गृहशोभा विशेष

फिनलैंड विश्व का सर्वाधिक ईमानदार और भ्रष्टाचारमुक्त देश है. फिनलैंड के निवासियों को फिन्स कहा जाता है जो  उत्कृष्ट वास्तुशिल्प, कला, विज्ञान और तकनीकी कौशल से संपन्न हैं. पूर्व में रूस, उत्तर में नार्वे तथा दक्षिण में स्वीडन से घिरे फिनलैंड का नैसर्गिक सौंदर्य पर्यटकों को मंत्रमुग्ध कर देता है.

भूगोलविदों के अनुसार यहां 1,88,000 झीलें और लगभग इतने ही द्वीप हैं. ध्रुवीय छोर पर स्थित फिनलैंड वर्ष में 2 महीने हिमाच्छादित रहता है जिस के कारण दिन में घटाटोप अंधकार रहता है. आसमान में सूरज का नामोनिशान नहीं दिखाई देता. उस दौरान तकरीबन संपूर्ण विश्व के पर्यटक यहां पर नौर्दर्न लाइट्स का अद्वितीय नजारा देखने के लिए एकत्रित होते हैं. पाइन और फर के पेड़ों के बीच से छन कर आती हरीपीली रोशनी धरती पर अलौकिक दृश्य प्रस्तुत करती है. शांत, विनम्र फिनलैंडवासी न तो शीतऋतु के अंधकार से प्रभावित होते हैं और न ही ठंड से.

पौराणिक मिथक के अनुसार, कोर्वाटन टुरी पर्वत पर सांता क्लास का घर है. यहां सांता क्लास से मिलने के इच्छुक लोगों की वजह से पर्यटन उद्योग में निरंतर वृद्धि हो रही है.

फिनलैंड में गिनेचुने शहर हैं जो पूरी तरह से योजनाबद्ध व सुविधासंपन्न हैं. बाल्टिक सागर के तट पर बसा हेलसिंकी फिनलैंड की राजधानी और सब से बड़ा शहर है. यह बाल्टिक की बेटी कहलाता है. वास्तव में हेलसिंकी के विशाल उद्योग, विराट बंदरगाह, पुराने भव्य शिल्प, वैभव संपन्नता में बाल्टिक सागर का बहुमूल्य योगदान है.

यही नहीं, हेलसिंकी के अल्पकालीन संघर्षपूर्ण इतिहास के लिए भी बाल्टिक ही उत्तरदायी है. शहर में स्कैंडेनेवियन सभ्यता, संस्कृति के अवशेष आज भी विद्यमान हैं. डाउनटाउन पर स्कैंडेनेवियन प्रभाव प्रतिबिंबित होता है.

सदियों तक पड़ोसी देशों के आधिपत्य में रहने तथा पश्चिमी, पूर्वी व दक्षिणी सभ्यताओं को आत्मसात करने के बाद फिनलैंडवासियों की स्वतंत्र पहचान 19वीं सदी में स्थापित हुई. स्वाधीनता प्राप्ति के बाद उन्होंने कहा, ‘‘हम स्वीड्स नहीं हैं, रूसी बनना नहीं चाहते, हमें फिन ही रहना है.’’

हेलसिंकी नगर की स्थापना रूस के जार निकोलस प्रथम के आदेश पर जरमन वास्तुशिल्पी कार्ल एंजल लुडविग ने की थी. निकोलस की कल्पना के अनुरूप लुडविग ने शहर की भव्य इमारतों, चौकचौराहों को शिल्पाकृतियों से सजा दिया. कई बार आगजनी, महामारी तथा विध्वंसकारी युद्ध होने के बावजूद हेलसिंकी ने अपनी गौरवमय सुंदरता को सुरक्षित रखा है.

travel in hindi

315 द्वीपों से बना यह शहर सागर पर ही बसा है. द्वीपों को जोड़ने के लिए पुल हैं तथा एक द्वीप से दूसरे द्वीप पर नावों के जरिए पहुंचा जा सकता है. आधुनिक हेलसिंकी शांत व विकासशील नगर है. निर्जन झाडि़यों तथा काष्ठनिर्मित घरों का स्थान नवशिल्प से सज्जित भवनों ने ले लिया है.

हेलसिंकी का चप्पाचप्पा वहां के वास्तुविदों के अद्भुत शिल्प कौशल का परिचायक है. उन्होंने वहां के सामान्य भवनों को भी फिनलैंड के विशिष्ट स्मारकों में परिवर्तित कर दिया. 1914 में निर्मित रेलवे स्टेशन इस का अद्वितीय उदाहरण है.

वास्तुशिल्पी एलेल सारिनेन ने इस की परिकल्पना 1905 में की थी तथा इस का निर्माणकार्य 1919 में पूरा हुआ था. गुलाबी रंग के ग्रेनाइट से बना गोलाकार रेलवे स्टेशन अपनी तांबे से मढ़ी छत, 160 फुट ऊंचे घंटाघर के साथ नगर के सौंदर्य में चारचांद लगा रहा है. प्रवेशद्वार के दोनों ओर एमिल विक्सट्राम द्वारा निर्मित मशालवाहक विराट मूर्तियों का युगल गंभीर मुद्रा में खड़ा है.

रेलवे स्टेशन हेलसिंकी को पूरे फिनलैंड से जोड़ता है. शहर की सैर शुरू करने के लिए यह सर्वोत्तम स्थान है. अधिकांश दर्शनीय स्थलों की सैर पैदल ही की जा सकती है. नगरीय परिवहन सेवा यहीं से आरंभ होती है. मैट्रो भी यहीं से चलती है. इस के समीप अनेक बसें आ कर रुकती हैं. रेलवे स्टेशन के सामने सभी ट्राम्स आ कर रुकती हैं. हेलसिंकी नगर में पर्यटकों के लिए अनेक ऐतिहासिक, सांस्कृतिक व प्राकृतिक स्थल आकर्षण के केंद्र हैं.

मेनरहम गली : रेलवे स्टेशन के उत्तरपूर्व में मेनरहम गली हेलसिंकी के एस्प्लेनेड के अंतिम छोर तक जाती है. सैंट्रल रेलवे स्टेशन का डिजाइन एलेल सारिनेन ने तैयार किया था. 48 मीटर ऊंचे क्लौक टावर वाली यह एक शानदार इमारत है. इस के आसपास थोड़े महंगे लेकिन उच्च श्रेणी के रैस्टोरैंट हैं. पोस्टऔफिस से आगे फिनिश इतिहास के महानायक मार्शल मेनरहम की घोड़े पर सवार भव्य प्रतिमा है. इस के ठीक पीछे समकालीन कला संग्रहालय कीएसमा है. गली में अनेक विशाल स्टोर तथा बढि़या होटल हैं.

एटेनियम (फिनिश राष्ट्रीय कला संग्रहालय) : हेलसिंकी रेलवे स्टेशन के दक्षिण में फिनिश राष्ट्रीय कला संग्रहालय यानी एटेनियम है. यहीं पर फिनिश एकेडमी औफ आर्ट है. एटेनियम में फिनलैंड की सर्वोत्कृष्ट ऐतिहासिक कलाकृतियों के साथसाथ समकालीन कलाकृतियों का संग्रह भी है. विदेशी चित्रकारों में प्रमुख हैं, रेम्ब्रां व विंहसेंट वान-गाग तथा 650 अन्य प्रख्यात अंतर्राष्ट्रीय कलाकारों की कृतियां हैं. स्कलप्चर हौल में प्रख्यात शिल्पकारों, वी वेलरगन, डब्लू आल्टोनेन, डब्लू रुनेबर्ग और एस हिल्डेन की शिल्पाकृतियां रखी हैं.

कनसाली म्यूजिओ (फिनिश राष्ट्रीय संग्रहालय): मैनरथिमिंटी रोड पर वर्ष 1912 में रोमांटिक शैली में निर्मित कनसाली म्यूजिओ यानी फिनिश राष्ट्रीय संग्रहालय है. संग्रहालय में फिन्स की सभ्यता, संस्कृति से संबद्ध विपुल सामग्री संग्रहीत है.

फिन्लैंडिया हौल : यह हेलसिंकी का म्यूनिसिपल म्यूजियम है. इस के उत्तर में टूलू खाड़ी के तट पर फिन्लैंडिया हौल है. यहां पर कई विशिष्ट आकर्षण के केंद्र हैं. चौड़ी वेनेशियन सीढि़यां ग्राउंडफ्लोर को प्रमुख सभागार तथा चैबेर म्यूजिक हौल से जोड़ती हैं. सभागार के उत्तर में एक मनोरम उद्यान है. यहां पर शतरंज के बड़ेबड़े बोर्ड और मोहरे रखे हुए हैं.

travel in hindi

फिन्लैंडिया हौल के उत्तर में टूलोनहटी झील के शिखर पर पुराना ट्रेड फेयर हौल है और उस से आगे है 1938 में निर्मित ओलिंपिक स्टेडियम. यहां पर 72 मीटर ऊंचे टावर से नगर का मनमोहक दृश्य दिखाई देता है. द्वितीय विश्वयुद्ध शुरू होने से पहले फिनलैंड में ओलिंपिक खेलों का आयोजन होना था परंतु युद्ध के कारण खेल स्थगित हो गए. बाद में वर्ष 1952 में यहां पर ओलिंपिक खेलों का आयोजन किया गया.

कोस्कुसपिस्टो (सैंट्रल पार्क) : हेलसिंकी का सैंट्रल पार्क नगर के मध्य स्थित विशाल पार्क है. यह 10 वर्ग किलोमीटर से अधिक क्षेत्र में फैला हुआ है. पार्क में फूलों की अपेक्षा जंगली पौधे अधिक हैं.

कौपाटोरी : यह हेलसिंकी का प्रमुख योजनाबद्ध स्क्वायर है. यह उत्तरी यूरोप की प्रसिद्ध बाहरी मार्केट में से एक है. बाल्टिक सागर के किनारे स्थित यह मार्केट वसंत से पतझड़ तक खुला रहता है.

चारदीवारी से घिरे सुओमेनलीना किले के सभी 6 द्वीप हेलसिंकी के अंतरंग भाग हैं. देखने पर ये दूर दिखाई देते हैं लेकिन नौका से वहां आसानी से पहुंचा जा सकता है.

बाल्टिक में रूस को पहुंचने से रोकने के लिए 18वीं सदी के मध्य में स्वीडन ने इस किले का निर्माण करवाया था. 1808-1809 के स्वीडनरूस युद्ध में किले पर रूसियों का आधिपत्य हो गया था. आधिपत्य के बाद 1918 में उन्होंने इस का विस्तार कर और अधिक सुदृढ़ किया और फिनिश नाम सुओमेनलीना रखा. यह सांस्कृतिक तथा आमोदप्रमोद के कार्यस्थल के रूप में नवनिर्मित किया गया.

हेलसिंकी के भव्य सीनेट स्क्वायर के मध्य जार अलेक्जैंडर की कांस्य प्रतिमा स्थापित है. यहां से मार्केट स्क्वायर तक पर्यटकों के लिए अनेक दर्शनीय स्थल हैं. प्रैसिडैंट्स पैलेस तथा गार्डहाउस के बीच से एक गली अलेक्स्नटेरीरिकटु तक जाती है.

इस के बाईं तरफ फिनिश इतिहास की गवाह अनेक इमारतें हैं. अलेक्स्नटेरीरिकटु के दाईं तरफ हाउस औफ नोबेलिटी है. दूसरी तरफ फिनिशि लिटरेरी सोसायटी का परिसर तथा गवर्नमैंट पैलेस है.

फिन्स लोग विनम्र व शांत स्वभाव के होते हैं. बाह्म सभ्याचार के लिए उन को सौरी कहना अथवा क्षमा चाहता हूं जैसे वाक्य कहने नहीं आते. बड़ी गलती हो जाने पर वे विनम्रतापूर्वक अन्तीक्सी कहते हैं. फिनलैंड की राजधानी हेलसिंकी की सैर कुल मिला कर पर्यटकों को मुग्ध कर देती है.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं