गृहशोभा विशेष

फ्लोरिडा, कैलिफोर्निया जैसे कुछ राज्यों को छोड़ कर अमेरिका के ज्यादातर राज्यों में सर्दी का मौसम भारतीयों के लिए असहनीय हो जाता है. ऐसे में अमेरिका के वंडर्स देख पाने के बजाय भारतीय टूरिस्ट गरम होटलों, कमरों, आर्ट गैलरियों में या फिर म्यूजियमों आदि में अपना समय व्यतीत करते हैं, क्योंकि सर्दी के मौसम में यहां हर घर, दुकान, मौल, गैलरी, म्यूजियम, भवन, औफिस अंदर से गरम रखा जाता है. सर्दी में जबतब बर्फ गिरती है. हिम, पाला, तुषार के इस मौसम के लिए आप को छाता, गरम कपड़े, कोट, दस्ताने, कैप तो चाहिए ही, शायद स्नो शूज भी खरीदने पड़ें.

ऐसे मौसम में आप की अमेरिकी यात्रा के सिलसिले में एक खास सुझाव यह है कि इस यात्रा के बीच समय निकाल 1 हफ्ते के लिए प्यूर्टो रिको हो आएं. अमेरिका के इस सहदेश की राजधानी सैन जुआन है. यहां जा कर आप को अमेरिका की कड़ाके की सर्दी से न केवल राहत मिलेगी, बल्कि सागर के मध्य बसे इस देश में आप को गोवा जैसा आनंद भी मिलेगा. नारियल, केले, पपीते के मनोहारी वृक्ष, गोवा जैसी गरमाहट, सुंदर चौपाटियां, सागर की मादक हवा, स्विमिंग पूल, भरपूर हरियाली आदि आप का मन मोह लेंगे. यहां के लोग भी हमीं जैसे हैं. अंगरेजी भाषा से यहां काम चल जाएगा, यह भी लाभ है.

नया जोश नई ऊर्जा

प्यूर्टो रिको देखने के बाद मन में पहला विचार यही आया कि वहां के आनंदकारी अनुभव गृहशोभा के पाठकों से शेयर करूं. खास बात यह है कि अगर आप ने अमेरिका का वीजा प्राप्त कर लिया है तो प्यूर्टो रिको को देखने से आप को कोई नहीं रोक सकता. जी हां, अमेरिकी वीजा व करेंसी ही चलते हैं वहां. दिलचस्प तथ्य यह भी है कि मेजर महानगरों न्यूयौर्क, अटलांटा, शिकागो, लास एंजिल्स, मियामी आदि से प्यूर्टो रिको की सीधी उड़ानें हैं जोकि आप को जल्दी सैन जुआन पहुंचा देंगी. इन सुविधाओं के अलावा यहां खानापीना, घूमना वगैरह भी अमेरिका के मुकाबले सस्ता है.

वहां जा कर अमेरिका की कड़ाके की सर्दी से 1 सप्ताह राहत पा जश्न मनाएं, फिर अमेरिका देखने पहुंचें, नए जोश, नई ऊर्जा के साथ. मैं परिवार संग अमेरिका गई तो मैं ने भी यही किया. जी हां, 6 दिन का वह सुंदर ट्रिप मुझे भूलता नहीं. तो आइए, आप को भी प्यूर्टो रिको घुमा लाऊं…

प्यूर्टो रिको में कायदाकानून अमेरिका का ही चलता है. अत: इसे अमेरिका का 51वां राज्य भी बोला जाता है, पर आप यहां महसूस करेंगे कि यह आजाद देश जैसा ही है. यहां की प्रमुख भाषा स्पैनिश है, यद्यपि अंगरेजी बोलसमझ लेने वाले पर्यटकों को कोई दिक्कत नहीं. यहां साइनबोर्ड स्पैनिश में हैं, फिर भी हर साल यहां 40-45 लाख टूरिस्ट आते हैं. हमें कुछ लोग ऐसे भी मिले जोकि पूरी सर्दी यहीं बिता कर बाद में अमेरिका जाते हैं.

विशाल और भव्य दृश्य

मैं अपने पति, बेटे-बहू, पोतेपोती के संग न्यूयौर्क से निकली तो हम लोग 4 घंटों में ही सैन जुआन पहुंच गए. युनाइटेड की इस फ्लाइट में पानी और जूस तो मुफ्त सर्व हुआ, परंतु खाने का सामान खरीदना पड़ा. सैन जुआन में दुनिया के कई देशों से रोज फ्लाइटें आती हैं. अत: यह काफी बड़ा एअरपोर्ट है. खाने के स्थानीय व अमेरिकन जौइंट्स सभी एअरपोर्ट पर उपलब्ध हैं. यहां एअरपोर्ट पर थोड़ा खापी कर हम ने यहीं से किराए पर एक बड़ी कार ले ली, जिस ने 6 दिन का हम से 500 डौलर किराया लिया. इसे ड्राइव कर फिर अपने होटल विंढम पहुंचे, जहां 5 रातें ठहरने के लिए हम ने 3 कमरों का कोंडो किराए पर लिया. इस का टोटल किराया 1,500 डौलर था. कोंडो में बढि़या फर्नीचर, बरतन, फ्रिज, माइक्रोवेव जैसी सभी सुविधाएं थीं. थोड़ीबहुत खाद्यसामग्री हम बाजार से खरीद लाए. बाकी होटल से मंगाते थे.

2-3 घंटे आराम कर हम 4 बजे शहर देखने निकले. इस पहले दिन हमें पूरा माहौल खूब सुंदर दिखा मानो हम गोवा में हों. अलबत्ता गोवा के मुकाबले भीड़ व ट्रैफिक काफी कम था. खानेपीने और सामान खरीदने के लिए अमेरिकन रेस्तरां व दुकानों के साथसाथ स्थानीय रेस्तरां व दुकानें भी थीं. सड़क के किनारे हम ने केले, सेब, पपीते वगैरह भी खरीदे, न्यूयौर्क से आधे भाव में. फिर हम पहुंच गए पुराने सैन जुआन इलाके में एक सुंदर पुराना किला देखने. 1539 में इस किले का निर्माण स्पेनी लोगों ने शुरू किया था और जब पूरा बन गया तो इसे नाम दिया गया ‘कैस्टिलो सैन फैलिपे डेल मोरो.’ आज इस के अवशेष देखें तो भी मुंह से ये शब्द निकलेंगे कि विशाल, भव्य, रोमांचक. सागर से 140 फुट ऊंचा निर्मित यह किला पुराने सैन जुआन इलाके में है, जहां खूब रौनक है. असंख्य छोटीछोटी दुकानें हैं और हैं पुराने किस्म के सुंदर मकान. स्थानीय भोजन के अनेक रेस्तराओं में चुन कर एक में हम ने भोजन किया. रेस्तरां के बाहर स्ट्रीट डांसर व गायक टूरिस्टों के लिए परफौर्म कर रहे थे. लाइव डांस, म्यूजिक और पेट भर भोजन ने हमें करीबकरीब मदहोश कर दिया.

रोमांचक नजारे

एक और पुराना किला भी है सैन जुआन में जिस का नाम है ‘कैसिलो द सैन क्रिस्टोबल’ परंतु वह बंद हो चुका था. अत: देख नहीं पाए. पुराने सैन जुआन में हम ने एक ऐसी दुकान भी देखी जिस पर लिखा था, ‘आयुर्वेदिक मैडिसिन’ परंतु दुकान बंद थी. बहरहाल, हमारा पहला दिन संतुष्टि भरा गुजरा. रात को बढि़या नींद आई, मगर पंखा चला कर. लगा हम गोवा के किसी होटल में हैं अपनों के बीच.

अगले दिन नाश्ता कर स्विमिंग कौस्ट्यूम में स्विमिंग पूल पहुंच गए. होटल के ग्राउंड फ्लोर पर 4 पूल्स हैं. इन में एक छोटे बच्चों के लिए है. बड़े बच्चों के लिए पूल में कूदने के लिए टेढ़ीमेढ़ी मजेदार स्लाइड्स हैं. घंटों जी भर के नहाए. बीचबीच में पास बने रेस्तरां में खातेपीते भी रहे.

बाद में होटल की दीवार से सटे सागर तट पर खूब घूमे. सागर जल एकदम स्वच्छ था. कहीं कोई गंदगी नहीं. सागर जल सूर्य की किरणों को पकड़ कभी सुनहरा, कभी हरा तो कभी नीला रंग इख्तियार कर लेता. 3-4 बजे कमरे में आ कर सो गए, फिर शाम को अनोखे अनुभव के लिए बायो बे गए.

कहते हैं कि पूरी दुनिया में केवल 5 बायो बे स्थल हैं, जिन में से 3 प्यूर्टो रिको में हैं. इस नजरिए से प्यूर्टो रिको अनोखा है. हम ने इन में केवल एक ही बायो बे देखा और वह भी 2 किस्तों में, रात के वक्त. दूसरे और तीसरे दिन रात को 2-2 टिकट ही मिल पाए. रात 8 से 10 बजे के बीच देखे ये बायो बे वाकई रोमांचक थे.

अनोखा पर्यटक स्थल

सागर के कुछ ऐसे उथले अनोखे स्थल होते हैं जहां मैंग्रोट्ज के मध्य कुछ अद्भुत जीवाणु पनपते हैं, जो रात के समय जुगनुओं की तरह चमकते हैं. ये लाखोंकरोड़ों जीटाणु नीले, हरे प्रकाश से और ज्यादा चमकते हैं. इन्हीं स्थलों को बायो बे कहा जाता है,परंतु इन के पनपने के लिए खास कुदरती इकोलौजी चाहिए. इन स्थलों पर आप पैट्रोल, डीजल वाली मोटरबोट नहीं ले जा सकते, क्योंकि प्रदूषण इन जीवाणुओं को नष्ट कर देता है. इसीलिए हम लोग चप्पू चला कर साधारण बोटों से एक लीड बोट के पीछेपीछे बायो बे देखने गए. इस प्रकार की बोटिंग को कयाकिंग कहा जाता है. चढ़तेउतरते वक्त आप को कमर तक पानी में घुसना पड़ता है, परंतु प्रकृति की इस अद्भुत लीला का आनंद ही जुदा है. प्यूर्टो रिको की जो बायो बे हम ने देखी वह सैन जुआन में ही है. फ्जार्दो नामक स्थान पर बायो बे की बुकिंग बहुत पहले हो जाती है. अत: हमें वही टिकट मिल पाए थे जो कैंसल हुए थे. इसी कारण हम 2 किस्तों में गए थे.

2 अन्य बायो बे हैं- ला पार्गुयेरा और वियेक्स मैस्किटो बे. यद्यपि हम इन्हें देख नहीं पाए पर इन की भी तारीफ खूब सुनी. सैन जुआन में हमें स्थानीय लोगों ने बताया कि टूरिस्टों की अधिकता के कारण इन बे स्थलों पर प्रदूषण बढ़ रहा है और जीवाणुओं की संख्या कम हो रही है. हो सकता है कि कुछ वर्षों में ही ये बायो बे खत्म हो जाएं.

प्यूर्टो रिको में अमेरिकन मैक डोनाल्ड, सबवे, डंकिन डोनट्स वगैरह सभी हैं, पर हम ‘चिलीज’ में ज्यादा जाते रहे. यहां वैजिटेरियन फूड मिलता है. चायकौफी, दूध वगैरह का स्टाक तो कमरे में ही था, बाहर से लेने की जरूरत नहीं पड़ी. इस प्रकार 3 दिन आराम से गुजर गए. तीसरी रात भी जी भर कर सोए. होटल के कमरे में आप को अतिरिक्त सुविधाएं चाहिए हों तो पहले ही सूचित कर देना बेहतर रहता है. वैसे जब भी आप होटल स्टाफ से बात करेंगे, वे सेवा के लिए तत्पर दिखाई देंगे.

अद्भुत प्राकृतिक नजारे

चौथे दिन हम अमेजौन, इंडोनेशिया, कांगो आदि वर्षावनों को देखने गए. छातेवाते लिए और थोड़े सैंडविच वगैरह बांधे निकल पड़े रेन फौरैस्ट देखने. कुछ किलोमीटर ही हमारी कार चली होगी कि घने वृक्ष शुरू हो गए. अचानक एक सुंदर बड़ा झरना दिखा तो कार रोक उस का आनंद लिया. उसे ‘ला कोका’ फौल कहते हैं. आगे 1-2 किलोमीटर के बाद हम पहुंच गए ‘एल यंग’ रेन फौरैस्ट. वाह, क्या नजारा. अद्भुत वृक्षलताएं, स्थानीय तोते और कोकी मेढक (बहुत छोटा मेढक है यह मगर खास आवाजमें चिल्लानाटर्राना खूब जानते हैं), अन्यान्य लिजर्ड, रंगबिरंगे वृक्ष. टूरिस्टों के लिए जंगल में कैनोपियां बनी हैं ताकि अचानक बारिश शुरू होने पर उन में शरण ले सकें.

एक कैनोपी में बैठ कर सैंडविचचाय का आनंद लिया, फिर थोड़ा और घूमे. वापस आने का मन नहीं था. बीचबीच में वर्षा होती रही. 3-4 बजे भारी मन से कोंडो लौटे. थोड़ा आराम किया, खायापिया और फिर शाम ‘चिलीज’ रेस्तरां के नाम की. यहां खूब भीड़ थी. पेट भर खाया फिर कोंडो लौट आए.

दुनिया में हरी, नीली, पिंक और सफेद बालू वाले अनेक बीच हैं. 5वें दिन हम जल्दी जगे, बिना नहाए निकल पड़े कुलेब्रा आइलैंड के लिए जहां सफेद बालू वाले कई बीच हैं. इस के लिए पहले हम ने एक फैरी ली, जिस ने हमें कुलेब्रा पहुंचाया. फिर एक जीप किराए पर ले कर हम कुलेब्रा के सर्वाधक लोकप्रिय बीच फ्लेमेंको पहुंचे. यह बीच विश्व के सर्वाधिक प्रसिद्ध बीचेज में शामिल है. यहां कोई पर्यटक सनबाथ, कोई स्नान, कोई कैंप आउट, कोई बोटिंग, कोई कयाकिंग तो कोई अन्य स्नोर्कलिंग में व्यस्त था. इस बीच को ‘बीच औफ व्हाइट सैंड्स ऐंड क्लियर ब्लू वाटर्स’ यों ही नहीं कहते. जल वाकई नीला व स्वच्छ था. हम ने भारत में इतना सुंदर, स्वच्छ, बढि़या बीच पहले नहीं देखा. यहां तक कि अमेरिका का ऐटलांटिक सिटी बीच भी इतना सुंदर नहीं. बहरहाल, कुल मिला कर लगा हम अपने प्रिय गोवा में हैं. शाम तक होटल वापस आ गए. फिर स्विमिंग पूल में घुस जलक्रीड़ा में मग्न हो गए.

नियमों का पालन जरूरी

स्विमिंग पूल्स के पास एक छोटा बगीचा भी है जहां 10 इगुआना पाली हुई हैं. टूरिस्ट उन्हें पत्ते खिला कर उन से दोस्ती करते हैं. इगुआना यहां की प्रसिद्ध लिजर्ड है जोकि बेबी मगरमच्छ जैसी लगती है. हम ने पहले इगुआना किसी भी म्यूजियम में नहीं देखी थीं. पूल्स से निकल हम इगुआना देखने चले गए पर खेलखेल में जब इगुआना ने हमारे पोते को काट लिया तो हम टैंशन में आ गए. पर गार्ड ने आश्वस्त किया कि कटे स्थान को साबुनपानी से धो निश्चिंत हो जाएं.

अगले दिन होटल से चैकआउट कर एअरपोर्ट के लिए निकल पड़े. फ्लाइट पकड़ न्यूयौर्क आ गए. नई ऊर्जा और नए ज्ञान के साथ लोग जिस रेसिज्म की बातें करते हैं वह हम ने न अमेरिका में महसूस की और न ही प्यूर्टो रिको में. हम तो यही कहेंगे कि वसुधा वाकई एक कुटुंब है. खूब पर्यटन कीजिए और कुटुंबीजनों से मिलते रहिए. हां, कोई ऐसा काम वहां न करें जिस कारण लज्जित होना पड़े खासकर कचरा तो कचरा डब्बे में ही डालें. स्थानीय नियमों का पालन करें और पर्यटन का पूरापूरा लुत्फ उठाएं.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं