‘‘प्रेरणाभाभी, कहां हो आप?’’ अंबुज ने अपना हैल्मेट एक ओर रख दिया और दूसरे हाथ का पैकेट डाइनिंगटेबल पर रख दिया. बारिश की बूंदों को शर्ट से हटाते हुए वह फिर बोला, ‘‘अब कुछ नहीं बनाना भाभी… अली की शौप खुली थी अभी… बिरयानी मिल गई,’’ और फिर किचन से प्लेटें लेने चला गया.

प्रेरणा रूम से बाहर आ गई. वह नौकरी के लिए इंटरव्यू दे कर कानपुर से अभीअभी लौटी थी. रात के 8 बज रहे थे. पति पंकज अपने काम के सिलसिले में 1 सप्ताह से बाहर था. इसीलिए वह अंबुज की मदद से आराम से इंटरव्यू दे कर लौट आई वरना पंकज उसे जाने ही नहीं देता. गुस्सा करता. अंबुज ने ही विज्ञापन देखा, फार्म भरवाया, टिकट कराया और ट्रेन में बैठा कर भी आया. सुबहशाम हाल भी पूछता रहा. तभी तो नौकरी पक्की हो गई तो उसे बता कर प्रेरणा को कितनी खुशी हुई थी. पंकज से तो शेयर भी नहीं कर सकती.

‘‘अरे तुम बारिश में नाहक परेशान हुए अंबुज. मैं इतनी भी नहीं थकी हूं. अभी बना लेती फट से कुछ. मालूम है 3-4 दिनों से तुम सूपब्रैड, टोस्ट से ही काम चला रहे होंगे. बाहर का खाना भी तुम्हें सूट नहीं करता,’’ प्रेरणा उस के गीले कपड़ों को देखते हुए बोली.

‘‘कपड़े बदल आओ अंबुज. तब तक मैं अदरक वाली चाय बना लेती हूं.

पीनी है या नहीं?’’ वह उसे छेड़ते हुए बोली. उसे मालूम था उस के हाथ की अदरक वाली चाय अंबुज को पसंद है.

‘‘हां भाभी… चाय मुझ से सही नहीं बनती, इसलिए बनाई ही नहीं,’’ कह वह सिर खुजलाते हुए चेंज करने चला गया.

‘‘वाह मजा आ गया भाभी. लग रहा है बरसों बाद चाय पी रहा हूं,’’ अंबुज कपड़े बदल कर आ गया था.

‘‘हां, मुझे लग रहा है देवरानी का इंतजाम जल्दी करना पड़ेगा,’’ प्रेरणा मुसकराई, ‘‘इतने सारे फोटो दे कर गई थी कोई पसंद की?’’

‘‘छोडि़ए भाभी वह सब… ऐपौइंटमैंट लैटर कब मिल रहा है यह बताइए.’’

‘‘बस अगले हफ्ते. पर पहले यह सोचो कि तुम्हारे भैया को कैसे मनाएंगे. नौकरी तक पहुंचने में तुम ने ही सब कुछ किया है. इस में भी तुम्हारी ही मदद चाहिए. अंबुज बेटाजी मुझ से तो वे मानने से रहे. तुम्हें ही कुछ करना होगा वरना सारी मेहनत बेकार,’’ प्रेरणा हंसते हुए बोली.

‘‘अरे मैं उन्हें समझा लूंगा भाभी. आप चिंता क्यों करती हैं? फिर इस में बुराई भी क्या है?’’

‘‘हां, पता नहीं क्या सोच, क्या ईगो ले कर बैठे हैं. कभी तो मेरी भी पढ़ाईर् काम आए. उन्हें दूसरी नौकरी जबतक मिलेगी या इन का काम जबतक बनेगा मैं थोड़ा तो सहयोग कर ही सकती हूं. शुरू में कंपनी 30 हजार सैलरी दे रही है. घर आराम से चल जाएगा. अभी हम 3 ही तो हैं. शिफ्ट हो जाएंगे वहीं.’’

‘‘सो तो है पर…’’

‘‘परवर कुछ नहीं देवरजी. समझाओ उन्हें, वहां पापा का छोटा ही सही पर एक प्लाट भी है, जिसे वे मेरे नाम कर गए हैं. बेकार ही पड़ा है. इस्तेमाल हो जाएगा. वहीं कोई बिजनैस कर लेंगे अपने पैसों से, घर की चिंता छोड़ दें. तुम भी उन के साथ लग जाओ. दोनों ही औटोमोबाइल इंजीनियर हो, साथ में जम कर काम करो… अपना काम सब से बढि़या. नौकरी तो ये दिल से करना भी नहीं चाहते हैं. बेकार ही पीछे पड़े हैं… तुम्हारे कहने पर शायद मान जाएं.’’

‘‘हां सही कह रही हैं आप. पहले क्यों नहीं आया खयाल इस बात का?’’

‘‘कहा था एक बार, मगर वही ईगो की बात है न.’’

‘‘ठीक है, मैं बात करता हूं भैया से.’’

‘‘आते ही मत कहना. घर रात 12 बजे पहुंचेंगे. सुबह का इंतजार कर लेना,’’ अंबुज का उतावलापन देख कर प्रेरणा ने कहा.

‘‘हांहां, भाभी पर कल पहले आप ट्रीट तो दीजिए, इंटरव्यू सफल होने की खुशी में एक मूवी तो बनती है.’’

‘‘डन,’’ कहते हुए प्रेरणा मुसकरा दी.

जब से प्रेरणा ब्याह कर घर आई थी अंबुज उस का देवर कम दोस्त अधिक बन गया था. घर में और कोई तो था नहीं. पंकज की मां पहले ही चल बसी थीं. प्रेरणा केवल 1 साल अंबुज से बड़ी थी और पंकज प्रेरणा से 8 साल बड़ा. उम्र का फासला तो था ही पर अपने पिता के निधन के बाद उन की सारी जिम्मेदारियों को निभाते हुए पंकज और भी धीरगंभीर व्यक्तित्व का बन गया था. अपने मरने से पहले मां ने अपने पति के मित्र की लड़की प्रेरणा से शादी करने को राजी कर लिया था.

‘‘देख पंकज, अब बहुत जिम्मेदारी हो ली… बहन विदा कर दी. पापा का इलाज करवाया… अंबुज को भी पढ़ालिखा रहा है. अगले साल उस की भी नौकरी लग जाएगी. तुझे शादी करनी ही पड़ेगी अब वरना मेरा म…’’

‘‘अम्मां,’’ पंकज ने मां को आगे नहीं बोलने दिया.

‘‘तू हामी भर दे. मैं अभी फोन कर देती हूं घनश्यामजी को.’’

इस तरह प्ररेणा पंकज की दुलहन बन घर आ गई थी. पंकज के धीरगंभीर व्यक्तित्व में प्रेरणा सहज न रह पाती, जबकि उस के उलट अंबुज का हंसमुख स्वभाव उस से मैच करता. दोनों की पसंद भी मिलतीजुलती थी. अकसर पंकज के पास समय ही नहीं रहता न ही काम के अलावा उस का कहीं मन लगता. प्रेरणा ‘धमाल’ मूवी देखना चाहती थी. अंबुज 3 टिकट ले आया. पंकज को ये सब बातें बचकानी लगतीं, ‘‘ऐसी फिल्मों में मेरी कोई रुचि नहीं. तुम दोनों ही देख आओ.’’

पंकज जानता था कि उस की बोर कंपनी में वे भी ऐंजौय नहीं कर पाएंगे. प्रेरणा को अधिक साथ अंबुज का ही मिला. वह उस से काफी घुलमिल गई थी. दोनों की पसंद भी एक. मूवी हो या टीवी के प्रोग्राम अकसर समय मिलता तो साथ देखते. महिने की शौपिंग भी दोनों साथ कर आते.

मजाक में कभीकभी प्रेरणा कहती थी, ‘‘जरा सी चूक हो गई अम्मांजी से. बड़े से नहीं छोटे से मेरा ब्याह कराना चाहिए था. पसंद भी एकजैसी और स्वभाव भी. अंबुज हैल्पिंग भी है वरना मैं तो यहां गृहस्थी अकेले संभाल न पाती.’’

दोनों ने मिल कर पंकज को किसी तरह कानपुर शिफ्ट होने के लिए मना लिया.

‘‘इंडस्ट्रियल एरिया है भैया. चलो वहीं चल कर कुछ साथ करते हैं. यहां हर कोने में अम्मा की यादें बसी हैं… बड़ा खालीखाली सा लगता है… आप का भी मन नहीं लगता है. इसीलिए बाहर रहते हो. चलते हैं भैया,’’ अंबुज बोला.

सभी कानपुर शिफ्ट हो गए थे. प्रेरणा अपनी नौकरी पर जाने लगी. 2-3 सालों में भाइयों की मेहनत रंग लाई. वहां ‘कार ऐवरी सौल्यूशन पौइंट’ नाम से वे नामी गैराज के मालिक बन गए. मोटर पार्ट्स की फैक्टरी लगाई. फिर ‘ग्रीन कैब’ और कार डैकोर का बिजनैस भी चालू किया.

‘‘काम तो अच्छा चल पड़ा भाभी… आप महान हो. आप सही में प्रेरणा हो. बस अब आप काम छोड़ दो… बहुत हुआ. अब तो चाचा कहने वाली गुडि़या ला दो,’’  एक दिन प्रेरणा को सोफे पर बैठा कर अंबुज बोला.

‘‘क्यों नहीं अंबुज पर पहले मेरी देवरानी का इंतजाम करो. फिर आराम ही आराम करूंगी. तब चाचा कहने वाली गुडि़या भी आ जाएगी और पापा कहने वाला गुड्डा भी,’’ कह प्रेरणा जोर से हंस पड़ी थी.

‘‘सच घर इतना बड़ा हो गया पर रहने वाले वही 3… रहने वालों की संख्या बढ़नी ही चाहिए और उत्सव भी मनने चाहिए. अब शादी के लिए और मना नही करोगे आप देवरजी. रिश्ते के लिए आए फोटो में सुरुचि का फोटो बारबार उठा कर देख रहे थे. वह पसंद है न? शरमाने से काम नहीं चलेगा,’’ प्रेरणा न उस की कमर में चिकोटी काटी, तो उस का चेहरा गुलाबी हो गया.

प्रेरणा के आने के 5 साल बाद घर में 2 बंदों का इजाफा हुआ. एक प्रेरणा  ने बेटी को जन्म दिया और दूसरे अंबुज से शादी के बाद सुरुचि का घर में प्रवेश हुआ. शुरूशुरू में सब ठीक था, पर धीरेधीरे सुरुचि पैसों का हिसाब रखने लगी. प्रेरणा के प्रबंध में भी कोई न कोई नुक्स निकाली रहती. अंबुज का प्रेरणा से पूछपूछ कर काम करना भी उसे न भाता और न ही वह चाहती कि उस का अंबुज प्रेरणा के कहे पर चले. उसे साथ ले कर घूमनाफिरना, मूवी, मार्केट जाना, बिस्तर में बैठ कर साथ टीवी देखना, हंसीमजाक करना उस के कलुषित मन को और कसैला बना देता.

उस ने अंबुज से कई बार कहने की कोशिश की पर वह डपट देता कि कूड़ा दिमाग है तुम्हारा. साफ करो, मां के बाद भाभी मेरी मां समान हैं, बड़ी बहन भी हैं और दोस्त भी.

अंबुज के सामने तो वह चुप हो जाती पर प्रेरणा को रहरह कर ताने देने से बाज न आती. प्रेरणा का खून खौल उठता पर कलह बचाने के उद्देश्य से उस ने उसे कुछ न कहना ही उचित समझा. अंबुज से वह थोड़ी दूरी भी रखने लगी, जिस से सुरुचि को बुरा न लगे. उसे इस बात का ध्यान रहता. सुरुचि को तब भी चैन नहीं आया.

एक दिन उस ने मौका पा कर पंकज के कान भरने चाहे, ‘‘भैया आप तो बड़े भोले हो… काम में इतने व्यस्त रहे हैं… कुछ जानते ही नहीं कि घर में क्या हो रहा है.’’

‘‘क्या हो रहा है का मतलब?’’

तब सुरुचि ने अपने मन का सारा जहर उगल दिया. सुन कर पंकज उसी पर आपे से बाहर हो गया. बोला, ‘‘छि: ऐसी घटिया बातें सोची भी कैसे तुम ने? अंबुज को वह अपना देवर नहीं छोटा भाई मानती है… अंबुज ने भी उसे बड़ी बहन का दर्जा दिया… मैं अधिक व्यस्त रहता हूं तो वह उस के साथ मिल कर घर की हर जरूरत का खयाल रखता है तो इस का यह मतलब है?’’

इसी बीच प्रेरणा वहां आ गई. पूछा, ‘‘क्या हुआ पंकज?’’ पंकज को गुस्से में देख वह घबरा गई थी.

अंबुज भी वहां आ पहुंचा. वह समझ रहा था जो कड़वाहट सुरुचि ने उस के मन में घोलनी चाही थी वही जहर भैया के सामने उगल दिया होगा.

‘‘ऐसे शादी नहीं चल सकती. तुम्हें भाभी से माफी मांगनी होगी. फिर तुम चाहे जहां जाओ,’’ कह अंबुज ने वहां से खिसक रही सुरुचि को पकड़ लिया.

बीचबचाव करती प्रेरणा पास आ गई, ‘‘यह क्या तरीका है अंबुज पत्नी से बात करने का… छोड़ो इसे.’’

अंबुज ने पकड़ ढीली की तो सुरुचि एक ओर हट गई.

‘‘इस में गलत क्या है? किसी भी नवविवाहिता को बुरा लगेगा कि उस का पति उस से अधिक दूसरे को महत्त्व दे रहा है. यह तुम्हारे साथ अकेले कुछ समय बिताना चाहती है तो इस में हरज क्या है? हर जगह मुझे साथ ले चलो या हर बात में मैं घुसी रहूं यह भी ठीक नहीं. मैं ने पंकज से पहले ही कहा था… अंबुज अब तुम शादीशुदा हो. तुम दोनों की अपनी लाइफ, अपनी प्राइवेसी होनी चाहिए,’’ प्रेरणा बोली.

‘‘हां, प्रेरणा ने मुझ से पहले ही कहा था… मैं इसे नाहक ही गलत समझ रहा था. इस ने जिद कर के तुम्हें शादी की सालगिरह पर फ्लैट गिफ्ट करने के लिए खरीदवाया… यह तुम दोनों को सुखी देखना चाहती है. इस ने 2 बिजनैस भी अंबुज के नाम से अलग करवा दिए,’’ कह पंकज अलमारी से सारे पेपर्स निकाल लाया था, ‘‘तुम अगले हफ्ते क्या आज ही यह सब अपने पास रखो… जाओ तैयारी करो और खुश रहो.’’

‘‘भैयाभाभी, मुझे माफ कर दीजिए मैं ने आप को गलत समझा,’’ सुरुचि चरणों में गिर पड़ी.

अंबुज गुडि़या को गोद में उठाए उस के गाल पर प्यार करने के बहाने अपनी नम आंखों को पौंछ रहा था.

प्रेरणा समझ गई कि सब से अलग जाने की कल्पना से अंबुज का दिल कितना आहत हो उठा.

बोली, ‘‘कोई नहीं देवरजी पास ही तो हैं. दोनों जब चाहो आतेजाते रहना,’’ और फिर

वह सुरुचि को प्यार से गले लगाते हुए बोली, ‘‘यह मीत मेरा पर मनमीत तुम्हारा ही है,’’ कह मुसकरा उठी.