गृहशोभा विशेष

शुक्रिया अदा करें तकनीक का, कि अब आप बिना एक इंच हिले भी ब्रह्मांड में कहीं भी पहुंच सकते हैं. इंसानों की इस मोह-माया भरी दुनिया में, कब, क्या, क्यों और किसलिए होता है, यह सब सोच और समझ के दायरे के आस-पास भी नहीं है. 2 दिन पहले ही नासा ने पृथ्वी से मिलते-जुलते 7 अन्य ग्रह भी खोज डाले हैं. खोज तो न जाने कहां-कहां तक पहुंच गई है, पर इन खोजों का कई बार कोई तुक नहीं बैठता.

पैसे वाले तो चांद तक घूम कर आ गए और गरीब अपना ही मल गर्म कर के खा रहा है. दुनिया का दस्तूर है, जिस बात के लिए मना करना हो, उसके लिए सीधे ना कह देना. वजह कभी वाजिब होती है, तो कभी बेवजह ही ‘ना’ कह दिया जाता है. अब तो वह दौर है कि ‘ना’ कहना भी अशिष्टता में आता है और लोग हंसकर ही टाल जाते हैं.

यूं तो इस खूबसूरत दुनिया की जितनी भी दाद दी जाए वो कम है. पर कुछ ऐसी जगहें भी हैं इस दुनिया में जहां पहुंचना या तो जानलेवा है या फिर वहां जाना किसी देश की सुरक्षा को खतरे में डाल सकता है. बात को किसी और दिशा में न मोड़ते हुए मुद्दे की बात करते हैं. इंसानों की इस दुनिया में सभी इंसानों को समान हक ही नहीं मिला है. फिर वो किसी रेस्त्रां में खाना हो, या किसी मॉल में घुसना.

आज हम बात करेंगे कुछ ऐसी जगहों के बारे में जहां इंसानों का जाना ही मुमकिन नहीं, हां परिंदे पर जरूर मार सकते हैं. इनमें से कुछ जगहों पर सुरक्षा कारणों से लोगों की आवाजाहि पर पाबंदी है.

1. लासकॉक्स केव्स, फ्रांस

इंसानों पर बंदिशें न लगाई जाएं, तो वे जानवरों को भी पछाड़ सकते हैं. किसी भी आपातकालीन स्थिति में दुकानों में होने वाली चोरियां हो या महिलाओं से छेड़-छाड़, हम किसी भी चीज में पीछे नहीं रहते. अपनी विरासत को बचाने के लिए फ्रांस ने 1963 से इन केव्स में आम लोगों के जाने पर पाबंदी लगा दी है. इन गुफाओं में पाषाण काल की चित्रकारी के अवशेष हैं. ये चित्रकलाएं 17,000 साल से भी पुरानी बताई जाती हैं.

ये फैसला सराहनीय है, वरना भारत के कुछ नमुने रूपी इंसान, वहां जाकर भी ‘आई लव सोनम गुप्ता’ लिखकर आएंगे.

2. वेटिकन सिक्रेट आर्काइव्स, वेटिकन सिटी

वेटिकन सिटी यानि इतिहास का एक अलग पहलू. यहां के आर्काइव्स में पोप और कुछ तथाकथित बुद्धिजीवियों के अलावा किसी भी अन्य व्यक्ति का प्रवेश निषेध है. अंदर क्या रखा है, कौन जाने? पर कुछ लोगों का मानना है कि यहां कई विवादास्पद चीजें रखी हैं. खैर, संसार पर झूठ का पर्दा डालने के लिए सच को छुपाए रखना भी जरूरी है.

3. स्नेक आइलैंड, ब्राजील

वैसे भी इंसानों को इन बिना हाथ-पैर वाले जीवों से डर लगता है. ये जहां मिलते हैं, वहीं इन्हें बेदर्दी से मार डालना नियम है, तो ऐसे द्वीप पर जाने से क्या फायदा, जहां 4000 से भी ज्यादा खतरनाक सांप पाए जाते हैं. ब्राजील सरकार ने यहां जाने पर पाबंदी लगा रखी है. यहां पाए जाने वाले कुछ सांपों का जहर इंसानों के शरीर को गलाने तक की क्षमता रखता है. पर सोचने पर ऐसा लगता है, जैसे सांपों ने भी अपनी एक अलग दुनिया बना ली हो…

4. नॉर्थ सेंटीनेल आइलैंड, भारत

भारत के अंडमान निकोबार समूह के नॉर्थ सेंटीनेल आइलैंड पर आम लोगों के जाने की मनाही है. बंगाल की खाड़ी का यह आइलैंड कोरल रीफ से घिरा हुआ है. पर पर्यावरण की परवाह इंसानों को कब थी? पर जान तो प्यारी है…

यहां पर रहने वाली सेंटीनेलीज प्रजाति ने पूरी दुनिया से खुद को अलग रखा है. यहां अभी तक आधुनिक सभ्यता नहीं पहुंच पाई है. सूत्रों के अनुसार 2008 में दो मछुआरों को यहां के लोगों ने मार डाला था. बातचीत की हर कोशिश का जवाब पत्थर और तीरों से दिया जाता है. शायद यहां के लोगों को आधुनिकीकरण पसंद नहीं है.

5. आरएएफ मेनविथ हिल, इंग्लैंड

रोयल एयर फोर्स स्टेशन इंग्लैंड की सरजमीं पर बसा एक एयर बेस है जिसे अमेरिकी नेशनल सिक्योरिटी ऐजेंसी हैंडल करती है. यह दुनिया का सबसे बड़ा इलेक्ट्रोनिक मोनिट्रिंग स्टेशन है. गोल्फ बॉल की शक्ल में यहां कई बिल्डिंग हैं. कुछ लोगों का कहना है कि यहां से अमेरिका दुनिया भर में होने वाली बात चीत पर नजर रखता है.

6. कोका कोला का रहस्यमयी तहखाना

कोका कोला दुनिया का सबसे प्रिय कोल्ड ड्रिंक है. इसके फॉर्मूले को सन् 1886 में जॉन एस पेंमबर्टन ने बनाया था. 126 सालों से इस फॉर्मूले को कंपनी वालों ने बड़े ही संभालकर रखा था. इस तहखाना को लोग बाहर से देख सकते हैं. इसके चारों तरफ कड़ा पहरा रहता है. कोका कोला ने अपनी रेसिपी को सालों से बचाकर रखा है.

7. पोवेग्लिया, इटली

वेनिस और लिडो के बीच नॉर्थ इटली में बसा है यह आइलैंड. पोवेग्लिया बिमार लोगों को निर्वासित करने की सरकारी जगह है. 1348 में इस संगरोध कॉलनी की तरह बसाया गया और प्लेग से पीड़ित लोगों को यहां निर्वासित कर दिया गया था. सिलसिला यहीं नहीं थमा, जिंदा लोगों को भी मृत समझकर जला दिया गया था. 1922 तक यहां मानसिक रोगियों को लाया जाता था. लोगों के मन में इस जगह के प्रति डर बैठने लगा और सरकार ने भी इसे वीरान ही रखने की घोषणा की.

8. स्वालबार्ड सीड वोल्ट, नॉर्वे

स्वालबार्ड सीड वोल्ट नॉर्वे के स्पिट्सबर्गन आइलैंड में है. यहां कई तरह के बीज संरक्षित कर रखे गए हैं. दुनिया के बिगड़ते हालात को देखते हुए तो ऐसा लगता है कि जल्द ही दुनिया को इसकी जरूरत पड़ेगी. यहां पर 864,000 तरह के बीज रखे गए हैं. इस वॉल्ट का कोई सरकारी गार्ड नहीं है, पर यह इलेक्ट्रोनिक कोड द्वारा लॉक्ड रहता है. बताया जाता है कि इस वॉल्ट में 1000 साल तक बीज संरक्षित रखे जा सकते हैं.

9. हर्ड आइलैंड वोल्केनो, अंटार्कटिका

दुनिया के अति-दुर्गम जगहों में से एक है यह ज्वालामुखी. बर्फीले अंटार्कटिका के इस निष्क्रिय ज्वालामुखी के आस-पास 41 ग्लेशियर हैं. पर 2000 में हवाई के एक विश्वविद्यालय ने इस निष्क्रिय ज्वालामुखी से लावा निकलते देखा. ज्वालामुखी विस्फोट से होने वाले नुकसान को ध्यान में रखते हुए, आम लोगों का यहां जाना वर्जित है. यहां पहुंचना भी आसान नहीं है और यहां से लौटना भी मुश्किल है.

ये कुछ ऐसी जगहें हैं, जहां इंसानों को जाने की मनाही है. विडंबना यह है कि इंसानों से बचाए रखने के लिए ही कुछ जगहों को ‘नो एंट्री जोन’ बनाया गया है. ठीक ही है, पाषाण कालीन चित्रकारियों को ‘आई लव यू’ की छाप से बचाने के लिए इंसानों से दूर रखना तो जरूरी है.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं