गृहशोभा विशेष

पूर्व कथा

बदहवास अमिता ट्रेन की जनरल बोगी में चढ़ कर घबरा जाती है. शरीफ टिकट चैकर उसे फर्स्ट क्लास में जगह दिलवा देता है. वहां वह पुरानी बातें याद करती है.

उस के मातापिता का तलाक हो चुका होता है. उस की मां ने दूसरी शादी कर के अलग घर बसा लिया था और वह पिता की कस्टडी में रह कर होस्टल में पलीबढ़ी. एक दिन पापा को सरप्राइज देने वह घर पहुंची तो यह देख कर हैरान रह गई कि उन्होंने भी दूसरी शादी कर ली है. वहां से वह अपनी मां के घर कानपुर चली आती है.

मां का पति सतीश बेहद बदतमीज और गैरसलीकेदार आदमी था. उन के 2 बेटे भी थे जो बिलकुल सतीश पर ही गए थे. मां के घर में अमिता ने देखा कि वह अपने पति का रोब और धौंस चुपचाप सहती है. एक रात गलती से अमिता के कमरे का दरवाजा खुला रह गया तो सतीश उस के कमरे में घुस आया लेकिन ब्लैक बेल्ट अमिता ने उसे धूल चटा दी. मां भी बेबस खड़ी देखती रहीं. उसे मां से भी घृणा हो गई. उन से सारे रिश्ते तोड़ वह बदहवास स्टेशन की ओर भाग ली.

अब आगे…

 

बुजुर्ग दंपती दोनों से ध्यान हटा तो अमिता के मन में अपनी चिंता ने घर कर लिया. ‘टाटानगर’, हां यहीं तक का टिकट है. उसे वहीं तक जाना पड़ेगा. पर रेलगाड़ी के डब्बे से स्टेशन पर लिखा नाम ही उस ने देखा है बाकी शहर से वह एकदम अनजान है. असल में इधर के जंगलों में 2 बार कैंप लगा था इसलिए वह स्टेशन का नाम जानती है. वहां के स्टेशन पर उतर कर वह कहां जाएगी, क्या करेगी, कुछ पता नहीं. अकेली लड़की हो कर होटल में रहे यह उचित नहीं और इतने पैसे भी नहीं कि महीना भर होटल में रह सके.

पापा से कहेगी तो वे तुरंत पैसे भेज देंगे और एक बार भी नहीं पूछेंगे कि इतने पैसों का क्या करेगी? इतना विश्वास तो पापा के ऊपर अब भी है. पर यह उस का भविष्य नहीं है और न ही समस्या का समाधान. उसे अपने बारे में कुछ तो ठोस सोचना ही पड़ेगा. जब तक पापा के विवाह की बात पता नहीं थी तब तक बात और थी. निसंकोच पैसे मांगती पर अब उन की असलियत को जान लेने के बाद वह भला किस मुंह से पैसे मांगे.

वहां टिस्को और टेल्को में लोग लिए जा रहे हैं पर क्या नौकरी है, कैसी नौकरी है? कुछ भी तो उसे पता नहीं फिर कितने दिन पहले आवेदन लिया गया है, यह भी तो वह नहीं जानती.

इस शहर का नाम जमशेदपुर है. इस इलाके की धरती के नीचे खनिजों का अपार भंडार है. दूरदर्शी जमशेदजी टाटा ने यह देख कर ही यहां अपना प्लांट लगाया था. बस, इतनी ही जानकारी उसे इस जगह के बारे में है और कुछ नहीं. अब एक ही रास्ता हो सकता है कि उलटे पैर वह दिल्ली लौट जाए. वहां दिल्ली में जानपहचान के कई मित्र हैं, कोई कुछ तो जुगाड़ कर ही देगा. ज्यादा न हो सका तो एक छत और भरपेट खाने का हिसाब बन ही जाएगा. थोड़ा समय लगे तो कोई बात नहीं है. वहां पापा हैं, वे भी कुछ उपाय करेंगे ही. बेटी को सड़क पर तो नहीं छोड़ेंगे. उस ने मन बना लिया कि वह उलटे पैर दिल्ली लौट जाएगी.

दिल्ली लौट जाने का फैसला कर लिया तो उसे कुछ चैन पड़ा. मन भी शांत हो गया. चैन से फैल कर वह बैठ गई.

‘‘बेटी, कहां जाओगी?’’

वह चौंकी, मानो चेतना लौटी, ‘‘जी, टाटानगर.’’

उस के शांत, सौम्य उत्तर से वे दोनों बुजुर्ग पतिपत्नी बहुत प्रभावित हुए. अमिता को ऐसा ही लगा. उन्होंने बात आगे बढ़ानी चाही.

‘‘टाटानगर में कहां रहती हो?’’

अब अमिता को थोड़ा सतर्क हो कर बोलना पड़ा, ‘‘जी, पहले कभी नहीं आई. एक इंटरव्यू है कल.’’

इस बार सज्जन बोले, ‘‘हांहां, टाटा कंपनी में काफी लोग लिए जा रहे हैं. तुम नई हो, कहां रुकोगी?’’

‘‘यहां किसी अच्छे होटल या गैस्ट हाउस का पता है आप के पास?’’

बुजुर्ग सज्जन ने थोड़ा सोचा, फिर बोले, ‘‘बेटी, होटल तो इस शहर में बहुत हैं. अच्छे भी हैं पर तुम अकेली लड़की, सुंदर हो, कम उम्र है. तुम्हारा होटल में रहना ठीक होगा क्या? समय अच्छा नहीं है.’’

वृद्ध महिला ने समर्थन किया, ‘‘नहीं बेटे, एकदम अकेले होटल में रात बिताना…ठीक नहीं होगा.’’

‘‘पर मांजी, मेरी तो यहां कोई जानपहचान भी नहीं है, क्या करूं?’’

‘‘एक काम करो, तुम हमारे घर चलो.’’

‘‘आप के घर?’’

‘‘संकोच की कोई बात नहीं. घर में बस हम 2 बुजुर्ग ही रहते हैं और काम करने वाले. तुम को कोई परेशानी नहीं होगी. कल तुम को इंटरव्यू के लिए हमारा ड्राइवर ले जाएगा.’’

 

अमिता असमंजस में पड़ गई. देखने में तो पतिपत्नी दोनों ही बहुत सज्जन और अच्छे घर के लगते हैं. परिपक्व आयु के भी हैं. मुख पर निरीह सरलता भी है पर जो झटका खा कर यहां तक वह पहुंची है उस के बाद एकदम किसी पर भरोसा करना मूर्खता के अलावा और कुछ नहीं. आजकल लड़कियों को फंसा कर बेचने का रैकेट भी सक्रिय है. ऐसे में…? पर उस का सिर तो पहले ही ओखली में फंस चुका है, मूसल की मार पड़े तो पड़ने दो.

अमिता ने निर्णय लिया कि वह इन के घर ही जाएगी. नौकरी तो करनी ही है. ये लोग हावभाव से यहां के खानदानी रईस लगते हैं. अगर इन लोगों का संपर्क प्रभावशाली लोगों से हुआ तो ये कह कर उस की नौकरी भी लगवा सकते हैं. टाटा कंपनी में नौकरी मिल गई तो चांदी ही चांदी. सुना है टाटा की नौकरी शाही नौकरी है.

‘‘आप…लोगों…को…कष्ट…’’

बुजुर्ग महिला हंसी और बोली, ‘‘बेटी, पहले घर तो चलो फिर हमारे कष्ट के लिए सोचना. हां, तुम को संकोच न हो इसलिए बता दूं कि हमारे 3 बेटाबेटी हैं. तीनों का विवाह हो गया है. तीनों के बच्चे स्कूलकालेजों में पढ़ रहे हैं और तीनों पूरी तरह अमेरिका और आस्ट्रेलिया में स्थायी रूप से बसे हैं. यहां हम दोनों और पुराने नौकरचाकर ही हैं.’’

अमिता का मन यह सुन कर भर आया. अपनों ने भटकने के लिए आधी रात रास्ते पर छोड़ दिया. एक बार उस की सुरक्षा की बात तक नहीं सोची और ये? जीवन में पहली बार देखा, कोई रिश्ता नहीं फिर भी वे उस की सुरक्षा के लिए कितने चिंतित हैं.

‘‘ठीक है अम्मा, आप के साथ ही चलती हूं,’’ अम्मा शब्द का संबोधन सुन वे बुजुर्ग महिला गद्गद हो उठीं.

‘‘जीती रहो बेटी, मेरी बड़ी पोती तुम्हारे बराबर ही होगी. तुम मुझे अम्मा ही कहा करो. मातापिता ने बड़े अच्छे संस्कार दिए हैं.’’

इस बार वास्तव में अमिता को हंसी आ गई. मातापिता, उन का अपना-अपना परिवार, उन के संस्कार लेने योग्य हैं या नहीं, वह नहीं जानती. कम से कम अमिता ने तो उन से कुछ नहीं लिया. यह जो अच्छाई है उस के अंदर, चाहे उसे संस्कार ही समझें, यह सबकुछ उस ने पाया है एक अच्छे परिवेश में, अच्छी संस्था की शिक्षा और अनुशासन से, और इस के लिए वह मन ही मन पिता के प्रति कृतज्ञ है.

उन्होंने दोबारा अपना घर बसा लिया है पर उस के प्रति उन का जो दायित्व और कर्तव्य है, उस से एक कदम भी पीछे नहीं हटे जबकि उस की सगी मां कूड़े की तरह उस को फेंक गईं. उस के बाद एक बार भी पलट कर नहीं देखा कि वह मर गई या जीवित है.

उस का ध्यान भंग हुआ. वे महिला कह रही थीं, ‘‘आजकल देख रही हूं कि बच्चे कितने उद्दंड हैं. छोटेबड़े का लिहाज नहीं करते. शर्म नाम की कोई चीज उन में नहीं है पर करें क्या? झेलना पड़ता है. तुम तो बेटी बहुत ही सभ्य और शालीन हो.’’

‘‘मैं होस्टल में ही बड़ी हुई हूं. वहां बहुत ही अनुशासन था.’’

‘‘तभी, अच्छी शिक्षा पाई है, बेटी.’’

अमिता ने सोचा नहीं था कि इन बुजुर्ग दंपती का घर इतना बड़ा होगा. वह उन का भव्य मकान देख कर चकित रह गई. यह तो एकदम महल जैसा है. कई बीघों में फैला बागबगीचा, लौन और फौआरा, छोटा सा ताल और उस में घूमते बड़ेबड़े सफेद बतखों के जोड़े.

अम्मा हंसी और बोलीं, ‘‘3 साल पहले छोटा बेटा अमेरिका से आया था. 6 साल का पोता गांव का घर देखने गया था, वहां से बतखों का जोड़ा लाया था. देखो न बेटी, 3 साल में उन का परिवार कितना बड़ा हो गया है. सोच रही हूं कि 2 जोड़ों को रख कर बाकी गांव भेज दूंगी. वहां हमारी बहुत बड़ी झील है. उस में मछली पालन भी होता है.’’

‘‘यहां से आप का गांव कितनी दूर है?’’

‘‘बहुत दूर नहीं, यही कोई 40 किलोमीटर होगा. अब तो सड़क अच्छी बन गई है तो वहां जाने में समय कम लगता है.’’

‘‘आप लोग वहां नहीं जाते हैं?’’ अमिता ने पूछा.

‘‘जाना तो पड़ता ही है जब फसल बिकती है, बागों का व झील का ठेका उठता है. 2-4 दिन रह कर हम फिर चले आते हैं. वहां तो इस से बड़ा दोमंजिला घर है,’’ गहरी सांस ली उन्होंने, ‘‘सब वक्त का खेल है. सोचा था कि बच्चे यहां शहर में रहेंगे और हम दोनों गांव में. बच्चे गांव आएंगे, हम भी यहां आतेजाते रहेंगे पर सोचा कहां पूरा होता है.’’

अमिता समझ गई कि अनजाने में उस ने अम्मा की दुखती रग पर हाथ रख दिया है. जल्दी से उस ने बात पलटी, ‘‘आते तो हैं सब आप के पास?’’

गृहशोभा विशेष

‘‘हां, आते हैं, साथ ले जाने की जिद भी करते हैं पर हम ने साफ कह दिया है, हम अपनी माटी को छोड़ कर कहीं नहीं जाएंगे. तुम्हारी इच्छा हो तो तुम आओ. वे आते हैं पर उन के पास समय बहुत कम है.’’

इस बुजुर्ग दंपती के घर नौकर- नौकरानियों की फौज है और सभी इन दोनों की सेवाटहल अपने सगों जैसा करते हैं. इतने लोगों की जरूरत है ही नहीं पर अम्मा ने ही कहा, ‘‘कहां जाएंगे ये बेचारे. यहां दो समय का खाना तो मिल जाता है. हमारा भी समय इन के साथ कट जाता है. बच्चे कभीकभार आते हैं तो ये उन को हाथोंहाथ रखते हैं. मुझे देखना भी नहीं पड़ता.’’

फिर कुछ सोच कर अम्मा बोलीं, ‘‘बेटी, अभी तक तुम ने अपना नाम नहीं बताया.’’

‘‘जी, मेरा नाम अमिता है.’’

‘‘सुंदर नाम है. पर घर का और कोई छोटा नाम?’’

अमिता के आंसू आ गए. आज तक इतने अपनेपन से किसी ने उस से बात नहीं की. असल में इंसान को किसी भी चीज का मूल्य तब पता चलता है जब वह उस से खो जाती है.

‘‘जी है… बिट्टू.’’

‘‘यही अच्छा है. मैं तुम्हें बिट्टू ही कहूंगी.’’

अमिता मन ही मन हंस पड़ी. ऐसा लग रहा है जैसे इन्होंने समझा है कि वह जीवन भर के लिए उन के पास रहने आई है. वह उठ कर कमरे में आ गई. उस का कमरा, बाथरूम और बरामदा इतना बड़ा है कि दिल्ली में एक कमरे का फ्लैट बन जाएगा.

अमिता को अब समय मिला कि वह अपने लिए कुछ सोचे पर कोई दिशा उस को नहीं मिल रही. उलझन में रहते हुए भी एक निर्णय तो उस ने लिया कि इन लोगों को वह अपनी पूरी सचाई बता देगी और पापा को फोन कर के अपने बारे में खबर देगी. कुछ भी हो उन का सहयोग नहीं होता तो अब तक उस का अस्तित्व ही मिट जाता, मां तो उसे कूड़े की तरह फेंक अपने सुख को खोजने चली गई थीं.

खाने की विशाल मेज पर बस 3 जने बैठ घर की बनी कचौरियों के साथसाथ चाय पी रहे थे. बाबूजी ने कहा, ‘‘मेरे पिता थोड़े एकांतप्रिय थे. हमारा खेत, शहर से कटा हुआ था तो उन्होंने यहां अपनी हवेली बनवा ली पर अब तो शहर फैलतेफैलते यहां तक चला आया है.’’

इसी तरह की छिटपुट बातों के बीच चाय समाप्त हुई.

दोपहर में खाना खाने के बाद अमिता अपने बिस्तर पर लेट कर सोचने लगी कि यहां इस सज्जन दंपती के संरक्षण में वह पूरी तरह सुरक्षित है. जीवन में इतनी स्नेहममता भी उस को कभी नहीं मिली पर यह ठौरठिकाना भी कितने दिन का, यह पता नहीं. अब तक तो उस ने होस्टल का जीवन काटा है. सामान्य जीवन में अभीअभी पैर रख जिन परिस्थितियों का सामना उसे करना पड़ा वह बहुत ही भयानक है.

एक घर में प्रवेश ही नहीं मिला. दूसरे घर में प्रवेश का इतना बड़ा मूल्य मांगा गया कि उस की आत्मा ही कांप उठी. मां संसार में सब से ज्यादा अपनी और अच्छी साथी होती है. यहां तो मां ने ही उसे ठोकरें खाने को मजबूर कर दिया. पापा फिर भी उस के लिए सोचते हैं पर विवश हैं कुछ कर नहीं पाते. फिर भी पूरी आर्थिक सहायता उन्होंने ही दी है. उन से संबंध न तो तोड़ सकती है और न ही तोड़ेगी.

अमिता सोना चाहती थी पर नींद नहीं आई. एक तो दोपहर में उसे सोने की आदत नहीं थी दूसरी बात कि मन विक्षिप्त है, कुछ समझ नहीं पा रही थी कि अगला कदम कहां रखेगी. यह घर, ये लोग बहुत अच्छे लग रहे हैं, इंसानियत से जो विश्वास उठ गया था इन को देख वह विश्वास फिर से लौट रहा है पर यहां भी वह कब तक टिकेगी. उस की पूरी कहानी सुनने के बाद ये उस को आश्रय देंगे या नहीं यह नहीं समझ पा रही. वैसे तो इन के घर कई आश्रित हैं पर उन में और अमिता में जमीनआसमान का अंतर है.

फै्रश हो कर कमरे से बाहर आते ही देखा कि बरामदे में दोनों पतिपत्नी बैठे हैं. उसे देख हंस दीं अम्मा, ‘‘आओ बेटी, चाय आ रही है. मैं संतो को तुम्हारे पास भेज ही रही थी. बैठो.’’

बेंत की कुरसियां वहां पड़ी थीं. अमिता भी एक कुरसी खींच कर बैठ गई. चाय आ गई. इस बार भी अमिता ने चाय बना कर उन को दी. बाबूजी ने प्याला उठाया और बोले, ‘‘कल तुम्हारा इंटरव्यू है. कितने बजे है?’’

यह सुनते ही अमिता का प्याला छलक गया.

‘‘असल में टेल्को का दफ्तर यहां से दूर है. थोड़ा जल्दी निकलना. मैं ड्राइवर को बोल दूंगा, कल जल्दी आ कर गाड़ी तैयार रखे.’’

अब और नहीं, इन को सचाई बतानी ही पड़ेगी. इतनी चालाकी उस के अंदर नहीं है कि इतनी बड़ी बात छिपा ले. मन और मस्तिष्क पर अपराधबोध का दबाव बढ़ता जा रहा था.

‘‘बाबूजी,’’ अमिता बोली, ‘‘मुझे आप दोनों से कुछ कहना है.’’

‘‘हां…हां. कहो.’’

‘‘अम्मा, मैं ने आप से झूठ बोला है. मेरा यहां कोई इंटरव्यू नहीं है.’’

बुजुर्ग पतिपत्नी चौंके.

‘‘तो…फिर…? इतनी जल्दी क्या थी गाड़ी पकड़ने की.’’

‘‘मैं उस जीवन से भाग रही थी जहां मेरे सम्मान को भी दांव पर लगा दिया गया था.’’

‘‘किस ने लगाया?’’

‘‘मेरी सगी मां ने.’’

‘‘बेटी, हम कुछ समझ नहीं पा रहे हैं.’’

बचपन से ले कर आज तक की पूरी कहानी अमिता ने उन्हें सुनाई. वे दोनों स्तब्ध हो उस की आपबीती सुन रहे थे. अम्मा के आंसू बह रहे थे. उन्होंने उठ कर उसे अपनी गोद में खींचा.

‘‘इतनी सी उम्र में बेटी तू ने कितना सहा है. पर तू चिंता मत कर. शायद हमारा साथ तुम को मिलना था इसलिए नियति ने हमें उस गाड़ी और उसी डब्बे में भेज दिया. कितनी पढ़ी हो?’’

‘‘बीए फाइनल की परीक्षा दी है. अभी परीक्षाफल नहीं आया है. पास होने के बाद जहां भी नौकरी मिलेगी मैं चली जाऊंगी.’’

बाबूजी ने कहा, ‘‘तुम कहीं नहीं जाओगी. काम की कमी नहीं है यहां. मैं ही तुम्हारी नौकरी का प्रबंध कर दूंगा. हर लड़की को स्वावलंबी बनना चाहिए. पर तुम रहोगी हमारे ही साथ. देखो बेटी, तुम्हारी उम्र बहुत कम है. ऐसे में बड़ों का संरक्षण बहुत जरूरी है. दूसरी बात, हम दोनों भी बहुत अकेले हैं. अपने बच्चे तो बहुत दूर चले गए हैं. मातापिता की खोजखबर भी नहीं लेते. ऐसे में जवान बच्चे का संरक्षण हम को भी चाहिए. यहां इतने काम करने वाले तो हैं पर अपना कोई रहे तो हम को बहुत बल मिलेगा. आराम से रहो तुम.’’

‘‘आप की आज्ञा सिरआंखों पर.’’

‘‘इतना कुछ है,’’ आंसू पोंछ कर अम्मा ने कहा, ‘‘मुझे नएनए व्यंजन बनाने का शौक है, पर खाएगा कौन? तुम रहोगी तो मेरा भी मन लगा रहेगा. चलो, 2-4 दिन में तुम को अपने गांव घुमा कर लाती हूं.’’

बाबूजी हंसे फिर बोले, ‘‘बेटी, तुम को जो भी चाहिए वह बेहिचक हो कर बता देना.’’

अमिता को संकोच तो हुआ फिर भी वह बोली, ‘‘सोच रही थी एक मोबाइल खरीद लूं क्योंकि मेरा जो मोबाइल था वह कानपुर में ही छूट गया.’’

‘‘अरे, आज ही मंगवा कर देती हूं,’’ अम्मा बोलीं, ‘‘कोई जरूरी फोन करना हो तो घर के फोन से कर लो.’’

दूसरे दिन नाश्ते के बाद खुले मन से अमिता अम्मा के साथ बात कर रही थी. बाबूजी के पास व्यापार के सिलसिले में कुछ लोग आए थे.

अम्मा ने कहा, ‘‘आज का समाज इतना स्वार्थी, विकृत, आधुनिक, उद्दंड और असहिष्णु हो गया है कि अपने सारे कर्तव्य, उचितअनुचित और कोमल भावनाओं तक को नजरअंदाज कर बैठा है. तभी तो देखो न, 3 बच्चों के मातापिता हम कितने अकेले पड़े हुए हैं.’’

अमिता ने अम्मा के मन की पीड़ा को समझा. वह अपनी पीढ़ी को बचाने के लिए बोली, ‘‘क्या करें अम्मा, इस देश में काम की कितनी कमी है.’’

‘‘क्यों नहीं कमी होगी. तुम्हीं बताओ, यहां किसी को अपने आनेजाने की रोकटोक, कोई सख्ती कुछ नहीं. पड़ोसी देश इस धरती के सब से बड़े अभिशाप बने हुए हैं. जैसे ही वहां थोड़ी असुविधा हुई सीधे यहां चले आते हैं. फिर भी जिन की रोजीरोटी का प्रश्न है वे देश छोड़ कर चले जाएं तो देश का उपकार हो. कुछ परिवार संपन्नता का मुंह भी देखें पर जिन की यहां जरूरत है वे जब देश छोड़, गांव छोड़, असहाय मातापिता को छोड़ चले जाते हैं तो हमारे लिए दुख की बात तो है ही, देश के लिए भी हानिकारक है. सामर्थ्य रहते भी उन के वृद्ध मातापिता इतने दुखी और हतोत्साहित हो जाते हैं कि उन में कुछ अच्छा, कुछ कल्याणकारी करने की इच्छा ही खत्म हो जाती है.’’

अम्मा का हर शब्द अमिता के मन की गहराई में उतर रहा था. अम्मा की सोच कितनी उन्नत है, उन्होंने गांव का जीवन, गरीबी, लोगों का दुखदर्द अपनी आंखों से देखा, मन से अनुभव किया है, पर चाहते हुए भी अपना हाथ नहीं बढ़ा पातीं. साहस भी नहीं कर पा रहीं क्योंकि उन को भी मजबूत हाथों के सहारे की जरूरत है और पीछे से साधने वाला कोई नहीं. जब तक 2 मजबूत, जवान हाथों का सहारा न हो वे कैसे किसी कल्याणकारी योजना में अपना हाथ डालें. फिर समय ऐसा है कि सचाई भी चिराग ले कर खोजे नहीं मिलती है. अमिता सोचने लगी.

मोबाइल मिलने के बाद अमिता ने शिल्पा, जो उस की घनिष्ठ सहेली थी, को सारी बातें बता कर अनुरोध किया कि रिजल्ट आते ही वह तुरंत सूचना दे. शिल्पा उस के लिए चिंतित हो गई.

‘‘वह तो तू न भी कहती तब भी मैं खबर देती. पर यह बता, अब तू क्या करेगी? नौकरी तो करेगी ही, उस के लिए बेहतर होगा दिल्ली आ जा.’’

‘‘मन इतना विक्षिप्त है कि अभी उधर लौटने की इच्छा नहीं है. रिजल्ट आ जाए तब भविष्य के लिए कुछ सोचूंगी.’’

‘‘ठीक है पर अपने पापा से तू एक बार बात तो कर ले.’’

‘‘पापा से बात की थी. उन्होंने कहा कि मेरी जैसी इच्छा है मैं वही कर सकती हूं. 10 हजार रुपए भी भेज दिए हैं. मुझे उन से कोई शिकायत नहीं है.’’

‘‘चल, तू अच्छे लोगों के साथ सुरक्षित रह रही है, यह मेरे लिए बहुत बड़ी राहत की बात है. फोन करती रहना. मैं भी करूंगी.’’

एक दिन अम्मा, बाबूजी को गांव जाना पड़ा. ‘‘झील में पली मछलियों का ठेका उठने वाला है,’’ अम्मा ने बताया, ‘‘साथ में अगली बार जो मछली का बीज पड़ेगा उस की भी व्यवस्था अभी से करनी होगी.’’

40 किलोमीटर का रास्ता वे देखते ही देखते डेढ़ घंटे में पार कर आए. परिसर में आ कर गाड़ी रुकते ही अमिता की आंखें फटी की फटी रह गईं. इस में तो जमशेदपुर की 2 हवेली बन जाएंगी. अमिता ने मन ही मन सोचा.

कुछ घंटों में उस की समझ में आ गया कि ये लोग कितने संपन्न हैं. दुख हुआ इन के बच्चों की सोच पर कि वे यहां इतना कुछ छोड़ गए हैं और पराए देश में जा कर चाकरी बजा रहे हैं. अपनी शक्ति और बुद्धि दोनों को विदेशों में जा कर कौडि़यों के मोल बेच रहे हैं.

यहां अपने बुजुर्ग मातापिता के साथ रह कर देश की समृद्धि में हाथ बंटा सकते थे. कितने असहायों को जीने के रास्ते पर ला सकते थे, कितनों को गरीबी रेखा से खींच कर ऊपर उठा सकते थे. पर…

अचानक अमिता के मन में आया कि बाबूजी और अम्मा अभी शरीर से स्वस्थ हैं. बस, थोड़े अकेलापन और डिप्रैशन की लपेट में आ रहे हैं. उन का जीवन भी तो एक तरह से निरर्थक सा हो गया है. उसे जनकल्याण में समर्पित कर के सार्थक बनाया जा सकता है. अरे, नौकरी ही क्यों? करने के लिए कितना कुछ पड़ा है. उस ने फैसला कर लिया कि इन लोगों से बात करेगी.

अमिता का प्रस्ताव सुन दोनों बुजुर्ग सोचने लगे. अम्मा ने कहा, ‘‘बेटी, तुम्हारी योजना बहुत सुंदर है. देश व समाज का उपकार भी होगा पर बेटी हम डरते हैं. तुम्हारी उम्र अभी कम है. आज न सही पर कल तुम शादी कर के अपने घर चली जाओगी, तब हम दोनों बुजुर्ग लोग क्या करेंगे? कैसे संभालेंगे इतना कुछ.’’

बाबूजी ने कहा, ‘‘हम एक काम करते हैं. तुम्हारी योजना में थोड़ा काटछांट करते हैं. यहां अनाथ और वृद्धों की सेवा हो. उस के साथ तुम ने यह जो महिला कल्याण और लघुउद्योग निशुल्क शिक्षा केंद्र की योजना बनाई है, उसे अभी रहने दो.’’

‘‘नहीं बाबूजी,’’ अमिता बोली, ‘‘हमारा असली काम तो यही है. कहीं मार खाती तो कहीं विदेशों में बिकती असहाय लड़कियों को बचा कर उन को स्वावलंबी बना कर उन्हें उन के पैरों पर खड़ा करना जिस से घर या बाहर कोई आंख उठा कर उन्हें देख न सके और गरीबी से जूझ कर कोई दम न तोड़ दे. अनाथ और वृद्धों की सेवा सहारा तो हो ही जाएगी.’’

अम्मा हंसी और बोलीं, ‘‘उस दिन ट्रेन में तुझे डरीसहमी एक लड़की के रूप में देखा था, आज तुझ में इतनी शक्ति कहां से आ गई?’’

बाबूजी ने मेरा सिर हिलाया और बोले, ‘‘उस दिन अग्नि परीक्षा में तप कर ही तो यह शुद्ध सोना बनी है. इस की सोच बदली, मनोबल बढ़ा और बुद्धि ने जीवन का नया दरवाजा खोला.’’

 

अमिता भी अब इन लोगों से सहज हो गई थी. पुरानी पीढ़ी से नई पीढ़ी के मतभेद, सोच में अंतर के झगड़े तो मिटने वाले नहीं हैं. वे चलते रहेंगे. उस से किसी पीढ़ी के जीवन में कोई अंतर नहीं आना चाहिए. नया खून अपने को नहीं बदलेगा, पुराना खून बेवजह मानसिक, शारीरिक कष्ट सहतेसहते उन लोगों का रास्ता देखते हुए फोन का इंतजार न करते हुए उन के कुशल समाचार लेने की प्रतीक्षा न कर के अपने जीवन को अपने ढंग से जीए. सामर्थ्य के अनुसार उन लोगों की दुख- परेशानी को कम करे. देश समाज का भला हो और अपना मन भी खुशी, उत्साह में भराभरा रहे. एकएक पैसा जोड़ कर उन लोगों के लिए जमा करने की मानसिकता समाप्त हो, वह भी उन के लिए जिन्हें उन की, उन के प्यार व ममता की  और न ही उन के जमा किए पैसों की जरूरत है.

दोनों ही अमिता की बातों से मोहित हो गए.

‘‘तुम्हारी सोच कितनी अच्छी है, बेटी.’’

‘‘समय, हालात, मार बहुत कुछ सिखा देता है बाबूजी. अभी कुछ दिन पहले तक मैं कुछ सोचती ही नहीं थी. मैं आप लोगों से मिली, जानपहचान के बाद जा कर सोच ने जन्म लिया. अम्मा, आप डरो नहीं, मैं आप लोगों को छोड़ कर कहीं नहीं जा रही.’’

‘‘तेरी शादी तो मैं जरूर करूंगी.’’

‘‘करिए पर शर्त यही रहेगी कि मैं यहां से कहीं नहीं जाऊंगी.’’

‘‘ठीक है, उसे ही हम यहां रख लेंगे.’’

इस के साथ ही वातावरण में खुशी की लहर दौड़ गई.     

– बेला मुखर्जी

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं