‘‘आर्यन, मैं पढ़तेपढ़ते बोर हो गई हूं, चलो न थोड़ी देर के लिए बाहर घूम कर आते हैं.’’ ‘‘नो डियर, कल मेरा एग्जाम है, इसलिए पढ़ाई करनी जरूरी है. परेशान तो मैं भी बहुत हूं, गरमी के कारण पसीने से भीगा हुआ हूं लेकिन कल के टैस्ट में पूरे नंबर लाने हैं. इसलिए ऐक्सक्यूज मी यार. कल टैस्ट हो जाने दे. अब मैं मोबाइल औफ कर रहा हूं.’’

‘‘प्लीज औनलाइन रहो. थोड़ी देर चैटिंग कर के मूड फ्रैश हो जाएगा,’’ इशिता का प्यारा सा चेहरा उस की आंखों के सामने तैर गया था.

‘‘इशी, डिस्टर्ब मत करो. कल शाम को टैस्ट के बाद मिलते हैं?’’

‘‘कहां?’’ इशिता बोली.

‘‘वहीं, सैंटर के गेट पर,’’ आर्यन ने कहा. लिखने के बाद उस ने फोन बंद किया और पढ़ाई में मशगूल हो गया.

आर्यन और इशिता दोनों कोचिंग कर रहे थे. आर्यन आईआईटी में ऐडमिशन ले कर इंजीनियर बनना चाहता था, तो इशिता पीएमटी की तैयारी कर रही थी. उसे डाक्टर बनना था. उस के मम्मीपापा दोनों डाक्टर थे और शहर में उन का अपना नर्सिंगहोम भी था. वे अपनी बेटी को डाक्टर बना कर नर्सिंगहोम उस के हवाले कर देना चाहते थे.

आर्यन साधारण परिवार से था, उस के पिता बैंक में क्लर्क थे तो मां प्राइवेट ट्यूशन पढ़ा कर घरखर्च चला रही थीं? दोनों ने बेटे को इंजीनियर बनाने का सपना देखा था, उस के लिए दोनों रातदिन मेहनत करते थे.

आर्यन समझदार लड़का था. वह ईमानदारी से पढ़ाई कर रहा था. उस की एक छोटी बहन भी थी, जिसे वह बहुत प्यार करता था. उस ने भी पिछले वर्ष एंट्रैंस पास कर लिया था, लेकिन प्राइवेट कालेज की महंगी फीस देना उस के मांबाप के लिए संभव नहीं है. इसलिए इस वर्ष उसे हर हाल में आईआईटी में ऐडमिशन के लिए जेईई का टैस्ट पास करना था.

उस को इस बात का अच्छी तरह एहसास था कि उस के मातापिता कितनी परेशानियों में उस की कोचिंग का खर्च वहन कर पा रहे हैं. कोचिंग वाले इस डर से कि बच्चे बीच में ही न छोड़ जाएं, सालभर की फीस जो लाखों में होती है, जमा करवा कर निश्चिंत हो जाते हैं. और तो और पीजी वाली आंटीजी भी कंसेशन का लालच दे कर पूरे साल के लिए बच्चों को अपने पिंजरे में कैद कर अत्याचार करने का लाइसैंस ले लेती हैं.

अगली शाम आर्यन टैस्ट अच्छा होने से रिलैक्स हो कर अपने दोस्तों के साथ पेपर डिस्कस कर रहा था कि उसे इशिता आती दिखी. उस का दूध सा गोरा रंग, गोल चेहरे पर खुशी से चमकती बड़ीबड़ी कजरारी आंखें, काले घुंघराले बाल उस की पेशानी को चूम रहे थे. जींस और टौप उस की खूबसूरती में चारचांद लगा रहे थे.

उस के ब्रैंडेड कपड़े और खूबसूरत चेहरे की रौनक देख आर्यन भी खुश हुआ था, लेकिन अपनी आर्थिक स्थिति के बारे में सोच कर वह तुरंत ही मायूस भी हो गया.

वह स्कूटी से उतर कर बोली, ‘‘आओ, तुम पीछे बैठोगे?’’

‘‘नहीं इशी, स्कूटी मैं ड्राइव करूंगा, तुम पीछे बैठोगी. पीछे बैठ कर मुझे अच्छा नहीं लगता,’’ आर्यन ने कहा.

‘‘इस में अच्छा न लगने की भला क्या बात है?’’ इशी बोली.

‘‘तुम मेरी फीलिंग को नहीं समझ सकती इशी. खैर छोड़ो, चलो, कहां चलना है?’’

‘‘मेरा मन तो कैफे डे में कोल्ड कौफी पीने का था,’’ इशी बोली.

‘‘मेरे पास बिल देने के लिए पैसे नहीं हैं.’’

‘‘मैं दूंगी बिल न, यार तू क्यों परेशान हो रहा है.’’

‘‘तुम्हीं तो हमेशा बिल देती हो और यही मुझे अच्छा नहीं लगता,’’ आर्यन ने कहा.

‘‘इस से क्या फर्क पड़ता है, बिल मैं दूं या तुम दो?’’

‘‘तुम मेरे मन की बात को नहीं समझ सकती इशी. मौल ही चलो, अपनी उसी फेवरेट जगह सन्नाटे में बैठेंगे, जहां से हम लोग सब को देखेंगे लेकिन लोग हमें नहीं देख पाएंगे,’’ आर्यन बोला.

दोनों उस जगह पहुंच कर खाली बैंच पर बैठ गए. आर्यन स्वीटकौर्न का एक कप ले कर आया और दोनों खाने लगे.

‘‘क्या आर्यन, क्या चल रहा है तुम्हारे और आन्या के बीच में? मैं ने कई बार देखा है आजकल उस से काफी देर तक बातें करते रहते हो. अगर वह तुम्हें अच्छी लगती है, तो उस के पास जाओ और उस से आई लव यू कह दो.’’

‘‘ओफ इशी, वह तो एक प्रश्न मुझ से पूछ रही थी. लेकिन मुझे उस की स्माइल बहुत अच्छी लगती है.’’

आर्यन का यह जवाब सुन कर इशिता नाराज हो गई उस की आंखें डबडबा उठीं.

‘‘अरे, मैं तो तुम्हें चिढ़ाने के लिए ऐसा कह रहा था, बस, इसी पर रो पड़ीं. चलो, व्हाट्सऐप वाली बड़ी सी स्माइली दो.’’

‘‘आर्यन, मैं तुम्हें न किसी दिन बहुत पीटूंगी,’’ उस की पीठ पर एक हलकी सी धौल जमाती हुई इशिता बोली. आर्यन गंभीर सा चेहरा बना कर एकदम से चुप हो गया था.

‘‘एकदम चुप हो और चेहरा भी उदास है, क्या हुआ? मेरी बात का बुरा मान गए क्या, मेरी तरफ से बड़ी वाली सौरी,’’ इशिता मजाकिया अंदाज में बोली.

‘‘इशी,? मैं तुम्हारी बात पर नाराज नहीं हूं. मुझे जेईई का टैस्ट क्लीयर करने का टैंशन है. यदि मेरी अच्छी रैंक नहीं आई तो क्या होगा? पापा ने तो मेरी कोचिंग के लिए अपने प्रौविडैंट फंड का पैसा भी खर्च कर दिया है. पीजी और कोचिंग की फीस वे कैसे देते हैं, यह तो मैं ही समझता हूं.

‘‘पापा जबतब मुझ से मिलने आ जाते हैं और मेरी मुट्ठी में रुपए रखते हुए आशाभरी निगाहों से मेरी ओर देखते हैं. मैं उन का सामना करने से घबराता हूं. मुझे लगता है कि कहीं मैं उन के सपने पर पानी तो नहीं फेर दूंगा. टीचर हर समय कहते हैं, थोड़ी मेहनत और करो.’’

‘‘तुम्हीं बताओ इशी, सुबह सूरज निकलने से पहले ही घर से कोचिंग के लिए निकल जाता हूं. कोई लाइफ है मेरी, मशीन बन कर रह गई है जिंदगी. सुबह से रात तक बस कोचिंग, नोट्स, रिवीजन, पेपर सौल्व करना, टैस्ट देना. लाइफ एकदम बोर हो चुकी है.

‘‘मां के दुलारभरे स्पर्श की मुझे इतनी याद आती है कि लगता है कि सबकुछ छोड़छाड़ कर घर मां के पास चला जाऊं, लेकिन फिर पापा की उम्मीदभरी आंखें मेरे सामने घूमने लगती हैं. अपना छोटा शहर, वहां की मस्ती, अपने दोस्त सब बहुत याद आते हैं.

‘‘इशी, मैं यहां बिलकुल अकेला हूं, यदि मुझे तुम जैसी दोस्त यहां न मिलती तो मेरा न जाने क्या होता?’’

‘‘आर्यन, इतने सैंटिमैंटल मत हो यार, इस साल तुम जेईई का ऐंट्रैंस जरूर क्लीयर कर लोगे. इतनी मेहनत कर रहे हो, भला क्यों नहीं क्लीयर होगा.

‘‘मुझे देखो, मम्मीपापा शहर के जानेमाने डाक्टर हैं. यदि मैं ऐंट्रैंस पास कर नहीं कर पाई तो उन के लिए कितनी शर्म की बात होगी. कैमेस्ट्री है कि मेरे सिर के ऊपर से निकल जाती है. यदि तुम मेरी मदद न करते तो शायद मेरा फेल होना निश्चित था. तुम्हारे कारण ही कैमेस्ट्री अब मेरा फेवरेट सब्जैक्ट बन गया है और साथ ही तुम्हारी दोस्ती की वजह से मुझे अब दुनिया बहुत प्यारी लगने लगी है. मुझे तो इन मोटीमोटी किताबों के बीच बारबार तुम्हारा मुसकराता चेहरा नजर आता है.’’

‘‘इशी, पिछले साल मनचाहा कालेज और स्ट्रीम न मिलने का कारण मेरा मैथ का पेपर था. मैं ने पापा से कौपी रीचैक करवाने को कहा था, लेकिन उन्होंने कहा कि इस से कोई फायदा नहीं है. इस साल फिर से तैयारी कर लो.

‘‘मुझे खुद काफी कोफ्त होती है कि लाखों की फीस और पीजी का खर्च, यदि पास हो गया होता तो आईआईटी के फर्स्ट ईयर में होता.’’

‘‘आर्यन, इतना परेशान मत हो डियर, तुम्हें इस साल जरूर सरकारी कालेज और मनचाही स्ट्रीम मिल जाएगी. मुझे देखो, पढ़ाई करती हूं, मेहनत कर रही हूं और ये तो सभी जानते हैं कि मेहनत का फल मीठा होता है.’’

‘‘देखो इशी, तुम्हारी बात अलग है. यदि तुम्हें अच्छी रैंक न भी मिली तो तुम्हारे पापा डोनेशन दे कर किसी भी अच्छे कालेज में तुम्हारा ऐडमिशन करवा देंगे, फिर तुम बन जाओगी डा. इशिता, और तुम्हारे नर्सिंगहोम में एक नेमप्लेट बढ़ जाएगी.’’

‘‘नहीं आर्यन, मुझे गरीबी के कारण बच्चों को मरते देख बड़ा दुख होता है. मैं उन के मुफ्त इलाज के लिए अपना जीवन समर्पित करना चाहती हूं.

‘‘आर्यन, तुम तो आईआईटी से इंजीनियरिंग पूरी करते ही विदेश चले जाओगे. पूरी दुनिया की सैर करोगे, फिर भला मुझे तुम क्या पहचानोगे कि कोई इशिता नाम की लड़की थी.’’

आर्यन ने उस के मुंह पर अपना हाथ रख दिया था, ‘‘इशी, तुम गलत सोच रही हो और मुझे बड़ेबड़े सपने दिखा रही हो. मैं भले ही सारी दुनिया घूम लूं, लेकिन रहूंगा अपने प्यारे देश भारत में ही, जहां मेरे मांपापा और गुडि़या जैसी प्यारी सी बहन है.’’

इशी बोल पड़ी, ‘‘और मैं कहीं नहीं हूं, तुम्हारे जीवन में?’’

‘‘इशी, मेरा तुम्हारा भला क्या मेल. तुम्हारे पापा को तो अपनी लाडली बेटी के लिए डाक्टर दामाद चाहिए.’’ आर्यन उदास स्वर में सिहर कर बोला, ‘‘यदि मैं जेईई नहीं क्लीयर कर पाया तो तुम मुझे भूल जाओगी.’’

‘‘आर्यन, मैं मम्मीपापा का आदर अवश्य करती हूं, लेकिन अपनी जिंदगी का फैसला तो मैं स्वयं करूंगी.’’

स्वीटकौर्न का कप खाली हो चुका था. इशिता उसे डस्टबिन में डालने गई और थोड़ी देर में एक आइसक्रीम ले कर आ गई. फिर दोनों बारीबारी से उसे खाने लगे.

‘‘इशी, मुझे देर हो गई है, जल्दी चलो, नहीं तो आंटी गेट बंद कर देंगी. फिर शुरू हो जाएगी उन की लंबी पूछताछ, जिस से मैं बचना चाहता हूं.’’

‘‘हां आर्यन, तुम्हारी आंटी तो पूरी विलेन लगती हैं, उस दिन हमें देर हो गई थी न, स्कूटी से तुम्हें उतार कर बाय कर रही थी, और उन्होंने देख लिया बस, शुरू हो गईं, ‘तुम लोग रोज मिलते हो, कहां मिलते हो, कब से एकदूसरे को जानते हो?

‘‘मैं तो किसी तरह वहां से जान बचा कर भागी थी. हां, परेशान तो करती हैं, लेकिन अच्छी भी हैं. उन्हें भी तो बच्चों के पेरैंट्स को जवाब देना पड़ता है. कोई लफड़ा होता है तो सब से पहले उन्हीं को दोष दिया जाता है.’’

‘‘परेशानी तो मुझे भी होती है, वे प्रैस नहीं करने देतीं, इमर्शन रौड नहीं लगाने देती हैं, जिस दिन जरा देर से आंख खुलती है, उस दिन ठंडे पानी से नहाना पड़ता है. दूध में पानी मिला देती हैं. सुबह नाश्ता देर से बनाती हैं, इसलिए अकसर घर से खाली पेट निकलना पड़ता है. कभी खाना इतना स्पाइसी बनाती हैं कि आंखनाक से पानी टपकने लगता है.’’

‘‘फिर क्या ऐसे ही भूखे रह कर दिन बिताते हो?’’

‘‘नहीं यार, कभी आलू के परांठे, कभी सैंडविच तो कभी समोसे से काम चला लेता हूं.

‘‘आंटी, एकसाथ पूरे साल का पैसा जमा करवा लेती हैं, ताकि बीच में कोई छोड़ न सके.’’

‘‘तुम से कितनी बार तो कहती हूं कि मैं तुम्हारे लिए टिफिन ले आया करूंगी, लेकिन तुम तो राजी ही नहीं होते.’’

‘‘हां डियर, मुझे इंजीनियर बन जाने दो और तुम डाक्टर बन जाओ, फिर हम दोनों रोज साथ खाना खाया करेंगे.’’ उस ने अपनी हथेलियों से उस के होंठों को छू कर चूम लिया था.

‘‘मेरी इशी, तुम बहुत प्यारी, भावुक और समझदार हो. मैं खुद को धनी समझता हूं. जो मुझे तुम जैसी फ्रैंड मिली है.’’

मौल की भीड़ छंट चुकी थी. रात्रि की नीरवता एवं रंगबिरंगी रोशनी की मादकता के कारण आर्यन भावनाओं में बहक कर भूल गया कि इशी और वह केवल अच्छे दोस्त हैं.

उस ने जवानी के आवेश में इशी को अपनी बांहों में जकड़ लिया था. अपने अंगारे जैसे होंठों को इशी के होंठों से लगा कर इशी को अपनी बांहों में जकड़ लिया था. इशी इस का विरोध करती रही पर आर्यन की पकड़ मजबूत हो चुकी थी. थोड़ी देर के लिए इशी भी बहक चुकी थी पर समय रहते वह संभल गई.

आर्यन को अपनी गलती का एहसास होते ही वह सहम उठा था.

‘‘इशी, मुझे माफ कर दो, मैं अपना होश खो बैठा था.’’

‘‘आर्यन, आज तुम ने मेरे विश्वास को धोखा दिया है,’’ इशी ने संभलते हुए गुस्से में कहा.

‘‘इशी, आई एम सौरी. फ्यूचर में अब ऐसी गलती नहीं करूंगा. पता नहीं यह सब कैसे हो गया. हम दोनों को अपने पेरैंट्स के सपने को साकार करना है,’’ आर्यन विनती करते हुए बोला.

इशी आर्यन की बातों को अनसुना कर स्कूटी स्टार्ट कर चुकी थी. मन में कुछ सोचती हुई वह धीरेधीरे आगे बढ़ती जा रही थी. आर्यन उस को जाते हुए देख रहा था. उस के चेहरे से ऐसा लग रहा था कि मानो उस की दुनिया ही उजड़ गई हो.

‘‘इशी, इतनी बड़ी सजा मुझे मत दो,’’ वह रो पड़ा था.

लेकिन यह क्या?

इशी लौट कर आ गई थी. वह स्कूटी से उतर कर उस के सामने खड़ी हो गई थी.

‘‘आर्यन, तुम्हें आगे बैठ कर ड्राइव करना पसंद हैं न… ‘‘ मैं पीछे बैठूंगी.’’

सबकुछ भूल कर आर्यन खुश हो कर सपने बुनने में लग गया था. जब वह अपनी गाड़ी में अपनी इशी को बैठा कर लौंग ड्राइव पर जाया करेगा.

Tags:
COMMENT