मुझे न जाने क्या हो जाता है. मैं मन ही मन कविता की खूबसूरती से ईर्ष्या करती हूं. हालांकि मैं और कविता आपस में अच्छी दोस्त हैं, हमारे पतियों की भी आपस में बनती है और बच्चों की भी आपस में दोस्ती है. हम लोग जहां भी जाते हैं साथ जाते हैं. मेरा और कविता का परिचय विवाह पूर्व का है. हम दोनों शहर के एक ही महल्ले की हैं. हम दोनों ही युवतियां महल्ले के मनचले युवकों की धड़कनें हुआ करती थीं. लोगों को यह बता पाना मुश्किल था कि हम दोनों में से कौन अधिक सुंदर है.

संयोग देखिए हम लोगों का विवाह भी एक ही साथ एक ही शहर में यहां तक कि एक ही महल्ले में हुआ. तारीख भी एक ही. बस, महीने में फर्क था. मेरी शादी जनवरी में हुई तो कविता की फरवरी में.

शादी के बाद महल्ले वालों को भी यह बता पाना मुश्किल था कि कौन बहू ज्यादा सुंदर है. आज हम लोगों की शादी हुए 15 साल हो गए हैं. हम दोनों के ही 3-3 बच्चे हैं पर इस समय के अंतराल ने जहां मुझ में काफी परिवर्तन ला दिया है वहीं कविता के यौवन और सौंदर्य को मानों समय से कोई मतलब ही न हो. कैसे संभाल रखा है उन्होंने अपनी इस खूबसूरती को, कुछ समझ में नहींआता है. और उन के पति योगेश आज भी उन के उतने ही दीवाने हैं जितने 15 साल पहले थे. उन का अपना खुद का अच्छाखासा बिजनैस है पर औफिस जाने तक वे अपना पूरा समय कविता के साथ ही व्यतीत करते. औफिस से भी 2 बार फोन अवश्य करते. जब तक उन का फोन नहीं आता कविता लंच नहीं लेती और फिर औफिस से आने के बाद तो दोनों की जोड़ी हर समय साथ ही दिखाई देती.

यदि कहीं किसी जगह केवल महिला कार्यक्रम का आयोजन होता तो आयोजन समाप्त होने से पूर्व ही योगेश वहां उन्हें लेने के लिए मौजूद होते. इस बात का उन का काफी मजाक भी बनता, जिसे सुन कर कविता के गाल लाज से लाल हो उठते.

इधर मेरे पति का यह हाल था कि एक तो वे डाक्टर और वे भी दिल के. व्यस्तता का कोई अंत नहीं. रात में भी मरीज उन की जान नहीं छोड़ते. अकसर कोई न कोई इमरजैंसी केस आता रहता. इसलिए पार्टियों में भी अकसर मुझे अकेले ही जाना पड़ता. हालांकि योगेश और कविता मेरे साथ होते पर उस प्रेमी युगल की गुटरगूं मुझे मन से एकदम अकेला कर देती.

मुझे इस सब का कारण उन की बेइंतहा खूबसूरती ही लगती. पर उन की खूबसूरती का राज क्या है, यह जानने की उत्सुकता मुझे ही नहीं पूरे महल्ले की महिलाओं को रहती थी. तभी तो एक दिन महिला कार्यक्रम में एक महिला ने उन से यह पूछ ही लिया, ‘‘कविताजी आखिर आप की इस खूबसूरती का राज क्या है और आप इस के लिए क्या करती हैं, यह आज आप को बताना ही पड़ेगा.’’

कविता शरमाते हुए बोली, ‘‘कुछ भी नहीं, हां, कभीकभार अगर थोड़ी सी मोटी हो जाती हूं तो मुझे तो पता ही नहीं चलता पर ये तुरंत कहते हैं कि आजकल तुम्हारा वजन कुछ ज्यादा हो रहा है. तब मैं 2-4 दिन इन के साथ वाक पर जाती हूं और सब ठीक हो जाता है. मैं कभीकभी इन से पूछती भी हूं कि आप को कैसे पता चल जाता है तो ये कहते हैं कि जानेमन तुम्हारी छवि मेरी

आंखों और दिल में इस कदर बसी हुई है कि उस में जरा सा भी परिवर्तन मुझे तुरंत समझ में आ जाता है.’’

अब मेरी समझ में आ गया कि कविता की खूबसूरती का राज क्या है. वे पति वल्लभा हैं. मेरी मां कहा करती थीं कि जिस स्त्री का पति उसे अधिक प्यार करता है उस के चेहरे पर एक अजीब सा सौंदर्य रहता है और कविता शायद उसी सौंदर्य की स्वामिनी हैं. मैं ने घर जा कर अपने स्थूल होते शरीर को देखा और अपनी उपेक्षा का अनुभव किया.

रात को मैं ने अपने पति का ध्यान आकर्षित करने के लिए पूछा, ‘‘सुनिए, मैं मोटी हो गई हूं न?’’

उन्होंने मेरी ओर देख कर कहा, ‘‘नहीं तो.’’

मैं उन के इस उत्तर पर गुस्से से बिफर उठी, ‘‘क्या खाक नहीं… पता है इन 15 सालों में मेरा वजन लगभग 5 किलोग्राम बढ़ गया है पर आप को क्या? आप को मेरी कोई परवाह क्यों होने लगी. आप के घर का काम सुचारु रूप से जो चल रहा है. एक कविता हैं उन के पति को उन का इतना ध्यान रहता है कि 500 ग्राम वजन भी बढ़ता है तो वे बताते हैं और आप 5 किलोग्राम वजन बढ़ने पर भी कह रहे हैं नहीं तो.’’

मेरे पति बोले, ‘‘वजन बढ़ गया है, तो क्या हुआ. कोई बीमारी तो है नहीं. 15 वर्ष पूर्व तुम नववधू थीं अब गृहिणी और किशोर होते हुए बच्चों की मां हो. हर उम्र की एक गरिमा होती है. इस में परवाह न करने वाली बात कहां से आ गई. तुम तो मुझे हर समय हर अवस्था में अच्छी लगती हो.’’

मैं अपने पति की इस बात पर चुप तो हो गई पर मेरे मन में यह बात घर कर गई कि

कविता पति वल्लभा हैं और इस का उदाहरण मुझे समयसमय पर मिलता रहता. अगर मैं कभी बच्चों के स्कूल न जाने पर बच्चों की ऐप्लीकेशन देने सुबहसुबह उन के घर जाती तो वे मुझे एक खूबसूरत नाइटी पहने करीने से तैयार मिलतीं. जबकि सुबह की व्यस्तता के चलते मैं काफी अस्तव्यस्त रहती. जब मैं ने फिर उन से इस का कारण जानना चाहा तो उसी मोहक मुसकान से उत्तर मिला, ‘‘सुबह की चाय यही बनाते हैं. कहते हैं कि फ्रैश हो कर जल्दी तैयार हो कर आओ. तैयार हो कर इन के हाथ से चाय का कप लेती हूं. चाय पी कर बच्चों की तैयारी में लग जाती हूं.’’

सुबह चाय की उम्मीद करना तो इन से व्यर्थ था, पर एक दिन मैं थोड़ा जल्दी उठ कर पहले तैयार हुई और फिर चाय का कप ले कर इन के पास गई तो ये मुझे आंखें फाड़फाड़ कर देखने लगे, ‘‘सुबहसुबह तैयार क्यों हो गईं? कहीं जा रही हो या कोई आने वाला है?’’

मैं इन की इस टिप्पणी पर नाराज हो गई और बोली, ‘‘क्यों क्या तैयार हो कर कोई गुनाह किया है?’’ यह कहने के साथ ही मेरी आंखों से आंसू गिरने लगे.

यह देख कर मेरे पति बोले, ‘‘भई, ऐसा भी मैं ने क्या कह दिया जो तुम रोने लगीं?’’

मैं अपने रोने का कारण जब तक इन्हें समझाती उस के पहले ही अस्पताल से इमरजैंसी काल आ गई और ये अस्पताल जाने के लिए जल्दीजल्दी तैयार होने लगे. एक बार कविता बीमार पड़ीं तो मैं उन्हें देखने गई. आप विश्वास कीजिए ऐसा लग रहा था कि पिक्चर की शूटिंग होने वाली हो. बढि़या बिस्तर पर करीने से कपड़े पहने व होंठों पर हलकी सी लिपस्टिक लगाए वे लेटी थीं. चेहरे पर बुखार की तपिश जरूर लग रही थी, पर वह भी उन की सुंदरता को द्विगुणित कर रही थी.

मुझे से नहीं रहा गया तो मैं ने पूछ ही लिया, ‘‘आप बीमारी में भी तैयार रहती हैं?’’

इस का उत्तर मुझे उन से उन के चिरपरिचित अंदाज में ही मिला, ‘‘ये कहते हैं तुम्हारा उतरा चेहरा मुझे अच्छा नहीं लगता है. इसीलिए मुझे तैयार रहना पड़ता है.’’

कविता के बाद मैं बीमार पड़ी तो मैं ने भी सोचा कि कविता की तरह सजसंवर कर रहूं पर वायरल की कमजोरी की वजह से मुझ से तो उठा भी नहीं गया. मैं इन से बोली, ‘‘चेहरा बहुत खराब लग रहा है.’’

ये बोले, ‘‘नहीं तो.’’

मैं झुंझलाई, ‘‘नहीं तो क्या? मैं शीशे में अपना चेहरा भी नहीं देख पा रही हूं और आप बड़ी आसानी से कह रहे हैं नहीं तो.’’

ये बोले, ‘‘तो क्या कहूं? अरे, बीमार हो तो बीमार लग रही हो. ठीक हो जाओगी तो फिर पहले की तरह हो जाओगी. इस में इतना परेशान होने की क्या बात है?’’

मैं सारी शौपिंग भी अकेले करती पर अकेले साड़ी खरीदना बहुत खल जाता. लगता कोई तो बताने वाला हो कि मुझ पर क्या अच्छा लग रहा है क्या बुरा. पर इन के पास समय कहां? एक दिन मैं ने कविता से अपनी परेशानी बताई तो वे बोलीं, ‘‘कल हम दोनों जा रहे हैं. आप भी हमारे साथ चलिएगा.’’

मैं उन लोगों के साथ चली तो गई पर मन ही मन कुढ़ती रही. कविता कोई साड़ी पसंद कर अपने ऊपर रख कर योगेश को दिखातीं तो वे उस के बारे में अपनी राय बताते हुए कहते, ‘‘नहीं जानू, यह तुम पर ज्यादा अच्छी नहीं लग रही है… हां यह बहुत अच्छी लग रही है आदि.’’

योगेश को ब्राइट कलर बहुत अच्छे लगते थे. उन्होंने अपनी पत्नी को 10-12 साडि़यां ब्राइट कलर की दिलवाईं. मैं इतने ब्राइट कलर नहीं पहनती पर उन दोनों ने जिद कर के मुझे भी 2-3 साडि़यां ब्राइट कलर की दिलवा दीं.

मैं ने कहा भी, ‘‘मैं ब्राइट कलर नहीं पहनती हूं.’’ mपर वे लोग बोले, ‘‘क्यों नहीं पहनतीं. अभी आप की उम्र ही क्या है? और फिर ब्राइट कलर पहनने से इंसान की उम्र भी कम दिखती है.’’

मैं उन के कहने पर उन साडि़यों को घर ले आई पर जब उन्हें अपने पति को दिखाया तो वे बोले, ‘‘किसी को देने के लिए लाई हो क्या?’’

मैं ने कहा, ‘‘मतलब?’’

वे बोले, ‘‘तुम इतने ब्राइट कलर नहीं पहनती हो, इसलिए.’’

‘‘पहले नहीं पहनती थी तो क्या अब नहीं पहन सकती? कविता पहनती हैं कि नहीं. हम दोनों हमउम्र ही तो हैं.’’

मेरी इस बात पर वे हंस पड़े, ‘‘ठीक है, यह बात है तो पहनो भाई मैं कहां मना कर रहा हूं.’’

लेकिन मैं उन साडि़यों को नहीं पहन पाई. जब भी पहनने का मूड बनाती तो लगता मेरे ऊपर अच्छी नहीं लगेंगी. हमउम्र होने से क्या हुआ. कविता की बात और है. 3-4 महीने पहले वे सीढि़यों से गिर पड़ीं. हाई हील सैंडल पहने थीं. बैलेंस बिगड़ गया. कूल्हे और दाएं पैर में फै्रक्चर हो गया. बिस्तर से हिलनाडुलना मना हो गया. योगेश बड़े मनोयोग से पत्नी की सेवा करते. हम लोग भी जबतब उन का हालचाल लेने जाते रहते.

कुछ समय बाद उन की हड्डी तो जुड़ गई पर शायद लेटे रहने अथवा अच्छी सेवा के कारण वे थोड़ी स्थूल हो गईं. मैं जब उन का हालचाल लेने जाती तो वे अपनी स्थूलता के कारण चिंतित दिखाई देतीं.

मैं उन्हें समझाती, ‘‘आप इतनी मोटी नहीं हो गई हैं. और फिर जब आप सामान्य जीवन जीने लगेंगी तो फिर से छरहरी काया की स्वामिनी हो जाएंगी.’’

मेरी बात पर वे फीकी हंसी हंस देतीं. समय बीतता गया. उन का जीवन सामान्य हो चला था पर स्थूलता में खास परिवर्तन नहीं आया था.

एक दिन दोपहर में मैं उन के घर गई. काफी गपशप होती रही. उन की सास भी आ कर बैठ गईं. नौकर चायनाश्ता ले आया. नाश्ते में गुलाबजामुन भी थे घर के बने हुए. कविता की प्रिय डिश जिसे बनाना और खाना दोनों ही उन्हें अत्यधिक प्रिय था.

नौकर जब उन को गुलाबजामुन देने लगा तो उन्होंने मना कर दिया. बोलीं, ‘‘थोड़ी चीनी और चिकनाई कम कर दी है. दिन पर दिन मोटी जो होती जा रही हूं.’’

मैं ने कहा, ‘‘ऐसा भी क्या? यह तो आप की प्रिय डिश है लीजिए न.’’

मेरे और उन की सास के आग्रह करने पर उन्होंने गुलाबजामुन ले लिए. अभी उन्होंने खाना शुरू ही किया था कि योगेश बाहर से आ गए. कविता को गुलाबजामुन खाते देख कर तमतमा गए, ‘‘तुम गुलाबजामुन खा रही हो, कितनी बार कहा कि जबान पर कंट्रोल रखा करो. और मां तुम से भी मैं ने कह रखा है कि देखा करो कहीं ये मीठी और चिकनी चीजें तो नहीं खा रहीं.’’

मैं थोड़ा किनारे बैठी थी, इसलिए उन की नजर अभी तक मुझ पर नहीं पड़ी थी. अचानक जब उन की नजर मुझ पर पड़ी तो वे संभल गए. अपने स्वर को मृदु बना कर

बोले, ‘‘जानू, तुम्हारी भलाई के लिए कह रहा हूं डाक्टर ने मना किया है न.’’ और फिर वे भीतर चले गए.

मैं पूरी घटना से एकदम अचकचा गई थी. योगेशजी का इतना गुस्सा मेरे लिए अप्रत्याशित था. मैं ने कविता से पूछा, ‘‘क्या हुआ है आप को? डायबिटीज वगैरह हो गई है क्या?’’

कविता जो अपने पति के व्यवहार पर एकदम क्रोधित थीं. बोलीं, ‘‘डायबिटीज नहीं, मोटापा हुआ है मोटापा. अब क्या करूं अगर मोटी हो गई हूं? डाक्टर कहते हैं 35 साल के बाद औरतें थोड़ी मोटी हो जाती हैं और फिर दवा का भी थोड़ा साइड इफैक्ट है. हां, थोड़ाबहुत मीठे और चिकनाई का त्याग करने से नियंत्रण हो सकता है, इसी कारण मुझे मीठी और चिकनी चीजें छूने के लिए भी नहीं मिलती हैं. केवल उबला खाना, भला यह भी कोई जिंदगी है.’’ और कविता की आंखों से टपटप आंसू गिरने लगे.

मैं उस पति वल्लभा का चेहरा मायूस होते देखती रही.