गृहशोभा विशेष

मॉनसून ने दस्तक दे दी है. ऐसे मौसम में प्रकृति की छटा देखने का हर किसी का मन होता है. आपका भी मन होगा कि इस सुहाने मौसम में रिमझिम-रिमझिम करती बारिश की बूंदों का मजा किसी ऐसी जगह पर जाकर लें, जहां कुदरत की सबसे ज्यादा मिठास हो. हम आपको पांच ऐसे मानसून ट्रेवल डेस्टिनेशन बताने जा रहे हैं, जहां जाकर आपको प्रकृति की खूबसूरती में खो जायेंगे.

लद्दाख:

प्रकृति ने धरती पर लद्दाख को बेमिसाल खूबसूरती बख्शी है. यहां जाने वाला हर कोई यहां की सुंदर वादियों से यह वादा करके वापस जाता है कि वह दोबारा फिर लद्दाख व लेह आएगा. सिंधु नदी के किनारे बसे लद्दाख की सुंदर झीलें, आसमान को छूती पहाड़ की चोटियां व मनमोहक मठ हर किसी को सम्मोहित करते हैं. मॉनसून के मौसम में इन जगहों का आकर्षण और ज्यादा बढ़ जाता है. अगर आप लद्दाख जाने का प्लान बना रहे हैं तो आपके लिए जून से अक्टूबर का महीना बेस्ट रहेगा.

मेघालय:

यदि आपको बारिश की फुहारें पसंद हैं तो आपके लिए मेघालय से अच्छी कोई जगह हो ही नही सकती. लगभग पूरे साल वर्षा होने की वजह से इस जगह को ‘बादलों का निवास स्थान’ भी कहते हैं. पृथ्वी के जहां सबसे ज्यादा नमी है तो वह मेघालय का चेरापुंजी है. जिसके नाम को सुनकर ही कई सैलानी इस खूबसूरत प्रदेश की ओर रुख करते रहे हैं. यहां के पेड़-पौधों व पुराने ब्रिजों पर टपकती बारिश की बूंदें आपका मन मोह लेगी.

द वैली ऑफ फ्लावर नेशनल पार्क (उत्तराखंड):

मॉनसून के मौसम में द वैली ऑफ फ्लावर नेशनल पार्क का परिदृश्य आश्चर्यजनक तरीके से सजीव हो जाता है. ऐसे मौसम में जब आप पार्क के विभिन्न किस्मों के तीन सौ फूल देखेंगे तो आपकी आंखें खुली की खुली रह जाएंगी. यह दृश्य देखकर आपको लगेगा कि पार्क में कोई बड़ा चमकीला कारपेट बिछाया गया है. द वैली ऑफ फ्लावर नेशनल पार्क अप्रैल से अक्टूबर महीने तक खुला रहता है.

गोवा:

गोवा भारत का एक ऐसा टूरिस्ट स्पॉट है, जहां बारह महीने हलचल रहती है. यहां के समुद्री बीच और भव्य दृश्य हर तरह के सैलानियों को लुभाते हैं. ऐसे मौसम में यहां के गिरजाघरों की सुंदरता और ज्यादा बढ़ जाती है. अगर आप इस मौसम में गोवा जाने का प्लान बना रहे हैं तो आप वहां के वाइब्रेंट मानसून फेस्टिवल का भी मजा ले सकते हैं.

केरल:

नदियों व पर्वत-पहाड़ियों से घिरा हुआ एक अनोखा पर्यटन स्थल केरल हमेशा ही सैलानियों को अपनी और खींचता रहा है. वर्षा ऋतु के समय इस जगह का महत्व और ज्यादा बढ़ जाता है. केरल में मॉनसून सीजन को ड्रीम सीजन के नाम से भी जाना जाता है. आयुर्वेदिक ट्रीटमेंट के लिए बड़ी संख्या में सैलानी इसी मौसम को चुनते हैं, क्योंकि इस समय बॉडी को उपयुक्त वातावरण मिलता है. ऐसे मौसम में आप वहां जाते हैं तो आपको आकर्षक ऑफर भी मिलेंगे.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं