कौलबेल की आवाज से रितेश अचानक जैसे नींद से जागा. वह 4 दिन पहले मनाए वेलैंटाइन डे की मधुर यादों में खोया हुआ था. उस की यादों में थी मीनल, जिस के साथ वह सुनहरे भविष्य के सपने संजो रहा था. वह बेमन से उठा, दरवाजा खोला तो कोरियर वाला था. उस ने साइन कर लिफाफा ले लिया, भेजने वाले का नामपता स्पष्ट नहीं दिख रहा था, फिर भी उस ने उत्सुकता से लिफाफा खोला तो कई सारे फोटो लिफाफे में से निकल कर उस के कमरे में बिखर गए. फोटो देखते ही वह जड़ सा हो गया. फोटो उस के और मीनल के प्रेम संबंधों को स्पष्ट बयान कर रहे थे. आलिंगनरत, चुंबन लेते हुए, हंसतेबोलते ये चित्र वेलैंटाइन डे के थे. 4 दिन पहले की ही तो बात है, जब वह मीनल को ले कर लौंग ड्राइव पर निकला था, शाम की हलकी सुरमई चादर धीरेधीरे फैल रही थी, घनी झाडि़यां देख कर उस ने कार सड़क पर ही रोकी और मीनल को ले कर घनी झाडि़यों के पीछे चला गया.

ओह, यह किस ने किया, कब कर दिया. लिफाफे  के साथ एक छोटा सा कागज भी था जिस पर लिखा था कि अगर तुम चाहते हो कि ये फोटो फेसबुक पर न डाले जाएं, तो इस बैंक अकाउंट में 2 लाख रुपए कल शाम तक जमा हो जाने चाहिए.

रितेश तनावग्रस्त हो चुका था, अभी उस की और मीनल की शादी होने में भी 2-3 साल लग सकते थे. मीनल की पढ़ाई अभी खत्म नहीं हुई थी, उस को स्वयं पढ़ाई खत्म कर के घर वालों से मीनल के संबंध में बात करनी थी, लेकिन यह समस्या बीच में कहां से आ गई. अब मैं क्या करूं? क्या मीनल को बता दिया जाए, नहींनहीं कहीं वह टैंशन में आ कर कुछ गलत कदम न उठा ले.

मीनल के पिता सरकारी सेवा से रिटायर्ड हो चुके थे. घर में मीनल की मां के अलावा एक बड़ा भाई महेश था जो किसी होटल में मैनेजर था. उसे इतना वेतन मिल जाता था कि खुद का खर्च निकाल लेता था. वह कभी भी एक जगह टिक कर नौकरी नहीं कर पाता था. एक छोेटी बहन भी थी, सोनल जो स्कूल में पढ़ती थी. पिता की पैंशन से ही पूरा घर चलता था, रिटायरमैंट के पैसों से उन्होंने एक छोटा सा घर, इंदौर के नजदीक राजेंद्र नगर में, जहां मकान और फ्लैट बेहद महंगे थे.

ये सब परिस्थितियां रितेश को पता थीं इसलिए वह मीनल को परेशान नहीं करना चाहता था. कुछ सोच कर उस ने अपने 2-3 बैंक अकाउंट टटोले तो उस में 2 लाख के लगभग रुपए थे, उस ने दूसरे दिन जा कर 2 लाख रुपए ब्लैकमेलर के बताए अकाउंट में जमा कर दिए और उस के अगले कदम की प्रतीक्षा करने लगा.

उस ने ऐसा इसलिए किया था कि वह जानता था कि 2 लाख रुपए मिलते ही ब्लैकमेलर थोड़े से लापरवाह हो जाएंगे और वे यह मानने लगेंगे कि रितेश उन के जाल में फंस चुका है, जबकि रितेश ने ऐसा इसलिए किया था कि उन की लापरवाही से उसे आगे इस मुसीबत से बच निकलने के लिए उपाय खोजने में आसानी होगी. ये 2 लाख रुपए तो उस के अपने निजी थे.

 

दूसरे दिन कालेज में वह मीनल से मिला तो बिलकुल नौर्मल था, फोटो और ब्लैकमेलर की बात उस ने मीनल को नहीं बताई. सामान्य तौर से ही उस ने अपने सभी पीरियड अटैंड किए, कैंटीन में मीनल के साथ गरमागरम पनीर के पकौड़ों का आनंद लिया, पढ़ाई के बारे में चर्चा की और वापस घर आ गया.

इंदौर से लगभग 40 मिनट के रास्ते पर महू में रितेश का घर था, पिता बिजनैसमैन थे, इंदौर में उन की गारमैंट्स की कई दुकानें थीं. महू ज्यादा बड़ा नहीं था, लेकिन इंदौर एक बड़ा शहर था. रितेश के घर में सभी प्रकार की सुखसुविधाएं थीं, उस की छोटी बहन शीना कालेज स्टूडैंट थी, उसे मैडिकल क्षेत्र में जाना था.

घर से पढ़ाई और कैरियर के विषय में पूरी आजादी थी. रितेश के पिता मदनलाल बच्चों की पढ़ाईलिखाई में किसी प्रकार की कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते थे, रितेश उन का इकलौता बेटा था.

अपने कमरे में बैठ कर रितेश ने सब से पहले कोरियर से मिला लिफाफा निकाला और ध्यान से भेजने वाले के नामपते को जांचने लगा, लेकिन उसे कुछ समझ नहीं आ रहा था. डाक्टरों जैसी लिखावट थी, जिसे पढ़ने में वह असमर्थ था, फिर उस ने कोरियर का नाम देखा, ‘बौबी कोरियर सेवा’, यह तो इंदौर में है, वह तुरंत उठा, लिफाफा लिया, अपनी गाड़ी निकाली और इंदौर की तरफ चल पड़ा, लगभग घंटेभर में वह इंदौर पहुंच गया.

स्टेशन क्षेत्र के व्यस्त बाजार में उसे बौबी कोरियर तलाशने में ज्यादा समय नहीं लगा. लगभग 20 मिनट बाद वह बौबी कोरियर पर था. कोरियर वाले से उस ने लिफाफा दिखा कर पूछा कि थोड़ा याद कर के बताओ कि महू के लिए यह लिफाफा कोरियर किस ने किया?

कोरियर वाला बोला, ‘‘सर, यहां तो सैकड़ों कोरियर आते हैं, ऐसे में कैसे ठीकठीक बताया जा सकता है?’’

रितेश बोला, ‘‘लेकिन भेजने वाला कौन था, यह तो साफसाफ लिखा होना चाहिए था कि नहीं?’’

‘‘जिस को भेजा जाना है, उस का नामपता हम साफ लिखा देखते हैं, बाकी का हम कितना ध्यान रखें,’’ कोरियर वाला भी अब झल्लाने लगा था. आखिरकार, रितेश थक कर इंदौर कौफी हाउस में जा कर बैठ गया, ताकि थोड़ा शांति से सोच सके.

गृहशोभा विशेष

कौफी हाउस में हलका सा अंधेरा था, धीमीधीमी रोशनी में कुछ जोड़े भी बैठे थे, जिन की बस मुसकराहट दिख रही थी, लेकिन बातें नहीं सुनाई दे रही थीं, ऐसा कहते हैं जब दिल करीब होते हैं, तो बातों का स्वर भी धीमा हो जाता है. रितेश ने कौफी के साथ ही वैज कटलेट का भी और्डर दिया. मीनल को यहां के पनीर पकौड़े और कटलेट पसंद थे. वह अकसर मीनल को ले कर यहां आया करता था.

रितेश ने सोचा, ‘यदि फोटो फेसबुक पर डाले जाएंगे, तो कितनी परेशानी उठानी पड़ेगी, मीनल की बदनामी होगी, घर वाले परेशान हो जाएंगे, नहींनहीं वह ऐसा नहीं होने देगा. कुछ न कुछ तो हल निकालना ही पड़ेगा, क्या पुलिस में शिकायत करूं? लेकिन फिर मीडिया में भी यह खबर जाएगी, नहींनहीं… यह सब वह और मीनल नहीं सह पाएंगे. ऐसा करते हैं कल कालेज में मीनल से बात कर के कुछ हल निकालते हैं और फिर पुलिस में दोनों ही साथ जाते हैं,’ यह सोच कर रितेश कौफी खत्म कर के अपने घर के लिए निकल पड़ा.

दूसरे दिन कालेज में रितेश ने मीनल से कहा, ‘‘मीनल, मुझे तुम से कुछ जरूरी बात करनी है.’’

मीनल आज बेहद खुश थी, वह चहकते हुए बोली, ‘‘मैं तुम से खुद ही जरूरी बात करना चाहती थी, तुम्हें खुशखबरी देनी है,’’ खुशखबरी की बात सुनते ही रितेश ने मीनल का मूड खराब करना उचित नहीं समझा, सोचा पहले मीनल की खुशी की बात सुन ली जाए.

‘‘रितेश, मेरे महेश भैया के मालिक ने उन के काम से खुश हो कर उन की सैलरी बढ़ा दी है. कल भैया ने सभी के लिए महंगे कपड़े खरीदे और हमसब ने इंदौर जा कर अच्छे से शौपिंग भी की. सच बड़ा मजा या.’’

रितेश ने अपना इरादा बदल लिया, वह मीनल को ब्लैकमेलर वाली बात बता कर टैंशन नहीं देना चाहता था, इसलिए उस ने मीनल को फोटो वाली बात नहीं बताई. मीनल के लाख पूछने पर भी उस ने बात को टालना उचित समझा.

कुछ दिन बाद उस के मोबाइल पर फोन आया, रितेश के हैलो बोलते ही कोई बोला, ‘‘भाई रितेश, 2 लाख तो खत्म हो गए, 2 लाख रुपए का और इंतजाम कर दो. फोटो नेगेटिव तुम को भेज दिए जाएंगे.’’

रितेश गुस्से से बोला, ‘‘पहले फोटो और नेगेटिव भेजो फिर रुपए दूंगा.’’

‘‘सोच लो,’’ फोन करने वाला शख्स बोला, ‘‘तुम्हारी माशूका की बदनामी होगी.’’

‘‘हां, मैं सोच चुका हूं,‘‘ रितेश भी गुस्से में बोला, यह बोलतेबोलते वह मोबाइल का स्पीकर औन कर चुका था, साथ ही उस ने फोन करने वाले की आवाज भी रिकौर्ड करनी शुरू कर दी थी.

‘‘तुम सोचो, लगभग 10 दिन पहले ही मैं तुम्हें 2 लाख रुपए दे चुका हूं, अब मुझे थोड़ा सा समय तो दो,‘‘ तेश ने बात जारी रखने का प्रयास किया.

‘‘अच्छा, ठीक है, मैं तुम को एक दिन और देता हूं, तुम 2 लाख रुपए की व्यवस्था कर के रखो.’’

इतना कहने के बाद फोन काट दिया गया. रितेश ने उस आवाज को बारबार सुना कि यह आवाज उस के किसी दोस्त की तो नहीं है, लेकिन उस के दोस्तों में से उसे वह आवाज किसी की नहीं लगी. फिर यह कौन हो सकता है, सोचतेसोचते अचानक ही उसे मीनल के महेश भैया की सैलरी बढ़ने वाली बात याद आई, कहीं ऐसा तो नहीं महेश हो, ऐसा कैसे हो सकता है? क्या महेश को उस के और मीनल के प्रेम संबंधों की खबर है,

ठीक दूसरे दिन शाम को ब्लैकमेलर का फोन आया कि रुपयों का इंतजाम हो गया? उस ने रिकौर्डर और स्पीकर औन कर दिया, लेकिन रितेश ने देखा यह नंबर दूसरा था, पहले फोन दूसरे नंबर से आया था.

‘‘हां, हो गया,’’ रितेश बोला. ‘‘तो ठीक है, पहले वाले बैंक खाते में ही जमा कर दो,’’ ब्लैकमेलर ने आदेश दिया.

’’नहीं, मैं जमा नहीं करूंगा. मैं रुपए देने खुद आऊंगा, तुम फोटो और नेगेटिव तैयार रखो. ये सब मुझे दो, तभी मैं रुपए दूंगा.’’

’’ठीक है, जैसी तुम्हारी मरजी,’’ उधर से जवाब मिला, ’’तुम बौंबे हौस्पिटल वाले रोड पर पहुंचो, 2 घंटे बाद मैं तुम को वहीं फोटो और नेगेटिव दूंगा.’’

’’ठीक है,’’ रितेश बोला.  फिर रितेश ने मीनल को फोन लगाया और उसे जल्दी मिलने को कहा, उस समय दोपहर के 2 बज रहे थे.

मीनल जैसे ही सड़क तक पहुंची रितेश ने कार पास में जा कर रोक दी. मीनल घबराई हुई थी. रितेश ने जल्दी से उसे सारी बात समझाई और कहा, ’’मैं ब्लैकमेलर के पास जाता हूं, 2 लाख रुपए देने और उस से अपने फोटो और नेगेटिव ले लूंगा. एक घंटे तक मेरा इंतजार करना, उस के बाद पुलिस के पास जाना.’’

’’नहीं, नहीं. मुझे डर लगता है, मैं भी साथ चलती हूं,’’ मीनल ने बेहद घबरा कर कहा.

’नहीं,’ पागल मत बनो, मेरी बात मानो,’’ रितेश ने उसे समझाया, लेकिन मीनल नहीं मानी.

आखिर रितेश ने उसे भी साथ लिया और दोनों ब्लैकमेलर की बताई जगह पर पहुंच गए. बौंबे हौस्पिटल वाले रास्ते पर रितेश ने कार की गति धीमी कर दी.

इतने में रितेश का मोबाइल बज उठा, रितेश ने जैसे ही हैलो बोला, ब्लैकमेलर बोला,’’क्या बात है, महबूबा भी साथ है, चलो, मजा भी कर लेते हैं,’’ इतने में एक टोयटा कार आ कर रितेश की कार के ठीक सामने खड़ी हो गई, कार में 4 युवक बैठे थे, सभी के चेहरे ढके हुए थे, एक युवक नीचे उतरा और रितेश के पास जा कर बोला, ’’निकालो रुपए.’’

रितेश बोला,’’फोटो और नेगेटिव दो.’’

पहले रुपए दो, नहीं तो तेरी महबूबा के साथ कार में गैंगरेप भी हो जाएगा.’’

रितेश ने रुपए निकाले, फिर बोला,’’फोटो दो.’’ ज्यादा बहस होते देख कार में से एक अन्य युवक जो चुप बैठा था, निकला और कड़कते हुए बोला, ’’रुपए जल्दी दो, नहीं तो…’’

इतने में मीनल जोर से चिल्लाई,’’यह तो रोहन की आवाज है, महेश भैया के दोस्त की.’’

वह युवक सकपका गया और जोर से बोला, ’’गाड़ी जल्दी से बढ़ा.’’ तब तक रुपए मांगने वाले युवक को रितेश रुपए दे चुका था, वह रुपए ले कर तेजी से कार में बैठा और उस ने कार तेजी से चला दी.

रितेश फोटोफोटो चिल्लाता रहा, साथ ही रितेश ने कार का पीछा किया, लेकिन कुछ हासिल नहीं हुआ, कार पर नंबर प्लेट भी नहीं थी. आखिर, रितेश और मीनल ने फैसला किया और पुलिस के पास पहुंचे. उन्होंने सबकुछ सचसच बता दिया. मीनल और रितेश की रिपोर्ट के आधार पर रोहन को गिरफ्तार कर लिया गया, साथ ही पुलिस के सामने रोहन भी टूट गया और उस ने पुलिस को अपने 3 अन्य साथियों के नामों के साथ मीनल के भाई महेश के बारे में भी बताया.

सबकुछ महेश की योजना के मुताबिक हुआ और ये पहले भी ऐसा कई प्रेमी जोड़ों के साथ कर चुके हैं और उन सभी से मोटी रकम ऐंठ चुके हैं. आज ये सब अपराधी अपने किए की सजा काट रहे हैं. रितेश और मीनल की शादी हुए एक वर्ष बीत चुका है, वे अब झाडि़यों में नहीं घर में मिलते हैं और हर रोज वेलैंटाइन डे मनाते हैं.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं