इस इलाके में बहुत सुंदरसुंदर घर हैं और इन घरों के मालिक भी पैसों के लालच से खुद को बचाए हुए हैं. इसी इलाके के सब से सुंदर घरों में एक घर शिवनाथजी का है जहां पर एक सुंदर बगीचा भी है. शिवनाथजी अकेले हैं. उन्हें किसी प्रकार के नशे की लत नहीं है. उन के विरोधी कहते हैं कि वे किसी भी प्रकार का नशा इसलिए नहीं करते क्योंकि वे एक भी पैसा खर्च नहीं करना चाहते. हर पैसे में उन की सांस अटकी रहती है. पैसे खर्च होने के डर से उन्होंने शादी तक नहीं की. पड़ोसियों से ज्यादा मेलजोल इसलिए नहीं रखा कि उन के आने पर चाय, चीनी और दूध का खर्चा होगा.

घर में उन को छोड़ बस उन के पिता का लाया एक नौकर मदन है, जो अब 60 साल का बूढ़ा हो चला है. वह घरबाहर का सारा काम कर के आज भी मालिक से 100 रुपए पाता है. खाना और होली, दीवाली को एकएक जोड़ी कपड़े उसे मालिक की तरफ से मिलते हैं. चूंकि मोहन को बागबानी का शौक है अत: अपने इस शौक के लिए वह पौधों के खाद, बीज आदि में अपनी पगार का आधा पैसा लगा देता है. उस का अपना कोई नहीं है. यह बगीचा, पेड़पौधे, फूल ही उस का परिवार हैं.

शिवनाथजी की आयु 80 साल की है पर उन को देख कर लगता है कि अभी 60 साल के आसपास के हैं. लंबा, गठीला शरीर, साफ रंग. शायद वे इस शरीर को निरोग रखने का रहस्य जानते हैं. जीभ और मन पर उन का पूरा संयम है. पर मदन कुछ और कहता है, ‘‘संयम तो उन का ढकोसला है, असली कारण है कंजूसी. खर्चे के डर से जो इंसान शादी नहीं करता, पड़ोसियों से कोई संपर्क नहीं रखता था क्या वह पैसे खर्च कर के खाने, पहनने, घूमने का शौक रखेगा. अरे, मेरा दुनिया में कहीं कोई और ठिकाना होता तो यह 2 जोड़ी कपड़े, रोटी और 100 रुपए महीने पर मैं यहां पड़ा रहता? मालिक के पास कितना पैसा है इस का अंदाजा नहीं है.’’

भोर में फै्रश हो दरवाजे का ताला खोलने आए शिवनाथजी ने ताले को गेट की छड़ में ही लटका दिया. मुड़ते ही उन्होंने सोचा, मैं अकेला कितने आराम से हूं. बीवी पालना तो हाथी पालने से भी महंगा है. अच्छा हुआ कि शादी के चंगुल में नहीं फंसा, नहीं तो बीवी के नखरे उठाने में लाखों खर्च हो जाते. मदन को 100 रुपए देने पड़ते हैं और उस के लिए यही बहुत है. हमारे पुराने जूते, चप्पल, कुरतापजामा, तौलिया, बनियान आदि सब भी तो हथिया लेता है, पैसों का क्या अचार डालेगा?

जब से सामान महंगा हुआ, तेलमसाले की मात्रा कम कर दी. चावल भी मोटा खाने लगे. बस, हार गए आटे के मामले में कि उस का कोई विकल्प नहीं. कभीकभार मदन महंगी गोभी ले आता तो वे बिगड़ते, ‘इतनी महंगी गोभी क्यों ले आया तू.’

‘आज सस्ती थी,’ मदन कहता. ‘काहे की सस्ती. इस के लिए कितना तेल, मसाला चाहिए. यह लौकी, तोरई की तरह बूंद भर तेल टपका कर बन जाएगी क्या? तू मुझे भीख मंगवा कर छोड़ेगा.’

‘मालिक, यह अपना मन मार कर, तन को कष्ट दे कर जो पैसा बचा कर रखते हो, यह किस के लिए? न आगे नाथ न पीछे पगहा तो इसे खाएगा कौन?’

‘तू ठहरा अनपढ़. तू क्या जाने पैसे का दम. लोग बच्चों को बुढ़ापे की लाठी कहते हैं. अरे, आजकल के बच्चे लाठी नहीं दरांती होते हैं. पैसे के लिए बूढ़े मांबाप का गला काट देते हैं और माल हड़प लेते हैं. असली बुढ़ापे की लाठी है पैसा. पैसा पास रहे तो सब दौड़दौड़ आएंगे.’

‘रहने दो मालिक. बच्चे से बूढ़ा हो गया. आप से पैसे की महिमा सुनतेसुनते. आप का पैसा आप को मुबारक.’

बाहर से लौट कर शिवनाथ ने उस पूरे घर पर नजर दौड़ाई तो कुछ पुरानी यादें सजीव हो उठीं. यह घर पिता ने बनवाया था. अम्मा और बाबूजी दोनों शौकीनमिजाज थे और दोनों ने मिल कर इस घर को सुंदर बनवाया था. उस समय आज जैसी जगह की मारामारी नहीं थी. बड़ेबड़े लोगों के बड़ेबड़े घर. किसी के घर में कोई किराएदार नहीं था. शायद यहां सब के घर बच्चों से भरे हैं. ऊपर की मंजिल की ओर नजर गई तो बड़ेबड़े कमरे, बड़ी सी एक रसोई, 2 बड़ेबड़े बाथरूम, लंबीचौड़ी बालकनी की याद आ गई.

बालकनी में खड़े हो कर अपने बगीचे को देखना आज भी अच्छा लगता है. मां को शौक था कि पीछे फलों के बाग में उम्दा किस्म के पौधे लगे हों, इसलिए पिताजी इलाहाबाद और लखनऊ गए तो वहां से अमरूद और आम के पौधे लेते आए थे जो अब मौसम के फलों का मजा देते हैं. उन के अलावा जामुन, लीची आदि के व अन्य भी तरहतरह के पेड़पौधे हैं. शिवनाथ चाहते थे कि पूरा बाग ठेके पर उठा दें तो लाखों की कमाई हो जाए. पूरे साल का खानापीना, कपड़ा, दवाई का खर्चा पूरा कर के भी हजारों बचें पर यह मदन का बच्चा खाना छोड़ कर सत्याग्रह पर बैठ गया तो, हार कर उन्हें चुप होना पड़ा.

वे मदन को इसलिए कुछ नहीं कहते क्योंकि बागबगीचे की देखभाल वही करता है. पैसे तो लेता ही नहीं ऊपर से खाद, बीज और पौधे अपनी जेब से लाता है. उन को बिना कुछ खर्च किए मौसम के फल, ताजी सब्जी मिल रहे थे.

अंदर आ कर मदन को जगाया. ‘‘अरे, उठ, दूध ला, चाय बना.’’

मदन उठा. फोल्डिंग मोड़ कर मुंहहाथ धो पैसे ले कर दूध लाने चल दिया. पाव भर दूध देने के लिए कोई दूधिया घर नहीं आता. डेयरी की थैली आधे लिटर की होती है. इसलिए मदन ही सुबह के समय ग्वाले से पाव भर दूध ले कर आता है.

ऊपर का हिस्सा खाली पड़ा है. कभीकभी शिवनाथ के मन में किराए का लालच आता पर किराए पर उठाने का साहस नहीं होता. 2 बूढ़ों का घर. अम्मा का सारा जेवर घर की अलमारी में पड़ा है. नकद पैसा भी कम नहीं, हर महीने जुड़ ही जाता है. लौकर का खर्चा नहीं बढ़ाया, घर की पक्की तिजोरी में सब रहता है. किराएदार पता नहीं कैसा होगा. दोनों को किसी दिन मार कर सब साफ कर गया तो?

मदन ने चाय बनाई. पीते हुए शिवनाथ बोले, ‘‘दूध 36 रुपए लिटर हो गया है. चाय में इतना दूध मत डाला कर. पाव भर को 2 दिन चला.’’ यह सुन कर मदन की आत्मा जल गई.

‘‘अब, बस भी करो मालिक, यह जो आत्मा है, उस को मार के आप पैसे जोड़ रहे हैं, यह किस काम आएगा?’’

‘‘आजकल तू बहुत बोलने लग गया है. कहा न, यह पैसा ही बुढ़ापे की लाठी है.’’

‘‘रहने दो मालिक, बुरे समय में पैसा नहीं, इंसान काम आता है. पैसा धरा का धरा रह जाता है.’’

‘‘अपना काम देख,’’ यह कह कर शिवनाथ फिर सोचने लगे कि अगर मदन ने काम छोड़ दिया तो 100 रुपए में नौकर मिलने से रहा. नया कोई आया तो पैसा अधिक लेगा और इतनी किफायत से चलेगा भी नहीं.

‘‘तुलसी की पत्ती तोड़ कर लाता हूं,’’ यह कह मदन बाहर चला गया और शिवनाथजी न्यूज चैनल खोल कर देखने लगे. तभी मदन लौट आया.

‘‘मालिक, जरा सुनिए.’’

‘‘क्या हुआ?’’ झल्ला कर शिवनाथ बोले.

‘‘आप से कोई मिलने आया है.’’

वे अवाक् हो बोले, ‘‘मुझ से…’’ क्योंकि उन के स्वभाव को उस कालोनी और आसपास के सभी जानते हैं, इसलिए कोई भी नहीं आता. 2-4 लोग हैं पर वे भी घर नहीं आते, फोन पर कुशल पूछ लेते हैं, सुबह कोई मिलने आए, ऐसी तो आत्मीयता किसी के साथ नहीं है.

‘‘वे आसपास के लोग हैं क्या?’’

‘‘यहां के नहीं लगते,’’ मदन बोला, ‘‘उन के हाथ में सामान है. कोई सगासंबंधी होता तो उसे मैं जानता ही.’’ 2 भांजे और 1 दूर का भतीजा है पर उन की नजर दौलत पर है यह अच्छी तरह शिवनाथजी जानते हैं पर वे मदन के परिचित हैं और साथ में सामान. शिवनाथजी बाहर आए. देखा तो दरवाजे के बाहर 2 कम उम्र के लड़के- लड़की खड़े हैं. कपड़े व हावभाव से अच्छे घर के लगते हैं. दोनों ही सुंदर हैं और पतिपत्नी से लगते हैं क्योंकि लड़की के गले में मंगलसूत्र और मांग में सिंदूर है. उन्होंने हाथ जोड़ कर शिवनाथजी को नमस्कार किया. लड़का बोला, ‘‘बाबूजी, मैं अमित हूं. यह मेरी पत्नी आरती है. हम आप से मदद मांगने आए हैं.’’

‘‘भई, मैं मामूली आदमी हूं. मैं आप की क्या मदद कर सकता हूं. घर पिताजी ने बनवाया है. मैं कम पढ़ालिखा हूं और नौकरी कभी नहीं की तो तंगहाली में जी रहा हूं.’’

‘‘नहीं बाबूजी, हम आप से रुपएपैसे की मदद नहीं मांग रहे. हम यहां नए हैं, रहने को जगह नहीं है. आरती साथ में है. जहांतहां असुरक्षित जगह पर रह भी नहीं सकता. आप हमें एक कमरा किराए पर दे देते तो…’’

‘‘मेरे पास किराए पर उठाने लायक कोई हिस्सा है कहां?’’

मदन बोल उठा, ‘‘मालिक, ऊपर का पूरा हिस्सा तो खाली पड़ा है. इस बरसात में ये बच्चे कहां जाएंगे. ऊपर से नई जगह और साथ में औरत. जमाना खराब है. किराया तो दे ही रहे हैं. ऊपर का हिस्सा दे दो.’’

‘‘पर मदन, इस इलाके में कोई भी मकान वाला किराएदार नहीं रखता और जो रखते हैं वे किराया ज्यादा लेते हैं…तुम दे पाओगे?’’

‘‘मेरा वेतन बहुत ज्यादा नहीं है. फिर भी अंकल कितना किराया है?’’ उस लड़के के मुंह से निकल पड़ा.

‘‘3 हजार रुपए और बिजली का अलग से. 1 महीने का अग्रिम किराया दे कर चाबी लेनी होगी.’’

‘‘जी, मैं अभी देता हूं,’’ यह बोलने के बाद उस लड़के ने बैग खोलने का प्रयास किया तो शिवनाथ ने उसे रोका.

‘‘ऊपर जा कर आराम से बैग खोलना और पैसे भेज देना. मदन चाबी ले कर जा और घर को धुलवाने व साफसफाई में इन की मदद कर देना. अभी सब के लिए चाय बना ला.’’

 

चाय पी कर पतिपत्नी दोनों ऊपर पहुंचे तो कमरे में एक डबलबैड गद्दे समेत पहले ही पड़ा था. मदन झाड़ू व बालटी ले आया और आरती के साथ मिल कर पूरा घर धोपोंछ कर चमका दिया. घर देख कर आरती बहुत खुश हुई. इतनी बड़ी छत, बालकनी. खुशी से उछल कर उस ने पूछा, ‘‘दादाजी, मैं यहां फूलों के गमले रख सकती हूं?’’

‘‘क्यों नहीं बेटी, एक तुलसी का पौधा जरूर लगाना. नीचे तो तुलसी का झाड़ है. अब खानेपीने का जुगाड़ कैसे करोगी, बरतन, गैस सब तो चाहिए…’’

‘‘आप चिंता न करो, दादाजी, घर मिल गया तो सब हो जाएगा. हम अभी बाजार जा कर नाश्ता करेंगे. फिर गृहस्थी का सामान ले कर आएंगे.’’

मदन नीचे आ कर अपने रोजाना के काम में लग गया. थोड़ी देर में अमित व आरती तैयार हो कर नीचे आए.  

– क्रमश: