आज का दिन बहुत अच्छा था. सुबहसुबह जल्दी तैयार हो कर दोस्तों के साथ पाल के रास्ते पर हम निकल पड़े थे. इस सफर के लिए आरक्षित मिनी बस तो ठीक 5 बजे आ गई थी लेकिन सफर पर जाने वाले साथी 6 बजे तक ही आ पाए थे. सुबह के समय सब लोग प्रसन्न थे और बातचीत करते हुए हम सफर पर निकल पड़े थे.

रास्ते में एक ऐतिहासिक मंदिर की वास्तुकला देख कर हम सब वहां से आगे पाल जाने के लिए चल पड़े. हम पाल पहुंचे तो शाम के 5 बज रहे थे. हमारी योजना जल्दी घर लौट कर रात का खाना घर पर ही खाने की थी. बस का ड्राइवर जल्दी मचा रहा था क्योंकि उस के घर पर कुछ मेहमान आए हुए थे, अत: उसे घर जा कर उन्हीं के साथ भोजन करना था. मैं ने भी अपने घर बता दिया था कि रात तक अमलनेर पहुंच जाऊंगा.

पाल में हम सब ने काफी मौजमस्ती की. वहां के पार्क में हिरणों के साथ फोटो भी खिंचवाए. एक लैक्चरर साथी ने अलगअलग तरह की वनस्पतियों की जानकारी दी. वहां के फूलों का नजारा देखने के बाद जल्दी से घर लौटने के लिए सब लोग बस में बैठ गए.

ड्राइवर को भी घर पहुंचने की जल्दी थी. अत: उस ने पूरी तेजी के साथ बस दौड़ाई. करीब साढ़े 6 बजे हम सावदा पहुंचे. हमारे कुछ साथी वहां चाय पीना चाहते थे. उन्होंने इस के लिए ड्राइवर से आधे घंटे का समय मांगा. कुछ लोग चाय पीने के लिए निकल पड़े. हम भी ड्राइवर को ले कर चाय पीने लगे.

चाय पीते 1 घंटा बीत चुका था. घड़ी की ओर देखते हुए ड्राइवर मुझ से बोला, ‘‘मैं ने पहले ही कहा थाकि खानेपीने के शौकीन लोग एक बार बैठ गए तो फिर हिलने का नाम नहीं लेंगे. उन्हें दूसरों के समय की फिक्र ही नहीं है.’’

ड्राइवर बेचैन हो रहा था. हमारी ट्रिप शानदार रही थी, लेकिन खानेपीने वालों की वजह से अब 2 घंटे की देरी हो गई थी.

रात के 9 बजे हम यावल पहुंचे. सब को घर जाने की जल्दी थी अत: वे खामोश बैठे थे.  उसी समय बस के इंजन से काफी मात्रा में धुआं निकलने लगा. ड्राइवर ने बस रोक दी. सब लोग बस से नीचे उतर पड़े.

‘‘क्या हुआ?’’ सब की जबान पर एक ही सवाल था.

‘‘इंजन में कुछ खराबी है,’’ ड्राइवर गुस्से से बोला.

ड्राइवर की बात सुन कर दूसरी गाड़ी ढूंढ़ने के लिए मैं ने बस में से अपना सामान निकाल लिया और दूसरी गाड़ी ढूंढ़ने लगा. मुझे देख कर कुछ साथी हंसीमजाक करने लगे तो कुछ लोग मैकेनिक ढूंढ़ने में ड्राइवर की सहायता करने लगे.

रास्ते पर काफी आवाजाही थी. मुझे अमलनेर पहुंचना था, इसलिए हर जाने वाली गाड़ी को हाथ दिखा कर रोकने का प्रयास कर रहा था. केलों से लदा एक ट्रक कुछ आगे जा कर रुक गया. मैं बड़ी आशा के साथ उस तरफ बढ़ गया. उस ट्रक में पहले से 15-20 मजदूर बैठे थे. उन में से 2 लोग वहां उतर गए. ड्राइवर ने मेरी ओर देख कर पूछा, ‘‘कहां जाना है?’’

‘‘अमलनेर,’’ मैं ने कहा.

‘‘ठीक है, गाड़ी अमलनेर हो कर अहमदाबाद जाएगी. इधर कैसे फंस गए?’’

‘‘भाई साहब, हमारी गाड़ी का इंजन फेल हो गया है. उस में हमारे कुछ और साथी भी थे,’’ मैं अपनी बात पूरी कर ड्राइवर के कैबिन में घुस गया.

पलभर में ही ट्रक पूरी तेजी के साथ सड़क पर दौड़ने लगा. मुझे इस उम्मीद से खुशी हुई कि 11 बजे तक अमलनेर अपने घर पहुंच जाऊंगा. मेरे नजदीक सब मजदूर एकदूसरे से चिपक कर बैठे थे. ड्राइवर ने टेप रिकौर्डर शुरू कर दिया.

ड्राइवर ने अभी बातचीत शुरू की ही थी कि सामने टौर्च का उजाला आया. ड्राइवर ने ट्रक की रफ्तार धीमी कर दी.

‘‘इसे भी अभी ही आना था. किसी के पास 5 रुपए हैं क्या?’’ ड्राइवर ने कैबिन में बैठे यात्रियों से पूछा.

मैं ने अपनी जेब से 5 का नोट निकाल कर उसे दे दिया. ड्राइवर ने अपने बगल की खिड़की से हाथ निकाल कर 5 का नोट हवलदार के हाथ में दिया और ट्रक की स्पीड बढ़ा दी.

‘‘अब देखो साहब, अगले पौइंट पर मैं सिर्फ 2 रुपए का सिक्का दूंगा. ये सब भिखारी लोग हैं. खाकी वरदी वाले डाकू हैं. साहब, असली डाकू तो यही हैं. चोरडाकू तो कभीकभी डाका डालते हैं, लेकिन ये लोग तो हर दिन जनता को लूटते हैं.’’

ड्राइवर मेरी ओर देख कर बोल रहा था. ट्रक में लगे टेप रिकौर्डर पर गाना चालू था. तभी सामने 2 हवलदार खड़े दिखाई दिए. ट्रक एक तरफ रोक कर ड्राइवर नीचे उतरा और एक पुलिस वाले के सामने जा कर खड़ा हो गया.

‘‘क्या साहब, हमारा रोज का आनाजाना है.’’

‘‘तो दादा, हम कहां ज्यादा मांगते हैं,’’ पुलिस वालों का स्वर धीमा और लाचारी से भरा था.

ड्राइवर ने धीरे से जेब से 2 रुपए का सिक्का निकाल कर उस के हाथ में टिकाया और पल भर में ट्रक चला दिया.

आगे चौक पर ट्रक रुका तो कई मजदूर फटाफट छलांग लगा कर उतर गए.

‘‘उस्मान, सब से भाड़ा बराबर लेना. आगे भी पुलिस वालों की जेबें गरम करनी पड़ेंगी,’’ ड्राइवर ने हिदायत दी, ‘‘और उस्मान, ट्रक का अगलापिछला टायर ठीक से देख लेना.’’

ट्रक स्टार्ट कर ड्राइवर ने स्टेयरिंग   व्हील पर हाथ रखते हुए पूछा,  ‘‘साहब, आप अमलनेर में नौकरी करते हो क्या?’’

‘‘मैं टैलीफोन विभाग में हूं. क्या आप अमलनेर आते रहते हैं?’’

‘‘मैं बचपन में अमलनेर में रहता था. वहां स्कूल में पढ़ता था. नईम नाम है मेरा. क्या आप वहां के कालू मिस्त्री को पहचानते हैं?’’

‘‘हां, वे अच्छे कारीगर हैं और कसाली में रहते हैं,’’ मैं ने बताया.

‘‘अरे, आप तो हमारी पहचान के निकले.’’

हम दोनों की बातचीत का सिलसिला चल पड़ा.

‘‘साहब, 20 साल से मैं ड्राइविंग कर रहा हूं. मुंबई, अहमदाबाद हर रोज केले ले जाने का ट्रिप लगता है. 20 साल से एक ही मालिक के पास काम कर रहा हूं. वे मुझे छोड़ने के लिए तैयार नहीं हैं.’’

‘‘ईमानदारी से काम करने वाले को कोई आदमी कैसे छोड़ेगा?’’

‘‘अरे साहब, आप ईमानदारी की बात कर रहे हैं… मैं ने 20 साल में पैसा नहीं कमाया लेकिन नाम कमाया है, इज्जत कमाई है. इस रास्ते पर हवलदार भी मुझे सलाम करते हैं.’’

तब तक क्लीनर ने ट्रक पर सवार हो कर कहा, ‘‘चलो, नईम चाचा.’’

ट्रक चल पड़ा. रास्ते में हम दोनों की बातचीत फिर शुरू हो गई.

‘‘आप को क्या बताऊं साहब, अगर सामने से इलाके का विधायक भी आ जाए तो वह गाड़ी खड़ी कर के मुझ से 2 मिनट बात जरूर करेगा. हम ने इतनी इज्जत कमाई है.’’

‘‘हम अमलनेर कितनी देर में पहुंचेंगे?’’

‘‘1 घंटे में.’’

उसी समय एक जीप ने पूरी तेजी से हमारे ट्रक को ओवरटेक किया. सामने से एक मोटरसाइकिल आ गई. जीप का ड्राइवर कंट्रोल खो बैठा और उस ने मोटरसाइकिल सवार को टक्कर मार दी.

ट्रक का ड्राइवर रफ्तार कम करते हुए चिल्ला पड़ा, ‘‘अरे, मारा गया बेचारा.’’

क्लीनर भी आंखें फाड़ कर देखने लगा. टक्कर की तेज आवाज सुन कर मेरी छाती भी धड़कने लगी. मोटर- साइकिल रास्ते के समीप के गड्ढे में जा गिरी. ट्रक कुछ आगे जा कर रुका. जीप वाले को गाली देते हुए नईम ट्रक से उतरा. मैं भी उस के पीछे उतरा. मोटरसाइकिल पर सवार दोनों व्यक्ति काफी दूर जा कर गिरे थे. चालक के सिर पर काफी चोट लगी थी और उस में से खून बह रहा था. उस के पीछे बैठा व्यक्ति दर्द से बिलख रहा था.

‘‘उस्मान, पानी की बोतल ला,’’ नईम चिल्लाया. उस्मान ने पानी की बोतल ला कर दी तो उस ने पानी की धार जख्मी व्यक्ति के मुंह में डाली. तभी एक दूध वाले की मोटरसाइकिल आ कर खड़ी हुई.

‘‘कौन तात्याभाई?’’ वह चिल्लाया.

‘‘किस ने ठोकर मार दी?’’ दूध वाले ने पूछा. पास आ कर उस दूध वाले ने उस जख्मी व्यक्ति को पहचाना. वह उसी के गांव का रहने वाला था. वह ट्रक और ड्राइवर की ओर देख कर चिल्लाया, ‘‘तुम ने टक्कर मारी इस मोटरसाइकिल को?’’

‘‘अरे भाई, इस को जीप वाले ने ठोकर मारी है. मैं तो इंसानियत के नाते इसे पानी पिला रहा हूं. वरना इस सुनसान रास्ते पर इसे कौन देखेगा? चाहो तो तुम पूछ लो इस जख्मी से.’’

नईम ने अपनी सफाई पेश की. मैं ने भी नईम की बात का समर्थन किया.

उसी समय जख्मी व्यक्ति चिल्लाने लगा, ‘‘उस जीप वाले को पकड़ो, उसी ने टक्कर मारी है.’’

‘‘अब तो आप को यकीन हुआ?’’ नईम ने उस दूध वाले से पूछा.

इसी बीच उस रास्ते पर 2-3 और मोटरसाइकिल वाले भी आ गए. सब अपनीअपनी हांक रहे थे. जख्मी को तुरंत अस्पताल पहुंचाना जरूरी था. पुलिस को खबर करने की जरूरत थी. वहां आया दूध वाला जख्मी मोटरसाइकिल चालक के घर खबर देने चला गया.

‘‘ऐसा करते हैं कि जख्मी को हम ट्रक में डाल कर चोपड़ा ले जाते हैं और वहां सरकारी अस्पताल में भरती करा देते हैं.’’

नईम के इस प्रस्ताव को सब ने मान लिया. जख्मी को उठा कर ट्रक में डाल कर नईम ने तेजी के साथ ट्रक भगाया. 2 लोग हमारे साथ आए और बाकी वहीं रुक गए.

‘बेचारे की जान बचनी चाहिए,’ नईम बड़बड़ाने लगा.

10-15 मिनट में ट्रक सरकारी अस्पताल पहुंच गया. जख्मी को अस्पताल में भरती करवाया गया. तब तक पुलिस भी वहां पहुंच गई. इस चक्कर में मुझे देर होती जा रही थी. नईम को भी जल्दी पहुंचना था क्योंकि उस के ट्रक में केले लदे थे. इस दुर्घटना के चलते अब घंटे भर की और देरी हो गई थी.

ड्राइवर नईम को लग रहा था कि जख्मी को भरती कराने के बाद उसे छुट्टी मिल जाएगी, लेकिन पुलिस ने उसे ट्रक रोकने के लिए कहा.

‘‘ट्रक भगाने की कोशिश मत करो,’’ एक हवलदार ने उसे डांट दिया.

‘‘हम ने इंसानियत के नाते इसे यहां पहुंचाया है,’’ नईम ने हाथ जोड़ कर पुलिस से अपनी सफाई पेश की.

‘‘इसे किसी जीप वाले ने ठोकर मारी है यह हम कैसे मान लें?’’

पुलिस वाले के तर्क के सामने नईम कुछ बोल नहीं पाया, फिर भी अपनी सफाई पेश करने की कोशिश की.

‘‘साहब, हम ने कौन सा बुरा काम किया है?’’

‘‘झूठ मत बोलो, इसे तुम्हारे ट्रक ने ही ठोकर मारी है.’’

एक पुलिस वाला उसे डांटने लगा. मैं खामोशी से उन की बातचीत सुन रहा था.

‘‘साहब, आप चाहें तो इन से पूछ लो, ये हमारे पैसेंजर हैं,’’ नईम गिड़गिड़ाया.

‘‘वह मैं कुछ नहीं जानता. ट्रक में माल भरा जाता है या पैसेंजर. इस मामले की पूरी छानबीन होने तक हम तुम्हें जाने नहीं देंगे. तुम ट्रक को पुलिस थाने में छोड़ दो.’’

हवलदार की बात से नईम घबरा गया. बोला, ‘‘मेरा केले का ट्रक है, जाने दीजिए. और मैं ने कोई बुरा काम नहीं किया है.’’

‘‘अपनी बात तू साहब को बताना, मैं कुछ नहीं जानता. ट्रक को तो पुलिस स्टेशन में ही जमा करवाना पड़ेगा.’’

हवलदार की बात से नईम की सिट्टीपिट्टी गुम हो गई. उसे लगा फिर वह क्यों इस झमेले में फंसा. होश आने पर जख्मी मोटरसाइकिल वाला जब तक बयान नहीं देता तब तक उसे छुटकारा मिलने की कोई गुंजाइश नहीं थी, क्योंकि पुलिस की नजर में नईम ही गुनाहगार था.

‘‘अगर उस ने होश में आ कर बयान दिया कि जीप वाले ने ही उसे टक्कर मारी है तब तुम जा सकोगे,’’ उसे डांट कर हवलदार डाक्टर के कैबिन में चला गया. नईम और मैं बाहर ही खड़े रहे.

‘‘देखो साहब, मैं ने कौन सा बुरा काम किया है?’’

तब तक दूसरे जख्मी को ऐंबुलैंस में डाल कर अस्पताल में लाया गया. डाक्टर ने उस की जांच कर के उसे ‘ब्राट डैड’ घोषित कर दिया और पोस्टमार्टम के लिए रवाना कर दिया. तब तक रात के 12 बज चुके थे. अस्पताल में रोने और चीखनेचिल्लाने की आवाजें बढ़ने लगीं. डाक्टर और नर्सों की दौड़धूप जारी थी. नईम बेचैनी के साथ इधरउधर चक्कर काट रहा था. जख्मी के रिश्तेदारों ने उस के ट्रक का घेराव कर लिया था. इस से नईम और भी घबरा गया.

‘‘साहब, मैं अपने सेठ को फोन कर के आता हूं,’’ कह कर वह फोन के बूथ की ओर बढ़ा तो मैं उस के पीछेपीछे चल दिया. क्लीनर गाड़ी छोड़ कर पहले ही भाग चुका था.

‘‘हैलो, बाबू सेठ. मैं नईम बोल रहा हूं. मैं अभी चोपड़ा में हूं.’’

‘‘अभी तक तू चोपड़ा में क्या कर रहा है? कब अहमदाबाद पहुंचेगा?’’

‘‘नहीं, बाबू सेठ, यहां रास्ते में एक ऐक्सीडैंट हो गया है.’’

‘‘अपनी गाड़ी का?’’

‘‘अपनी गाड़ी का नहीं. एक जीप वाले ने मोटरसाइकिल सवार को टक्कर मार दी…मैं जख्मी मोटरसाइकिल वाले को अस्पताल में ले आया था इसलिए देर हो रही है.’’

नईम ने अपने मालिक बाबू सेठ को समझाने की कोशिश की लेकिन सेठ को नईम पर बहुत गुस्सा आया.

रात के 2 बजे तक भी उस जख्मी को होश नहीं आया. मैं ने भी घर फोन कर के बता दिया कि मैं देरी से घर लौटूंगा. घर पर सभी चिंतित हो गए.

नईम ने एक पुलिस वाले को 50 रुपए का नोट दे कर ट्रक के सामने की भीड़ कम करने के लिए कहा. पुलिस हवलदार ने नोट जेब में डाल कर हाथ की लाठी पटक कर ट्रक के सामने जमा भीड़ को कम कर दिया.

नईम मेरी ओर देख कर कहने लगा, ‘‘साहब, आप मेरा साथ नहीं छोड़ना, आप तो मेरे गवाह हो. मैं ने कोई बुरा काम नहीं किया है और एक आदमी की जान बचाने से कोई बड़ा काम नहीं हो सकता,’’ फिर वह अपने हाथ में मेरा हाथ ले कर बोला, ‘‘पुलिस का कोई भरोसा नहीं. वे यह आरोप मुझ पर डाल देंगे.’’

‘‘नहीं, ऐसा नहीं होगा,’’ मैं ने नईम को धीरज बंधाने की कोशिश की.

मैं उस का हाथ पकड़ कर जख्मी के बिस्तर की ओर बढ़ गया. जख्मी व्यक्ति की सांस ठीक चल रही थी.

उसी समय 5-7 औरतें चीखती- चिल्लाती आईं. एक औरत अपना सिर पीटपीट कर रो रही थी और दूसरी 2 औरतें उसे धीरज बंधाने की कोशिश कर रही थीं. कोलाहल बढ़ने लगा तो एक नर्स ने आ कर उन सब को वहां से हटा दिया.

नईम और मैं मुरझाए चेहरे से वहीं खड़े थे. अब 4 बजने वाले थे. हम अस्पताल के मुख्यद्वार की ओर बढ़े तो हवलदार ने हमें वापस बुला लिया. हार कर हम मरीजों के वार्ड में जा कर बैठ गए.

थोड़ी ही देर में घायल मरीज को होश आ गया. नईम के चेहरे का तनाव कुछ कम हुआ. मैं ने उस का हाथ पकड़ कर दिलासा देने का प्रयास किया. पलभर में हवलदार आ गया और मरीज के रिश्तेदार भी पलंग के चारों ओर जमा हो गए.

‘‘तुम्हारी मोटरसाइकिल को किस ने टक्कर मारी?’’ हवलदार ने पूछा.

घायल मरीज ने बड़ी मुश्किल से अपना मुंह खोला और बताया, ‘‘यावल से आने वाली जीप ने हमें टक्कर मार दी,’’ उस के चेहरे से असहनीय वेदना झलक रही थी.

इधर नईम का चेहरा खिल गया क्योंकि एक बड़ी मुसीबत से उस का छुटकारा होने वाला था.

‘‘देखा साहब, अब तो आप को यकीन आ गया होगा,’’ नईम ने धीरे से अपनी बात हवलदार से कही.

पहली बार हवलदार ने उस की तरफ नरमी से देखा. वह घायल मरीज का बयान ले कर पंचनामा करने लगा.

‘‘देखो साहब, अब हमें बहुत देरी हो गई है. ट्रक में केला भरा है, अब हमें जाने दो,’’ नईम ने दूसरे हवलदार से अपनी बात कही.

‘‘ऐसे कैसे जाने दूं? बड़े साहब आएंगे, उन से पूछ कर फिर जाना.’’

‘‘हवलदार साहब, अब काहे को लफड़े में डाल रहे हो. कहो तो आप के चायपानी का इंतजाम कर दूं.’’

‘‘पूरी रात जागता रहा तो किसी ने हमें चायपानी के लिए नहीं पूछा,’’ हवलदार ने नरमी से मेरी ओर देखा.

नईम ने जेब से 50 रुपए का नोट निकाल उस के हाथ में पकड़ाया.

‘‘तू क्या हम को भीख दे रहा है?’’ हवलदार ने गुस्से का नाटक किया.

‘‘नईम दादा, जाने दो. हिसाब से दे दो. हम यहां कब तक पड़े रहेेंगे?’’

मेरी बात पर हवलदार मुसकराया. नईम ने जेब में हाथ डाल कर 50 रुपए का एक और नोट हवलदार की हथेली पर रखा.

हवलदार ने जरा नाराज हो कर सिर हिला दिया और नोट जेब में ठूंस लिए. मैं ट्रक की ओर बढ़ने लगा. नईम ने उस्मान को आवाज दे कर अपने पास बुलाया तो वह दीवार के पीछे से निकल कर वापस आ गया.

‘‘चल, बैठ गाड़ी में.’’

जब हम सभी ट्रक पर सवार हो कर चलने लगे तब सुबह के 5 बज चुके थे. सड़क पर आवाजाही शुरू हो गई थी. ‘‘साहब, 2 मिनट रुको, मैं अपने बाबू सेठ को फोन कर के आता हूं,’’ कह कर वह फोन बूथ पर गया और जल्दी में नंबर घुमाया.  फोन पर सेठ बिना रुके उसे डांटे जा रहा था. नईम अपने सेठ की बात बड़ी शांति से सुनता रहा. उस की बात खत्म होने के बाद शुरू हुई हमारी बाकी बची यात्रा.

ट्रक पूरी तेजी के साथ अमलनेर की ओर बढ़ा. सुबह की ठंडक में भी नईम का चेहरा पसीने से तरबतर था. वह सावधान हो कर तेजी से ट्रक दौड़ाने लगा. मैं ने घबराते हुए नईम की ओर देखा. ट्रक चलाते हुए बकबक करने वाला ट्रक ड्राइवर अब बड़ी शांति से ट्रक चला रहा था. ट्रक की स्पीड इतनी ज्यादा थी कि पीछे कौन सा गांव जा रहा है इस का भी पता नहीं चल रहा था. सावरखेड़ा का पुल तो कब का पीछे छूट चुका था. आखिर मैं ने ही चुप्पी तोड़ी, ‘‘क्या दादा, तुम्हारे सेठ ने क्या बोला?’’

‘‘सेठ बहुत नाराज हो गया है. यार, वह कह रहा था कि आइंदा कभी ऐसा ऐक्सीडैंट हो जाए और मरने वाला प्यास के मारे तड़पता हो तो उस तड़पते आदमी की तरफ देखना भी नहीं.’’

हमारा ट्रक अब रेल फाटक पार कर के आगे बढ़ रहा था. रास्ता खुला था. थोड़ी देर में हम एस.टी. स्टैंड पर पहुंच गए. मैं ने उतरने की तैयारी की.

‘‘नईम दादा, अब तो हमें वैसे ही काफी देर हो गई है. चलो, थोड़ीथोड़ी चाय पी ली जाए.’’

उस ने एक छोटे से ढाबे पर गाड़ी रोकी. साढ़े 5 बज चुके थे. हम होटल में गए. वहां मैं ने चाय का और्डर दिया. चाय वाले ने हमारे सामने 2 कप चाय ला कर रखी. चाय का कप उठा कर नईम बोला, ‘‘जाने दो साहब, हम ने कोई बुरा काम नहीं किया. एक इंसान मर रहा था, उस को बचाना हमारा फर्ज था. इसी को इंसानियत कहते हैं.’’

‘‘हां भाई, यही नेकी तुम्हारे बालबच्चों के काम आएगी,’’ मैं सिर्फ इतना ही बोल पाया.

चाय पी कर मैं अपने घर की ओर जाने लगा तो वह भी ट्रक की ओर चल दिया. कल की पूरी रात मैं ने जाग कर बिताई थी. इस एक रात में इंसानी स्वभाव के अलगअलग पहलू देखने के अवसर मिले थे.

नईम की इस इंसानियत की कहानी किसी इतिहास में नहीं लिखी जाएगी, लेकिन टिमटिमाते दीए की तरह इंसानियत अब भी जिंदा है यह सोच कर ही मैं उत्साहित था.