गृहशोभा विशेष

आप सोच रहे होंगे कि हम ने ‘सी’  की जगह गलती से ‘बी’ लिख दिया है. नहीं, यहां गलती नहीं की है. वैसे हम उन की नजर में गलतियों की गठरी हैं. भले ही खुद को गलतीलैस समझते हों? वे ट्रेन व हम पटरी हैं. सीबीआई की इस समय धूम मची हुई है. एफआईआर, छापे व जांच की बूम है. मुगालते में न रहें. जो सीबीआई के फंदे में फंसा सब से पहले तो वह धंधे से गया. फिर उस के सारे दोस्तरिश्तेदार उसे पहचानने की बात पर अंधे हो गए. सीबीआई के गहन अन्वेषण व बयान लेने में अच्छेअच्छे सयाने चारों खाने चित हो जाते हैं. सीबीआई तो जिस ने गलत काम किया हो उसे पकड़ती है या फिर जिस से काम करतेकरते गलती हो गई हो. लेकिन उसे पता न हो कि उस ने गलती की है या जो अपनी डफली अपना राग अलापता हो कि उस ने गलती की ही नहीं है. गलती तो उस की जांच करने वाले कर रहे हैं. इसीलिए आजकल बहुत से सयाने लोगों ने काम करना ही बंद कर दिया है और बाकायदा उदाहरण से अपनी बात को जस्टीफाई करने की कोशिश कर रहे हैं कि न सड़क पर गाड़ी चलाओ और न ही ऐक्सीडैंट का भय पालो. अब यह

कोई बात हुई कि काम ही न करो? बस घर बैठे वेतन लो. औफिस में कूलर, पंखे की हवा में गप्पें मारते रहो. एक और अन्वेषण ब्यूरो इस देश में है, जो सीबीआई से भी ज्यादा खतरनाक है. इस की तो अपनी तानाशाही चलती है. सीबीआई को सरकार केस सौंपती है. लेकिन यह सरकार अपने केस का स्वयं संज्ञान लेती है. पुलिस भी स्वयं है और न्यायाधीश भी, अदालत भी स्वयं और दंड के प्रावधान भी इसी के हैं और यह है बीबीआई. बहुत से लोगों ने इस का नाम नहीं सुना होगा. लानत है ऐसे लोगों पर कि इतनी पुरानी व विश्वसनीय संस्था के बारे में नहीं सुना. दरअसल, यह एक सदस्यीय आयोग है. इस का कार्यालय जहां आप रहते हैं वहीं है. इस का कार्यकाल उतना ही है जितना आप की जिंदगी का कार्यकाल. यह आयोग बड़ा जैंडर सैंसिटिव है. अब आप की यहां दाल नहीं गलती तो इसे जैंडर डिसिक्रिमिनेटरी कहने की ग…ग…गलती न करें.

बीबीआई आप पर पैनी नजर रखती है. इस के टूल हथौड़ी व छैनी से भी ज्यादा तेज मार करते हैं. आप कार्यालय के लिए घर से कब निकलते हैं, वहां कब पहुंचते हैं, लौटते कब हैं, लंच के लिए घर कब आते हैं या किसी दिन नहीं आए तो कारण, सैलरी कितनी है, कब जमा हो गई है, आप की जेब में कितने पैसे हैं, आप ने कब कितने खर्च किए हैं, आप की महिला दोस्त कितनी हैं मतलब महिला सहकर्मी कितनी हैं, आप आज नहाते समय गाना ज्यादा देर तक क्यों गुनगुना रहे थे, दोस्तों के साथ जाम कब टकराते हैं, खुद पर कितने और कब खर्च कर लेते हैं? जैसी चीजों पर पैनी नजर रहती है. यह एजेंसी उड़ती चिडि़या के पर पहचान लेती है. इतनी तीखी नजर तो ‘सीआईए’ भी नहीं रखती होगी. आप के 1-1 पल का, कल, आज और आने वाले कल का भी हिसाब इस एजेंसी के पास है. हां, हम फिर से कह रहे हैं कि यह उच्च स्तरीय स्पैशलाइजेशन वाली एजेंसी है. जैसे ही किसी की शादी होती है वह इस एजेंसी के राडार में आ जाता है. यह एजेंसी जैसा चाहती है आदमी वैसा करता है. यदि यह बोले कि आज नाश्ता नहीं करना है तो वह नहीं करेगा या वह बोले कि आज उपवास करना है तो वह उपवास पर रहेगा. चाहे उस की इच्छा हो या न हो.

यह एजेंसी तय करेगी कि आप की मां व आप के पिता कब आप के पास आएंगे और कब नहीं? आने के बाद टर्म ऐंड कंडीशंस उन के स्टे की क्या होंगी या आप के सासससुर के आने पर लिबरल टर्म्स क्या रहेंगी? बल्कि कहें कि उन का स्टे टर्मलैस रहेगा. यह सब यह एजेंसी ही तय करती है. यह सर्वव्यापी है. यह वेदकाल की आकाशवाणी सदृश है, जो इस ने कह दिया अंतिम है. यह एजेंसी सारे साधनों से संपन्न है. इस के अपने आदमी व अपने तरीके हैं. इस के अपने टूल किट में बेलन, धांसू तरीके से बहाने वाले आंसू, मायका, बिना जायके का भोजन, लताड़, खिंचाई, मुंह फुलाई, कोपभवन आदि रहते हैं, जिन्हें वह वक्त की नजाकत देख कर उपयोग करती है. ये इंद्र के वज्र व कृष्ण के सुदर्शन चक्र से भी ज्यादा प्रभावशाली होते हैं और आप के जीवनचक्र को पूरी तरह नियंत्रित करते हैं. यह आप की जिंदगीरूपी कार का स्टेयरिंग व्हील है. इन सब से यह आप की निगरानी करती है. आप के 1-1 पल की खबर रखती है. एक उदाहरण लें. आप औफिस जा रहे हैं. आप ने अपने हिसाब से कपड़े पहन लिए हैं. यहीं आप ने गलती कर दी. जिस दिन से 7 फेरे लिए हैं आप को अपने हिसाब से नहीं इस एजेंसी के हिसाब से चलना है. इस एजेंसी का फरमान आ गया कि नहीं ये कपड़े पहन कर आप नहीं जाएंगे तो आप को तुरंत कपड़े चेंज करने पड़ेंगे. इस की चौइस पर चूंचपड़ की कतई गुंजाइश नहीं है. मानव अधिकारों मतलब पति के अधिकारों की बात नहीं करेंगे. यहां ये फालतू की चीजें नहीं होतीं.

आप अभी तक इस एजेंसी के बारे में नहीं जान पा रहे हैं. लानत है आप को, रोज इस एजेंसी की डांटरूपी लात खाने के बाद भी उस का दिया रूखा दालभात भी ऐसे खाते हो जैसेकि छप्पन भोग मिल गया हो. इतनी ताकतवर है यह एजेंसी. फिर भी समझने में देर लगा रहे हो. वह सही कहती है कि तुम मंद बुद्धि, नासमझ हो. जेल में तो फिर भी हाई प्रोफाइल कैदी मिला खाना ठुकरा सकता है, बेस्वाद होने के आधार पर, लेकिन यहां यह विकल्प नहीं है. यदि कभी ऐसी जुर्रत की तो फिर भूखे ही रहना पड़ता है. गंगू फेंक नहीं रहा है स्वयं भुक्तभोगी है. यह जमानती वारंट कभी जारी नहीं करती है. आप की सारी गलतियां या अपराध गैरजमानती ही होते हैं इस के यहां. यह एजेंसी घरघर में है. इस ने सारे घरों में कब्जा कर रखा है. देश की जनसंख्या 120 करोड़ है. इस में शादीशुदा लगभग 70 करोड़ होंगे यानी 70 करोड़ एजेंसियां हैं. आप की शादी हुई और यह एजेंसी हरकत में आना शुरू हो जाती है. आप पर सुहागरात के बाद से ही नजर रखनी शुरू कर देती है. सुहागरात के दिन भी नजर रखती है. लेकिन यह प्यार की नजर होती है. उस के बाद तो बेशक शक व वर्चस्व की नजर होती है.

आप भले ही बत्ती वाले साहब हों. लाल, पीली, नीली बत्ती में लोगों पर रुतबा झाड़ते हों, लेकिन इस की बिना रंग व शेप की अदृश्य लताड़रूपी बत्ती तो आप को जब चाहे छठी का दूध याद दिला देती है. दिन में ही आप की बत्ती गुल कर देती है. ‘जोरू का गुलाम’ जुमला ऐसे ही नहीं बना है. इस एजेंसी का नाम है बीबीआई यानी बीवी ब्यूरो औफ इन्वैस्टीगेशन. सीबीआई तो एक है, यह सब घरों में है. यह ज्यादा ऐक्टिव 25 से 50 साल की उम्र वाले पतियों के घर में रहती है. आप की जवानी जब उतार पर आ जाती है तो फिर यह एजेंसी थोड़ा सा लिबरल या कहें कि लापरवाह हो जाती है. लेकिन इस का वजूद फिर भी रहता है. यह 45 की उम्र से ही बातबात में कहना शुरू कर देती है कि लगता है आप सठिया गए हो, लगता है आप बुढ़ा गए हो और यह सब सुनतेसुनते वास्तव में आप गए यानी गौन केस हो जाते हैं. सीबीआई कुछ नहीं है इस के सामने जो सब की जांच करती है. उस के अधिकारी भी घर की एजेंसी के राडार पर रहते हैं. यहां भी जो कुंआरे हैं वे ही नियंत्रणमुक्त रहते होंगे.

यह एजेंसी यह नहीं देखती कि आप पीएम हैं, सीएम हैं, जीएम हैं या कोई भी एम, इस का जो अपना तरीका है जरूरत पड़ने पर उसे इस्तेमाल करती ही है और यह अधिकार उसे 7 फेरे लेते ही मिल जाता है और आजीवन रहता है. अब आप दांपत्य जीवन जैसे अनोखे जीवन को इतना सब पढ़ कर उम्रकैद मत कहने लगना. वह जो निगरानी करती है या लताड़ मारती है वह आप की भलाई के लिए है. आप को ऐब व बुराई से बचाने का उस का घरेलू ऐप है यह. तो गंगू कह रहा है उस के निगरानी राडार को अपने खुशहाल जीवन का आधार बना लें. हम यहां यह लेख लिखते हुए बड़े खुश हो रहे हैं और वहां रसोई से उसे आभास हो गया है कि घंटे भर से क्या बात है उस का पति के रूप में पट्टे पर मिला बंधुआ मजदूर बड़ा खामोश है? उस का यह मैन हीमैन बनने की कोशिश तो नहीं कर रहा है? उस के कदमों की आवाज धीरेधीरे बढ़ती जा रही है. अब क्या होगा? 

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं