गृहशोभा विशेष

मैं रश्मि को पिछले 7 सालों से जानती हूं. मेरा बेटा मिहिर जब उस की कक्षा में पढ़ता था तब वह स्कूल में नईनई थी. उस का परिवार मुंबई से उसी वर्ष बोरीवली आया था.

हमारी पहचान भी बड़े नाटकीय एवं दिलचस्प अंदाज में हुई थी. मिहिर का पहली यूनिट परीक्षा का परिणाम कुछ संतोषजनक नहीं था. ‘ओपन हाउस’ के दिन की बात है.

जब सभी विद्यार्थियों के अभिभावक जा चुके और मैं भी जाने लगी तो उस ने इशारे से मुझे रुकने के लिए कहा था. उस के अंदाज में अदृश्य सा आदेश पा कर मेरे बढ़ते कदम रुक गए थे.

‘‘आप, मिहिर की मदर हैं?’’ बेहद नाराजगी के स्वर में उस ने मुझ से पूछा था.

‘‘जी हां.’’

‘‘मैं आप को क्या कह कर पुकारूं?’’ उस ने फिर पूछा, ‘‘नाम ले कर या फिर मिहिर की दुश्मन कह कर… वैसे मैं आप का नाम जानती भी तो नहीं…’’

‘‘जी…वर्षा,’’ मैं ने अपना नाम बताया.

‘‘तो वर्षाजी, आप ही बताइए, क्या आप अपने बच्चे पर हमेशा इसी तरह, गुस्से से बरसती हैं या फिर कभी स्नेह की बारिश भी उस पर करती हैं?’’

‘‘म…मैं समझी नहीं…’’ मैं स्तब्ध सी उस के सुंदर चेहरे को देखती रह गई, ‘‘दरअसल, बात यह है कि…’’ मेरा वाक्य अधूरा रह गया.

‘‘इतना गुस्सा भी किस काम का कि नन्हे बच्चे को यों बेलन से मारना पड़े?’’ रश्मि ने नसीहत देते हुए कहा, ‘‘वर्षाजी, इनसान को हमेशा, हर हाल में अपने पर काबू पाना सीखना चाहिए. गुस्से में तो खासकर. मेरी बात मानिए, जब कभी भी आप को गुस्सा आए तब आप अपनी सूरत आईने में देख लें. इस सूरत में यदि आप अपने गुस्से पर काबू पाने में सफल न हुईं तो फिर बताइएगा.’’

‘‘मैडम, आप ही बताइए, मैं क्या करूं? मिहिर पढ़ाई में ज्यादा ध्यान नहीं देता. हर वक्त उस के सिर पर सिर्फ क्रिकेट का ही जनून सवार रहता है. अभी से यह हाल है तो आगे जा कर उस का भविष्य क्या होगा? आज परिणाम आप के सामने ही है.’’

‘‘तो उसे समझाने का आप कोई और तरीका अपनातीं. क्या आप के हाथों बेलन की मार से वह रातोंरात बदल जाएगा? माफ कीजिए, आप तो बेलन का सही उपयोग और मां शब्द का सही अर्थ दोनों बदलने पर तुली हुई हैं.’’

मैं चुपचाप उस की नसीहत सुनती रही.

‘‘वर्षाजी, बच्चों के मन और शरीर दोनों गूंधे हुए आटे की तरह नम होते हैं, उसे जैसा आकार देना चाहें हम दे सकते हैं, पर मैं ने अकसर देखा है, हर मातापिता अपने बच्चों को अपनी अपेक्षाओं के अनुसार ढालना चाहते हैं. वे एक बात भूल जाते हैं कि बच्चों की भी अपनी पसंदनापसंद हो सकती है. खैर, आप ‘मां’ के आगे एक अक्षर ‘क्ष’ और जोड़ दीजिए.’’

‘‘क्ष…मा…’’ मेरे मुंह से निकल पड़ा.

‘‘यही ‘मां’ शब्द का सही अर्थ है, समझीं?

‘‘क्रोध से अकसर बनती बात बिगड़ जाती है. अगर आप अपने मातृत्व को जीवित रखना चाहती हैं तो अपने गुस्से को मारना सीखिए, क्षमा करना सीखिए. इसे टीचर का भाषण नहीं, मित्र की नसीहत समझ कर याद रखिएगा.’’

मैं अपने किए पर बेहद शर्मिंदा थी. सच ही तो कह रही थी वह, मुझे गुस्से में बेकाबू हो कर अपने बच्चे को यों बेलन से नहीं मारना चाहिए था. मिहिर की पिंडली बेलन की मार से इस कदर सूज गई थी कि वह सही ढंग से चल भी नहीं पा रहा था.

‘मुझे क्षमा करना मेरे बच्चे. आज के बाद फिर कभी नहीं,’ मन ही मन निर्णय कर मैं सचमुच रो पड़ी.

और आज उसी की बदौलत मेरा बेटा न सिर्फ पढ़ाई में ही आगे है बल्कि क्रिकेट में भी खूब आगे निकल गया है. पहले अंकुर 12 फिर 14 और अब अंडर 19 के बैच में खेलता है. कई बार अखबार में उस की टीम के अच्छे प्रदर्शन के समाचार भी छपे हैं. मुझे अपने बेटे पर नाज है.

उस पल से ही हमारे बीच सच्ची मित्रता का सेतु बंध गया था. मैं हैरान थी उसे देख कर. सुंदरता, बुद्धिमत्ता और सहृदयता का संगम किसी एक ही शख्स में मिल पाना वह भी आज के दौर में किसी चमत्कार से कम नहीं लगा.

यह अनुभव सिर्फ मेरा ही नहीं, प्राय: उन सभी का है जो रश्मि को करीब से जानते हैं. पिछले 7 साल में उस ने न जाने कितने बच्चों पर ज्ञान का ‘कलश’ छलकाया होगा. वे सभी बच्चे और उन के मातापिता…सब के मुंह से, उस की सिर्फ प्रशंसा ही सुनी है, वह सब की प्रिय टीचर है.

वह है भी तो तारीफ के काबिल. वह अपनी कक्षा में पढ़ने वाले तकरीबन हर बच्चे की पारिवारिक पृष्ठभूमि के बारे में जानने का प्रयास करती है. जैसे ही उसे पता चलता है कि किसी के परिवार में कोई समस्या है, वह झट से उस का हल ढूंढ़ने को तत्पर हो जाती है, उन की मदद करने के लिए कुछ भी कर गुजरती है.

सभी बच्चों की अकसर एक ही तकलीफ होती, पैसों का अभाव. हर साल वह न जाने कितने विद्यार्थियों की फीस, किताबें, यूनिफार्म आदि का इंतजाम करती है, जिस का कोई हिसाब नहीं. नतीजतन, वह खुद हमेशा पैसों के अभाव में रहती है.

एक दिन उस की आंखों में झांकते हुए मैं ने पूछा, ‘‘रश्मि, सच बताना, तुम्हारा बैंक बैलेंस कितना है?’’

‘‘सिर्फ 876 रुपए,’’ वह मुसकराती हुई बोली, ‘‘वर्षा दीदी, मेरा बैंक बैलेंस कम है तो क्या हुआ? इतने सारे लोगों के आशीर्वाद का बैलेंस मेरे जीवनखाते में इतना तगड़ा है, ये क्या कम है? मरते वक्त मैं अपना बैंक बैलेंस साथ ले कर जाऊंगी क्या? मैं तो इसी में खुश हूं. आप मेरी चिंता मत कीजिए.’’

‘‘नहीं रश्मि, तुम गलत सोचती हो. इस बात से मुझे इनकार नहीं कि मृत्यु के बाद इनसान सभी सांसारिक वस्तुओं को यहीं छोड़ जाता है, लेकिन यह बात भी इतनी ही सच है कि जब तक जिंदा होता है, मनुष्य को संसार के सारे व्यवहारों को भी निभाना पड़ता है और उन्हें निभाने के लिए पैसों की जरूरत पड़ती है…यह बात तुम क्यों नहीं समझतीं?’’

‘‘मैं बखूबी समझती हूं पैसों का महत्त्व लेकिन दीदी, मैं ने हमेशा अनुभव किया है कि जब कभी भी मुझे पैसों की जरूरत होती है, कहीं न कहीं से मेरा काम बन ही जाता है. यकीन कीजिए, पैसों के अभाव में आज तक मेरा कोई भी काम, कभी भी अधूरा नहीं रहा.’’

मैं समझ गई कि इस नादान को समझाना और पत्थर से सिर टकराना एक ही बात थी. मेरे लाख समझाने के बावजूद वह मेरी सलाह को अनसुना कर पुन: अपने उसी स्वभाव में लौट आती है.

वह भोलीभाली नहीं जानती कि कभीकभी कुछ लोग उस की इस उदारता को मूर्खता में शामिल कर उसे धोखा भी देते हैं.

ऐसा ही एक किस्सा 6 साल पहले हुआ था. यश नाम का एक लड़का पहली कक्षा में पढ़ता था. उस की मां को किसी ने बताया होगा कि रश्मि टीचर सब की मदद करती हैं.

स्कूल छूटने का वक्त था. मैं रश्मि के इंतजार में खड़ी थी. मुझे देख कर जब वह मुझ से मिलने आई तब यश की मम्मी शांति भी अपने मुख पर बनावटी चिंता ओढ़ कर हमारे पास आ कर खड़ी हो गईं.

‘‘टीचर, यश के पापा का पिछले साल वड़ोदरा में अपैंडिक्स का आपरेशन हुआ था. वह किसी काम से वहां गए थे. अचानक दर्द बढ़ जाने पर आपरेशन करना जरूरी था, वरना उन की जान को खतरा था. आपरेशन का कुल खर्च सवा लाख रुपए हुआ था. मेरे मायके वालों ने कहीं से कर्ज ले कर किसी तरह वह बिल भर दिया था, पर उस में से 17 हजार रुपए भरने बाकी रह गए थे जोकि आजकल में ही मुझे भेजने हैं, क्या आप मेरी मदद करेंगी?’’ वे रो पड़ीं.

रश्मि ने यश की मम्मी की पूरी बात धैर्य से सुनी फिर बिना मेरी ओर देखे ही उन को वचन दे दिया कि वह यथाशक्ति उन की मदद करेगी. रश्मि जानती थी कि अगर वह मेरी ओर देखती तो शांतिजी को मदद करने का वचन नहीं दे पाती क्योंकि मैं उसे ऐसा करने से जरूर रोकती.

मुझे विश्वास था कि उसे कुछ भी कहना व्यर्थ था. फिर सोचा, एक आखिरी कोशिश कर लूं, शायद सफलता मिल जाए.

तब प्रत्युत्तर में उस ने जो कुछ कहा, वह मेरे लिए अप्रत्याशित था.

‘‘वर्षा दीदी, मैं अपना दर्द सीने में दबा कर सिर्फ खुशियां बांटने में विश्वास करती हूं. इसीलिए अपने गमों से न तो कभी आप का परिचय करवाया, न ही किसी और का, पर आज ऐसा करना मेरे लिए जरूरी हो गया है.

‘‘दीदी, मैं ने बचपन और जवानी के चंद वर्षों का हर पल अभावों में गुजारा है. कभीकभी तो हमारे घर खाने को भी कुछ नहीं होता था. मैं भूखी रहती, पर कभी भी अपने ही पड़ोस में रहने वाले अपने सगे चाचा के घर जा कर रोटी का एक निवाला तक पाने की कोशिश नहीं की. धन के अभाव में मैं ने अपनी मां को तिलतिल मरते देखा है. मेरा इकलौता छोटा भाई इलाज के अभाव में मर गया. उस के हृदय में सुराख था.

‘‘ऐसी बात नहीं थी कि हम गरीब थे. पापामम्मी दोनों अध्यापक थे लेकिन पापा अपने वेतन का अधिकतर हिस्सा जरूरतमंदों की मदद में खर्च करते तब मां के सामने घर खर्च चलाने में कितनी दिक्कतें आती होंगी.’’

मैं सांस रोके उस की आपबीती सुनती रही.

‘‘मम्मी खुद भी अपने कर्तव्य एवं अपने विद्यार्थियों के प्रति पूर्णतया समर्पित एक आदर्श शिक्षिका थीं. वह हमेशा कहतीं, ‘बेटी, एक शिक्षिका के तौर पर मेरी यह दृढ़ मान्यता है कि किसी भी विद्यार्थी की असफलता के पीछे शिक्षक की नाकामयाबी छिपी होती है. इसलिए मैं हमेशा इसी प्रयास में रहती हूं कि विद्यार्थियों को मैं अपनी तरफ से बेहतरीन शिक्षा दूं.’ मम्मी का जीवन मंत्र था, ‘प्यार, विद्या और खुशियां बांटने से बढ़ते हैं.’ उन्होंने अपनी पूरी जिंदगी इस मंत्र को आत्मसात करने में गुजार दी.

‘‘वर्षा दीदी, अब आप ही बताइए कि ऐसे आदर्श मातापिता की बेटी हो कर अगर मैं उन की राह न चलूं तो क्या यह उन के प्रति अन्याय नहीं होगा? मेरा हर कार्य मम्मी के प्रति मेरी श्रद्धांजलि है.’’

मैं रश्मि की जिंदगी का यह पन्ना आज ही पढ़ सकी. जब मातापिता इतने उदार और आदर्श शिक्षक थे तब बेटी का भी ऐसा होना स्वाभाविक ही था. शायद यही राज है उस की कुशाग्र बुद्धि व प्रतिभा का. वह भी एक तेजस्वी और निष्ठावान शिक्षिका है. जब भी वह किसी विद्यार्थी के लिए किसी प्रसंग, किसी विषय पर भाषण या फिर वादविवाद के लिए निबंध तैयार करती तो उस विद्यार्थी का पहला पुरस्कार निश्चित होता.

उस की बातें सुनने के बाद मैं ने अपनेआप को वचन दिया कि मैं कभी भी उसे दूसरों की मदद करने की बात को ले कर टोकूंगी नहीं.

यश की मम्मी शांति को उस ने बाद में भी 15 हजार रुपए दिए थे क्योंकि उस के पापा की बीमारी ने उन्हें घर बेच कर एक गंदी बस्ती में रहने पर मजबूर किया था. वहां उस की जवानी में कदम रख रही बहन सुरक्षित नहीं थी. यह बात जब शांति ने रश्मि को बताई तो उस ने खुद का फिक्स्ड डिपाजिट तुड़वा कर उन्हें पैसे दे कर अच्छी सी बस्ती में किराए पर कमरा दिलवाया था.

गृहशोभा विशेष

जब मुझे इस बात का पता चला तब न चाहते हुए भी मैं अपनी नाराजगी जाहिर कर बैठी, ‘‘मेरी अच्छी रश्मि, तुम कब सुधरोगी? तुम नहीं जानतीं, यश की मम्मी निहायत ही झूठी औरत है. सच बताना, इतनी तकलीफों के बावजूद क्या तुम ने शांति के चेहरे की चमक में रत्तीभर भी फर्क महसूस किया? वह बेहतरीन कपड़े पहनती है और बुरा मत मानना मेरी बहना, वह तुम से भी ज्यादा सजसंवर कर रहती है. क्या इतना काफी नहीं उस का झूठ पकड़ने के लिए?’’

वह निर्विकार नजरों से मुझे ताकती रही, फिर बोली, ‘‘दीदी, आप ही सोचिए, किसी को मुझ से झूठ बोल कर क्या हासिल होगा?’’

आखिरकार मैं ने उस की आंखें खोलने के लिए मामले की तह तक पहुंचना जरूरी समझा. किसी तरह समझाबुझा कर मैं ने शांति से उस के पति की मेडिकल फाइल हासिल की, वडोदरा के डाक्टर का फोन नंबर प्राप्त किया और एक सुबह उन से बात की.

उस के बाद मैं ने तय किया कि मैं अब रश्मि को और ज्यादा मूर्ख नहीं बनने दूंगी. जब हम मिले तब मैं ने उस से कहा, ‘‘रश्मि, मैं ने आज ही सुबह वडोदरा में डा. शाह से बात की. उन्होंने क्या कहा, सुनना चाहोगी?’’

‘‘दीदी, मैं ने आप से कहा था न कि इस मामले में हमारी कोई बहस नहीं होगी…’’

मैं ने उसे बीच में ही टोका, ‘‘नहीं रश्मि, आज तो मैं अपनी बात पूरी कर के ही रहूंगी और तब तक तुम एक शब्द भी बोलोगी नहीं, समझीं.

‘‘सुन, डा. शाह का कहना है कि शांति के पति के आपरेशन का कुल खर्च 17 हजार नहीं, सिर्फ 11,500 रुपए ही आया था. शांति ने उन से प्रार्थना की थी कि अगर वह बिल बढ़ा कर बनाएं तो अतिरिक्त पैसों से वह अपने पति की दवाइयों का खर्च निकालेगी, इसलिए… खैर, ऐसे चंद खुदगर्ज लोग ही डाक्टर के व्यवसाय को बदनाम करते हैं. उन्हें खेद है कि अनजाने में उन्होंने किसी धोखेबाज का साथ दिया.’’

रश्मि स्तब्ध थी. उस दिन उस के चेहरे पर पहली बार व्यथा के भाव देख कर मेरा मन आर्तनाद कर उठा. वह पीड़ा उस धोखेबाज औरत की देन थी.

उस घटना के बाद मैं ने उसे धमकाया, ‘‘देख रश्मि, अब बहुत हो चुका, आगे से ‘आ बैल, मुझे मार’ करेगी तो मैं दिव्येशजी को सबकुछ बता दूंगी. उन से कह दूंगी कि वह तुम्हें ऐसा पागलपन करने से रोकें, समझीं.’’

रश्मि ने तब झट से कहा, ‘‘मेरी प्रिय दीदी, कोई भी कार्य करने से पहले मैं दिव्येश से इजाजत जरूर लेती हूं, फिर उस पर अमल करती हूं…आज तक मैं ने उन से कोई भी बात नहीं छिपाई क्योंकि मैं जानती हूं कि वह मेरी हर खुशी में खुश हैं.’’

‘‘क्या?’’ मेरा मुंह मारे आश्चर्य के खुला का खुला रह गया. सचमुच रश्मि बेहद खुशनसीब है. दिव्येशजी भी ऐसे हैं तो फिर क्या कहना?

‘‘दीदी, दिव्येश बखूबी जानते हैं कि गरीबी और लाचारी इनसान के हौसलों को किस कदर तोड़ कर रख देती है. सिर्फ 17 वर्ष की आयु में ही उन्होंने बैंक की नौकरी कर पूरे परिवार की जिम्मेदारी अपने कंधों पर उठा ली थी. अपनी पढ़ाई उन्होंने नौकरी के साथ ही संपन्न की.’’

‘‘मैं उन से मिलना चाहती हूं, क्या तुम्हारे घर आ सकती हूं?’’ अब तक हम दोनों पक्की सहेलियां बन गई थीं.

दिव्येशजी से मिलने पर मैं उन के स्वभाव की भी कायल हो गई. जितनी देर मैं उन के साथ रही, सिवा रश्मि की तारीफ के उन के मुंह से कुछ नहीं निकला.

जब वह मेरे लिए जलपान की व्यवस्था करने गई तब उन्होंने बोलना शुरू किया, ‘‘वर्षाजी, रश्मि आप की बेहद तारीफ करती है. जैसा सुना था वैसा ही आप को पाया. आप से मिल कर मुझे बेहद खुशी हुई, यकीन कीजिए.

‘‘रश्मि इतने बड़े बेटों की मां है, फिर भी उस में बचपना पहले जैसा ही है. वह बहुत ही भोली और सरल है. जल्द ही दूसरों की बातों में आ जाती है. दूसरों को खुशियां बांट कर उसे खुशी मिलती है और उस की खुशी में हमसब खुश हैं,’’ दिव्येशजी यह बतातेबताते बेहद भावुक हो उठे.

तभी उन का बड़ा बेटा रुद्र भी आ गया, ‘‘नमस्ते, आंटीजी…’’ उस ने अपना बैग टेबल पर रख दिया और हमारे सामने आ कर बैठ गया.

‘‘आप…वर्षा आंटी हैं न. मिहिर की मम्मी…आप की पहली मुलाकात का किस्सा सुना कर मम्मी आज भी हंसती हैं, फिर अपनेआप पर हैरान भी होती हैं, यह सोच कर कि कैसे वह आप को इतना लंबाचौड़ा भाषण सुना बैठीं,’’ रुद्र हंसते हुए बोला.

‘‘बेटे, सच कहूं तो…तुम्हारी मम्मी की इन्हीं बातों ने मेरा मन मोह लिया. मैं आज तक किसी से भी इतनी प्रभावित नहीं हुई जितनी कि तुम्हारी मम्मी से.’’

‘‘एक राज की बात कहूं?’’ मैं मुसकराई, ‘‘तुम्हारे अंकल से भी नहीं.’’

हम सब हंस पड़े.

– क्रमश: 

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं