नानी का प्रेत
कहानी : नानी का प्रेत

शंभु से शादी कर के सुषमा खूबसूरत नगरी कोपनहेगन तो पहुंच गई पर वहां पहुंच कर उसे लगा मानो वह ठगी गई हो. फिर नानी ने उसे ऐसा ट्रेंड किया कि वह नानी के प्रेत के बिना ही भरपूर जीवन जीने की राह पर चल पड़ी.

नई रोशनी की एक किरण
नई रोशनी की एक किरण

नईम की दुलहन बनने के बाद सबा की जिंदगी एक इम्तिहान की तरह चल रही थी. उस का व्यवहारकुशल व पढ़ालिखा होना उस के लिए एक गुनाह बन गया था.

एक कागज मैला सा
एक कागज मैला सा

अक्षय द्वारा लिखे मैले, मुड़ेतुड़े कागजों को पढ़ते समय वासंती नहीं जानती थीं कि कुछ ही पल बाद उन के जीवन में भूचाल आने वाला है. आखिर ऐसा क्या होने वाला था?

एक डाली के फूल
कहानी : एक डाली के फूल

हमशक्ल ज्योति और नलिनी को कालेज में सब जुड़वां बहनें समझते थे. स्वभाव में जहां नलिनी संकोची, जल के समान शांत व स्थिर थी वहीं ज्योति चंचल नदिया सी लहराती थी.

एहसास
एहसास

लाड़प्यार में पली सिर्फ अपने बारे में सोचने वाली सुधांशी सोचती थी कि घर का काम नौकरानी का होता है. उस के साथ ऐसा क्या हुआ जिस ने उसे यह एहसास दिलाया कि अपने साथसाथ घर को संवारने में ही नारी का पूर्ण सौंदर्य है?