हम साथ साथ हैं: क्या जौइंट फैमिली में ढल पाई पीहू

family story in hindi

हम साथ साथ हैं: भाग 3- क्या जौइंट फैमिली में ढल पाई पीहू

अगले रविवार पीहू सुबह से ही चहक रही थी. हर्ष और उस के मम्मीपापा को 11 बजे आना था. रेखा चाय, नाश्ते और लंच की तैयारी कर रही थी. घर के कामकाज के लिए तो नौकर थे लेकिन खाना बनाने का काम वह खुद करती थी. नौकरों से खाना बनाना उसे पसंद नहीं था, क्योंकि नईनई डिश बनाने का शौक उसे छुटपन से रहा है.

वैसे भी, छोटी सी फैमिली के लिए खाना बनाना उस के लिए कोई मुश्किल काम नहीं था.

रेखा ने चाय के साथ के लिए स्नैक्स तो बाजार से मंगा लिए थे जैसे रसगुल्ले, ढोकला, प्याज कचौड़ी, ड्राईफ्रूट, नमकीन, काजू बिस्कुट आदि. लंच के लिए उस ने अपने हाथों से मलाई कोफ्ते, मटर पनीर, भरवां करेले, खट्टे छोले और शाही पुलाव, दहीभल्ले बनाए थे. सब तैयारी हो गई थी.

पीहू 10 बजे तैयार होने लगी थी. उस ने अपना फेवरेट पीला सूट निकाला था. नहाने के बाद वह ड्रैसिंग टेबल के सामने बैठी ही थी कि उस का मोबाइल बजा. हर्ष की कौल थी.

‘‘बोलो हर्ष.’’

‘‘पीहू, प्रोग्राम थोड़ा चेंज है.’’

‘‘क्या?’’

‘‘अरे, अभी मम्मीपापा नहीं आएंगे बल्कि मेरे साथ दोनों चाचाचाची, ताऊजीताईजी, छोटी बूआ और कुछ कजिंस भी साथ आएंगे. तुम लोगों को कोई एतराज तो नहीं?’’

‘‘अरे एतराज कैसा, यू आर मोस्ट वैलकम.’’

‘‘ओह, लव यू पीहू. ओके, तो हम 11.30 बजे तक पहुंच जाएंगे सी यू.’’

पीहू ने फटाफट से मम्मीपापा को बताया.

‘‘अरे इतने लोगों को आना था तो कल रात को बता देते, तैयारी उसी हिसाब से करते,’’ विनय झल्लाते हुए बोले.

‘‘हां, मैं खाना भी उसी हिसाब से तैयार करती,’’ रेखा भी बोली.

‘‘मम्मी और खाना बाहर से और्डर कर देना. क्या फर्क पड़ता है,’’ पीहू लापरवाही से बोली.

‘‘अच्छाअच्छा, बहस छोड़ो, सब तैयार हो जाओ. मैं देखता हूं,’’ विनय बोले.

पीहू तो अपनी मस्ती में चली गई लेकिन विनय और रेखा एकदूसरे का मुंह देखने लगे.

‘‘लो, अभी तो रिश्ता जुड़ा भी नहीं और मुसीबतें शुरू हो गईं. पता नहीं पीहू को भी यही लड़का मिला था,’’ विनय बोले.

‘‘अब एक ही बेटी है. उस की खुशी के लिए तो सब करना ही पड़ेगा,’’ रेखा ने विनय को समझाते हुए कहा.

पीहू हर्ष के कजिंस के बीच घिरी हुई थी. ड्राइंगरूम सब से भरा हुआ था. ठहाकोंकहकहों से घर गूंज रहा था. चाय, कौफी, कोल्डड्रिंक के साथ स्नैक्स का दौर चल रहा था. विनय और रेखा आराम से सोफे पर बैठे थे. नौकर छोटू के साथ हर्ष के कजिंस ने रसोई का मोरचा संभाल लिया था.

ये भी पढ़ें- बरसात की रात: क्या थी चमेली की कहानी

रश्मि, हर्ष की बूआ की बेटी, बोली,

‘‘आंटी, बाहर से और खाना और्डर

करने की कोई जरूरत नहीं है. मैं ने छोटू को चावल उबालने के लिए बोल दिया है. मिक्स दाल मैं ने उबलने को रख दी है और आलू उबल रहे हैं. आप कोई टैंशन मत लो. आप आराम से बैठिए, हम सब देख लेंगे. हमारी वजह से आप को कोई तकलीफ नहीं होगी.’’

‘‘हां आंटी, वह तो हर्ष भैया ने हमें पीहू भाभी के बारे में हवा नहीं लगने दी थी लेकिन तब भी शक तो हमें था. और जब पता चला कि आज आप के घर जा रहे हैं तो पीहू भाभी को देखने का मौका हम भला कैसे छोड़ सकते थे,’’ दीपा, हर्ष के चाचा की बेटी, बोली.

‘‘विनय भाई, हमारा परिवार ही हमारी पूंजी है. सब भाईबहनों में आपस में खूब स्नेहप्यार है. एकदूसरे के लिए कुछ भी करने को तैयार रहते हैं. घर में हमारे तो इसी तरह धमाचौकड़ी चलती रहती है. पीहू को किसी बात की कोई दिक्कत नहीं रहेगी. इस बात से आप बेफ्रिक रहो,’’ हर्ष के ताऊजी बोले तो विनय ने कहा, ‘‘भाईसाहब, यह तो मैं देख ही रहा हूं. आज मेरे घर में त्योहार सा माहौल बना हुआ है. बच्चियों ने बिलकुल अपने घर की तरह रसोई संभाल ली है. हर्ष के भाइयों के साथ पीहू को हंसताबोलता देख रहा हूं तो ऐसा लग रहा है उस के जीवन में भाइयों की कमी अब पूरी हो जाएगी,’’ विनय ने कहा.

‘‘अंकलजी, अब पीहू भाभी को अपनी बोरियत दूर करने के लिए अकेले मौल घूमने नहीं जाना पड़ेगा,’’ हर्ष के छोटे चाचा के बेटे की बात सुन कर सभी हंस पड़े.

‘‘हांहां, तुम्हारी आइटम टोली के होते भला क्यों अब वह अकेली घूमेगी,’’ बूआ ने भी अपनी बात जोड़ी.

लंचटाइम में सब लोगों ने खूब मजे लेले कर खाना खाया. सब रेखा के खाने की तारीफ करते नहीं थके.

सबकुछ बहुत परफैक्ट रहा. तय हुआ कि शादी महीने के अंदरअंदर कर देते हैं क्योंकि हर्ष की कंपनी वाले उसे डेढ़ महीने बाद विदेश भेज रहे हैं एक महीने के लिए. हर्ष की मम्मी चाहती थीं कि पीहू भी हर्ष के साथ चली जाए.

सभी इस बात से राजी हो गए. बस, दोनों तरफ से शादी की तैयारियां शुरू हो गईं.

‘‘हर्ष, मुझे अब पता चल रहा है कि पैरोंतले पांव न पड़ना क्या होता है. सच में मैं आजकल हवा में उड़ रही हूं. मैं इतनी खुश हूं कि बता नहीं सकती. सोचा नहीं कि मुझे तुम जैसा प्यार करने वाला इतना प्यारा जीवनसाथी मिलेगा,’’ पीहू हर्ष की बांहों में समाई जा रही थी.

‘‘पीहू, मुझे तुम मिल गईं तो ऐसा लग रहा है जैसे मैं ने दुनियाजहान की खुशियां पा ली हैं. अब तो ये थोड़े से दिन भी तुम से दूर रहना मुश्किल हो रहा है,’’ हर्ष पीहू का चेहरा अपने हाथों में ले कर बोला ही था कि अचानक पीहू का मोबाइल बज उठा.

‘‘हां, मम्मी बोलो.’’

‘‘पीहू, बेटा तू कहां है,’’ रेखा बहुत घबराई सी आवाज में बोली.

‘‘क्या बात है मम्मी, जल्दी बोलो, मुझे घबराहट हो रही है.’’

‘‘पीहू, तेरे पापा को छाती में दर्द उठा था. मैं ने डाक्टर सूरज को फोन किया तो उन्होंने एंबुलैंस भेज दी. मैं तेरे पापा को ले कर हार्टकेयर अस्पताल जा रही हूं. रास्ते में हूं, तू वहीं पहुंच.’’

‘‘मम्मी, आप घबराओ मत, पापा को कुछ नहीं होगा. मैं अभी पहुंचती हूं.’’

पूरे रास्ते हर्ष पीहू को तसल्ली देता रहा. पीहू जब अस्पताल पहुंची तब तक विनय को आईसीयू में ले जा चुके थे. सीवियर हार्टअटैक आया था. रेखा रोए जा रही थी.

‘‘आंटीजी, आप बिलकुल फिक्र मत करो. हम सब हैं न, अंकल ठीक हो जाएंगे.’’

थोड़ी देर में हर्ष के मम्मीपापा भी आ गए और हर्ष की मम्मी रेखा का हाथ अपने हाथ में ले कर उसे तसल्ली देने लगीं. रेखा को ऐसा लग रहा था जैसे उस की बहन उसे तसल्ली दे रही हो.

विनय की तीनों आर्टरी में ब्लौकेज था. तुरंत औपरेशन कर दिया गया और वह सफल रहा. अभी विनय को हफ्ताभर अस्पताल में ही रहना था.

ये भी पढ़ें- अजंता: आखिर क्या हुआ पूजा के साथ

इस दौरान हर्ष के घर वाले रेखा और पीहू के साथसाथ ही रहे. डाक्टरों से बात करना, दवाइयां लाना, जरूरी पेपर्स जमा करना, सारी भागदौड़ हर्ष और उस के भाई कर रहे थे. हर्ष की बहनें पीहू और रेखा का पूरा ध्यान रख रही थीं.

एक हफ्ते बाद विनय घर आ गए.

‘‘पापा, आप को स्ट्रैस लेने की कोई जरूरत नहीं है. सब काम हो जाएंगे,’’ पीहू पापा का तकिया ठीक करते

हुए बोली.

‘‘कैसे होगा बेटा सबकुछ, शादी की तैयारियां कम जिम्मेदारी का काम नहीं. शोरूम तो एक हफ्ते से बंद ही पड़ा होगा. कितना नुकसान हो गया,’’ विनय थोड़े चिंतित हो उठे.

‘‘विनय भाईसाहब, आप सारी चिंता हमारे ऊपर छोड़ दो,’’ हर्ष के पापा बोले. उन के साथ हर्ष के चाचा और उन के दोनों बेटे तन्मय और निखिल भी थे.

‘‘आइए, आइए, बैठिए,’’ रेखा ने खड़े हो कर सब का स्वागत किया.

‘‘भाईसाहब, आप का शोरूम चकाचक चल रहा है. तन्मय और निखिल को मैं ने वहां सुपरविजन के लिए एक हफ्ते से बैठा रखा है. पीहू भी आप की तरह शोरूम को ले कर परेशान थी.

‘‘ठीक कह रहे हैं भाईसाहब, अस्पताल में भी सारी भागदौड़ हर्ष, उस के चाचाओं और बच्चों ने की. हमें तो जरा भी तकलीफ नहीं हुई. यहां तक कि घर भी हर्ष की बूआ ने संभाला और पीहू को तो हर्ष की बहनों ने बिलकुल भी अकेला नहीं छोड़ा.’’

‘‘अरे समधनजी, आप और हम सब एक परिवार हैं. अगर आप शादी की तारीख आगे बढ़ाना चाहते हैं तो हम उस के लिए तैयार हैं. यदि नहीं, तो तैयारियों की जिम्मेदारी हम पर छोड़ दीजिए. हम हैं न सब देख लेंगे. पीहू बिटिया तो उसी दिन से हमारी हो गई थी जब से आप लोगों के घर पहले दिन आए थे.

‘‘नरेश भाईसाहब, जब आप जैसे लोग हमारे साथ हैं, आप का पूरा परिवार हमारे साथ है तो मुझे किसी बात की चिंता करने की अब जरूरत ही क्या है. आज लग रहा है कि परिवार में जब सब साथसाथ होते हैं तो कंधे अपनेआप जिम्मेदारी लेने के लिए मजबूत बन

जाते हैं. मैं तो डर रहा था कि इतना

फैला हुआ परिवार, इतने रिश्तेनाते, उन्हें निभातेनिभाते मेरी पीहू घबरा जाएगी, लेकिन नहीं. इन रिश्तों से मेरी पीहू वे सब खुशियां पाएगी जो उसे बचपन से नहीं मिलीं.’’

तभी हर्ष भी आ गया, ‘‘अरे अंकलजी, यह आप क्या कर रहे हैं. डाक्टर ने आप को अभी कम बोलने को कहा है.’’

‘‘अरे भाईसाहब, अब तो घर में खुशी का माहौल होना चाहिए. बच्चों की शादी होने वाली है. नाचगाना, खानापीना सब होगा. बस, आप आराम करो और भलेचंगे हो कर सब एंजौय करो. काम हम करेंगे, क्यों बच्चो?’’ हर्ष के चाचा बोले.

खुशी के मारे पीहू और रेखा की आंखें भर आईं. हर्ष पीहू के पास आया और बोला, ‘‘तुम्हें तो पता है, मैं कितना शरीफ हूं. इस वक्त सब के सामने ज्यादा कुछ नहीं बोल सकता, न ही कर सकता हूं. पर इतना जरूर कहूंगा, हम साथसाथ हैं.’’

पीहू किसी की परवा न करते हुए हर्ष के गले लग गई.

ये भी पढ़ें- विध्वंस के अवशेष से: क्या हुआ था ईला के साथ

हम साथ साथ हैं: भाग 1- क्या जौइंट फैमिली में ढल पाई पीहू

‘‘बताओ न हर्ष, तुम मुझ से कितना प्यार करते हो?’’

‘‘पीहू, रोजरोज यह सवाल पूछ कर क्या तुम मेरा प्यार नापती हो,’’ हर्ष ने पीहू की आंखों में आंखें डाल कर जवाब दिया.

‘‘यस मिस्टर, मैं देखना चाहती हूं कि जैसेजैसे हमारी रोज की मुलाकातें बढ़ती जा रही हैं वैसेवैसे मेरे लिए तुम्हारा प्यार कितना बढ़ रहा है.’’

‘‘क्या तुम्हें नजर नहीं आता कि मैं तुम्हारे लिए पागल हुआ रहता हूं. तुम्हारे ही बारे में सोचता रहता हूं. अब तो यारदोस्त भी कहने लगे हैं कि तू पहले वाला हर्ष नहीं रहा. कुछ तो बात है. पहले तो तू व्हाट्सऐप ग्रुप में सब के साथ कितना ऐक्टिव रहता था. इंस्टाग्राम पर रोज तेरी स्टोरी होती थी.’’

‘‘तो तुम उन्हें क्या जवाब देते हो?’’ पीहू हर्ष के बालों में उंगलियां फेरते

हुए बोली.

हर्ष ने पीहू की कमर में हाथ डाला और उसे अपने और करीब लाते हुए बोला, ‘‘क्या जवाब दूं कि आजकल मेरे ध्यान में, बस, कोई एक छाई रहती है, जिस की कालीकाली आंखों ने मुझे दीवाना बना दिया है. जिस की हर अदा मुझे मदहोश कर देती है. अब तुम्हारा दोस्त किसी काम का नहीं रहा.’’

हर्ष का यह फिल्मी अंदाज पीहू के मन को गुदगुदा गया. हर्ष की ये प्यारभरी बातें उसे बहुत भातीं. मन करता था कि वह उस की तारीफ करता रहे और वह सुनती रहे. एक अजीब से एहसास से सराबोर हो जाता था उस का तनमन.

वाकई हर्ष ने उस की जिंदगी में आ कर उसे जीने का नया अंदाज सिखा दिया था. जिंदादिल, दूसरों की मदद करने में हमेशा आगे, दोस्तों का चहेता, दिल से रोमांटिक, स्मार्ट, इंटैलिजैंट, कितनी खूबियां हैं उस में. बहुत खुशनसीब समझती है वह अपनेआप को कि हर्ष जैसा लवर उसे मिला.

वह अकसर सीमा को थैंक्यू कहती है कि उस दिन उस ने घर में बोर होती उसे मौल घूमने का आइडिया दिया था. तभी तो हर्ष उस की जिंदगी में आया था. कुछ महीने पहले की बात है…

‘यार पीहू, मैं तेरे साथ चलती लेकिन पापा टूर पर गए हैं और मम्मी को ले कर डाक्टर के पास जाना है,’ सीमा ने अपनी मजबूरी जताई.

‘कोई बात नहीं, टेक केयर औफ आंटी. वैसे, तेरा आइडिया बुरा नहीं है कि मौल में शौपिंग करो क्या फर्क पड़ता है, अकेले हैं या किसी के साथ.’

‘वही तो, अब जल्दी तैयार हो जा. कुछ अच्छा दिखे तो मेरे लिए भी ले लेना. समझी,’ सीमा हंसते हुए बोली.

‘हां, बस, तू पहले अपना शुरू कर दे, फैशन की मारी,’ पीहू ने सीमा की टांग खींची और ‘बाय’ कह कर फटाफट तैयार हो कर अपनी कार स्टार्ट की व मौल की तरफ गाड़ी मोड़ दी.

ये भी पढ़ें- अस्तित्व: क्या प्रणव को हुआ गलती का एहसास

गाड़ी चलाते हुए अचानक उसे ध्यान आया कि शायद पर्स में कैश तो है ही नहीं. डैबिट कार्ड तो दोदो रखे थे लेकिन कैश तो होना ही चाहिए. ‘कोई बात नहीं एटीएम से निकाल लेती हूं,’ सोचते हुए एक एटीएम के आगे गाड़ी रोक दी. एटीएम के अंदर गई. नई एटीएम मशीन थी, टच स्क्रीन थी. पीहू ने 2 बार ट्राई किया लेकिन ट्रांजैक्शन नहीं हो पाया.

‘उफ, अब क्या करूं’ सोचतेसोचते उस ने एटीएम का दरवाजा जैसे ही खोला वैसे ही एक लड़का उस से ‘एक्सक्यूज मी’ कहता हुआ फटाफट अंदर घुस गया.

पीहू ने बाहर से ही देखा. लड़का बड़ा ही स्मार्टली मशीन औपरेट कर रहा था और उस ने कैश भी निकाल लिया.

‘क्यों न इस से मदद ले लूं,’ वह अभी सोच ही रही थी कि वह लड़का एटीएम से बाहर निकल कर अपनी बाइक पर बैठ गया.

‘एक्सक्यूज मी, कैन यू डू मी अ फेवर, आप जरा देखेंगे. मेरा ट्रांजैक्शन नहीं हो रहा है.’

‘ओह श्योर, चलिए,’ लड़के ने कहा.

पीहू ने उसे अपना कार्ड पकड़ाया तो वह बोला, ‘मैडम, इस तरह किसी को अपना कार्ड नहीं देते.’

‘यू आर राइट. लेकिन आप मुझे शरीफ लगते हैं, इसलिए आप पर भरोसा कर रही हूं,’ पीहू भी जवाब देने में पीछे नहीं रही.

लड़का मुसकरा पड़ा. फिलहाल उस लड़के की मदद से कैश उस के हाथ में आ गया और उसे ‘थैंक्स’ बोल कर वह जल्दी से अपनी गाड़ी में बैठ कर मौल की पार्किंग की तरफ निकल पड़ी व सीधा वहीं जा कर गाड़ी रोकी.

मौल में खासी रौनक थी. पीहू को वहां बहुत अच्छा महसूस हो रहा था. लोगों की चहलपहल, खूबसूरत शोरूम, फूडकोर्ट से आती तरहतरह की डिशेज की महक, सब उसे बेहद पसंद था. पीहू ने पहले शौपर्स स्टौप से अपने लिए टीशर्ट ली. एक सीमा के लिए भी ले ली, वरना ताने देदे कर वह उस की जान खा जाती.

शौपिंग करतेकरते और घूमते हुए फूडकोर्ट तक पहुंच गई तो भला अपनी पसंदीदा कोल्ड कौफी विद आइसक्रीम कैसे न लेती.

कौफी हाथ में लिए वह बैठने के लिए खाली टेबल देखने लगी. कोने में एक छोटी टेबल खाली थी. पीहू फटाफट वहां जा कर बैठ गई. इत्मीनान से कौफी का मजा लेने लगी.

‘हाय, इफ यू डोंट माइंड, मे आइ सिट हियर?’ आवाज सुन कर पीहू ने मुंह ऊपर उठाया तो वही लड़का हाथ में अपनी ट्रे लिए खड़ा था.

‘ओह, यू. प्लीज. आप को भी मौल आना था?’ पीहू को उस लड़के को देख कर न जाने कुछ अच्छा सा लगा.

‘मैं ने तो आप को शौपिंग करते हुए भी देखा था,’ उस लड़के के मुंह से अचानक निकल गया तो पीहू हलका सा हंस दी और वह लड़का कुछ झेंप सा गया.

‘अच्छा, तो फिर मेरा पीछा करते हुए आप यहां आए हैं?’ पीहू को उस लड़के से बात करना अच्छा लग रहा था.

‘मैडम, मैं शरीफ लड़का हूं, और आप ने खुद यह बात कही थी,’ वह लड़का भोला सा मुंह बनाते हुए बोला.

‘आई एम जस्ट किडिंग, आप तो सीरियस हो गए. एनी वे आई एम पीहू.’

‘पीहू मल्होत्रा, डैबिट कार्ड पर पढ़ लिया था,’ उस लड़के के मुंह से फिर निकला तो पीहू इस बार जोर से हंस पड़ी.

इस बार वह लड़का भी हंस दिया और बोला, ‘हर्ष, हर्ष नाम है मेरा. जनकपुरी में रहता हूं. एमबीए इसी साल कंप्लीट किया और पिछले महीने ही हिताची कंपनी में प्रोडक्ट मैनेजर की पोस्ट मिली है और…’

‘अरे बसबस, तुम तो अपना पूरा प्रोफाइल बताने लगे.’

इस तरह दोनों के बीच बातों का सिलसिला चल पड़ा. पीहू की कौफी खत्म हो गई तो वह बोली, ‘अच्छा हर्ष, अच्छा लगा तुम से मिल कर.’

‘सेम हियर. प्लीज कीप इन टच,’ हर्ष पीहू को गहरी नजरों से देखता हुआ बोला.

पीहू ने कुछ जवाब नहीं दिया. बस, मुसकरा भर दी.

घर पहुंचतेपहुंचते 8 बज गए थे. जैसे ही घर पहुंची, मम्मी ने प्रश्नों की झड़ी लगा दी, ‘कहां, क्यों, किस के साथ, अचानक कैसे, क्या खरीदा?’

‘मम्मी प्लीज, मैं बहुत थक गई हूं. भूख बिलकुल नहीं है, इसलिए डिनर नहीं करूंगी. बस, चेंज कर के मैं सोने जा रही हूं.’

‘लेकिन बेटा, कुछ तो खा ले. तेरा मनपसंद पुलाव बनाया है,’ रेखा मनुहार करती पीहू से बोली.

‘अच्छा, थोड़ी देर बाद भूख लगी, तो खा लूंगी, पर अभी मुझे रैस्ट करने दो.’

‘बड़ी अजीब लड़की है. कभी भी, कहीं भी चल देती है. बड़ी जल्दी बोर हो जाती है. हमेशा लोगों के बीच रहना चाहती है. अब जब फैमिली ही छोटी है तो क्या करूं,’ रेखा मन ही मन बुदबुदाती रही.

मम्मी रेखा और पापा विनय की इकलौती संतान है पीहू. दिल्ली के कीर्तिनगर बाजार में फर्नीचर का अच्छा शोरूम है उन का. कीर्तिनगर में ही 300 गज की दोमंजिली कोठी है उन की. कुल मिला कर पीहू अमीरी में पलीबढ़ी है. सारे ऐशोआराम मिले हैं उसे. मम्मीपापा की तो जान है वह.

ये भी पढ़ें- मिसेज अवस्थी इज प्रैग्नैंट: क्यों परेशान थी मम्मी

पीहू पढ़ाईलिखाई में ठीकठाक थी. रचनात्मकता की उस में कमी नहीं थी. इसलिए स्कूली शिक्षा पूरी होने के बाद दिल्ली यूनिवर्सिटी से बीए के बाद जेडी इंस्टिट्यूट औफ फैशन टैक्नोलौजी से उस ने 2 साल का इंटीरियर डिजाइन का पीजी डिप्लोमा किया.

पीहू ने कई बड़ी कंपनियों में अपना सीवी पोस्ट किया था. अगले हफ्ते के लिए उसे गुरुग्राम स्थित एक बड़ी फर्म से इंटरव्यू कौल आई हुई थी. पीहू ने अभी तक तय नहीं किया कि वह जाएगी भी या नहीं.

खैर, पीहू ने अपने कमरे में आ कर कपड़े चेंज किए और बैड पर लेट गई. सच में, मौल घूम कर वह काफी थक गई थी. पता नहीं क्यों उस की आंखों के आगे बारबार हर्ष का चेहरा आ रहा था. थकावट के मारे नींद नहीं आ रही थी. वह उठ कर बैठ गई और अपना मोबाइल चैक करने लगी. मोबाइल पर ही फेसबुक देखने लगी. हर्ष ने फ्रैंड रिक्वैस्ट भेजी हुई थी. पीहू ने झट एक्सैप्ट कर ली. उस के बाद वह मोबाइल साइड में रख कर सो गई.

आगे पढें- घर लौटते हुए उस के पांव जमीं पर…

ये भी पढ़ें- नीड़ का निर्माण फिर से: क्या मानसी को मिला छुटकारा

हम साथ साथ हैं: भाग 2- क्या जौइंट फैमिली में ढल पाई पीहू

सीमा के ही बहुत कहने पर वह इंटरव्यू के लिए चली गई. मल्टीनैशनल कंपनी थी. पीहू का क्रिएटिव वर्क उन्हें बहुत पसंद आया. उन्होंने पीहू को अच्छा पैकेज औफर किया और कंपनी जौइन करने के लिए कहा. पीहू को ऐसी बिलकुल उम्मीद नहीं थी. अपने बलबूते पर पहले इंटरव्यू में ही सेलैक्शन हो जाना काफी बड़ी बात थी. पीहू ने हां कहने में देर नहीं लगाई.

घर लौटते हुए उस के पांव जमीं पर नहीं टिक रहे थे. पीहू कैब कर के ही यहां आई थी क्योंकि इतनी दूर ड्राइव करने का उस का मन नहीं था. कंपनी के बाहर आ कर वह कैब बुक करने लगी. पूरे आधे घंटे की वेटिंग आ रही थी. पीहू ने सोचा, आधा घंटा इंतजार करने के बजाय वह मैट्रो न ले ले. सामने ही मैट्रो स्टेशन नजर आ रहा था. ‘चलो, आज मैट्रो ही सही,’ सोचते हुए मैट्रो स्टेशन की ओर चल दी.

रोड क्रौस करने ही वाली थी कि एक बाइक ने जोर से हौर्न दिया. पीहू ने पीछे मुड़ कर देखा. बाइक पर बैठे युवक के चेहरे पर हैल्मेट का काला शीशा था, सो, वह शक्ल नहीं देख पा रही थी, लेकिन वह उसे हाथ हिला कर पास आने का इशारा कर रहा था. ‘कौन बदतमीज है’ पीहू जोर से बोलने ही वाली थी कि युवक ने अपना हैल्मैट उतार दिया. ‘अरे हर्ष, वाऊ व्हाट अ कोइंसिडैंट, कहां जा रहे हो?’

‘मैडम, जा नहीं रहा, औफिस से आ रहा हूं. बताया तो था कि गुरुग्राम के सैक्टर 26 में मेरा औफिस है. लेकिन तुम कहां से आ रही हो?’

‘हर्ष, आज मेरा इंटरव्यू था और आई गोट द जौब, बहुत खुश हूं मैं,’ पीहू ने चहकते हुए बताया.

‘वाऊ, फिर तो ट्रीट हो जाए इस खुशी में,’ हर्ष ने मौके का फायदा उठाते हुए कहा.

‘बिलकुल, लेकिन आज नहीं. कल पक्का,’ पीहू ने कहा, ‘घर जाना है अभी. मम्मी इंतजार कर रही हैं. पापा घर पर नहीं हैं, वे अकेली हैं.’

‘यार, मैट्रो छोड़ो. मेरी बाइक पर बैठो. देखो कितनी जल्दी पहुंचाता हूं तुम्हें घर,’ हर्ष ने कहा तो पीहू भी मान गई और हर्ष की बाइक पर बैठ गई.

आज वह वैसे ही बहुत खुश थी. ऊपर से हर्ष का साथ उसे और प्रफुल्लित कर रहा था. स्पीड ब्रेकर आया तो झटके के कारण उस ने हर्ष को दोनों हाथों से पकड़ लिया. ‘मैडम जरा अच्छी तरह से बैठो. बाइक तेज चला रहा हूं, इसलिए कह रहा हूं. कोई गलत मतलब मत समझना,’ हर्ष हंसते हुए बोला.

‘और अगर गलत मतलब समझूं तो?’ पीहू ने जानबूझ कर मस्ती करने के लिए कहा.

‘तुम तो जानती हो, मैं कितना शरीफ लड़का हूं,’ हर्ष ने अपना वही पुराना डायलौग मारा तो दोनों हंस पड़े.

इस तरह से हर्ष और पीहू की जानपहचान बढ़ती गई. मुलाकातें पहले हफ्ते में एक, फिर 2 और अब तो रोज ही दोनों मिलते थे क्योंकि अब दोनों एकदूसरे के प्यार में अच्छी तरह से डूब गए थे.

‘‘हर्ष, तुम मुझ से हमेशा इसी तरह प्यार करते रहोगे?’’

‘‘पीहू, शादी करोगी मुझ से,’’ जवाब सुनाने के बजाय हर्ष का उस से एकदम से यह पूछना पीहू को चौंका गया. हर्ष आगे बोला, ‘‘बोलो न, जितना सीधा साफ मैं ने तुम से सवाल किया वैसा ही जवाब चाहता हूं?’’

ये भी पढ़ें- मीरा: अंगद ने क्या धोखा किया

‘‘घर कब आ रहे हो मम्मीपापा से मिलने?’’ पीहू ने शरारती नजरों से हर्ष को देखते हुए कहा.

‘‘यस, मुझे पता था, तुम इनकार क्यों करोगी भला. वह तो मैं ऐसे ही पूछ रहा था,’’ हर्ष ने पीहू को छेड़ा.

‘‘अच्छा, बताऊं तुम्हें. वैसे भी, मैं ने कब हां कहा. मैं ने तो ऐसे ही पूछा है कि मम्मीपापा से मिलने कब आ रहे हो. मेरे फ्रैंड्स क्या मेरे घर नहीं आते,’’ पीहू भी अकड़ कर बोली.

‘‘अच्छा… अच्छा, अब सब मजाक बंद. सच में पीहू, मैं तुम से शादी करना चाहता हूं क्योंकि तुम मेरे परिवार के लिए फिट हो,’’ हर्ष गंभीर हो कर बोला.

‘‘परिवार के लिए फिट हूं, मतलब?’’ पीहू ने हैरानी से पूछा.

‘‘पीहू, तुम्हें शायद मैं ने बताया नहीं कि हमारी जौइंट फैमिली है,’’ हर्ष बोला.

‘‘हां, तो फिर क्या हुआ. मुझे तो अच्छी लगती है जौइंट फैमिली. हमारी न्यूक्लिर फैमिली रही है. इसलिए मैं तो चाहती थी कि मेरी शादी ऐसी जगह हो जहां घर में सब रिश्ते निभाने को मिलें,’’ पीहू हर्ष का हाथ अपने हाथ में ले कर बोली.

‘‘मेरे घर में तुम्हें इतने रिश्ते निभाने को मिलेंगे कि निभातेनिभाते थक जाओगी. माई डियर, छोटीमोटी जौइंट फैमिली नहीं है मेरी, अच्छाखासा भरापूरा बहुत बड़ा परिवार है हमारा.

‘‘ताऊजी उन के 2 बेटे, दोनों की शादी हो गई है और उन के 1-1 बच्चा है. 2 मामा जिन की 2-2 बेटियां हैं, अनमैरिड हैं. 3 मौसियां हैं, तीनों का परिवार यहीं दिल्ली में है. 2 बूआ हैं, एक अंबाला में रहती थीं, वे भी पिछले साल दिल्ली शिफ्ट हो गईं. दोनों चाचा तो साथ ही रहते हैं. पता है, मेरी दादी और नानी 80 वर्ष से ज्यादा की हो गईं. दोनों अभी भी अपने सारे काम खुद करती हैं. दादी हमारे साथ रहती हैं. एक तरह से उन्होंने ही मुझे बचपन में पाला है.

ये भी पढ़ें- नैरो माइंड: क्या तरू को हुआ गलती का एहसास

‘‘इतना ही नहीं, मेरी मम्मी की 4 मौसियां हैं और पापा के 3 मामा हैं. मेरे कजिंस से मिलोगी तो लगेगा किसी गैंग से मिल रही हो. सब एक से बढ़ कर एक हैं. लेकिन हम सब में बहुत प्यार है. व्हाट्सऐप ग्रुप बनाया हुआ है हम ने. सभी अपनी सारी बातें सब से शेयर करते हैं. और वो…’’

‘‘अरे, अरे, और भी है अभी बताने को?’’ पीहू आंखें फैला कर बोली, ‘‘हर्ष, इतना बड़ा परिवार. बाप रे. कैसे संभालते हो सब रिश्तेनाते. रोज किसी का कुछ न कुछ लगा ही रहता होगा. याद कैसे रखते हो. और एक मेरी फैमिली है उंगली पर गिना सकती हूं सब को.’’

‘‘पीहू, तुम से मिल कर, तुम्हारी बातें, तुम्हारी आदतें सब देख कर मुझे लगा कि तुम मेरे लिए ही नहीं, मेरी फैमिली के लिए भी परफैक्ट हो.

‘‘अब बोलो, बनोगी मेरी फैमिली का हिस्सा?’’ हर्ष पीहू को अपनी बांहों में भरते हुए बोला.

‘‘बिलकुल बनूंगी. मैं आज ही तुम्हारे बारे में मम्मीपापा को बताती हूं,’’ पीहू ने हर्ष को प्यारभरा किस किया और फिर ‘बाय’ कहती हुई अपनी गाड़ी से घर चली गई.

पीहू ने घर आ कर हर्ष के बारे में मम्मीपापा को बताया. उन्हें सब ठीक लगा लेकिन सूई परिवार पर आ कर रुक गई.

मम्मी बोलीं, ‘‘पीहू, इतना बड़ा परिवार है, तेरे लिए सब निभाना मुश्किल हो जाएगा, बेटा. हर्ष तो तुझ से यही अपेक्षा रखता है कि तू उस के परिवार में आ कर उन जैसी बन जाए लेकिन बेटी, हमारे घर का माहौल और उन के घर का माहौल बिलकुल अलग होगा. तू कैसे सब निभाएगी?’’

‘‘हां पीहू, तुझे अभी सब अच्छा लग रहा है लेकिन शादी के बाद तुझे यह सब बंधन लगेगा. तुझे हम ने बहुत लाड़प्यार से पाला है और तुझे हम दुखी हरगिज नहीं देख सकते,’’ पीहू के पापा विनय बोले.

‘‘नहीं पापा, ऐसा कुछ नहीं होगा. बचपन से ही जब मेरे फ्रैंडस अपने मामा, चाचा, बूआ, कजिंस की बात बताते थे तो मैं सोचती थी कि काश, मैं भी ये रिश्ते महसूस कर पाती. समझ लीजिए, मेरी यह ख्वाहिश अब पूरी होने जा रही है,’’ पीहू ने पापा को समझाने की कोशिश की.

‘‘देख बेटा, तेरी खुशी में ही हमारी खुशी है. लेकिन फिर भी सोचसमझ ले. मेरा तो मन नहीं मान रहा,’’ मां बोलीं.

‘‘मम्मीपापा, कल आप हर्ष से मिल लीजिए, आप दोनों की सारी टैंशन दूर हो जाएगी. ओके, अब मैं सोने जा रही हूं. बहुत नींद आ रही है, गुड नाइट,’’ कहती हुई पीहू अपने कमरे में गई और बैड पर लेट कर हर्ष के मीठे सपने लेती हुई सो गई.

उधर रेखा और विनय बैडरूम में लेटे हुए हर्ष की ही बात कर रहे थे. विनय बोले, ‘‘रेखा, मैं ने अकसर देखा है बड़े परिवारों में मनमुटाव रहता है. संपत्ति, व्यापार, बच्चों को ले कर झगड़े हो ही जाते हैं. अरे, हमारी पीहू को तो हजारों लड़के मिल जाएंगे. किस बात में कम है वह. पता नहीं क्यों अपने को इतने बड़े परिवार के झमेले में फंसाना चाहती है.’’

‘‘अभी उस के दिमाग में हर्ष छाया हुआ है, हमारी कोई बात उसे समझ नहीं आएगी. चलो, कल हर्ष से मिल लेते हैं. फिर सोचेंगे आगे क्या करना है.’’

ये भी पढ़ें- सैंडल: क्या हुआ था गुड्डी के साथ

हर्ष से मिल कर रेखा और विनय बहुत खुश हुए. तय हुआ कि अगले रविवार को ही वह अपने मम्मीपापा के साथ आएगा शगुन ले कर.

आगे पढ़ें- रेखा ने चाय के साथ के लिए…

अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें