लंच के बाद बालकनी में आरामकुरसी पर पसरे हम कुनकुनी धूप सेंक रहे थे. तभी श्रीमतीजी चांदी की ट्रे में स्पैशल ड्राईफू्रट्स ले आईं. पिछले साल मेरे औसत दर्जे के अपार्टमैंट के ठीक सामने ‘द मेवा शौप’ खुली थी. मैं ने आज तक उस एअरकंडीशंड मेवा शौप में प्रवेश करने का साहस नहीं किया है. वैसे कैश से महंगे मेवे की खरीदारी संभव नहीं है और कार्ड से खरीदारी की आदत से अब तक हम दूर ही रहे हैं. रात्रि वेला में ‘द मेवा शौप’ का ग्लो साइन बोर्ड मुझे चिढ़ाता रहा है. चमचमाती ट्रे में करीने से सजे काजू, किशमिश, पिस्ता, बादाम, चिलगोजे, छुहारे देख कर हम ने अपनी आंखें मूंद लीं.

‘‘दिल्ली में बटलू की रिंग सेरेमनी थी… शादी का निमंत्रण कार्ड आया है,’’ श्रीमतीजी ने हमें वस्तुस्थिति से अवगत कराया.

बटलू मेरे साले साहब के शहजादे थे. मुझे हलकीफुलकी जानकारी थी. विदेश में बिजनैस मैनेजमैंट की पढ़ाई की थी. भारतीय मूल की विदेशी कन्या से शादी करने जा रहे थे. श्रीमतीजी भारीभरकम, बेहद महंगा, डब्बानुमा निमंत्रण कार्ड ले कर आई थीं. मैरिज दिल्ली में होनी थी. श्रीमतीजी ने कार्ड के पन्नों को परत दर परत पलट कर दिखाया. शादी की अलगअलग रस्मों के लिए दिल्ली के कई पांचसितारा होटलों की बुकिंग थी. डब्बानुमा निमंत्रण कार्ड में पर्याप्त मात्रा में मेवा भरा गया था. महंगी विदेशी टौफियां भी थीं. श्रीमतीजी ने लैपटौप पर मुझे रिंग सेरेमनी के फोटो दिखाए. वे फेसबुक में पोस्ट किए गए थे. अपने रिटायरमैंट पीरियड में हम ने मासिक व्यय में कई कटौतियां की हैं ताकि इस उम्र की हैल्थ समस्याओं से निबटने के लिए पर्याप्त सेविंग कर सकें. काजू, किशमिश, पिस्ता, चिलगोजे सहित और अन्य कई लग्जरी से हम दूर ही रहे हैं.

काजू, किशमिश, पिस्ता, चिलगोजे चबाते हुए रिंग सेरेमनी में शहजादे ने ब्राइड को किस किया था. उस फोटो को देख कर हम श्रीमतीजी से छेड़खानी के मूड में आ गए.

‘गंदी बात… गंदी… गंदी… गंदी बात…’’ श्रीमतीजी ने फिल्मी अंदाज में मुसकराते हुए हमें टोका.

‘किस’ में क्या गंदी बात है… हम ने ‘किस’ को पूरी लाइफ मिस किया है…’’ हम ने श्रीमतीजी से शिकायती लहजे में कहा.

‘‘मुंह में बैक्टीरिया भरा होता है… किसिंग पार्टनर्स में लगभग 10 मिलियन से 1 बिलियन बैक्टीरिया का ऐक्सचेंज होता है… मोनोन्यूक्लियोसिस किसिंग रोग और हर्पीज वायरस का संचार होता है…’’ श्रीमतीजी ने माइक्रोबायोलौजी की पढ़ाई की थी… किसिंग के बिलकुल खिलाफ थीं. ‘‘किसिंग में 34 फेशियल मसल्स गतिशील होते हैं… अच्छा वर्कआउट है… चेहरे पर झुर्रियां नहीं पड़तीं… कई फैक्ट्स किसिंग की फेवर में हैं. यह गंदी बात नहीं है. कामसूत्र में 30 प्रकार के किस का वर्णन है. रोमांटिक फ्रैंच किस में 5 कैलोरीज तक बर्न होती हैं. होंठ बेहद सैंसिटिव होते हैं. ऐक्स्ट्रा सैलिवा दांतों की सड़न रोकता है…’’ हम ने श्रीमतीजी को किसिंग फैक्ट्स बताने की कोशिश की.

‘‘गंदी बात… गंदी… गंदी… गंदी बात,’’ श्रीमतीजी ने किसिंग के पौजिटिव फेक्ट्स को कंसीडर ही नहीं किया.

लाइफ में 2 वीक का समय सिर्फ किसिंग के नाम है… विदेशी बालाएं मैरिज से पहले 80 से भी अधिक बौयफ्रैंड्स को ‘किस’ कर चुकी होती हैं,’’ हम ने कई और किसिंग फैक्ट्स गिनाए.

‘‘गंदी बात… गंदी…गंदी…गंदी बात…’’ श्रीमतीजी ने कानों में उंगलियां डाल लीं.

श्रीमतीजी बैडरूम में बिस्तर पर महंगी नई साडि़यां फैला कर उन में मैचिंग फौल लगाने में व्यस्त थीं.

‘‘जोरदार तैयारी चल रही है… पांचसितारा होटलों की पार्टी है… भई शहजादे की मैरिज है,’’ हम ने मुसकरा कर श्रीमतीजी की ओर देखा. वे शहजादे संबोधन से थोड़ी बिदक गई थीं.

‘‘हम दोनों के एअर टिकट आए हैं,’’ श्रीमतीजी ने जानकारी दी. साथ ही जरूरी तैयारी की हिदायत भी मिली. हमारी गैरमौजूदगी में साले साहब अपनी मैडम के साथ सस्नेह निमंत्रण देने आए थे. हम पैंशनर की सालाना मीटिंग में गए थे. मोबाइल भूल आए थे. अत: फोन पर बात भी नहीं हो पाई.

‘‘साले साहब काफी इज्जत दे रहे हैं. लगता है हमें भी सूट पहनना पड़ेगा. अटपटा तो लगेगा, पर क्या करें शहजादे की मैरिज है,’’ वैसे सेवानिवृत्ति के बाद से हम ने कुरतापाजामा यानी परंपरागत पत्रकार वाली ड्रैस को अपना लिया था.

‘‘बटलू बुलाने से क्या परहेज है… हमारी मैरिज के बाद पैदा हुआ है. शहजादे का संबोधन बिलकुल नहीं सुहाता. आप बड़ेबुजुर्ग हैं,’’ श्रीमतीजी हम पर बरस पड़ीं.

श्रीमतीजी की नाराजगी बिलकुल जायज थी. हमारा संबोधन बिलकुल गलत था. इस संबोधन में हमारी मध्यवर्गीय मैंटेलिटी, हमारी अपनी सीमा छिपी थी. साले साहब की संपन्नता के प्रति शायद ईर्ष्या की भावना भी थी. शायद शानशौकत के प्रदर्शन के प्रति आक्रोश भी था. ‘‘शहजादे का संबोधन छोड़ दूंगा, लेकिन हमारी एक शर्त है. पौजिटिव फैक्ट्स को कंसीडर करते हुए ‘किस’ से बैन हटाना होगा. बैक्टीरिया के ऐक्सचेंज का खतरा उठाना होगा,’’ हम ने श्रीमतजी से सौरी कहा और फिर उन से मिन्नत की.

‘‘गंदी बात… गंदी…गंदी…गंदी बात,’’ श्रीमतीजी ने पहले के मुकाबले धीमी आवाज में कहा और फिर हामी भर दी.