गृहशोभा विशेष

दरवाजे की घंटी बजी तो वृंदा ने सोचा कौन होगा इस वक्त? घड़ी में 8 बज रहे थे. पैरों में जल्दी से चप्पलें फंसा कर चलतेचलते पहनने की कोशिश करते हुए दरवाजा खोला तो सामने मानव खड़ा था. ‘‘ओह, तुम?’’ धीरे से कह कर रास्ता छोड़ दिया.

अचानक कमरे में गहरा सन्नाटा पसर गया था. टेबल पर रखे गिलास में पानी भरते हुए पूछा, ‘‘कैसे आना हुआ?’’ ‘‘वह… मां का देहांत हो गया… आज… मैं ने सोचा… शायद… तुम घर आना चाहो.’’

वृंदा के हाथ थमे से रह गए, ‘‘ओह, आई एम सौरी,’’ कह कर पलकें झुका लीं. आंखों में आंसू भर आए थे. फिर से एक लंबी चुप्पी पसर गई थी. ‘‘तो… कल मैं… इंतजार करूंगा,’’ कह कर मानव उठा और दरवाजे तक पहुंच कर फिर मुड़ा, ‘‘आई विल वेट फौर यू.’’

वृंदा ने हामी में सिर हिलाते हुए नजरें झुका लीं. मानव के सीढि़यां उतरने की आवाज धीरेधीरे दूर हो गई तो वृंदा ने दरवाजा बंद कर लिया और आ कर सोफे पर ही लेट गई. उस की आंखें अब भी नम थीं. 9 वर्ष बीत गए… वृंदा ने गहरी सांस ली… खाने का वक्त हो गया, मगर भूख न जानें कहां चली गई थी. अपार्टमैंट की बत्तियां बुझा धीमी रोशनी में बालकनी में आ खड़ी हुई. तेज रफ्तार से दौड़ती गाडि़यां मानो एकदूसरे का पीछा कर रही हों.

वृंदा का मन बोझिल सा हो गया था. कपड़े बदले, पानी पीया और बिस्तर में लेट गई. आंखें बंद कीं तो आवाजें कानों में गूंजने लगीं… ‘‘वृंदा, मां को खाना दे दो.’’

‘‘हां, बस बन गया है.’’ मानव थाली निकाल मां का खाना ले कर उन के कमरे की तरफ चल दिया.

‘‘सुनो, मैं दे रही हूं.’’ ‘‘रहने दो,’’ कह कर, मानव चला गया.

‘‘वृंदा, देखो मां क्यों खांस रही हैं.’’ ‘‘अरे, ऐसे ही आ गई होगी.’’

मानव ने दवा निकाली और मां के कमरे में चला गया. वृंदा सुबह भागभाग कर काम निबटा रही थी. मानव के औफिस का वक्त हो रहा था.

‘‘वृंदा, मेरा नाश्ता? उफ, ये सब तुम बाद में भी कर सकती हो,’’ मुंह बना कर मुड़ गया. मां के कपड़े धोना, प्रैस करना, उन का खाना, नाश्ता, दूध, फ्रूट काटना, जूस देना और भी कई छोटेछोटे काम करते वृंदा थक जाती.

शाम को मानव घर लौटा, तुम मां का खयाल नहीं रखतीं… बूढ़ी हैं वे… सब कामवाली पर छोड़ रखा है.’’

सुन कर वृंदा अवाक रह गई. गुस्सा आने लगा था उसे. मानव और उस के बीच जो मीठा सा प्रेम था वह मर सा गया था. क्या यह वही आदमी है जो जरा सा रूठते ही मनाने लगता था. मेरी छोटीछोटी बातों का भी ध्यान रखता था. अब मां के सिवा उसे कुछ नजर ही नहीं आता. मां पर भी गुस्सा आने लगा था कि इतना करने के बावजूद कभी कोई आशीर्वाद या तारीफ का शब्द उन के मुंह से न निकलता. फिर भी मानव पर प्यार आ जाता बारबार. शायद वृंदा का प्रेम मोह में बदल गया था. खुद पर गुस्सा आ रहा था. चाह कर भी मानव को समझा नहीं पा रही थी कि वह भी मां की परवाह करती है, प्यार करती है, देखभाल करती है… जाने कैसा चक्र सा बन गया था. मानव मां की ओर झुकता जाता. वृंदा को गुस्सा आता तो कुछ भी बोल देती. बाद में अफसोस होता. मगर मानव उन शब्दों को ही सही मान कर मां के लिए और परेशान रहता.

वृंदा को लगता मानव कहीं दूर चला गया है. अजनबी सा बन गया था. वृंदा उठ कर बिस्तर में बैठ गई. एसी चलने के बावजूद पसीना आ रहा था. पानी पीया और फिर लेट गई. रोज झगड़ा होने लगा. वृंदा इंसिक्योर होती गई. धीरेधीरे डिप्रैशन में जाने लगी. मानव बेखबर रहा. मां भी मूकदर्शक बनी रही. तनाव सा रहने लगा घर में.

एक दिन वृंदा ने मां को मानव से कुछ कहते सुना. वृंदा सामने आ गई, ‘‘मां… मेरे ही घर में मेरे खिलाफ बातें?’’

मानव बोला, ‘‘मां हैं मेरी इज्जत करो… बूढ़ी हैं,’’ वृंदा बूढ़ी हैं… बूढ़ी हैं सुनसुन कर तंग आ चुकी थी. बोली, ‘‘जानती हूं मैं,’’ चीखने लगी थी वह, ‘‘मैं किस के लिए हूं… अगर मैं ही प्रौब्लम हूं तो मैं ही चली जाती हूं.’’

‘‘जाना है तो जाओ… निकलो,’’ मानव ने कहा. वृंदा ने घर छोड़ दिया. मानव ने कोई खबर न ली. वृंदा ने भी गिरतेपड़ते राह खोज ली. आंसू भर आए थे. जख्म फिर हरे हो गए थे. वृंदा फफकफफक कर रो पड़ी थी.

सुबह मानव के घर में मां का क्रियाकर्म चलता रहा. मानव सफेद कुरतापाजामा पहने नजरों के सामने से गुजरता रहा. कितना जानापहचाना सा था सबकुछ. वृंदा भी हाथ बंटाती रही. 15 दिन बीत गए. मानव एक बार फिर उस के दरवाजे पर खड़ा था, ‘‘वृंदा… घर लौट आओ… अब तो मां नहीं रही.’’

वृंदा ने मानव की ओर देखा, ‘‘मानव, तुम आज तक समझ ही नहीं पाए… इट वाज नैवर अबाउट योर मदर… मैं तुम से उम्मीद करती थी कि तुम मेरी भावनाओं को समझोगे… जिस के लिए मैं अपना सब कुछ छोड़ आई थी… कितनी आसानी से उस घर से निकलने को कह दिया… मैं तुम्हें खोना नहीं चाहती थी. तुम्हारा प्यार पाना चाहती थी… मां के सामने तुम मुझे देख ही नहीं पाए… मैं ने खुद को तुम्हारे प्रेम में खो दिया था. अच्छा किया जो तुम ने मुझे बेसहारा छोड़ दिया. मैं ने अपने पैरों पर खड़ा होना सीख लिया. अपना आत्मविश्वास पा लिया. अब जो पाया है उसे फिर नहीं खोना चाहती. अच्छा होगा तुम फिर यहां न आओ.’’ मानव धीरे से उठा और बोझिल कदमों से चलता हुआ दरवाजे से निकल गया. वृंदा ने दरवाजा बंद किया और बंद हो गईं वे आवाजें जो उस का पीछा करती रहीं… वे मोह के धागे जो उसे बांधे हुए थे और कमजोर बना रहे थे आज तोड़ दिए थे और एक नए अध्याय की शुरुआत की थी.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं