अगर आप भी पहाड़ों और समुद्र पर हौलिडे बिताकर बोर हो चुकी हैं तो अब अपनी लिस्ट में वाइल्डलाइफ डेस्टिनेशन्स को जोड़ें. शहर की भीड़-भाड़ और शोर से दूर सिर्फ नेचर और पशु-पक्षियों को नजदीक से सुनना उनको महसूस करना, अलग ही अनुभव देता है. इसीलिए यहां जानिए इंडिया के 6 सबसे फेमस और बेहतरीन वाइल्डलाइफ डेस्टिनेशन के बारें में.

जिम कौरबेट नेशनल पार्क (Jim Corbett National Park)

यह भारत का सबसे पुराना राष्ट्रीय पार्क है, जो उत्तराखण्ड के नैनीताल जिले में स्थित है. यहां आपको बंगाल टाइगर को देखने का मौका मिल सकता है. यहां सफारी में बैठकर जंगल की सैर करते वक्त आपको सिर्फ बंगाल टाइगर ही नहीं बल्कि लियोपार्ड, सांभर, हिमायल ब्लैक बीयर, हौग डियर और ऐसे तमाम जानवर भी देखने को मिल सकती हैं. इसी के साथ पास में मौजूद कोसी नदी और वहां मौजूद गर्जिया देवी मंदिर भी देख सकती हैं. पहाड़ों पर बने इस मंदिर से कोसी नदी का नजारा ही कुछ और लगता है.

काजीरंगा नेशनल पार्क (Kaziranga National Park)

इंडिया का यह एकलौता ऐसा पार्क है जहां आपको एक सींग वाला गैंडा देखने को मिलेगा. इसी वजह से आपने काजीरंगा नेशनल पार्क से जुड़े कई विज्ञापनों में गैंडा की तस्वीर देखी होगी. वहीं, आसाम हरियाली से भरे जगंलों और पहाड़ों के लिए जाना जाता है. इसीलिए आपको इस पार्क की हरियाली और यहां मौजूद पक्षी-जानवर दोनों ही बहुत पसंद आएंगे.

गिर नेशनल पार्क (Gir Forest National Park)

अगर आपको शेर देखने का बहुत शौक हो तो गिर नेशनल पार्क आपके लिए ही बना है. यह भारत के गुजरात राज्य में लगभग 1424 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है. यहां आपको शेर के अलावा भारत के सबसे बड़े कद का हिरण, सांभर, भालू, लंगूर, चीतल, नीलगाय, चिंकारा और बारहसिंगा भी देखने को मिल जाएंगे. लेकिन मौनसून में ना जाएं क्योंकि उस दौरान यह पार्क बंद रखा जाता है. आप यहां जाने के लिए अक्टूबर से लेकर जून तक कभी भी प्लान कर सकती हैं.

सुंदरबन नेशनल पार्क (Sunderban National Park)

मैन्ग्रोव पेड़-पौधों से घिरा सुंदरबन रौयल बंगाल टाइगर का सबसे बड़ा संरक्षित क्षेत्र है. इन टाइगर के अलावा यहां पक्षियों और सरीसृपों की कई प्रजातियां भी पाई जाती हैं. यहां आप जाएं तो लोकल नाव में बैठकर पार्क को जरूर देखें. आपको बता दें सुंदरबन दुनिया का सबसे बड़ा डेल्टा पार्क है जो 10,200 वर्ग किमी में भारत और बांग्लादेश में फैला हुआ है. इस पार्क का एक-तिहाई हिस्सा पानी पर बसा हुआ है.

बांधवगढ़ नेशनल पार्क (Bandhavgarh National Park)

मध्य प्रदेश के उमरिया जिले की 32 पहाड़ियों से घिरा है बांधवगढ़ पार्क. इन्हीं पहाड़ियों में मौजूद एक पहाड़ी बांधवगढ़ के नाम पर इस पार्क का नाम पड़ा. बांधवगढ़ पहाड़ी पर एक दो हज़ार साल पुराना किला भी बना हुआ है. इस पार्क में पशुओं की 22 और पक्षियों की 250 प्रजातियां पाई जाती हैं. यह पार्क 437 वर्ग किमी में फैला हुआ है, इसे वहां मौजूद हाथी या गाड़ियों में बैठकर देखा जा सकता है.

नागरहोल नेशनल पार्क (Nagarhole National Park)

मौनसून में रंग-बिरंगे पक्षी और एशियाई हाथी इस पार्क की खासियत हैं. एक जमाने में यह मैसूर के राजाओं का शिकार स्थल हुआ करता था, लेकिन अब यह वाइल्डलाइफ डेस्टिनेशन में तबदील हो चुका है. 640 वर्ग किलोमीटर में फैले इस पार्क को सफारी में बैठकर देखें.