Monsoon Special: सुन्दर और लहराते बालों के लिए चिपचिपी स्काल्प को कहें अलविदा

मानसून में बारिश की बूंदे जहां गर्मी की चिलचिलाती धूप से राहत दिलाती हैं वही स्किन और बालों के लिए काफी नुक्सान दायक हो सकती हैं, बारिश के समय में होने वाली चिपचिपाहट और नमी बालों और स्काल्प के लिए अनुकूल नहीं मानी जाती है , इस मौसम में नमी और तेल के कारण पसीने का स्राव होता है जो की बालों और खोपड़ी से चिपक जाता है और मिट्टी और प्रदूषकों को आकर्षित करता है, इस स्थिति से जहां बालों का गिरना शुरू हो जाता है वही स्काल्प भी एलर्जिक हो जाती है. बालों में रूसी, एलर्जी, संक्रमण, बदबू, कमजोर रोम जैसी समस्याएँ भी सामने आती हैं. इसके साथ ही असंतुलित और खराब आहार, हार्मोनल असंतुलन जैसे अन्य कारक, हेयर डाई और केमिकल युक्त उत्पादों के उपयोग से भी समस्या बढ़ जाती है और आपके बालों को सुस्त और कमज़ोर दिखाती है.

आइये जाने सिलवरीन स्पा और मेकओवर अकादमी से ब्यूटी एक्सपर्ट पूर्णिमा गोयल से की कैसे मानसून के समय बालों और सकाल्प खूबसूरत और स्टाइलिश रखा जाए. यदि आप भी इस तरह की समस्याओं का सामना कर रहे हैं तो आपको इस बारे में विशेषज्ञ से परामर्श ले लेना चाहिए और उसी के अनुसार उपचार शुरू कर देना चाहिए. इसके अतिरिक्त आप घरेलु तरीकों से ही अपनी स्किन और हेयर के कंडीशन को बेहतर कर सकते हैं. आप प्राकृतिक हेयर मास्क, रेगुलर स्पा और नेचुरल ट्रीटमेंट लेकर कई समस्याओं से बचाव पा सकते हैं.

ये भी पढ़ें- Beauty Tips: 60 सैकेंड स्किन क्लिंजिंग रूल

अरोमा थेरेपी का उपयोग

खुजली और खोपड़ी की गंध को रोकने के लिए अरोमाथेरेपी बहुत उपयोगी हो सकती है. सुगंध और सुगंध तेल चमत्कार कर सकते हैं. आप टी ट्री आयल के स्प्रे के तेल का उपयोग करें, जो अपने विरोधी बैक्टीरियल गुणों के लिए जाना जाता है और खुजली वाली खोपड़ी, चकत्ते, खोपड़ी के दाने और घावों आदि के लिए इलाज करता है. सादे पानी में कुछ बूँदें टी ट्री आयल की मिलाकर स्प्रे करें. जब भी आपको खुजली महसूस हो तो इसे अपने बैग में रखें और अपने स्कैल्प पर स्प्रे करें.

सूखे और घुंघराले बाल

यह एक और आम और कठिन समस्या है. केले और शहद से बने हेयर पैक लगाएं , यह आपके बालों को प्राकृतिक मॉइस्चराइजर और पोषण देगा और आपके बालों को मुलायम, रेशमी और दमदार बनाए रखेगा. एक साथ आधा कप दूध, शहद और एक्स्ट्रा वर्जिन तेल की कुछ बूंदें सूखी स्काल्प की समस्या से छुटकारा पाने के लिए लगाएं और स्वस्थ, पौष्टिक और चमक वाले बाल प्राप्त करें. बालों की अतिरिक्त कंडीशनिंग के लिए मेयोनेज़ से तैयार अतिरिक्त कंडीशनिंग मास्क बना सकते हैं , गर्म तौलिया कवर के साथ इस प्रक्रिया का पालन करें और बालों को शांत ठंडे पानी से धोएं.

इसके अतिरिक्त आप सिरके, केले और एवोकैडो तेल के पैक के साथ सुस्त और बेजान बालों में चमक वापस ला सकते हैं. ऑयली और स्टिकी स्कैल्प के लिए नींबू का रस थेरेपी बहुत अच्छा काम करता है.· अपनी स्काल्प पर नींबू का रस लगाएँ, इसे 15 मिनट के लिए छोड़ दें और बाल धो लें . आप एलोवेरा जेल में नींबू का रस भी मिला सकते हैं. या बस पुदीने के पेस्ट का इस्तेमाल करें.

सावधानी बरतें

जब आप हेयर प्रोडक्ट खरीदते हैं तो सावधानी बरतें क्योंकि नमी आधारित हेयर प्रोडक्ट्स को इस सीजन में अल्कोहल बेस्ड क्रीम या जैल से बदलें.

क्या करें और क्या नहीं

सप्ताह में कम से कम दो बार अपने बालों को धोएं. नमी से तेल और पसीने का स्राव होता है जो बालों और खोपड़ी को चिपक जाता है जो जमी हुई गंदगी और प्रदूषकों को आकर्षित करता है. बाल धोने के लिए माइल्ड शैम्पू और कंडीशनर चुनें. शिकाकाई, रीठा, ब्राह्मी, आंवला और मेंहदी जैसे हर्बल अर्क वाले शैंपू बेहतर विकल्प हैं.

मानसून में बालों की खास देखभाल

मानसून में आप बाहर जाते समय रंगीन स्कार्फ और सुंदर बैंड के साथ अपने घुंघराले बालों को कवर कर सकते हैं जो स्टाइलिश दिखते हैं और आपकी पोशाक के रंग के साथ मेल खाते हैं. यदि आप पूल पार्टी, बीच पार्टी या एक रेट्रो इवेंट स्टाइल के लिए जा रहे हैं, तो अपने बालों को बोहेमियन तरीके से स्टाइल कर सकते हैं.

ये भी पढ़ें- बालों को कैसे करें डीटोक्स

लंबे बालों को अच्छी तरह से हाई बन या लो बन में बांधा जा सकता है. छोटे बाल बड़े करीने से और अच्छी तरह से कटे हुए होने चाहिए गीले बालों में कभी कंघी न करें क्योंकि इससे आपके बाल कमजोर हो जाते हैं और टूटने का खतरा रहता है. अपने बालों के सूखने के बाद चौड़े दांतों वाली कंघी का इस्तेमाल करें.

विटामिन ई और सी से भरपूर आहार लेना, बादाम, पालक, जैतून, आंवला, और टमाटर, खट्टे फल बहुत महत्वपूर्ण हैं. दैनिक आहार में ताजे फल, कच्चे सलाद, अंकुरित अनाज और दही शामिल करना चाहिए.· इसके अलावा, रोजाना कम से कम 10 गिलास पानी पिएं और तैलीय, मसालेदार, जंक या बाहर के खाने से बचें.

beauty

अदरक से होने वाले इन फायदों के बारे में जानती हैं आप?

कई ऐसी परिस्थितियां उत्पन्न होती हैं जिनमें आप ज्यादा दवाइयों पर निर्भर नहीं रह सकती. ऐसे में आपको प्राकृतिक नुस्खों की ओर मुड़ना पड़ता है. इन तमाम प्राकृतिक उपचार वाले तत्वों में प्रमुख है अदरक. अदरक के कई लाभकारी गुण होते हैं. सेहत संबंधी कई परेशानियों के उपचार में अदरक काफी फायदेमंद होता है. इस खबर में हम आपको अदरक की खूबियों के बारे में बताएंगे.

मासिक धर्म में मिलता है आराम

माहिलाओं को मासिक धर्म के दौरान होने वाली परेशानियों में अदरक काफी फायदेमंद होता है. इस दौरान हो होने वाले दर्द, सूजन में अदरक काफी लाभकारी होता है. ऐसा इसलिए क्योंकि इसमें एंटीइंफ्लेमेटरी गुण होते हैं.

खाने को बनाए स्वादिष्ट

अदरक रोज बनने वाले खानों का एक महत्वपूर्ण तत्व है. इससे खाने में स्वाद तो आता ही है साथ ही एक प्यारी खुशबू भी आती है. जानकारों का मानना है कि खाली पेट अदरक खाने से कई तरह के फायदे होते हैं.

दवाइयों की जगह आजमाएं प्राकृतिक नुस्खें

किसी भी तरह की परेशानियों में सीधे दावाइयों का प्रयोग ना करें. दवाइयों के इस्तेमाल से पहले प्राकृतिक नुस्खें आजमाएं. क्योंकि ज्यादा दवाइयों का सेवन शरीर के लिए हानिकारक होता है. छोटी मोटी परेशानियां जैसे, सर्दी खांसी, बदहजमी, कब्ज जैसी परेशानियों में अदरक काफी लाभकारी होता है.

सूखी खांसी में है काफी फायदेमंद

अदरक सूखी खांसी से निपटने में काफी कारगर है। इसमें एंटीऑक्‍सीडेंट भी होता है, जो गले और सांस लेने वाली नली में जमा टौक्‍सिन को साफ करता है और कफ को बाहर निकालता है। यही नहीं अदरक में ऐसे गुण भी पाए जाते हैं, अस्‍थमा और ब्रोंकाइटिस को दूर करने में लाभदायक होते हैं। यदि अदरक में नमक मिला दिया जाए तो इसकी ताकत दोगुनी बढ़ जाती है.

अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें