एक नई पहल: जब बुढा़पे में हुई एक नए रिश्ते की शुरुआत

एक नई पहल: भाग 3- जब बुढा़पे में हुई एक नए रिश्ते की शुरुआत

अब तक मैं जूही के साथ एक दोस्त की तरह काफी खुल चुकी थी, ‘‘जो काम बच्चों के लिए मांबाप करते हैं, वही काम बच्चों को आज उन के लिए करना होगा, यानी आप पहले अपने पति को मनाएं फिर रिश्ता ले कर शर्माजी के बेटेबहुओं से मिलें…हो सकता है पहली बार में वे लोग मान जाएं…हो सकता है न भी मानें. स्वाभाविक है उन्हें शाक तो लगेगा ही…आप को कोशिश करनी होगी…आखिर आप की ‘ममा’ की खुशियों का सवाल है.’’

एक सप्ताह तक मैं जूही के फोन का इंतजार करती रही. धीरेधीरे इंतजार करना छोड़ दिया. मैं ने पार्क जाना भी छोड़ दिया…पता नहीं सुमेधा आंटी या अंकल का क्या रिएक्शन हो. शायद बात नहीं बनी होगी. पार्क में सैर करने जाने का उद्देश्य ही दम तोड़ चुका था. मन में एक टीस सी थी जिस का इलाज मेरे पास नहीं था. अपनी तरफ से जो मैं कर सकती थी किया, अब इस से ज्यादा मेरे हाथ में नहीं था.

एक दोपहर, बेटी के स्कूल से आने का समय हो रहा था. टेलीविजन देख कर समय पास कर रही थी कि फोन की घंटी बज उठी.

‘‘क्या मालिनीजी से बात हो सकती है?’’ उधर से आवाज आई.

‘‘जी, बोल रही हूं,’’ मैं ने दिमाग पर जोर डालते हुए आवाज पहचानने की कोशिश की पर नाकाम रही, ‘‘आप कौन?’’ आखिर मुझे पूछना ही पड़ा.

‘‘देखिए, मैं सुमेधाजी का बेटा अजय बोल रहा हूं. आप मेरी पत्नी से क्याक्या कह कर गई थीं…मैं और मेरी ममा आप से एक बार मिलना चाहते हैं…क्या आप शाम को हमारे घर आ सकेंगी?’’

अजय की तल्खी भरी आवाज सुन कर एक बार को मैं सकपका गई, फिर जैसेतैसे हिम्मत कर के कहा, ‘‘देखिए, यह आप के घर का मसला है…’’

ये भी पढे़ं- Short Story: लिफाफाबंद चिट्ठी

बीच में ही बात काट कर वह बोला, ‘‘जब जूही से आप बात करने आई थीं तब आप को नहीं पता था कि यह हमारे घर का मसला है. खैर, आप यह बताइए कि आप आएंगी या मैं जूही और ममा के साथ आप के घर आ जाऊं? पार्क के सामने वाले फ्लैट में आप का नाम ले कर पूछ लेंगे…तो घर का पता चल ही जाएगा.’’

मैं ने सोचा अगर कहीं ये लोग सचमुच घर आ गए तो बेवजह का यहां तमाशा बन जाएगा. मेरे पति मुझे दस बातें सुनाएंगे. उन से तो मुझे इस मामले में किसी सहयोग की उम्मीद नहीं थी. अब क्या करूं.

‘‘अच्छा, ठीक है…मैं आ जाऊंगी…कितने बजे आना है?’’ हार कर मैं ने पूछ ही लिया.

‘‘7 बजे तक आप आ जाइए.’’

मैं ने अपने पति को इस बारे में बताया तो था लेकिन विस्तार से नहीं. शाम 5 बजे मैं ने पति को फोन किया, ‘‘मुझे सुमेधा आंटी के घर जाना है.’’

‘‘अभी खत्म नहीं हुई तुम्हारी सुमेधा आंटी की कहानी,’’ पति बोले, ‘‘खैर, कितने बजे जाना है?’’

‘‘7 बजे, आतेआते थोड़ी देर हो जाएगी.’’

रास्ते भर मेरे दिमाग में उथलपुथल मची हुई थी. मन में तरहतरह के सवाल उठ रहे थे…अगर उन्होंने मुझे ऐसा कहा तो मैं यह कहूंगी…वह कहूंगी पर क्या मैं ने उन लोगों को गलत समझा…क्या वे ऐसा नहीं चाहते थे…नहीं चाहते होंगे तभी आंटी भी मुझ से बात करना चाहती हैं…

दरवाजा जूही ने खोला था. ‘हैलो’ कर के मुझे सोफे पर बैठा कर वह अंदर चली गई.

उस के पति ने बाहर आते ही नमस्ते का जवाब दे कर बैठते ही बिना किसी भूमिका के बात शुरू कर दी, ‘‘दिखने में तो आप ठीकठाक लगती हैं, लेकिन लगता है समाज सेविका बनने का शौक रखती हैं. समाजसेवा के लिए आप को सब से पहले हमारा ही घर मिला था?’’

मैं डर गई. मौन रही, लेकिन फिर पता नहीं कहां से मुझ में बोलने की हिम्मत आ गई, ‘‘मि. अजय, इस में समाजसेवा की बात नहीं है. मुझे जो महसूस हुआ मैं ने वह कहा और मेरे दिल ने जो कहा मैं ने वही किया. जब दो प्यार करने वाले लड़कालड़की को उन के मांबाप एक बंधन में खुशीखुशी बांध देते हैं तो बच्चे अपने मांबाप के प्यार को एक होते क्यों नहीं देख पाते? समाज क्यों इसे असामाजिक मानता है? क्या बड़ी उम्र में प्यार नहीं हो सकता? और हो जाए तो कोई क्या करे? प्यार करना क्या पाप है…नहीं…प्यार किसी भी उम्र में पाप नहीं है…वैसे भी इस उम्र का प्यार तो बिलकुल निश्छल और सात्विक होता है, इस में वासना नहीं, स्नेह होता है…शुद्ध स्नेह…

‘‘इतने अनुभवी 2 लोग दूसरे की भावनाओं को समझते हुए संभोग के लिए नहीं, सहयोग के लिए मिलन की इच्छा रखते हैं. इस में क्या गलत है, अगर हम उन की इच्छाओं को समझते हुए उन के मिलन के साक्षी बनें. बच्चों की हर इच्छा पूरी करना यदि मांबाप का फर्ज है तो क्या बच्चों का कोई फर्ज नहीं है? क्या बच्चे हमेशा स्वार्थी ही रहेंगे…बाकी आप की मां हैं, आप जानें और वह…मुझे तो उन से एक अनजाना सा स्नेह हो गया है, एक अजीब सा रिश्ता बन गया है, उसी के नाते मैं ने उन के दिल की बात समझ ली थी…शायद मैं अपनी हद से आगे बढ़ गई थी…’’

ये भी पढ़ें- फुल टाइम मेड: क्या काजोल के नखरे झेलने में कामयाब हुई सुमी ?

इतना कह कर मैं वहां से चलने को तत्पर हुई तभी अंदर से तालियों की गड़गड़ाहट सुनाई दी. सामने कमरे के दरवाजे से 3 दंपती तालियां बजाते हुए ड्राइंगरूम में प्रवेश कर रहे थे. सभी के चेहरे पर हंसी थी. अब तक जूही और अजय भी उन में शामिल हो गए थे. मैं समझ नहीं पाई कि माजरा क्या है. तभी उन के पीछे 3-4 छोटेछोटे हाथों का सहारा ले कर सुमेधा आंटी और शर्मा अंकल चले आ रहे थे.

जूही ने मेरे पास आ कर मेरा सब से परिचय करवाया, ‘‘ये शर्मा अंकल के दोनों बेटेबहुएं और ये मेरी प्यारी सी ननद और उन के पति हैं और वह जो तुम देख रही हो न नन्हे शैतान, जो ‘ममा’ के साथ खडे़ हैं, वे शर्मा अंकल के दोनों पोते और पोती हैं और अंकल के साथ मेरी ननद का बेटा और मेरा बेटा है. बच्चों ने कितनी जल्दी अपने नए दादादादी और नानानानी को स्वीकार कर लिया. ये तो हम बडे़ ही हैं जो हर काम में देर करते हैं.

‘‘मालिनी, आज से मेरी एक नहीं दो ननदें हैं,’’ जूही भावुक हो कर बोली, ‘‘उस दिन तुम्हारी बातों ने मुझ पर गहरा असर डाला, लेकिन सब को तैयार करने में मुझे इतने दिन लग गए. शायद तुम्हारी तरह सच्ची भावना की कमी थी या फिर एक ही मुलाकात में अपनी बात समझा पाने की कला का अभाव…खैर, अंत भला तो सब भला.’’

मैं बहुत खुश थी. तभी जूही मेरे हाथ में 2 अंगूठियां दे कर बोली, ‘‘मालिनी दी, यह शुभ काम आप के ही हाथों अच्छा लगेगा.’’

मैं हतप्रभ सी अंगूठियां हाथ में ले कर अंकलआंटी की ओर बढ़ चली. मैं स्वयं को रोक नहीं पाई. मैं दोनों के गले लग गई…उन दोनों के स्नेहिल हाथ मेरे सिर पर आशीर्वाद दे रहे थे.

ये भी पढ़ें- संपूर्णा: पत्नी को पैर की जूती समझने वाले मिथिलेश का क्या हुआ अंजाम

एक नई पहल: भाग 1- जब बुढा़पे में हुई एक नए रिश्ते की शुरुआत

भाग-1

‘‘भाभी…जल्दी आओ,प्लीज,’’ मेघा की आवाज सुन कर मैं दौड़ी चली आई.

‘‘क्या बात है, मेघा?’’ मैं ने प्रश्न- सूचक दृष्टि उस की तरफ डाली तो मेघा ने अपनी दोनों हथेलियों के बीच मेरा सिर पकड़ कर सड़क की ओर घुमा दिया, ‘‘मेरी तरफ नहीं भाभी, पार्क की तरफ देखो…वहां सामने बैंच पर लैला बैठी हैं.’’

‘‘अच्छा, तो उन आंटी का नाम लैला है…तुम जानती हो उन्हें?’’

‘‘क्या भाभी आप…’’ मेघा चिढ़ते हुए पैर पटकने लगी, ‘‘मैं नहीं जानती उन्हें, पर वह रोज यहां इसी समय इसी बैंच पर आ कर बैठती हैं और अपने मजनू का इंतजार करती हैं. भाभी, मजनूं बस, आता ही होगा…वह देखो…वह आ गया…अब देखो न इन दोनों के चेहरों की रंगत…पैर कब्र में लटके हैं और आशिकी परवान चढ़ रही है…’’

मैं ने उसे बीच में ही टोकते हुए कहा, ‘‘इस उम्र के लोगों का ऐसा मजाक उड़ाना अच्छी बात नहीं, मेघा.’’

‘‘भाभी, इस उम्र के लोगों को भी तो ऐसा काम नहीं करना चाहिए…पता नहीं कहां से आते हैं और यहां छिपछिप कर मिलते हैं. शर्म आनी चाहिए इन लोगों को.’’

‘‘क्यों मेघा, शर्म क्यों आनी चाहिए? क्या हमतुम दूसरों से बातें नहीं करते हैं?’’

‘‘हमारे बीच वह चक्कर थोड़े ही होता है.’’

ये भी पढ़ें- Mother’s Day Special: फैसला-बेटी के एक फैसले से टूटा मां का सपना

‘‘तुम्हें क्या पता कि इन के बीच क्या चक्कर है? क्या ये पार्क में बैठ कर अश्लील हरकतें करते हैं या आपस में लड़ाईझगड़ा करते हैं, मेरे हिसाब से तो यही 2 बातें हैं कि कोई तीसरा व्यक्तिउन का मजाक बनाए. फिर जब तुम उन्हें जानती ही नहीं हो तो उन के रिश्ते को कोई नाम क्यों देती हो.’’

‘‘रिश्ते को नाम कहां दिया है भाभी, मैं ने तो उन को नाम दिया है,’’ मेघा तुनक कर बोली, ‘‘मैं ने तो आप को यहां बुला कर ही गलती कर दी,’’ यह कहते हुए मेघा वहां से चल दी.

उस के जाने के बाद भी मैं कितनी देर यों ही बालकनी में बैठी उन दोनों बुजुर्गों को देखती रही और सोचती रही कि मांबाप अब समझदार हो गए हैं. लड़केलड़की की दोस्ती पर एतराज नहीं करते. समाज भी उन की दोस्ती को खुले दिल से स्वीकार रहा है, लेकिन 2 प्रौढ़ों की दोस्ती के लिए समाज आज भी वही है…उस की सोच आज भी वही है.

पार्क में बैठे अंकलआंटी को देख कर वर्षों पुरानी एक घटना मेरे मन में फिर से ताजा हो गई.

पुरानी दिल्ली की गलियों में मेरा बचपन बीता है. उस समय लड़के शाम को आमतौर पर गुल्लीडंडा या कबड्डी खेल लिया करते थे और लड़कियां छत पर स्टापू, रस्सी कूदना या कुछ बड़ी होने पर यों ही गप्पें मार लिया करती थीं. इस के साथसाथ गली में कौन आजा रहा है, किस का किस के साथ चक्कर है, किस ने किस को कब इशारा किया आदि की भी चर्चा होती रहती थी.

मैं भी अपनी सहेलियों के साथ शाम के वक्त छत पर खड़ी हो कर यह सब करती थी. एक दिन बात करतेकरते अचानक मेरी सहेली रेणु ने कहा, ‘देखदेख, वह चल दिए आरती के दादाजी…देख कैसे चबूतरे को पकड़- पकड़ कर जा रहे हैं.’

मैं ने पूछा, ‘कहां जा रहे हैं.’

‘अरे वहीं, देख सामने गुड्डन की दादी निकल आई हैं न अपने चबूतरे पर.’

और मैं ने देखा, दोनों बैठे मजे से बातें करने लगे. रेणु ने फिर कहा, ‘शर्म नहीं आती इन बुड्ढेबुढि़या को…पता है तुझे, सुबह और शाम ये दोनों ऐसे ही एकदूसरे के पास बैठे रहते हैं.’

‘तुझे कैसे पता? सुबह तू स्कूल नहीं जाती क्या…यही देखती रहती है?’

‘अरे नहीं, मम्मी बता रही थीं, और मम्मी ही क्या सारी गली के लोगों को पता है, बस नहीं पता है तो इन के घर वालों को.’

उस के बाद मैं ने भी यह बात नोट करनी शुरू कर दी थी.

कुनकुनी ठंड आ चुकी थी. रविवार का दिन था. मैं सिर धो कर छत पर धूप में बैठी थी. आदतन मेरी नजर उसी जगह पड़ गई. आरती के दादाजी अखबार पढ़ कर शायद गुड्डन की दादी को सुना रहे थे और दादी मूंगफली छीलछील कर उन्हें पकड़ा रही थीं. यह दृश्य मुझे इतना भाया कि मैं उसे हमेशा के लिए अपनी आंखों में भर लेना चाहती थी.

मुंडेर पर झुक कर अपनी ठुड्डी को हथेली का सहारा दिए मैं कितनी ही देर उन्हें देखती रही कि अचानक आरती दौड़ती हुई आई और अपने दादाजी से जाने क्या कहा और वह एकदम वहां से उठ कर चले गए. गुड्डन की दादी की निरीह आंखें और मौन जबान से निकले प्रश्नों का उत्तर देने के लिए भी उन्होंने वक्त जाया नहीं किया. ‘पता नहीं क्या हुआ होगा,’ सोचते- सोचते मैं भी छत पर बिछी दरी पर आ कर बैठ गई.

अभी पढ़ने के लिए अपनी किताब उठाई ही होगी कि गली में से बहुत जोरजोर से चिल्लाने की आवाज आने लगी. कुछ देर अनसुना करने के बाद भी जब आवाजें आनी बंद नहीं हुईं तो मैं खड़ी हो कर गली में देखने लगी.

देखा, गली में बहुत लोग खड़े हैं. औरतें और लड़कियां अपनेअपने छज्जों पर खड़ी हैं. शोर आरती के घर से आ रहा था. उस के पिताजी अपने पिताजी को बहुत जोरजोर से डांट रहे थे…‘शर्म नहीं आती इस उमर में औरतबाजी करते हुए…तुम्हें अपनी इज्जत का तो खयाल है नहीं, कम से कम मेरा तो सोचा होता…इस से तो अच्छा था कि जब मां मर गई थीं तभी दूसरी बिठा लेते…सारी गली हम पर थूथू कर रही है…अरे, रामचंदर ने तो अपनी मां को खुला छोड़ रखा है…पर तुम में अपनी अक्ल नहीं है क्या…खबरदार, जो आज के बाद गली में पैर रखा तो…’

ये भी पढ़ें- कीमती चीज: पैसों के लालच में सौतेले पिता ने क्या काम किया

जितनी चीखचीख कर ये बातें कही गई थीं उन से क्या उन के घर की बेइज्जती नहीं हुई पर यह कहने वाला और समझाने वाला आरती के पिताजी को कोई नहीं था. हां, ये आवाजें जैसे सब ने सुनीं वैसे ही सामने गुड्डन की दादी और उन के बाकी घर वालों ने भी सुनी होंगी.

कुछ देर बाद भीड़ छंट चुकी थी. उस दिन के बाद फिर कभी किसी ने दादी को चबूतरे पर बैठे नहीं देखा. बात सब के लिए आईगई हो चुकी थी.

अचानक एक रात को बहुत जोर से किसी के चीखने की आवाज आई. मेरी परीक्षा नजदीक थी इस कारण मैं देर तक जाग कर पढ़ाई कर रही थी. चीख सुन कर मैं डर गई. समय देखा, रात के डेढ़ बजे थे. कुछ देर बाद किसी के रोने की आवाज आई. खिड़की खोल कर बाहर झांका कि यह आवाज किस तरफ से आई है तो देखा आरती के घर के बाहर आज फिर लोग इकट्ठा होने शुरू हो गए हैं.

मेरे पिताजी भी घर से बाहर निकल चुके थे…कुछ लोग हमारे घर के बाहर चबूतरे पर बैठे धीरेधीरे बोल रहे थे, ‘बहुत बुरा हुआ यार, महेश को समझाना पड़ेगा, मुंह अंधेरे ही अपने पिताजी की अर्थी ले चले, नहीं तो उस के पिताजी ने जो पंखे से लटक कर आत्महत्या की है, यह बात सारे महल्ले में फैल जाएगी और पुलिस केस बन जाएगा. महेश बेचारा बिन मौत मारा जाएगा.’

मैं सुन कर सन्न रह गई. दादाजी ने आत्महत्या कर ली…सब लोग उस दिन की बात भूल गए पर दादाजी नहीं भूल पाए. कैसे भूल पाते, उस दिन उन का आत्मसम्मान उन के बेटे ने मार दिया था. आज उन की आत्महत्या पर कैसे फूटफूट कर रो रहा है.

एक कर्कश सी आवाज तभी मेरे कानों में पड़ी और मेरी तंद्रा भंग हुई. मानो मैं नींद से जागी थी. किसी ने दरवाजे की घंटी बजाई थी. मैं ने कितनी बार अपने पति को कहा है कि इस बेल की आवाज मुझे बिलकुल पसंद नहीं है और जब कोई इसे देर तक बजाता है तो मन करता है बेल उखाड़ कर फेंक दूं.

गुस्से से दरवाजा खोलने गई. बेटी कोचिंग कर के वापस आई थी.

‘‘मिट्ठी, कितनी बार कहा है न कि एक बार बेल बजा कर छोड़ दिया करो. मैं बहरी नहीं हूं. एक बार में ही सुन लेती हूं.’’

‘‘ममा, मैं 10 मिनट से दरवाजे पर खड़ी हूं, पर आप ने घंटी नहीं सुनी और आप जरा अपना फोन देखिए, कितनी मिस काल मैं ने दरवाजे पर खडे़खडे़ दी हैं, आप ने फोन नहीं उठाया और अपने ही किए फोन की घंटी मैं दरवाजे के बाहर खड़ीखड़ी सुनती रही, क्या सो गई थीं आप?’’

अगले दिन बेटी के कोचिंग जाने के बाद मैं ताला लगा कर पार्क की ओर चल दी और अपने बैठने के लिए मैं ने वही बैंच चुनी जिस पर आंटी अकेली बैठी थीं. पसीना पोंछ कर मैं ने उन की ओर देखा तो वह पूछ बैठीं, ‘‘पहली बार सैर करने आई हो शायद.’’

मैं ने ‘हां’ में गर्दन हिला दी.

‘‘2-4 दिन ऐसे ही थकान लगेगी, पसीना आएगा, फिर आदत पड़ जाएगी,’’ आंटी मानो मेरी थकान भरी सांसों को थामने की कोशिश कर रही थीं.

मैं ने भी बात को आगे बढ़ाने के उद्देश्य से पूछा, ‘‘आप रोज आती हैं?’’

‘‘हां बेटी,’’ उन का छोटा सा उत्तर सुन कर मैं ने कहा, ‘‘मैं तो बहुत कोशिश करती हूं पर आंटी समय नहीं मिलता. आप कैसे नियमित रूप से आ जाती हैं.’’

‘‘तुम्हें समय नहीं मिलता और मेरे पास समय की कमी नहीं,’’ कहते हुए आंटी खिलखिला पड़ीं. तब तक मैं दोबारा सैर करने के लिए तैयार हो चुकी थी. मैं जैसे ही उठी, देखा सामने से अंकल आ रहे थे. यह सोच कर मैं वहां से चल दी कि आज के लिए इतना ही काफी है.

अब मेरा यह नियम ही हो गया था. रोज की मुलाकात व बातचीत में यह पता चला कि आंटी यानी मिसेज सुमेधा कंसल सरकारी स्कूल की रिटायर्ड प्रिंसिपल हैं. बच्चे अपनीअपनी गृहस्थी में मगन हैं. एक दिन मैं ने पूछा भी था, ‘‘आंटी, जब आप प्रिंसिपल रह चुकी हैं तो आप अपने नातीपोतों को पढ़ा सकती हैं, आप के समय का सदुपयोग भी हो जाएगा.’’

एक फीकी सी हंसी के साथ आंटी बोलीं, ‘‘बेटी दूसरे शहर में रहती है. बेटे के भी एक ही बेटा है और वह देहरादून में पढ़ता है. होस्टल में रहता है. बेटा और बहू दोनों ही मुझे हर सुखसुविधा देते हैं, मानसम्मान भी रखते हैं लेकिन अपने- अपने कैरियर की ऊंचाइयां पाने में व्यस्त हैं. घर पर मैं बस, अकेली…’’

‘‘तो आंटी कोई सोशल सर्विस या अन्य कोई ऐसा काम जो आप को रुचिकर लगे, क्यों नहीं करतीं?’’

‘‘मैं जैसी सोशल सर्विस करना चाहती हूं वह बच्चों को पसंद नहीं है और ऊंची शानशौकत वाली सोशल सर्विस मैं कर नहीं सकती. हां, मुझे कविता और कहानियां लिखना रुचिकर लगता है और वह मैं लिखती हूं. लेकिन यह शाम का समय घर में अकेले नहीं बीतता…कोई तो बात करने के लिए चाहिए…नहीं तो हम बोलना ही भूल जाएंगे और हमारी भाषा समाप्त हो जाएगी. हां, अगर तुम्हारे अंकलजी होते तो…’’

‘‘अभी अंकलजी आप को लेने नहीं आएंगे क्या?’’ मैं ने अनजान बनते हुए पूछा.

‘‘नहीं बेटा, जिन्हें तुम रोज मेरे साथ बात करते देखती हो वह भी मेरी ही तरह अकेले हैं. मेरे पति तो 20 वर्ष पहले ही गुजर चुके हैं. उन के जाने के बाद भी अकेलापन था लेकिन वह वक्त तो बच्चों को पालने और नौकरी करने में जैसेतैसे बीत गया और शर्माजी, जो अभी आने ही वाले होंगे, वह भी अपनी जीवन संगिनी को 7-8 वर्ष पहले खो चुके हैं.

ये भी पढ़ें- बीबीआई: क्या आसान है पत्नी की नजरों से बचना

‘‘शर्माजी तो मुझ से ज्यादा अकेले हैं. मेरी बहू जूही मेरे बहुत करीब है, फिर फोन पर हर तीसरे दिन बेटी से भी बात हो जाती है लेकिन वह तो मर्द हैं न, बहुओं से ज्यादा घुलमिल नहीं पाते, बेटों के पास फुर्सत नहीं है. ऐसा नहीं कि बहूबेटे उन का खयाल नहीं रखते लेकिन आज सब अपने में व्यस्त हैं. नौकरीपेशा बहुएं 24 घंटे तो हाथ बांधे नहीं खड़ी रह सकतीं न और नौकरीपेशा ही क्यों, घर में रहने वाली बहुएं भी ऐसा कहां कर सकती हैं…यद्यपि इनसान ऐसा करना चाहता है लेकिन वक्त है कि वह हम सब को अपनी उंगली पर नचाता रहता है.

‘‘जैसे बच्चे, बच्चों की संगत में, जवान, जवानों के साथ, ऐसे ही हम बूढे़ बूढ़ों की संगत में खुश रहते हैं. बच्चों के साथ कभी हमें बच्चा बनना पड़ता है, अच्छा लगता है, लेकिन मन की बात तो किसी हमउम्र से ही शेयर की जा सकती है. बस, शर्माजी हैं, आते हैं…साझा दुख साझा सुख…कुछ इधर की कुछ उधर की…और फिर अगले दिन मिलने की उम्मीद में पूरे 24 घंटे बीत जाते हैं.’’

तभी सामने से शर्माजी आते दिखाई दिए. मैं उठ कर चलने लगी. आज सुमेधाजी ने मुझे रोक लिया.

‘‘इन से मिलिए. ये हैं, मिसेज मालिनी अग्रवाल, यहीं सामने के फ्लैट में रहती हैं और बेटा, ये हैं मि. शर्मा… रिटायर्ड अंडर सेके्रटरी.’’ हम दोनों में नमस्ते का आदानप्रदान हुआ और मैं वहां से चल दी. -क्रमश:

एक नई पहल: भाग 2- जब बुढा़पे में हुई एक नए रिश्ते की शुरुआत

पूर्व कथा

एक दिन शाम को मेघा, मालिनी को पार्क में बैठे 2 वृद्ध अजनबियों को दिखा कर उन के रिश्ते का मजाक उड़ाती है. मालिनी के समझाने पर मेघा नाराज हो कर चली जाती है. तभी उसे बचपन की एक घटना याद आ जाती है.

मालिनी की सहेली रेणु बताती है कि गुड्डन की दादी और आरती के दादाजी के बीच कुछ चक्कर है. अत: वृद्धों के परिवार वाले उन को बुराभला कहते हैं. इस बदनामी को आरती के दादाजी सहन नहीं कर पाते और आत्महत्या कर लेते हैं.

डोरबेल की आवाज सुन कर मालिनी अतीत की यादों से बाहर निकलती है. अगले दिन बेटी के कोचिंग क्लास जाते ही वह पार्क में उस जगह पर जाती है जहां दोनों वृद्ध बैठते थे. पहली ही मुलाकात में वृद्धा यानी मिसेज सुमेधा बताती हैं कि वह रिटायर्ड प्रिंसिपल हैं. हालांकि बेटेबहू उस का बहुत खयाल रखते हैं, लेकिन कामकाजी होने के कारण ज्यादा व्यस्त रहते हैं. बेटी की शादी हो चुकी है और उन्हें मेरी सोशल सर्विस पसंद नहीं है. बातों ही बातों में मालिनी उन के पति के बारे में पूछती है तो वह बताती हैं कि पति को मरे 20 साल हो गए हैं जिन्हें तुम मेरे साथ बैठे देखती हो वह तो शर्माजी हैं.

फिर वह शर्माजी के बारे में बताती हैं कि उन की पत्नी का देहांत हो गया है वह भी अकेले हैं. नौकरीपेशा होने के कारण बेटेबहू समय नहीं दे पाते. इसीलिए खाली समय व्यतीत करने के लिए पार्क में आते हैं. जैसे बच्चों को बच्चों का साथ अच्छा लगता है वैसे ही बुजुर्गों को बुजुर्गों की संगति अच्छी लगती है.

मालिनी और मिसेज सुमेधा बातों में व्यस्त रहती हैं तभी सामने से शर्माजी आ जाते हैं सुमेधा आंटी और अब आगे…

ये भी पढ़ें- एक गलत सोच: बहू सुमि के आने से क्यों परेशान थी सरला

अंतिम भाग

गतांक से आगे…

‘‘इन से मिलिए. ये हैं, मिसेज मालिनी अग्रवाल, यहीं सामने के फ्लैट में रहती हैं और बेटा, ये हैं मि. शर्मा…रिटायर्ड अंडर सेके्रटरी.’’

हम दोनों में नमस्ते का आदानप्रदान हुआ और मैं वहां से चल दी.

उसी शाम मुझे अपने ससुर की बीमारी का पता चला और मैं लखनऊ चली गई. पूरे 7 दिन वहां लग गए. वापस आई तो थकान के कारण मेरा पार्क में जाने का मन नहीं हुआ सो मैं बालकनी में ही खड़ी हो गई. देखा, आज बैंच पर सुमेधा आंटी नहीं हैं. और शर्माजी को पार्क के गेट के बाहर जाते देखा. इस का मतलब आज आंटी आई ही नहीं…एक अनजाना सा भय मन में आया और मैं भाग कर नीचे उतर आई और सड़क तक पहुंच चुके शर्माजी को आवाज दे दी.

शर्माजी से पता चला कि आंटी की तबीयत ठीक नहीं है.

‘‘अंकल, उन के घर का पता…फोन नंबर…कुछ है आप के पास?’’

‘‘हां, बेटा है तो लेकिन…चलो, तुम तो फोन कर ही सकती हो. बात कर के मुझे भी बताना.’’

मैं ने फोन कर के सुमेधा आंटी से मिलने की इच्छा जाहिर की. अगली सुबह घर के कामों से फ्री हो कर मैं उन का पता ढूंढ़ते हुए उन के घर पहुंच गई. आंटी का घर बहुत ही खूबसूरती से सजा हुआ था. अभी मैं उन का हालचाल पूछ ही रही थी कि अंदर से एक महिला निकली.

‘‘जूही, इन से मिलो, यह मालिनी अग्रवाल हैं और बेटा, ये मेरी बहू जूही है.’’

जूही ने मुसकरा कर ‘हैलो’ कहा और मेरे लिए चायनाश्ता रख कर चलने लगी तो बोली, ‘‘अच्छा ममा, चलती हूं, 3 बजे मीटिंग है, उस की तैयारी करनी है. रात के लिए मैं ने मीना को बोल दिया है. आप को जो खाना हो बनवा लीजिएगा. प्लीज ममा, रेस्ट ही कीजिएगा,’’ और मुझे अभिवादन कर के वह चल दी.

जितनी देर मैं वहां बैठी, आंटी उतनी देर शर्मा अंकल के बारे में ही पूछती रहीं कि वे कैसे हैं…उन्हें कह देना मेरी चिंता न करें…मैं ठीक हो जाऊंगी. फिर अंत में हिचकते हुए बोलीं, ‘‘बेटा, मेरी ओर से तुम शर्माजी से सौरी बोल देना.’’

मैं ने प्रश्नसूचक दृष्टि से आंटी की ओर देखा तो बोलीं, ‘‘3-4 दिन से रोज शर्माजी का फोन मेरा हालचाल जानने के लिए आ रहा था, लेकिन कल जूही ने कुछ तीखातीखा सुना दिया…असल में जूही नहीं चाहती कि मैं पार्क में जाऊं. उसे डर है कि थकान से मेरी तबीयत बिगड़ जाएगी और उधर शर्माजी इतने दिनों से अकेले…उन से कहना कि अब बुखार नहीं है, कमजोरी दूर होते ही मैं पार्क आऊंगी.’’

‘‘आंटी, शर्मा अंकल को यहीं ले आऊं क्या?’’

‘‘क्या तुम ला सकोगी? अच्छा है, मैं बिस्तर में पडे़पडे़ ऊब गई हूं,’’ आंटी की आंखों में आई चमक मुझ से छिपी न रह सकी. यही चमक मैं ने शाम को शर्माजी की आंखों में महसूस की, जब मैं ने उन्हें अगले दिन आंटी के घर चलने के लिए कहा.

अब सुमेधा आंटी ने दोबारा पार्क में आना शुरू कर दिया था. एक शाम जब आंटी पार्क में बैठी थीं, मैं ने उन के घर फोन किया. इरादा था कि नौकरानी से जूही के आफिस का फोन नंबर या उस का मोबाइल नंबर ले लूंगी, कुछ खास बात करनी थी.

जूही देखने में जितनी आकर्षक थी, फोन पर उस की आवाज भी उतनी ही लुभाने वाली लगी. जब मैं ने उसे अपनी उस दिन वाली मुलाकात याद दिलाई और उस से मिलने के लिए वक्त मांगा तो वह हैरान अवश्य हुई लेकिन फौरन ही मुझे अगले दिन लंच टाइम में अपने आफिस आने को कह दिया.

‘‘जूहीजी, आप मुझे सिर्फ एक मुलाकात भर जानती हैं लेकिन मैं ने आप के बारे में आप की सास से काफी तारीफ सुनी है. सच कहूं, जितना मैं ने सोचा था, आप को उस से बढ़ कर पाया है…नहीं…नहीं…यह मैं आप के सामने होने के कारण नहीं कह रही हूं. मैं ने ऐसा महसूस किया है इसीलिए मैं आज आप से कुछ कहने की हिम्मत जुटा पाई हूं.’’

जूही की हलकी सी मुसकान ने मेरे हौसले को हवा दे दी और मैं ने धीरेधीरे सुमेधा आंटी और शर्माजी की दोस्ती के बारे में उसे विस्तार से बता दिया. साथ ही मैं ने यह भी स्पष्ट कर दिया कि आज तक सुमेधा आंटी और शर्माजी से मैं ने व्यक्तिगत तौर पर इस बारे में कोई चर्चा नहीं की है, यह सबकुछ मैं ने स्वयं महसूस किया है.

मैं ने नोट किया कि जूही बहुत गंभीरता से मेरी बातों को सुन रही है. बात को आगे बढ़ाते हुए मैं ने कहा, ‘‘देखिए, जूहीजी, आप भी औरत हैं और मैं भी, सोच कर देखिए…सुमेधाजी के मन का खालीपन…आप उन्हें सबकुछ दे रही हैं, जो एक बहू होने के नाते दे सकती हैं…शायद उस से भी ज्यादा लेकिन आज उन के मन ने एक बार फिर वसंत पाने की कामना की है. क्या आप दे सकती हैं?’’

ये भी पढ़ें- Mother’s Day Special: जिद- मां के लाड़दुलार के लिए तरसी थी रेवा

कुछ पल हम दोनों के बीच ऐसे ही मौन में बीत गए. फिर जूही ने ही बात शुरू की, ‘‘ममा, जानती हैं कि आप यहां…’’

‘‘जी नहीं,’’ मैं ने बीच में बात काट कर कहा, ‘‘इस बारे में कभी भी आंटी के साथ मेरी कोई बात नहीं हुई.’’

‘‘मालिनीजी, एक बात मैं आप से और पूछना चाहती हूं,’’ जूही ने मेरी ओर देख कर कहा, ‘‘आप ने यह बात मुझ से क्यों की, अजय से, मेरा मतलब मेरे हसबैंड से क्यों नहीं की…आफ्टरआल, वह बेटे हैं उन के.’’

‘‘जूहीजी, आप तो जानती हैं, बच्चों के लिए मां क्या होती है, वह भी बेटे के लिए…वह उसे देवी का दर्जा देते हैं…अपनी मां के बारे में इस विषय पर बात करना कोई भी बेटा कभी गवारा नहीं करता. मां की ‘पर पुरुष से दोस्ती’ बेटे के लिए डंक होती है. बहुत ही कठिन होता है उन्हें यह समझाना.

‘‘आप चूंकि उन की पत्नी हैं, आप समझ जाएंगी तो केवल आप ही हैं जो अपने पति को अपने तरीके से समझा पाएंगी. मैं ठहरी बाहर की, मेरा इतना हक नहीं है…आप मेरी हमउम्र हैं, और जैसा मैं ने आंटी से जाना कि खुली विचारधारा की हैं और फिर इस सब के ऊपर आप उन की बहू हैं.’’

‘‘लेकिन शर्माजी अपनी पहली पत्नी को भूल तो नहीं पाए होंगे. ऐसी हालत में मम्मीजी को वह सबकुछ मिल पाएगा?’’

‘‘जूहीजी, आप की इस बात से मुझे आंतरिक खुशी हो रही है कि आप अपनी सास के लिए कितनी चिंतित हैं लेकिन आप भूल रही हैं कि आंटी भी तो अभी तक अपने पति को नहीं भूली हैं. ये भूलने वाली बातें होती भी नहीं हैं…जब तक सांस है, यही यादें तो अपनी होती हैं. ये यादें 2 युवाओं के बीच तो दरार पैदा कर सकती हैं परंतु बुजुर्ग लोग तो अपनीअपनी यादों को भी एकदूसरे से बांट कर ही सुख का अनुभव कर लेते हैं.’’

‘‘लेकिन  शर्माजी के घर वाले…’’ जूही अपने सारे संशय मुझ से बांट रही थी जो सुमेधाजी से उस की आत्मीयता को उजागर कर रहे थे.

आगे पढ़ें- मैं जूही के साथ एक दोस्त की तरह…

ये भी पढ़ें- Mother’s Day Special: रोशनी- मां के फैसले से अक्षिता हैरान क्यों रह गई?

अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें