Valentine’s Special: लाइफ कोच- क्या दोबारा मिल पाए नकुल और किरण

Serial Story: लाइफ कोच – भाग 2

हंसते वक्त किरण के बायां गाल पर पड़़ते गड्ढे देख नकुल दीवाना हो जाता था.

सिर्फ यही नहीं, किरण की हर एक अदा पर नकुल दीवाना हो जाता था.

लेकिन नकुल की कुछ आदतों पर मुंह बना कर किरण कभीकभार उसे ?िड़क भी देती थी, ‘‘शादी हो जाने दो हमारी, फिर देखना कैसे बनती हूं मैं तुम्हारी लाइफ कोच… मैनर्स में रहना सिखाऊंगी मैं तुम्हें.’’

उस की बातों पर हंसते हुए नकुल ने बोला, ‘‘अब इतनी सुंदर ‘लाइफ कोच’ किसे नहीं चाहिए. मेरा तो जीवन ही सफल हो जाएगा.’’

नकुल को अच्छा लगता था किरण का उसे यों रोकनाटोकना या डांट लगाना. उसे लगता किरण उस से बहुत ज्यादा प्यार करती है तभी तो हक से उसे रोकतीटोकती है.

‘‘हां, तुम्हारा जीवन बहुत जल्दी सफल हो जाता है, अब चलो,’’ हंसते हुए नकुल के बगल वाली सीट पर बैठते हुए किरण बोली, ‘‘ऐसे क्या देख रहे हो? क्या तुम्हारे ऊपर मेरा अधिकार नहीं?’’

उस की बात पर नकुल ने उस के गाल पर एक किस करते हुए इस बात की मुहर लगा दी कि बिलकुल उस का अधिकार है.

ये भी पढ़ें- Valentine’s Special: कोई अपना- शालिनी के जीवन में भी कोई बहार आने को थी

2 साल तक रिलेशनशिप में रहने के बाद अपने मातापिता के आशीर्वाद से दोनों एक हो गए. शादी के बाद उन की जिंदगी ऐसी लगने लगी जैसे सतरंगी आकाश. बस रोमांस ही रोमांस था उन की जिंदगी में और कुछ नहीं.

शादी के 1 साल बाद ही पीहू ने उन की जिंदगी में आ कर और रोशनी बिखेर दी. पीहू को कुछ महीने तक तो उस की नानीदादी ने संभाला. पर अब उन के लिए भी यहां रहना संभव नहीं था. इसलिए किरण ने अपनी नौकरी से इस्तीफा दे दिया ताकि पीहू को एक अच्छी परवरिश दे सके. सोचा, जब पीहू थोड़ी बड़ी हो जाएगी तब वह फिर से जौब करने लगेगी.

लेकिन ऐसा हो नहीं पाया, क्योंकि पीहू हमेशा बीमार रहने लगी थी. वह जन्म से ही कमजोर बच्ची थी और डाक्टर का कहना था कि उसे चौबीसों घंटे एक आदमी की जरूरत है जो उस की अच्छी तरह देखभाल कर सके और मां से बेहतर एक बच्चे की देखभाल तो कोई कर ही नहीं सकता, इसलिए किरण ने जौब न करने का फैसला ले लिया. धीरेधीरे पीहू तंदुरुस्त होने लगी. लेकिन फिर किरण का जौब करने का मन ही नहीं हुआ, क्योंकि अब वह अपना पूरा वक्त अपने घरपरिवार पर देना चाहती थी.

नकुल औफिस के साथ बाहर का भी काम संभालता और किरण घर के साथ अपनी बेटी पीहू का भी ध्यान रखती. सबकुछ व्यवस्थित चल रहा था जिंदगी में. वैसे तो किरण की शुरू से ही आदत थी हर बात पर टोकाटाकी करने की जिसे नकुल बुरा भी नहीं मानता था. लेकिन पीहू के जन्म के बाद से ये सब कुछ ज्यादा ही होने लगा था. किरण का दूसरा ही रूप नकुल के सामने आने लगा था. बातबात पर वह उसे झड़प देती. लोगों के सामने ही उसे अपमानित करने लगती. उस के लाए सामान में मीनमेख निकालती और गुस्सा तेज होता तो सामान उठा कर फेंकने लगती थी.

इस पर भी नकुल उस की बातों का बुरा नहीं मानता था. सोचता जब शांत होगी तब खुदबखुद अपनी गलती का एहसास हो जाएगा. लेकिन नकुल गलत था, क्योंकि किरण को कभी अपनी गलती का एहसास हुआ ही नहीं. उसे तो यही लगता वह सही है और बाकी सब गलत.

दिनबदिन किरण का व्यवहार अपने पति और बेटी के प्रति सख्त होता जा रहा था. किसी न किसी बात को ले कर वह घर में हंगामा खड़ा कर देती और फिर बिना गलती के ही नकुल को सौरी बोलना पड़ता ताकि घर में शांति बनी रहे.

नकुल को घर में चप्पलें पहन कर चलना बिलकुल भी पसंद नहीं था. लेकिन उसे पहननी पड़ती थीं, क्योंकि किरण ऐसा चाहती थी. खाना खाने के समय मुंह से आवाज न करना, औफिस से आते ही अपने जूतेकपड़े सही जगह रखना, लोगों के सामने उतना ही बोलना, जितना किरण आंखों से इशारा करे, घर में दोस्तरिश्तेदारों को बुलाने से पहले किरण की अनुमति लेना, ये सारे रूल्स उस ने बना रखे थे जिन्हें नकुल को फौलो करना ही पड़ता था. किरण सफाई के मामले में कुछ ज्यादा ही सनकी थी. कोई गंदे पैर बिस्तर पर नहीं चढ़ सकता था. अगर कभी किसी ने ऐसी गलती कर दी तो समझ लो उस की खैर नहीं.

ये भी पढ़ें- 7 बजे की ट्रेन: कौनसी कमी रेणु को धकेल रही थी उदासी की तरफ

औफिस से आते हुए जब नकुल किरण को किचन में काम करते

देखता, तो रोमांटिक होते हुए उसे पीछे से पकड़ लेता था. तब किरण कैसे उसे धकेल देती और कहती, ‘‘उफ, दूर हटो… पहले बाथरूम से फ्रैश हो कर आओ, तब तक मैं खाना लगाती हूं.’’

उस के ऐसे व्यवहार से नकुल के रोमांटिक मूड की ऐसी की तैसी हो जाती थी. फिर उस का मन ही नहीं करता किरण के करीब जाने का. कभी बाथरूम में भीगे तौलिए को ले कर, तो कभी अपना सामान सही जगह न रखने को ले कर, तो कभी बाजार से सामान लाने को ले कर किरण उसे सुनाती ही रहती थी. यहां तक कि नकुल के बढ़ते वजन पर उसे एतराज होने लगा था. नकुल को हाई बीपी की शिकायत थी इसलिए किरण अपने हिसाब से उस के लिए डाइट फूड तैयार करती थी कम तेलमसाला वाला.

नकुल को ‘ग्रीन टी’ पीना जरा भी पसंद नहीं था. लेकिन उसे पीनी पड़ती थी क्योंकि किरण ऐसा चाहती थी. हर दूसरेतीसरे दिन नौनवैज खाने वाले नकुल की उस पर भी पाबंदी लगा दी गई. अब उबला मटनचिकन और अंडे कैसे कोई खा सकता है भला? इसलिए नकुल ने नौनवैज खाना ही छोड़ दिया. वह सबकुछ इसलिए कर रहा था ताकि किरण खुश रहे. लेकिन फिर भी किरण को उस से कोईनकोई शिकायत लगी ही रहती थी. बिंदास किस्म का इंसान था नकुल, किरण के ऐसे व्यवहार से वह दुखी रहने लगा था.

किरण के तानाशाह व्यवहार के कारण जब नकुल को अपना घर ही जेल लगने लगता, तो वह कहीं बाहर निकल जाता. खीज उत्पन्न होती यह सोच कर कि वह किरण के हाथों की कठपुतली बन कर रह गया है. सिर्फ वही नहीं, बल्कि 11 साल की पीहू भी हमेशा अपनी मां से डरीसहमी रहती थी. वह कितनी देर टीवी या मोबाइल देख सकती है, वह अपने दोस्तों के साथ खेल सकती है या नहीं और कौनकौन उस के दोस्त बनने के लायक हैं, ये सब किरण ही तय करती थी.

अगर कभी पीहू से कोई गलती हो जाती, तो किरण उसे सजा देती. उस का मानना था कि ऐसे में बच्चे दोबारा गलती नहीं करेंगे. गलती करने पर बच्चों को सजा देना जरूरी है वरना वे बिगड़ जाएंगे. एकदम कड़े अनुशासन में किरण उसे रखती थी. लेकिन किरण को यह नहीं पता कि उस के ऐसे व्यवहार से मासूम पीहू के दिलोदिमाग पर क्या असर पड़ रहा है. रिसर्च भी कहती है कि बच्चों पर ज्यादा सख्ती से उन के मस्तिष्क की संरचना बदल जाती है. हरदम खिलखिलाने वाली पीहू इसीलिए तो बहुत गुमसुम सी रहने लगी थी.

आगे पढ़ें- नकुल के घर से निकलतेनिकलते भी…

ये भी पढ़ें- मुहरे: उम्र को ले कर रश्मि पर क्यों तंज कसता था विपिन

Serial Story: लाइफ कोच – भाग 4

अभी नकुल खाना खा कर सोने ही जा रहा था कि फिर किरण का फोन आ गया.

पूछने लगी कि उस ने खाना खाया या नहीं और खाया तो क्या खाया? बहुत ज्यादा कैलोरी वाला खाना तो नहीं खाया न? दवा तो याद से ले रहा है न?

‘‘हां, ले रहा हूं और खाना भी एकदम सादा ही खाया है, तुम चिंता मत करो,’’ मन झंझला उठा नकुल का, ‘अरे, मैं कोई छोटा बच्चा हूं जो हर वक्त मुझे समझती रहती है? खाना खाया कि नहीं, दवा ली या नहीं? इंसान को भूख लगेगी तो खाएगा ही, जरूरत है तो दवा भी लेगा. इस में पूछने वाली कौन सी बात है. सच कहता हूं, एकदो दिन दवा न खाने से शायद मैं बच भी जाऊं, परंतु किरण की कड़कती बातों से एक दिन जरूर मुझे हार्ट अटैक आ जाएगा,’ मन में सोच नकुल ने तकिया उठा कर पलंग पर दे मारा.

लोगों के सामने वह जाहिर करती कि पैसे कमाने के अलावा नकुल को कुछ नहीं आता है. इसलिए घरबाहर सबकुछ उसे ही संभालना पड़ता है. हंसतेहंसते उस के दोस्तरिश्तेदारों के सामने उसे अपमानित कर देती और बेचारा नकुल दांत निपोर कर रह जाता. लेकिन अंदर से उस का दिल कितना रोता था वही जानता था. तंग आ चुका था वह अपने दोस्त और सहकर्मियों के चिढ़ाने से. जब वे कहते, ‘भई बीबी हो तो नकुल के जैसी. कितनी पढ़ीलिखी है, नकुल की तो जिंदगी ही बदल कर रख दी है भाभीजी ने वरना यह तो रमता जोगी, बहता पानी था.

ये भी पढ़ें- वतनपरस्ती: समीक्षा और हफीजा की दोस्ती की कहानी

लेकिन उन्हें कौन समझए कि वह पहले ही ठीक था. आजाद जिंदगी थी. जो मन आए करता था. जहां मन आए जाताआता था, कोई रोकटोक नहीं थी उस की जिंदगी में. लेकिन आज उस की जिंदगी झंड बन चुकी है. लगता है वह अपने घर में नहीं, बल्कि एक पिंजरे में कैद है, जिस की किरण पहरेदारी कर रही है.

नकुल के तो अपने कमाए पैसे पर भी अधिकार नहीं था, क्योंकि उस के कमाए पैसे का सारा हिसाबकिताब किरण ही रखती थी. रोज के खर्चे के लिए वह उसे पैसे तो देती थी पर 1-1 पैसे का हिसाब भी लेती थी कि उस ने कहां कितने पैसे खर्च किए. नकुल के लिए चाहे कपड़े हों, चप्पलें हों या अन्य कोई सामान किरण ही पसंद करती थी, क्योंकि उस के हिसाब से नकुल की पसंद ‘आउट औफ डेटेड’ हो चुकी थी. जब भी कोई नकुल के कपड़े, घड़ी या जूतों की तारीफ करता तो कैसे तन कर किरण कहती कि यह तो उस की पसंद है. नकुल को ये सब कहां आता है. मतलब लोगों के सामने उस ने तो नकुल को एकदम गंवार ही साबित कर दिया था.

नकुल के फोन चलाने पर भी उसे एतराज होता है. कहती है कि उस के कारण ही पीहू बिगड़ रही है. बेचारे नकुल की हिम्मत ही नहीं पड़ती है फिर किरण के सामने फोन छूने की भी, जबकि वह खुद घंटों मोबाइल पर हंसहंस कर अपने रिश्तेदार और सहेलियों से बातें करती रहती है. जब मन होता शौपिंग पर निकल पड़ती है. किट्टी पार्टी करती है. सहेलियों के सामने अपनी धाक जमाने के लिए हर महीने नई साड़ी और ज्वैलरी खरीदती है. अपने रूपरंग को निखारने के लिए ब्यूटीपार्लर जाती है.

नकुल के मेहनत से कमाए पैसों को पानी की तरह बहाती है. तब तो नकुल कुछ नहीं बोलता है, क्योंकि यह उस का जन्मसिद्ध अधिकार है और अगर पति कुछ बोल दे, तो पत्नी उस पर घरेलू हिंसा का आरोप लगा कर थाने तक घसीट ले जाती है. फिर पति और बच्चों के साथ इतनी रोकाटोका क्यों? सोच कर ही नकुल तिलमिला उठता था. लेकिन उस की हिम्मत नहीं होती थी किरण से कुछ पूछने की. इस घर में सिर्फ नकुल और पीहू के लिए ही अनुशासन संचालित था, किरण के लिए नहीं. वह तो आजाद थी अपने हिसाब से अपनी जिंदगी जीने के लिए.

बचपन से ही नकुल ने देखा है, कैसे उस की मां उस के पापा से डरडर कर

जीती थी. हमेशा इस बात का डर लगा रहता था उसे कि जाने किस बात पर नकुल के पापा उस पर भड़क उठेंगे. कभी उस के बनाए खाने को ले कर तो कभी उस के पहनावे और बोलने के ढंग को ले कर नकुल के पापा अपनी पत्नी का अपमान करते रहते थे और वह बेचारी, सिर झकाए सब सुनती यह सोच कर कि शायद वे सही बोल रहे हैं. उसे विश्वास दिला दिया गया था कि वह एक अनपढ़गंवार औरत है, कुछ नहीं आता उसे. अपने पापा के कड़े व्यवहार के कारण ही नकुल 10वीं कक्षा के बाद बाहर पढ़ने निकल गया था.

लेकिन उसे नहीं पता था कि एक दिन उस की जिंदगी भी उस की मां जैसी बन जाएगी. तभी वह कहता अपनी मां से कि वह चुप क्यों रहती है, बोलती क्यों नहीं कुछ? विरोध क्यों नहीं करती उन की बातों का? लेकिन आज उसे समझ में आ रहा है कि घर की शांति भंग न हो, इसलिए एक इंसान चुप लगा जाता है. लेकिन कैसे दूसरा इंसान उस की इस चुप्पी का फायदा उठा जाता है वह भी अच्छे से देख रहा था. नकुल की चुप्पी का ही नतीजा है कि आज उस का परिवार उस से दूर हो गया.

ये भी पढ़ें- Valentine’s Special: सूना संसार- सुनंदा आज किस रूप में विनय के सामने थी

पिछले साल रक्षाबंधन पर कैसे किरण ने नकुल की बहन सिम्मी को यह बोल कर अपने घर आने से रोक दिया था कि नकुल ही वहां चला जाएगा, उसे परेशान होने की कोई जरूरत नहीं है.

जाते वक्त नकुल को 500 रुपए पकड़ाते हुए कहा था कि बहुत हैं, इन से ज्यादा क्या दोगे. एक ही बहन है उस की और भाई इतने बड़ी कंपनी में काम करता है तो क्या यही दे सकता है वह अपनी एकलौती बहन को? बहुत दुख हुआ था उसे. लेकिन नकुल की मां सब समझती थी तभी तो अपनी तरफ से सिम्मी को उपहार दे कर बात संभाल ली. मगर कब तक? एक न एक दिन तो सब को पता चल ही जाता है न.

किरण के ऐसे डौमिनेटिंग व्यवहार के कारण ही नकुल के परिवार के लोगों ने उस के घर आना बंद कर दिया. नकुल को उस के घर में सब जोरू का गुलाम बुलाते हैं. उन्हें लगता है नकुल अपनी पत्नी से डरता है, जबकि वह उस की इज्जत करता है. मगर क्या किरण यह बात समझेगी कभी? उसे तो सिर्फ लोगों को बेइज्जत करना आता है.

नकुल को जब भी मन होता है अपने परिवार से मिलने वहां खुद चला जाता है, क्योंकि किरण को अपने घर में वे लोग पसंद नहीं. अपने ही घर में नकुल इतना पराया हो गया है कि उसे यह भी फैसला लेने का हक नहीं है कि उस के घर में कौन आ सकता है कौन नहीं, जबकि उस के मायके वाले जब मन हुआ तब आ धमकते हैं. किरण कैसे उन के स्वागत में पानी की तरह पैसे बहाती है. क्या ये सब देख कर नकुल को गुस्सा नहीं आता है? वह खून का घूंट पी कर रह जाता है.

हमेशा जताती है कि अगर वह नकुल की जिंदगी में न आई होती, तो आज वह इस मुकाम पर न होता. इस में भी सारा श्रेय खुद ले कर वह नकुल को जीरो साबित कर देती है. अपने दोस्तों और परिवार वालों के सामने नकुल का आत्मसम्मान, उस का आत्मविश्वास सब टूटने लगा था. जिस तरह से किरण उसे झिड़कती, उसे सच में लगता कि वह कुछ काम का नहीं है.

‘‘हाय, स्ट्रौंग मैन, आप अभी तक यहीं हो?’’ पीछे से किसी का स्पर्श पा कर जब नकुल मुड़ा तो वही बच्चा अपनी मां का हाथ थामे खड़ा मुसकरा रहा था.

‘मैं और स्ट्रौंग’ नकुल ने मन ही मन कहा कि वैसे गलती मेरी भी है. मैं ने खुद को इतना कमजोर बना लिया कि किरण मुझ पर हावी होती चली गई. ‘लाइफ कोच’ के नाम पर वह मेरा शोषण करती रही और मैं करवाता रहा. लेकिन अब नहीं, अब बहुत हो चुका. अब मैं अपना ‘लाइफ कोच’ खुद बनूंगा. अब न तो मैं खुद और न ही अपनी बेटी को किरण के जुल्मों का शिकार बनने दूंगा. अब से मैं वही करूंगा जो मुझे सही लगेगा. अगर उसे पसंद है तो ठीक, वरना हमारे रास्ते अलग होंगे. मन में सोच नकुल ने एक लंबी सांस ली.

ये भी पढ़ें- नया क्षितिज: वसुधा और नागेश के साथ क्या हुआ

Serial Story: लाइफ कोच – भाग 1

आज औफिस का काम जल्दी निबट गया, तो नकुल होटल न जा कर जुहू बीच आ गया. बहुत नाम सुन रखा था उस ने मुंबई जुहू बीच का. यहां आते ही उसे एक अजीब सी शांति महसूस हुई. लोगों की भीड़भाड़ से दूर वह एक तरफ जा कर बैठ गया और आतीजाती लहरों को देखने लगा. कितना सुकून, कितनी शांति मिल रही थी उसे बता नहीं सकता था.

सब से बड़ी बात यह कि यहां उसे कोई रोकनेटोकने वाला नहीं था और न ही कोई सिर पर सवार रहने वाला. यहां तो बस वह था और उस की तनहाई. उस का मन कर रहा था यहां कुछ दिन और ठहर जाए या पूरी उम्र यहीं गुजार दे तो भी कोई हरज नहीं है. अच्छा ही है न, कम से कम ऐसे इंसान से तो छुटकारा मिल जाएगा जो हरदम उस के पीछे पड़ा रहता है. लेकिन यह संभव कहां था.

खैर, एक गहरी सांस लेते हुए नकुल आतेजाते लोगों को, भेलपूरी, पानीपूरी, सैंडविच का मजा लेते देखने लगा. अच्छा लग रहा था उसे. वहीं उधर एक जोड़ा दीनदुनिया से बेखबर अपने में ही मस्त नारियल पानी का मजा ले रहा था. वे जिस तरह से एकदूसरे की आंखों में आंखें डाले एक ही स्ट्रो से नारियल पानी शिप कर रहे थे, उस से तो यही लग रहा था दोनों एकदूसरे से बेइंतहा प्यार करते हैं. आंखों ही आंखों में दोनों जाने क्या बातें करते और फिर हंस पड़ते थे.

ये भी पढ़ें- Valentine’s Special: मन का बोझ- क्या हुआ आखिर अवनि और अंबर के बीच

अच्छा है न, लोगों को पता भी नहीं चलता और 2 प्यार करने वाले आंखों ही आंखों में अपनी बातें कह देते हैं. मुसकराते हुए नकुल ने मन ही मन कहा, ‘चेहरा झठ बोल सकता है पर आंखें नहीं. यदि किसी व्यक्ति की बातों का सही और गहराई से अर्थ जानना हो तो उस के चेहरे को विशेष तौर पर आंखों को पढ़ना चाहिए. यदि 2 प्यार करने वाले आपस में एकदूसरे को अच्छी तरह समझते हैं तो उन्हें बोलने की कुछ भी जरूरत नहीं पड़ती.

कवि बिहारी अपनी कविता में ऐसे ही नहीं बोल गए हैं कि कहत, नटत, रीझत, खिजत, मिलत, खिलत, लजियात… भरे मौन में कहत हैं  नैनन ही सौ बात. हम भी तो कभी इसी तरह न्यू कपल थे. हम भी तो कभी इसी तरह एकदूसरे की आंखों को पढ़ा करते थे. लेकिन किरण ने अब मेरी आंखों को पढ़ना छोड़ दिया है, नहीं

तो क्या उसे नहीं पता चलता कि आज भी मैं उस से कितना प्यार करता हूं? सच कहूं तो वह मुझे मेरी पत्नी कम और हिटलर ज्यादा लगती है. डर लगता है मुझे उस से कि जाने कब, किस बात पर उखड़ जाए और फिर मेरा जीना हराम कर दे. छोटीछोटी बातों को बड़ा बना कर इतना ज्यादा बोलने लगती है कि मेरे कान सनसनाने लगते हैं.

नकुल अपनी सोच में डूबा हुआ था, तभी अचानक एक बौल उस से आ टकराई.

‘‘अंकल, प्लीज, थ्रो द बौल,’’ दूर खड़े उस बच्चे ने बड़ी मासूमियत से कहा, तो नकुल ने अपने पैर से उस बौल को ऐसा उछाला कि वह सीधे जा कर उस बच्चे के पास पहुंच गई.

ताली बजाते हुए उस बच्चे ने कहा, ‘‘अंकल यू आर द ग्रेट,’’ सुन कर नकुल हंस पड़ा.

‘‘अंकल, जौइन मी,’’ उस 10 साल के बच्चे ने नकुल की तरफ बौल फेंकते हुए बोला तो नकुल भी जोश में आ गया और उस के साथ खेलने लगा. देखतेदेखते कुछ और लोग भी उन के साथ जुड़ गए और सब ऐसे जोश में खेलने लगे कि पूछो मत.

‘‘अंकल, यू आर सच ए ग्रेट पर्सन,’’ कह कर उस बच्चे ने ताली बजाई तो बाकी लोग भी तालियां बजाने लगे.

अपनी एक छोटी सी जीत पर आज नकुल इसलिए खुशी से झम उठा, क्योंकि

उस की काबिलीयत की तारीफ हो रही थी और यहां कोई यह बोलने वाला नहीं था कि नकुल को यह जीत तो उस की वजह से मिली है. अपने हाथ उठा कर सब को बाय कह कर नकुल आगे बढ़ गया.

‘किसी को शायद नहीं पता, पर कालेज के समय में मैं बढि़या फुटबौल प्लेयर हुआ करता था. अपने कालेज का मैं लीडर था. कालेज के ज्यादातर लड़केलड़कियां मुझ से राय लिया करते थे. पढ़ाई में भी मैं अव्वल था, इसलिए तो कालेज के प्रिंसिपल का भी मैं फैवरिट हुआ करता था. लेकिन समय के साथ सब पर धूल चढ़ गई. आज वही पुराना वाला जोश पा कर बता नहीं सकता कि अपनेआप में मैं कितना स्फूर्ति महसूस कर रहा हूं. लेकिन मैं ये सब कैसे भूल गया कि मैं एक बेहतर खिलाड़ी के साथसाथ एक आजाद सोच वाला इंसान भी हुआ करता था,’ एक गहरी सांस लेते हुए नकुल इधरउधर देखने लगा. लोग जाने लगे, पर वह वहां कुछ देर और ठहरना चाहता था, क्योंकि उसे यहां अपार शांति महसूस हो रही थी.

ये भी पढ़ें- …और दीप जल उठे: अरुणा ने आखिर क्यों कस ली थी कमर

समुद्र किनारे रेत पर बैठ कर अपनी उंगलियों से आढ़ीतिरछी लकीरें खींचते हुए नकुल सोचने लगा कि पहले उन के बीच कितना प्यार था. दो जिस्म एक जान हुआ करते थे दोनों. लेकिन आज कितना कुछ बदल गया है. आज किरण की नजरों में वह एक बेवकूफ इंसान है. कोई सलीका नहीं है उस में. कोई काम का आदमी नहीं रहा वह. ‘काश, मैं और किरण एक न हुए होते तो आज मैं वह न बन गया होता लोगों की नजरों में, जो मैं हूं ही नहीं,’ मन ही मन बोल नकुल आसमान की तरफ देखने लगा.

किरण और नकुल दोनों एक ही कंपनी में जौब करते थे. जब नकुल ने पहली बार किरण को कंपनी मीटिंग में देखा, तो उसे देखता ही रह गया. गोरी, लंबी कदकाठी, बड़ीबड़ी आंखें, खुले बाल और उस पर उस के बात करने के अंदाज से तो नकुल की आंखें ही चौंधिया गई थीं.

किरण भी नकुल का गठीला बदन, घुंघराले बाल और उस के बात करने के अंदाज से प्रभावित हुए बिना नहीं रह पाई थी. कुछ ही महीनों में दोनों की मुलाकात बढ़तेबढ़ते ऐसे मुकाम पर पहुंच गई जहां अब एक दिन भी बिना मिले उन्हें चैन नहीं पड़ता था. औफिस के बाद वे घंटों व्हाट्सऐप पर चैटिंग के साथ फोन पर भी बातें करते. साथसाथ घूमनाफिरना, फिल्म देखना, शौपिंग करने जाना और छुट्टियों में किसी हिल स्टेशन पर एकदूसरे में खो जाना उन की आदतें बन चुकी थी. अकसर नकुल किरण को महंगेमहंगे गिफ्ट देता तो किरण भी उस के पसंद का उपहार लाना नहीं भूलती थी.

दीनदुनिया से बेखबर दोनों एकदूसरे की कंपनी खूब ऐंजौय करते थे. ऐसा लगता था कि वे एकदूसरे के लिए ही बने हैं और जन्मजन्मांतर तक वे कभी एकदूसरे से अलग नहीं होंगे. दोनों इतने अच्छे और प्यारे जीवनसाथी बनेंगे कि उन का पूरा जीवन खुशनुमा हो जाएगा. किरण बड़े हक से नकुल पर और्डर पर और्डर झड़ती, तो नकुल भी हंसतेहंसते उस के सारे नखरे उठाता था.

‘‘नहीं नकुल, मुझे तो शाहरुख खान की ही फिल्म देखनी है. सोच लो, नहीं तो मैं नहीं जाऊंगी, तुम अकेले ही जाओ फिल्म देखने,’’ नाक सिकोड़ते किरण बोली.

‘‘अरे यार, तुम लड़कियां भी न… फिल्म अच्छी हो या बुरी पर देखने जाना ही है, क्योंकि उस में शाहरुख खान जो है. देखो मेरी तरफ, क्या मैं शाहरुख खान से कोई कम हूं मेरी क… क… किरण…’’ बोल कर नकुल जोर से हंसने लगा था.

उस के डायलौग पर किरण भी खिलखिला कर हंस पड़ी और बोली, ‘‘बस… बस… बस… तुम से नहीं हो पाएगा मेरे शाहरुख… तुम तो रहने ही दो,’’

इस पर किरण को बांहों में भरते हुए नकुल बोला था कि कोई बात नहीं जो उस ने डायलौग कैसा भी मारा हो, पर किरण के लिए उस का प्यार तो सच्चा है न.

‘‘हूं… बात में दम है बौस,’’ कह कर किरण ने उस के सीने पर प्यार का एक घूंसा बरसाया.

ये भी पढ़ें- माई स्मार्ट मौम: अपनी मां से नफरत क्यों करने लगी थी प्रिया

नकुल ने खींच कर उसे अपनी मजबूत बांहों में भरते हुए चूम लिया.

सिनेमाहौल से बाहर निकलते हुए नकुल ने मुंह बनाते हुए कहा था, ‘‘मुझे फिल्म जरा भी पसंद नहीं आई.

‘‘वह तो मुझे भी नहीं आई, पर उस में शाहरुख खान तो था न,’’ बोल कर जब किरण हंसी तो नकुल उसे देखते रह गया.

आगे पढ़ें- हंसते वक्त किरण के बायां गाल पर…

Serial Story: लाइफ कोच – भाग 3

‘‘नकुल, देखो, मैं ने तुम्हारे कपड़े, दवाइयां वगैरह अटैची में रख दिए हैं,’’ औफिस के कामों से मुंबई जाते समय किरण उसे एक छोटे बच्चे की तरह समझ रही थी और नकुल ‘ठीक है, ठीक है’ कहता जा रहा था.

‘‘कुछ समझ भी रहे हो या यों ही ‘ठीक है, ठीक है’ कहते जा रहे हो? फिर वहां से फोन कर दसों बार पूछोगे कि कौन सी चीज कहां रखी है,’’ किरण झिड़कते हुए बोली थी.

‘‘हां किरण, मैं सब समझ गया कि तुम ने कौन सी चीज कहां रखी है… नहीं भूलूंगा. लेकिन एक बात कहूं किरण? कम से कम मेरे दोस्तों के सामने ऐसा तो मत जाहिर किया करो कि तुम्हारे बिना मेरा काम नहीं चलता… मुझे कुछ नहीं आता. मैं तुम्हारे ही भरोसे हूं. अच्छा नहीं लगता है न?’’

‘‘ओह… कल की बात का बुरा मान गए,’’ किरण ने अपनी आंखें नचाईं, ‘‘तो क्या हो गया बोल दिया तो,’’ अटैची की चेन लगाते हुए किरण बोली, ‘‘वैसे, क्या गलत बोल दिया मैं ने? तुम्हें एक कपड़ा तक तो ठीक से खरीदना नहीं आता है और चले थे शौपिंग करने. देखा है मैं ने, कुछ भी उठा कर ले आते हो और फिर पैसे की बरबादी होती है. अच्छा चलो, छोड़ो वे सब. मुंबई पहुंचते ही फोन करना मत भूलना और सुनो, ध्यान रखना अपना, क्योंकि वहां मैं नहीं होऊंगी तुम्हारे साथ, समझे? और सुनो, बाहर का कुछ भी खानेपीने मत लगना, देख रहे हो न बीमारी फैली हुई है. और सुनो…’’

ये भी पढ़ें- Valentine’s Special: लाल फ्रेम- पहली नजर में हुआ प्रियांक को दिया से प्यार

‘‘अच्छा भई, हो गया अब, जाने दो न,’’ खीजते हुए नकुल बोला. उसे लग रहा था जितनी जल्दी हो सके घर से निकल जाए. नहीं तो किरण बारबार उसे समझती रहेगी और फिर वह सब भूल जाएगा.

नकुल के घर से निकलतेनिकलते भी किरण ने 2-4 और नसीहतें और दे

डाली थीं, जिन से वह अंदर से तिलमिला उठा था. पर कुछ बोल  नहीं पाया और बाय कह कर घर से निकल गया. नकुल की चुप्पी का ही नतीजा था कि किरण इतना सिर चढ़ बोलने लगी थी. उसे लगता एक वही है जो घर में सब से बुद्धिमान इंसान है, एक वही है जिसे दुनियादारी की सारी समझ है नकुल तो बेवकूफ है. कुछ नहीं आता उसे. वह न आई होती उस की जिंदगी में, तो जाने उस का क्या हुआ होता, जैसे विचार उस के मन में पलते रहते थे. लेकिन उसे नहीं पता कि नकुल उस के जीवन में वह कुछ साल पहले आई है, उस से पहले वह खुद ही खुद की देखभाल करता था और आज जो वह इतने बड़े पोस्ट पर है, किरण की वजह से नहीं, बल्कि खुद की काबिलीयत के बल पर है.

लोग जो उस के कामों की तारीफ करते हैं, वह किरण की वजह से नहीं, बल्कि ये सब उस की मेहनत के कारण है, जो लोग उस का लोहा मानते हैं वरना कई ऐसे लोग हैं औफिस में जो मुंबई आना चाह रहे थे. मगर बौस ने इस काम के लिए नकुल को चुना, क्योंकि वही है जो इतनी बड़ी मीटिंग हैंडल कर सकता था.

नकुल अभी एअरपोर्ट से बाहर निकला ही था कि उस का फोन घनघना उठा. देखा, तो किरण का फोन था, ‘‘हां, बोलो’’ एक हाथ से अपना बैग पकड़े और दूसरे हाथ से वह टैक्सी को इशारा कर ही रहा था कि फोन उस के हाथ से गिरतेगिरते बचा, ‘‘रुको, मैं तुम्हें कौलबैक करता हूं,’’ कह कर नकुल ने फोन काट दिया और टैक्सी को आवाज देने लगा. रास्ते में कई बार उस के बौस का फोन आया, तो उन से काम और होने वाली मीटिंग के बारे में डिसकस करते हुए नकुल को याद ही नहीं रहा कि उसे किरण को फोन भी करना था.

ये भी पढ़ें- कड़ी: क्या थी इस कहानी में रिश्तों की कड़ी

होटल पहुंच कर जब उस ने अपना फोन चैक किया तो किरण के कई मिस्ट थे, ‘अरे, यार किरण को फोन करना तो भूल ही गया’ सोच कर ही नकुल का डर के मारे खून सूख गया कि कैसे वह किरण को फोन करना भूल गया और अब उस की खैर नहीं. दरअसल, मीटिंग के दौरान उस ने अपना फोन साइलैंट मोड पर रख दिया था, जिस के कारण उसे पता ही नहीं चला. खैर, हड़बड़ा कर अभी वह उसे फोन मिला ही रहा था कि उस के बौस का फोन आ गया यह पूछने के लिए कि मीटिंग कैसी रही? उन से बातें कर अभी वह किरण को फोन लगा ही रहा था कि फिर से उस का फोन आ गया तो बोला, ‘‘किरण मैं अभी तुम्हें ही फोन लगा रहा था. वह क्या है कि…’’ नकुल ने सफाई देनी चाही.

मगर वह फोन पर ही चीखने लगी, ‘‘पता था मुझे तुम यही करोगे. वहां जाते ही बेपरवाह हो जाओगे. भुल्लकड़ कहीं के. कब से… कब से मैं फोन लगा रही हूं. पर फोन बिजी ही आ रहा था. किस से बात कर रहे थे इतनी देर तक कि तुम्हें मुझे फोन करना भी याद नहीं आ रहा? बोलो, बोलते क्यों नहीं?’’ वह फोन पर ही इतना चीखने लगी कि नकुल का माथा झनझना उठा. एक तो वह खुद ही मीटिंग के कारण थक कर चूर हो चुका था. ऊपर से यह किरण कुछ समझती ही नहीं है. मन तो किया उस का कि अच्छे से समझ दे कि वह यहां होटल में ऐश करने नहीं आया है, बल्कि यहां औफिस के जरूरी काम से आया हुआ है. लेकिन उस ने केवल सौरी बोल कर फोन रख दिया, क्योंकि उसे समझने का कोई फायदा नहीं.

किरण के मुंह से कड़वी बातें सुनना नकुल के लिए कोई नई बात नहीं थी, बल्कि वह तो अब इस का आदी हो चुका था. रात में कितनी देर तक नकुल को नींद नहीं आई. बारबार उसे अपनी बेटी का चेहरा याद आ रहा था. वह फोन पर कैसे सिसकते हुए बोल रही थी कि मम्मी ने उसे मारा, क्योंकि उस ने पिज्जा खाने की जिद की थी इसलिए.

‘‘बेटा, कोई बात नहीं, जब मैं वहां आऊंगा न तब हम साथ में पिज्जा खाने चलेंगे, ओके? तो अब रोना बंद करो और मम्मी जो कहती है वही करो वरना फिर मारेगी वह तुम्हें. मेरा प्यारा बच्चा, मेरी परी, मानोगी न मेरी बात?’’ फोन पर जब नकुल ने बेटी को पुचकारा, तब जा कर वह चुप हुई. मन तो किया नकुल कि पूछे किरण से, क्यों उस ने पीहू को मारा? क्या प्यार से नहीं समझ सकती थी उसे? मारना जरूरी था? मगर क्या फायदा. वह तो वही करेगी जो उसे ठीक लगेगा उजटे और नकुल का गुस्सा भी पीहू पर ही उतार देगी.

आगे पढ़ें- अभी नकुल खाना खा कर सोने ही जा रहा था कि…

ये भी पढ़ें- मुखौटा: ऐसा क्या हुआ था ट्रक ड्राइवर नईम के साथ

अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें