गृहशोभा विशेष

‘‘मांये देखो गोवा के टिकट, अगले हफ्ते हम सब गोवा जा रहे हैं,’’ सूरज मेरे कमरे में आते ही खुशी से बोला. उस के पीछेपीछे मेरी बहू रीता और पोता मयंक भी मेरे कमरे में आ गए.

‘‘दादी पता है वह बहुत बड़ा समंदर है. हमारी टीचर ने बताया था… कितना मजा आएगा न?’’ कहते हुए मयंक ने मुझे खुशी से गले लगा लिया. मेरी बहू ने हंसते हुए कहा, ‘‘मां, इस बार मैं आप की एक नहीं सुनूंगी. आप को भी गोवा में जींस पहननी होगी.’’

‘‘चल पगली, मैं और जींस… दुनिया देखेगी तो हंसेगी मुझ पर,’’ मैं ने झूठा गुस्सा दिखाते हुए कहा.

‘‘मां इस बार आप को रीता की बात माननी ही होगी,’’ सूरज ने मेरी गोद में सिर रख कर कहा.

‘‘अच्छाअच्छा सोचूंगी, अभी चलो सब सो जाओ बहुत रात हो गई है.’’ सब के अपने कमरों में जाने के बाद मैं खुशी के मारे सो ही नहीं पाई. मैं ने कभी समंदर नहीं देखा था. अगले हफ्ते समंदर के किनारे बैठी होऊंगी, सोचसोच कर मन नाच रहा था. फिर यह भी सोचा कि कल सत्संग में जा कर सब को बताऊंगी कि मैं गोवा जा रही हूं. सुबह रीता मयंक के स्कूल जाने के बाद मुझे सत्संग के लिए छोड़ कर औफिस चली गई. मुझे अपनी सहेलियों को गोवा जाने की बात बताने की बहुत जल्दी थी. सत्संग का तो बहाना होता है. यहां आने वाली सब औरतें आमतौर पर घर की बातचीत कर के ही वक्त बिताती हैं. मयंक ने जब से स्कूल जाना शुरू किया है मैं भी वक्त गुजारने के लिए कभीकभी यहां आ जाती हूं. सत्संग शुरू हो चुका था. मैं ने धीरे से अपने पास बैठी शीला से कहा, ‘‘सुन, अगले हफ्ते सत्संग में नहीं आ पाऊंगी. मैं अपने बेटेबहू के साथ गोवा जा रही हूं.’’

‘‘क्या गोवा? पिछले साल तू शिमला गई थी इस बार गोवा, तेरे तो मजे हैं,’’ शीला ने कहा.

‘‘गोवा… अरे वाह, सूरज की मां सुना है कि समंदर के किनारे शाम का मजा ही कुछ और होता है. मेरे भाई के बेटाबहू गए थे, उन्होंने बताया,’’ आगे बैठी नीरजा ने अपनी गरदन पीछे घुमा ली. धीरेधीरे सत्संग छोड़ कर मेरे आसपास की औरतों ने एक छोटा सा घेरा बना लिया. मैं गर्व से फूली नहीं समा रही थी.

‘‘तू इतना लंबा सफर कर पाएगी? गोवा बहुत दूर है, पूरे एक दिन का सफर है,’’ इस बार शीला के साथ बैठी राजरानी ने कहा.

‘‘तू बुरा न मानना, मैं ने तेरे से ज्यादा दुनिया देखी है. तेरे बेटाबहू बहुत सयाने हैं,’’ साथ बैठी दीदी ने कहा. वे मेरी जानपहचान की औरतों में सब से बड़ी थीं, इसलिए सब उन्हें दीदी ही कहते थे. कोई उन का नाम जानता ही नहीं था. मैं ने उन से कहा, ‘‘क्यों क्या हुआ दीदी, आप ऐसा क्यों कह रही हो?’’

‘‘तू तो बस बच्चों की तरह घूमनाफिरना सुन कर खुश हुए जा रही है. जरा सोच तेरी उम्र में तुझे तीर्थ करवाने की जगह शिमला, गोवा क्यों घुमा रहे हैं तेरे बेटाबहू? कुछ नहीं, बस उन को एक आया चाहिए अपना बच्चा संभालने के लिए.’’

‘‘क्या बात कर रही हो दीदी, मेरा बेटा मेरी बहुत इज्जत करता है. मुझे आया क्यों समझेगा?’’ मैं ने थोड़ी नाराजगी दिखाते हुए कहा. ‘‘अरे बेटा तो तेरा है पर अब बहू के चक्कर में उस को भी कहां कुछ समझ आ रहा है. दरअसल, बच्चा संभालने के लिए आया पर होने वाला खर्च बचा रहे हैं दोनों.’’ इतने में सत्संग खत्म हो गया और कीर्तन शुरू हो गया. दीदी उठ कर आगे चली गईं. उन के जाने के बाद नीरजा बोली, ‘‘वैसे दीदी गलत नहीं कह रही थीं. तू ने ही बताया था न कि शिमला में सूरज और रीता देर रात तक माल रोड पर घूमते थे और तू और मयंक उन के आने से पहले ही सो जाते थे. तू ही बता, अगर तू नहीं जाएगी तो मयंक को वहां कौन संभालेगा?’’

मेरे कुछ कहने से पहले ही शीला ने अपनी बात कह डाली, ‘‘देख, दीदी की बात कड़वी है पर सच है. तू इतने सालों से घर संभाल रही है. पहले सूरज को पाला और अब मयंक की सारी जिम्मेदारी तेरे सिर डाल कर तेरी बहू काम पर चली जाती है. अरे इस उम्र में बच्चे संभालना आसान नहीं. अब मुझे देख, मैं ने तो साफ कह दिया अपनी बहू से कि अपने बच्चों को खुद संभालो. मुझे तो अब अपने तरीके से जीने दो. भाई, तुझे उन की कोई जरूरत नहीं पर उन को तेरी जरूरत है. उन के औफिस जाने के बाद तू पूरे घर और बच्चे की रखवाली जो करती है, क्यों नीरजा बहन…?’’

‘‘और नहीं तो क्या. खुद को देख जरा, सत्संग खत्म होने से पहले ही घर भागना होता है तुझे, मयंक स्कूल से जो आ जाता है. तेरी बहू सुबह की निकली रात को घर आती है,’’ नीरजा बोली, ‘‘अब और क्या कहूं तू ही बता, सारा घर तो तेरी बहू ने अपने हाथ में ले रखा है. मैं ने तो अपने बेटे से कह दिया था तू जाने तेरी बीवी जाने. मुझे हर महीने खर्चा दे बस. पर तू तो सत्संग के दान के पैसे भी बहू से ले कर आती है.’’ मैं उन सब के बीच चुपचाप उन की बातें सुन रही थी. मेरी ही गलती थी कि मैं ने अपने बेटेबहू की तारीफ करतेकरते अपने घर की सारी बातें इन को बता रखी थीं. पर सब बातों का यह अर्थ भी निकल सकता था, कभी सोचा नहीं था. अब भी वक्त है अपने बारे में सोच जरा. तभी सत्संग खत्म होते ही जयजयकार से हौल गूंज उठा और मैं बातोंबातों में भूल गई कि मयंक घर आ गया होगा. जल्दी से घर के लिए औटो किया पर सारे रास्ते दिमाग में नीरजा और शीला की बातें ही घूमती रहीं. घर पहुंची तो मयंक बाहर ही बैठा था.

‘‘क्या हुआ दादी, कहां रह गई थीं आप?’’ उस ने पूछा पर मैं ने कुछ नहीं कहा, बस घर का ताला खोल दिया.

शाम को रीता ने आते ही मुझ से पूछा, ‘‘क्या हुआ मां, आज आप सत्संग से देर में आईं? सब ठीक है न, औटो नहीं मिला था क्या?’’ रीता का इस तरह के सवाल करना मुझे अच्छा नहीं लगा. मन में आया कि कह दूं कि मैं नौकरानी हूं क्या, जो अपने 1-1 पल का हिसाब दूं? पर मैं चुप रही.

रीता फिर बोली, ‘‘क्या बात है मां, आप की तबीयत ठीक नहीं क्या या कोई और बात है?’’

‘‘नहीं, बस थोड़ा सिरदर्द है,’’ इस से ज्यादा मेरा कुछ कहने का मन ही नहीं हुआ. रात को सूरज भी कमरे में आया पर मैं जानबूझ कर आंखें बंद किए रही ताकि उसे लगे कि मैं सो रही हूं. सारी रात अजीब कशमकश. मेरी सहेलियां जो कह रही थीं वह मुझे सच सा लग रहा था. सही तो कह रही थीं. अगर मैं मयंक का ध्यान न रखूं तो क्या रीता काम पर जा पाएगी? घर की ओर से बेफिक्री सिर्फ मेरी वजह से ही तो है. सच में रीता ने मुझे घर का चौकीदार बना दिया है. कल मैं कह दूंगी सूरज से कि अपने बेटे की जिम्मेदारी खुद उठाओ. अब मुझे मेरे हिसाब से जीने दो. सच ही तो है, कहीं भी जाना हो रीता के हिसाब से जाना होता है. सूरज की और अपनी कमाई का हिसाब रीता ही रखती है. सूरज उसी से पैसे लेता है. मुझे भी सत्संग आनेजाने या दान के पैसे उस से ही मांगने पड़ते हैं. कल तक मेरी सास ने घर अपने हाथ में लिया हुआ था आज रीता ने… मैं तो कल भी नौकरानी थी और आज भी. मेरी आंखों से आंसू भी बहने लगे. यही सोचसोच कर मैं रात में न जाने कब सो गई पता ही नहीं चला. सुबह रसोई में खटरपटर की आवाज से नींद खुल गई. घड़ी पर नजर गई तो 8 बज चुके थे. हाय इतनी देर तक सोती रही. फिर पलंग से उठी तो ऐसा लगा जैसे सिर पर किसी ने सौ किलोग्राम का भार रख दिया हो. कल रात भर सोचती रही शायद इसीलिए झूठ का सिरदर्द सच हो गया. मयंक तो स्कूल चला गया होगा, सोचती मैं जल्दीजल्दी बाहर आई तो देखा रीता रसोई में थी. मुझे देख कर बोली, ‘‘मां आप जाग गईं, आप की तबीयत कैसी है? आप बैठिए, मैं आप के लिए अदरक वाली चाय बना कर लाती हूं,’’ कह कर रीता चाय बनाने लगी.

तभी सूरज भी आ गया और बोला, ‘‘मां आप का सिरदर्द कैसा है?’’ मैं ने कुछ न कहा तो वह फिर बोला, ‘‘मां लगता है तबीयत ज्यादा खराब है. रीता, आज मां को डाक्टर को दिखा आना.’’

‘‘आप फिक्र मत करो मैं दिखा आऊंगी,’’ रीता ने मुझे चाय पकड़ाते हुए कहा.

‘‘क्यों तुम्हें आज औफिस नहीं जाना?’’ मैं ने रीता से पूछा.

‘‘नहीं मां, आप की तबीयत ठीक नहीं, इसलिए मैं ने आज छुट्टी ले ली,’’ रीता कहती हुई रसोई में चली गई. ‘हां अगर मैं बीमार हो गई तो घर की रखवाली कौन करेगा?’ मैं ने मन ही मन सोचा. थोड़ी देर बाद हम डाक्टर के पास थे. रीता परची कटवाने के लिए लाइन में लगी थी और मैं एक ओर रखी बैंच पर बैठ गई. तभी एक जानापहचाना चेहरा सामने वाली बैंच पर बैठा नजर आया. क्या यह शिखा है? नहींनहीं श्खि तो लखनऊ में रहती है. लग तो यह शिखा ही रही है, यह सोच कर मैं अपनी जगह से उठ कर उस के पास चली गई. और उस से बोली, ‘‘शिखा… तुम शिखा ही हो न? पहचाना मुझे, मैं शारदा…’’

‘‘अरे शारदा तू,’’ कहते ही वह मेरे गले से लग गई. कितने सालों बाद देखा तुझे. कैसी है तू और तेरा छोटू सूरज कैसा है?’’ शिखा खुशी से मानो उछल ही पड़ी.

‘‘सूरज ठीक है, अब तो उस का छोटू भी हो गया. मयंक नाम रखा है उस का.’’

‘‘अरे वाह, बड़ा प्यारा नाम है,’’ वह बोली.

‘‘हां वह तो है, मैं ने जो रखा है उस का नाम. तू सुना, तू यहां कैसे?’’ मैं ने उस ने पूछा.

‘‘मैं पिछले 2 सालों से यहां हूं और एक वृद्ध आश्रम चला रही हूं. चला क्या रही हूं समझो अपना टाइम पास कर रही हूं.’’

‘‘मतलब…?’’ मैं ने उत्सुकता से पूछा.

‘‘तू तो जानती है मैं ने शादी नहीं की. सारी उम्र तो अच्छे से गुजर गई, खूब कमाया पर अब समझ में आया कि जो कमाया वह साथ तो ले कर जाना नहीं, तो थोड़ी सेवा ही की जाए. बस कुछ सालों से समाजसेवा कर रही हूं और पिछले 2 सालों से तेरी उम्र के लोगों की देखभाल कर रही हूं, जिन के बच्चे उन्हें अपने साथ नहीं रखते. कुछ तो ऐसे हैं जो अपने बच्चों के साथ नहीं रहना चाहते. बस उन्हीं में से कुछ को यहां ले कर आई थी,’’ बता कर उस ने साथ बैठे कुछ लोगों की ओर इशारा किया. बैंच पर बैठे उन लोगों की ओर देख कर मेरा मन बैठ सा गया. जरा देखो तो कैसे बच्चे हैं, अपने मांबाप को नहीं रख सकते. भला हो शिखा का जो इन की देखरेख कर रही है.

‘‘अरे तू तो बहुत नेकी का काम कर रही है,’’ मैं ने खुशी से कहा.

‘‘बिलकुल. मेरे पास पैसा था. मेरे रिश्तेदारों ने मुझे बहुत बहलाने की कोशिश की पर मैं ने बस अपने मन की सुनी और इस काम में लग गई. तू भी कभीकभी आया कर. उन लोगों से बात कर. इस से उन को भी अच्छा लगेगा और तुझे भी.’’

‘‘मां परची कटवा ली. चलो नंबर आने ही वाला है,’’ रीता ने तभी आ कर कहा.

‘‘शिखा, ये मेरी बहू है रीता… रीता, ये मेरी बचपन की सहेली है, शिखा.’’ रीता ने पैर छू कर शिखा को प्रणाम किया, तो शिखा बोली, ‘‘अरे शारदा, तेरी बहू तो बहुत सुंदर है और संस्कारी भी वरना आजकल बच्चों के पास कहां टाइम है जो अपनी सास को ले कर अस्पताल तक आएं. चल अब तू जा. पर हां, ये मेरा नंबर ले ले. फोन करती रहना.’’ डाक्टर को दिखा कर हम घर आ गए. रीता ने कहा कि मां तुम थोड़ा आराम कर लो, तो मैं अपने कमरे में चली गई. आज शिखा से मिल कर मन बहुत खुश हुआ. कितना पुराना रिश्ता था. मेरी शादी में सब से आगे थी वह और जब सूरज के पापा मुझे छोड़ कर गए तो भी मेरे आंसू पोंछने में वह सब से आगे थी. पर फिर एक दिन नौकरी के लिए लखनऊ चली गई और मैं अपनी ससुराल में उलझ कर रह गई. अचानक मन बहुत सालों पीछे चला गया. सूरज सिर्फ 5 साल का था जब सूरज के पापा मुझे छोड़ कर इस दुनिया से चले गए थे. सूरज के दादादादी ने उपकार किया, जो अपने घर में जगह दी. पिताजी ने मुझे अपनी बेटी माना पर माताजी ने हमेशा मुझे पराई ही समझा. हर पल एहसास दिलाया कि मुझे उस घर में सिर्फ सूरज के कारण रहने दिया जा रहा है. बातबात पर माताजी, ‘यह मेरा घर है मेरे हिसाब से चल’ जैसे वाक्यों का प्रयोग कर के मेरे आत्मविश्वास को हिलाती आई थीं. सूरज भी उन की परवरिश में पलाबढ़ा. उस ने भी कभी किसी चीज में मेरी राय तो दूर उसे मुझे बताना भी जरूरी नहीं समझा. सासससुर मरने से पहले अपना सब कुछ सूरज के नाम कर गए. उस के बाद तो सूरज की जो मरजी हुई वह उस ने किया. जब उस ने रीता से शादी का फैसला किया तब भी मेरी नाराजगी को नजरअंदाज किया. पर रीता ने पहले दिन से मुझे सम्मान दिया. घर की छोटीछोटी बातों में मेरी राय ली और सूरज को भी मेरे करीब लाई. पहली बार मैं मौल भी तो उसी के साथ ही गई थी. फिल्म देखने का मुझे बहुत शौक था. जब उसे इस बात का पता चला तो महीने में 2-3 फिल्में दिखाने ले जाती. रीता एक तरह से मेरी बेटी जैसी बन गई. इतने सालों से सब कुछ बहुत अच्छा चल रहा था पर अचानक कल सत्संग में नीरजा और शीला की बातों से मैं क्याक्या सोचने लगी. कैसी पागल हूं मैं… मेरी नजरों के सामने शिखा के साथ आए वे लोग घूमने लगे जिन के बच्चों ने उन्हें आश्रम में रहने के लिए मजबूर किया था. मेरा मन कांप गया कि मैं मूर्ख बन कर रिश्तों की डोर को किसी की बातों में आ कर खींच रही थी. अच्छा हुआ कि समय रहते अक्ल आ गई.

मैं झट से उठी और रसोई में जा कर रीता से बोली, ‘‘रीता, अब मेरी तबीयत ठीक है. तू ने छुट्टी ली है तो चल शाम को बाजार से गोवा जाने के लिए थोड़ी खरीदारी ही कर आते हैं.’’ मेरी बात सुन कर रीता ने छोटे बच्चे की तरह मुझे गले लगा लिया.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं