारे पति भी यह सुनेंगे. जो भी हमारे बीच हुआ, अच्छाबुरा, उस का जिम्मेदार मैं अकेला नहीं हूं. दोस्त बन कर हम हमेशा साथ रह सकते थे पर तुम ने धमकियां देदे कर इस की गुंजाइश भी नहीं छोड़ी. अब तुम अपने रास्ते मैं अपने रास्ते,’’ और फिर विनय चला गया. वैशाली चोट खाई नागिन की तरह उसे जाते देख फुफकारती रह गई.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं