नया सफर: ससुराल के पाखंड और अंधविश्वास के माहौल में क्या बस पाई मंजू

“पापा, मैं यह शादी नहीं करना चाहती. प्लीज, आप मेरी बात मान लो…”

“क्या कह रही हो तुम? आखिर क्या कमी है मुनेंद्र में? भरापूरा परिवार है. खेतखलिहान हैं उस के पास. दोमंजिले मकान का मालिक है. घर में कोई कमी नहीं. हमारी टक्कर के लोग हैं,” उस के पिता ने गुस्से में कहा.

“पर पापा, आप भी जानते हैं, मुनेंद्र 5वीं फेल है जबकि मैं ग्रैजुएट हूं. हमारा क्या मेल?” मंजू ने अपनी बात रखी.

“मंजू, याद रख पढ़नेलिखने का यह मतलब नहीं कि तू अपने बाप से जबान लड़ाए और फिर पढ़ाई में क्या रखा है? जब लड़का इतना कमाखा रहा है, वह दानधर्म करने वाले इतने ऊंचे खानदान से है फिर तुझे बीच में बोलने का हक किस ने दिया? देख बेटा, हम तेरे भले की ही बात करेंगे. हम तेरे मांबाप हैं कोई दुश्मन तो हैं नहीं,” मां ने सख्त आवाज में उसे समझाने की कोशिश की.

“पर मां आप जानते हो न मुझे पढ़नेलिखने का कितना शौक है. मैं आगे बीएड कर टीचर बनना चाहती हूं. बाहर निकल कर काम करना है, रूपए कमाने हैं मुझे,” मंजू गिड़गिड़ाई.

ये भी पढ़ें- लाली: नेत्रहीन लाली और रोशन की बचपन की दोस्ती में क्यों आ गई दरार

“बहुत हो गई पढ़ाई. जब से पैदा हुई है यह लड़की पढ़ाई के पीछे पड़ी है. देख, अब तू चेत जा. लड़की का जन्म घर संभालने के लिए होता है, रुपए कमाने के लिए नहीं. तेरे ससुराल में इतना पैसा है कि बिना कमाई किए आराम से जी सकती है. चल, ज्यादा नखरे मत कर और शादी के लिए तैयार हो जा. हम तेरे नखरे और नहीं सह सकते. अपने घर जा और हमें चैन से रहने दे,” उस के पिता ने अपना फैसला सुना दिया था.

हार कर मंजू को शादी की सहमति देनी पड़ी. मुनेंद्र के साथ सात फेरे ले कर वह उस के घर आ गई. मंजू का मायका बहुत पूजापाठ करने वाला था. उस के पिता गांव के बड़े किसान थे. अब उसे ससुराल भी वैसा ही मिला था. पूजापाठ और अंधविश्वास में ये लोग दो कदम आगे ही थे.

किस दिन कौन से रंग के कपड़े पहनने हैं, किस दिन बाल धोना है, किस दिन नाखून काटने हैं और किस दिन बहू के हाथ दानपुण्य कराना है यह सब पहले से निश्चित रहता था.

सप्ताह के 7 में से 4 दिन उस से अपेक्षा रखी जाती थी कि वह किसी न किसी देवता के नाम पर व्रत रखे. व्रत नहीं तो कम से कम नियम से चले. रीतिरिवाजों का पालन करे. मंजू को अपनी डिगरी के कागज उठा कर अलमारी में रख देने पड़े. इस डिगरी की इस घर में कोई अहमियत नहीं थी.

उस का काम केवल सासससुर की सेवा करना, पति को सैक्स सुख देना और घर भर को स्वादिष्ठ खाना बनाबना कर खिलाना मात्र था. उस की खुशी, उस की संतुष्टि और उस के सपनों की कोई अहमियत नहीं थी.

समय इसी तरह गुजरता जा रहा था. बहुत बुझे मन से मंजू अपनी शादीशुदा जिंदगी गुजार रही थी. शादी के 1 साल बीत जाने के बाद भी जब मंजू ने सास को कोई खुशखबरी नहीं सुनाई तो घर में नए शगूफे शुरू हो गए.

सास कभी उसे बाबा के पास ले जाती तो कभी टोटके करवाती, कभी भस्म खिलाती तो कभी पूजापाठ रखवाती. लंबे समय तक इसी तरह बच्चे के जन्म की आस में परिवार वाले उसे टौर्चर करते रहे. मंजू समझ नहीं पाती थी कि आखिर इस अनपढ़, जाहिल और अंधविश्वासी परिवार के साथ कैसे निभाए?

इस बीच खाली समय में बैठेबैठे उस ने फेसबुक पर एक लड़के अंकित से दोस्ती कर ली. अंकित पढ़ालिखा था और उसी की उम्र का भी था. दोनों बैचमेट थे. उस के साथ मंजू हर तरह की बातें करने लगी. अंकित मंजू की मदद करने के लिए हमेशा तैयार रहता. उसे नईनई बातें बताता. दोनों के बीच थोड़ा बहुत अट्रैक्शन भी था मगर अंकित जानता था कि मंजू विवाहित है सो वह कभी अपनी सीमारेखा नहीं भूलता था.

एक दिन उस ने मंजू को बताया कि वह सिंगापुर अपनी आंटी के पास रहने जा रहा है. उसे वहां जौब भी मिल जाएगी. इस पर मंजू के मन में भी उम्मीद की एक किरण जागी. उसे लगा जैसे वह इन सारे झमेलों से दूर किसी और दुनिया में अपनी जिंदगी की शुरुआत कर सकती है.

उस ने अंकित से सवाल किया,” क्या मैं तुम्हारे साथ सिंगापुर चल सकती हूं?”

“पर तुम्हारे ससुराल वाले तुम्हें जाने की अनुमति दे देंगे?” अंकित ने पूछा.

“मैं उन से अनुमति मांगने जाऊंगी भी नहीं. मुझे तो बस यहां से बहुत दूर निकल जाना है, ” मंजू ने बिंदास हो कर कहा.

“इतनी हिम्मत है तुम्हारे अंदर?” अंकित को विश्वास नहीं हो रहा था.

“हां, बहुत हिम्मत है. अपने सपनों को पूरा करने के लिए मैं कुछ भी कर सकती हूं.”

“तो ठीक है मगर सिंगापुर जाना इतना आसान नहीं है. पहले तुम्हें पासपोर्ट, वीजा वगैरह तैयार करवाना पड़ेगा. उस में काफी समय लग जाता है. वैसे मेरा एक फ्रैंड है जो यह काम जल्दी कराने में मेरी मदद कर सकता है. लेकिन तुम्हें इस के लिए सारे कागजात और पैसे ले कर आना पड़ेगा. कुछ औपचारिकता हैं उन्हें पूरी करनी होगी,” अंकित ने समझाया.

“ठीक है, मैं कोई बहाना बना कर वहां पहुंच जाऊंगी. मेरे पास कुछ गहने पड़े हैं उन्हें ले आऊंगी. तुम मुझे बता दो कब और कहां आना है.”

अगले ही दिन मंजू कालेज में सर्टिफिकेट जमा करने और सहेली के घर जाने के बहाने घर से निकली और अंकित के पास पहुंच गई. दोनों ने फटाफट सारे काम किए और मंजू वापस लौट आई. घर में किसी को कानोंकान खबर भी नहीं हुई कि वह क्या कदम उठाने जा रही है.

इस बीच मंजू चुपकेचुपके अपनी पैकिंग करती रही और फिर वह दिन भी आ गया जब उसे सब को अलविदा कह कर बहुत दूर निकल जाना था. अंकित ने उसे व्हाट्सऐप पर सारे डिटेल्स भेज दिए थे.

शाम के 7 बजे की फ्लाइट थी. उसे 2-3 घंटे पहले ही निकलना था. उस ने अंकित को फोन कर दिया था. अंकित ठीक 3 बजे गाड़ी ले कर उस के घर के पीछे की तरफ खड़ा हो गया. इस वक्त घर में सब सो रहे थे. मौका देख कर मंजू बैग और सूटकेस ले कर चुपके से निकली और अंकित के साथ गाड़ी में बैठ कर एअरपोर्ट की ओर चल पड़ी.

फ्लाइट में बैठ कर उसे एहसास हुआ जैसे आज उस के सपनों को पंख लग गए हैं. आज से उस की जिंदगी पर किसी और का नहीं बल्कि खुद उस का हक होगा. वह छूट रही इस दुनिया में कभी भी वापस लौटना नहीं चाहती थी.

रास्ते में अंकित जानबूझ कर माहौल को हलका बनाने की कोशिश कर रहा था. वह जानता था कि मंजू अंदर से काफी डरी हुई थी. अंकित ने अपनी जेब से कई सारे चुइंगम निकाल कर उसे देते हुए पूछा,”तुम्हें चुइंगम पसंद हैं?”

मंजू ने हंसते हुए कहा,”हां, बहुत पसंद हैं. बचपन में पिताजी से छिप कर ढेर सारी चुइंगम खरीद लाती थी.”

“पर अब भूल जाओ. सिंगापुर में चुइंगम नहीं खा पाओगी.”

“ऐसा क्यों?”

“क्योंकि वहां चुइंगम खाना बैन है. सफाई को ध्यान में रखते हुए सिंगापुर सरकार ने साल 1992 में चुइंगम बैन कर दिया था.”

अंकित के मुंह से यह बात सुन कर मंजू को हंसी आ गई. चेहरा बनाते हुए बोली,” हाय, यह वियोग मैं कैसे सहूंगी?”

ये भी पढ़ें- बेवफा: दीपक की बहन रागिनी को क्या पता चला था 20 साल बाद

“जैसे मैं सहता हूं,” कहते हुए अंकित भी हंस पड़ा.

“वैसे वहां की और क्या खासियतें हैं? मंजू ने उत्सुकता से पूछा.

“वहां की नाईटलाइफ बहुत खूबसूरत होती है. वहां की रातें लाखों टिमटिमाती डिगाइनर लेजर लाइटों से लैस होती हैं जैसे रौशनी में नहा रही हों.

“तुम्हें पता है, सिंगापुर हमारे देश के एक छोटे से शहर जितना ही बड़ा होगा. लेकिन वहां की साफसुथरी सड़कें, शांत, हराभरा वातावरण किसी का भी दिल जीतने के लिए काफी है. वहां संस्कृति के अनोखे और विभिन्न रंग देखने को मिलते हैं. वहां की शानदार सड़कों और गगनचुंबी इमारतों में एक अलग ही आकर्षण है. सिंगापुर में सड़कों और अन्य स्थलों पर लगे पेड़ों की खास देखभाल की जाती है और उन्हें एक विशेष आकार दिया जाता है. यह बात इस जगह की खूबसूरती को और भी बढ़ा देते हैं. ”

“ग्रेट, पर तुम्हें इतना सब कैसे पता? पहले आ चुके हो लगता है?”

“हां, आंटी के यहां कई बार आ चुका हूं।”

सिंगापुर पहुंच कर अंकित ने उसे अपनी आंटी से मिलवाया. 2-3 दिन दोनों आंटी के पास ही रुके.

आंटी ने मंजू को सिंगापुर की लाइफ और वर्क कल्चर के बारे में विस्तार से समझाते हुए कहा,” वैसे तो तेरी जितनी शिक्षा है वह कहीं भी गुजरबसर करने के लिए काफी है. पर याद रख, तू फिलहाल सिंगापुर में है और वह डिगरी भारत की है जिस का यहां ज्यादा फायदा नहीं मिलने वाला.

“तेरे पास जो सब से अच्छा विकल्प है वह है हाउसहोल्ड वर्क का. सिंगापुर में घर संभालने के लिए काफी अच्छी सैलरी मिलती है. वैसे कपल्स जो दिन भर औफिस में रहते हैं उन्हें पीछे से बच्चों और बुजुर्गों को संभालने के लिए किसी की जरूरत पड़ती है. यह काम तू आसानी से कर सकेगी. बाद में काम करतेकरते कोई और अच्छी जौब भी ढूंढ़ सकती है.”

मंजू को यह आइडिया पसंद आया. उस ने आंटी की ही एक जानपहचान वाली के यहां बच्चे को संभालने का काम शुरू किया. दिनभर पतिपत्नी औफिस चले जाते थे. पीछे से वह बेबी को संभालने के साथ घर के काम करती. इस के लिए उसे भारतीय रुपयों में ₹20 हजार मिल रहे थे. खानापीना भी घर में ही था. ऐसे में वह सैलरी का ज्यादातर हिस्सा जमा करने लगी.

धीरेधीरे उस के पास काफी रुपए जमा हो गए. घर में सब उसे प्यार भी बहुत करते थे. बच्चों का खयाल रखतेरखते वह उन से गहराई से जुड़ती चली गई थी. अब उसे अपनी पुरानी जिंदगी और उस जिंदगी से जुड़े लोग बिलकुल भी याद नहीं आते थे. वह अपनी नई दुनिया में बहुत खुश थी. अंकित जैसे सच्चे दोस्त के साथसाथ उसे एक पूरा परिवार मिल गया था.

अपनी मालकिन सीमा की सलाह पर मंजू ने ऐडवांस कंप्यूटर कोर्स भी जौइन कर लिया ताकि उसे समय आने पर कोई अच्छी जौब का मौका भी मिल जाए. वह अब सिंगापुर और यहां के लोगों से भी काफी हद तक परिचित हो चुकी थी. यहां के लोगों की सोच और रहनसहन उसे पसंद आने लगी थी. यहां का साफसुथरा माहौल उसे बहुत अच्छा लगता. अंकित से भी उस की दोस्ती काफी खूबसूरत मोड़ पर थी. अंकित को जौब मिल चुकी थी और वह एक अलग कमरा ले कर रहता था.

हर रविवार जिद कर के वह मंजू को आसपास घुमाने भी ले जाता. वह मंजू की हर तरह से मदद करने को हमेशा तैयार रहता. कभीकभी मंजू को लगता जैसे वह अंकित से प्यार करने लगी है. अंकित की आंखों में भी उसे अपने लिए वही भाव नजर आते. मगर सामने से दोनों ने ही एकदूसरे से कुछ नहीं कहा था.

एक दिन शाम में अंकित उस से मिलने आया. उस ने घबराए हुए स्वर में मंजू को बताया,”मंजू, तुम्हारे पति को कहीं से खबर लग गई कि तुम मेरे साथ कहीं दूर आ गई हो. दरअसल, किसी ने तुम्हें मेरे साथ एअरपोर्ट के पास देख लिया था. यह सुन कर तुम्हारा पति मेरे भाई के घर पहुंचा और डराधमका कर सच उस से उगलवा लिया कि हम सिंगापुर में हैं.

“दोनों को यह लग रहा है कि तुम मेरे साथ भाग आई हो. हो सकता है कि तुम्हारा पीछा करतेकरते वे यहां भी पहुंच जाएं.”

“लेकिन उन के लिए सिंगापुर आना इतना आसान तो नहीं और यदि वे यहां आ भी जाते हैं तो उस से पहले ही मुझे यहां से निकलना पड़ेगा.”

“हां पर तुम जाओगी कहां?” चिंतित स्वर में अंकित ने पूछा.

“ऐसा करो मंजू तुम मलयेशिया निकल जाओ. वहां मेरी बहन रहती है. उस के घर में बूढ़े सासससुर और एक छोटा बेबी है. जीजू और दीदी जौब पर जाते हैं. पीछे से सास बेबी को संभालती हैं. मगर अब उन की भी उम्र काफी हो चुकी है. तुम कुछ दिनों के लिए उन के घर में फैमिली मैंबर की तरह रहो. मैं तुम्हारे बारे में उन्हें सब कुछ बता दूंगी. तुम बेबी संभालने का काम कर लेना. बाद में जब तुम्हारे पति और भाई यहां से चले जाएं तो वापस आ जाना. अंकित तुम्हें वहां भेजने का प्रबंध कर देगा,” सीमा ने समाधान सुझाया.

मंजू ने अंकित की तरफ देखा. अंकित ने हामी भरते हुए कहा,” डोंट वरी मंजू मैं तुम्हें सुरक्षित मलेशिया तक पहुंचाऊंगा मगर वीजा बनने में कुछ समय लगेगा. तब तक तुम्हें यहां छिप कर रहना होगा.”

“हां, अंकित मुझे अपनी पढ़ाई भी छोड़नी होगी. मैं नहीं चाहती कि मेरा पति या भाई मुझे पकड़ लें और फिर से उसी नरक में ले जाएं जहां से बच कर मैं आई हूं. आई विल बी ग्रेटफुल टू यू अंकित.”

“ओके, तुम डरो नहीं मैं इंतजाम करता हूं,” कह कर अंकित चला गया और मंजू उसे जाता देखती रही. फिर वह सीमा के गले लग गई. सीमा बड़ी बहन की तरह प्यार से उस का माथा सहलाने लगी.

इस बात को कई दिन बीत गए. एक दिन मंजू कंप्यूटर क्लास से निकलने वाली थी कि उसे अपने भाई की शक्ल वाला लड़का नजर आया. वह इस बात को मन का भ्रम मान कर आगे बढ़ने को हुई कि तभी उसे भाई के साथ अपना पति मुनेंद्र भी नजर आ गया. मंजू वहीं ठहर गई. वह नहीं चाहती थी कि उन दोनों को उस की झलक भी मिले. उस का पति और भाई इधरउधर देखते दूसरी सड़क पर आगे बढ़ गए तो वह दुपट्टे से चेहरा ढंक कर बाहर निकली और तेजी से अपने घर की तरफ चल दी. उसे बहुत डर लग रहा था. वह समझ गई थी कि उस का भाई और पति उस की तलाश में सिंगापुर पहुंच चुके हैं और अब यहां उस का बचना मुश्किल है.

घर आ कर उस ने सारी बात सीमा और अंकित को बताई. जाहिर था कि अब मंजू का सिंगापुर में रहना खतरे से खाली नहीं था. अब तक अंकित ने मंजू की वीजा का इंतजाम कर दिया था. अगले दिन ही उस के जाने का प्रबंध कर दिया गया. अपना सामान पैक करते समय मंजू सीमा के गले लग कर देर तक रोती रही. बच्चे भी मंजू को छोड़ने को तैयार नहीं थे.

छोटी परी ने तो उसे कस कर पकड़ लिया और कहने लगी,” नहीं दीदी, आप कहीं नहीं जाओगे हमें छोड़ कर.”

मंजू का दिल भर आया था. उस की आंखों से खुशी के आंसू बह निकले. अंकित के साथ एअरपोर्ट की तरफ जाते हुए भी वही सोच रही थी कि एक अनजान देश में अनजानों के बीच उसे अपने परिवार से कहीं ज्यादा प्यार मिला. यही नहीं, अंकित जैसा दोस्त मिला जो रिश्ते में कुछ न होते हुए भी उस के लिए इतनी भागदौड़ करता रहता है, उसे सुरक्षा देता है, उस की परवाह करता है. काश अंकित हमेशा के लिए उस का बन जाता. इसी तरह हमेशा उस के बढ़ते कदमों को हौंसला और संबल देता.

ये भी पढ़ें- Mother’s Day Special: गर्भदान- एक बच्ची के लिए निष्ठुर कैसे हो सकती है मां

मंजू ने इन्हीं भावों के साथ अंकित की तरफ देखा. अंकित की नजरों में भी शायद यही भाव थे. एक अनकहा सा प्यार दोनों की आंखों में झलक रहा था पर दोनों ही कुछ कह नहीं पा रहे थे. अंकित ने उदास स्वर में कहा,”अपना ध्यान रखना मंजू।”

“देखो, तुम भी बच के रहना. कहीं वे तुम्हें देख न लें,” मंजू ने भी चिंतित हो कर कहा.

“नहींनहीं आजकल मेरी नाईटशिफ्ट चल रही है. मैं दिन में वैसे भी घर में ही रहता हूं सो पकड़ में नहीं आने वाला. अगर वे मुझे खोजते हुए घर तक आ भी गए तो मैं यही कहूंगा कि तुम मेरे साथ आई जरूर थी मगर अब कहां हो यह खबर नहीं है. तुम घबराओ नहीं आराम से रहना और अपना ध्यान रखना.”

मलयेशिया की फ्लाइट में बैठी हुई मंजू का दिल अभी भी अंकित को याद कर रहा था. शायद वह अंकित से दूर जाना नहीं चाहती थी. वह एक नए सफर की तरफ निकल तो चुकी थी पर इस बार पीछे जो छूट रहा था वह सब फिर से पा लेने की चाहत थी.

नया सफर: भाग-2

पिछला भाग- नया सफर: भाग-1

विजय के जाने के बाद सरिता को दिनकर से खुल कर बातें करने का वक्त मिल गया. घर में दोनों अकेले थे इसलिए खूब बातें कीं. दिनकर ने दिल खोल कर रख दिया, तो सरिता भी पीछे न रही. दोनों ने अपनेअपने दर्द बयां किए तो दोनों एकदसरे के हमदर्द बन गए और हमदर्दी पा कर प्यार की कोंपलें फूटने लगीं. दोनों को लगा कि कुदरत ने हमारे लिए जीवनसाथी बनाते समय हमारे साथ अन्याय किया है.

सरिता ने दिन भर दिनकर को शहर में घुमाया. दिनकर ने अपने जरूरी काम निबटाए फिर सरिता से कहा, ‘‘अब मैं तुम्हारे हवाले हूं मैडम, जहां मरजी ले चलो.’’

‘‘भगा ले चलूं तो…,’’ सरिता ने कार चलाते हुए कहा.

‘‘मैं तैयार हूं भागने को.’’

दिनकर के कहने का अंदाज कुछ ऐसा था कि दोनों खिलखिला कर हंस पड़े. फिर दिन भर घूमने के बाद शाम को दोनों घर लौट आए.

बच्चे स्कूल से आने वाले थे. विजय डिनर के वक्त ही घर आता था. दिनकर की फ्लाइट देर रात की थी पर सरिता चाहती थी कि कैसे भी हो दिनकर विजय के घर लौटने से पहले ही एअरपोर्ट चला जाए. जबकि दिनकर चाहता था कि कुछ समय और सरिता के साथ गुजारे.

‘‘आप अभी एयरपोर्ट चले जाइए न दिनकरजी,’’ सरिता ने विचलित भाव से कहा.

‘‘पर क्यों, अभी तो बहुत देर है फ्लाइट में, पहले जा कर क्या करूंगा?’’

‘‘यहां ट्रैफिक जाम रहता है, कहीं जाम लग गया तो आप की फ्लाइट मिस हो जाएगी.’’

‘‘नहीं होगी और अगर हो भी जाएगी तो क्या है कल चला जाऊंगा,’’ दिनकर ने टालते हुए कहा.

कुछ बोल नहीं पाई सरिता लेकिन उस के हावभाव से लग रहा था कि कुछ बात जरूर है, नहीं तो दिन भर साथ रहने वाली सरिता यों पीछा छुड़ाने का प्रयास न करती. अचानक डोर बैल बजी. सुन कर आशंकित सी हो उठी सरिता. चेहरे के भाव बदल गए. दरवाजा खोला तो विजय सामने खड़ा था. उस की शर्ट कहीं, टाई कहीं जा रही थी. उस के मुंह से तेज भभका ज्योंही सरिता के नाक तक पहुंचा वह बोली, ‘‘विजय, आप पी कर आए हैं न? आज तो न पीते दिनकर आए हुए हैं.’’

‘‘तेरा मेहमान आया है तो मैं क्या करूं? हट पीछे. तू तो जब देखो तब रोती रहती है,’’ विजय ने लड़खड़ाते कदमों से घर में प्रवेश किया.

‘‘प्लीज, विजय धीरे बोलिए, दिनकर अंदर हैं,’’ सरिता ने हाथ जोड़ते हुए कहा.

दिनकर ने सारा ड्रामा देखा और सुना तो सहम गया. पता नहीं सरिता के साथ कैसा व्यवहार करेगा विजय, कहीं मुझ से ही न उलझ जाए? विजय सीधा बैडरूम में गया और जैसे आया था वैसे ही कपड़े और जूते पहने बिस्तर पर लुढ़क गया. सरिता देखती रह गई. उस की आंखों से आंसू छलक पड़े. दिल का दर्द बह निकला. दिनकर दूर खड़े हो कर सब नजारा देख चुका था. सरिता ने दिनकर को देखा तो खुद को रोक नहीं पाई. दिनकर से लिपट कर सुबक पड़ी.

‘‘बस करो सरिता, हिम्मत रखो,’’ कह कर दिनकर ने प्यार से सरिता की पीठ पर हाथ फिराया तो सरिता को अपनत्व का एहसास हुआ.

‘‘मुझे भी साथ ले चलो दिनकर, मुझे यहां नहीं रहना,’’ सरिता ने सुबकते हुए कहा तो दिनकर अवाक रह गया. यों कहां ले जाए, कैसे ले जाए, किस रिश्ते से ले जाए? अनेक सवाल कौंध गए दिनकर के मन में. ‘‘सब ठीक हो जाएगा,’’ इतना ही बोल पाया दिनकर. उस की समझ में नहीं आ रहा था कि इस हालत में सरिता को छोड़ कर कैसे जाए, लेकिन फ्लाइट का टाइम हो रहा था, इसलिए निकल पड़ा.

दिनकर अपने शहर तो आ गया, लेकिन सरिता का चेहरा बारबार उस की आंखों के सामने घूम रहा था. उस ने सरिता को फोन किया, ‘‘हैलो सरिता, कैसी हो?’’

‘मैं बिलकुल ठीक हूं. आप बताइए, कैसे हैं?’’

‘‘तुम्हें ही याद कर रहा था. बहुत चिंता हो रही थी.’’

‘‘अरे आप टैंशन न लें. वह सब तो मेरी लाइफ बन चुका है.’’

‘‘मैं तो डर गया था तुम्हारी हालत देख कर.’’

‘‘मत सोचिए ज्यादा, मैं तो बस आप को देख कर थोड़ा इमोशनल हो गई थी,’’ सरिता ने कहा.

दिनकर और सरिता एकदूसरे के और करीब आते गए. दिनकर का आनाजाना और सरिता से मिलनाजुलना बढ़ गया. दोनों का यह मेलमिलाप कविता को फूटी आंख नहीं सुहाता था. दिनकर के प्रति उस का व्यवहार और रूखा हो गया. इस से कविता से दूर और सरिता के और करीब होता गया दिनकर. फिर एक वक्त ऐसा आया कि सरिता और दिनकर 1 घंटा भी अपनेअपने शहर में इधरउधर होते तो आशंकित हो उठते. कहां हो, क्या कर रहे हो? जैसे दोनों के सवालजवाब का आदानप्रदान होता तो उन्हें चैन मिलता. दोनों का प्यार चरम पर था. दिनकर के साथ और उस की हौसला अफजाई से सरिता में निखार आता चला गया. उस ने अपने पति विजय को भी संभाला लेकिन दिनकर से वह बहुत प्यार करती थी.

ये भी पढ़ें- अपने अपने शिखर: भाग-1

विजय का व्यवहार सरिता के प्रति धीरेधीरे ठीक होता जा रहा था, लेकिन दिनकर कविता से दूर होता जा रहा था. कविता का व्यवहार दिनकर के प्रति इस कदर रूखा और बदतमीजी वाला हो गया था कि दिनकर का जीना दूभर हो गया था. इस बीच दिनकर के बेटे की शादी भी हो गई. बहुत समझदार और सुशील बहू पा कर दिनकर ये उम्मीदें करने लगा कि कविता में कुछ सुधार हो जाएगा, लेकिन सारी उम्मीदें सिर्फ ख्वाब बन कर रह गईं. बहू ने पुत्र के रूप में नया वारिस भी दे दिया. दिनकर और सरिता के अनाम रिश्तों को 15 साल होने जा रहे थे कि अचानक सरिता के व्यवहार में परिवर्तन आ गया. वह दिनकर को कम तो विजय को ज्यादा वक्त देने लगी. सरिता के इस तरह के व्यवहार से दिनकर विचलित हो गया. उसे लगा कि सरिता उस के साथ धोखा कर रही है. साथसाथ जीनेमरने की कसम खाने वाली सरिता क्यों बदल रही थी यह बात दिनकर समझ नहीं पा रहा था. वह स्वयं को अकेला महसूस करता. कविता तो उस की हो नहीं पाई. अब सरिता भी साथ छोड़ने की ओर कदम बढ़ा रही थी.

सरिता ने आखिर वह बात कह दी जो दिनकर ने कभी सोची ही नहीं थी, ‘‘मुझे भूल जाइए दिनकर. मैं आप का साथ नहीं दे सकती.’’

‘‘पर सरिता मैं कहां जाऊं, क्या करूं?’’ दिनकर ने रुंधे गले से कहा.

‘‘मुझे माफ कर दीजिए दिनकर, मेरे बच्चे अब बड़े हो गए हैं. मैं यह दोहरा जीवन नहीं जी पा रही.’’

‘‘मुझे किस बात की सजा दे रही हो सरिता? मुझ में अचानक क्या कमी आ गई?’’

‘‘आप में कोई कमी नहीं दिनकरजी. मैं ने आप से ही जीना सीखा है. आज जो भी हूं आप की वजह से हूं,’’ कहते हुए सरिता की आंखें भर आईं.

‘‘हमारा रिश्ता इतने सालों से चल रहा है तो बाकी जिंदगी भी कट जाएगी, सरिता.’’

‘‘नहीं दिनकर, हमारे रिश्ते का कोई नाम नहीं है. यह सामाजिक और कानूनी दोनों रूप से ठीक नहीं है.’’

‘‘इस से क्या होता है सरिता, हम कौन सा किसी को नुकसान पहुंचा रहे हैं?’’

‘‘नहीं अब नहीं चलेगा. अब तक हम दुनिया की नजरों में नहीं आए तो इस का मतलब यह नहीं कि चोरीछिपे जो कर रहे हैं कभी लोग समझ नहीं पाएंगे,’’ सरिता ने सख्त लहजे में कहा तो दिनकर को लगा उस के साथ बहुत बड़ा धोखा कर रही है सरिता. उस को गहरा धक्का लगा.

‘‘तो अब तक तुम जो मेरे साथ रहीं वह वैध था? तब समाज का डर नहीं लगा तुम्हें? अब तुम्हारा पति ठीक हो गया तो तुम बदल रही हो,’’ चिल्ला पड़ा दिनकर. गुस्से से लाल हो गया उस का चेहरा.

सरिता भी कम न थी. बोली, ‘‘तो जबरदस्ती का प्यार करोगे क्या? जो चीज संभव नहीं उस की कोशिश मत करो.’’

सरिता का बदला रंग देख कर दिनकर डिप्रैस हो गया. एक ही औरत के कई रंग देख लिए थे उस ने. प्यार में मिले आघात से वह मानसिक संतुलन खो बैठा. कामकाज छोड़ दिया. रात को नींद आनी बंद हो गई. अजीब सी बातें और हरकतें करने लगा. दिन में बड़बड़ाने लगा. हर किसी को मारने दौड़ता. बातबात पर गुस्सा और आपे से बाहर होने लगा. और एक दिन ऐसी स्थिति आई कि वह हिंसक हो उठा. कविता से किसी बात पर कहासुनी हो गई तो बजाय शांत करने के कविता ने उसे और भड़का दिया. तब कोई तीखी चीज ले कर दिनकर ने कविता पर हमला करना चाहता तो बेटे ने बड़ी मुश्किल से काबू किया. उसे तुरंत डाक्टर के पास ले जाया गया. डाक्टर ने बताया कि दिनकर को किसी बात से गहरा मानसिक आघात लगा है. इसे मैंटल हौस्पिटल में इलाज की जरूरत है. इलाज लंबा भी चल सकता है. तब तय हुआ कि अपने शहर के बजाय आगरा हौस्पिटल में इलाज लेना बेहतर होगा. आज हौस्पिटल से निकले जिंदगी के 50 वसंत देख चुके दिनकर के जीवन की एक नई शुरुआत होने जा रही थी. वह अपनी पिछली जिंदगी भूल कर कविता के साथ नई जिंदगी गुजारने को तैयार था.

ये भी पढ़ें- टेढ़ा है पर मेरा है भाग-2

नया सफर: भाग-1

करीब 3 माह के इलाज के बाद आज दिनकर को मैंटल हौस्पिटल से छुट्टी मिलने वाली थी. उसे जबरदस्त मानसिक आघात की वजह से आगरा के मैंटल हौस्पिटल में भरती कराया गया था. जब हौस्पिटल से सूचना मिली कि वह अब पूरी तरह से ठीक है और उसे घर ले जाया जा सकता है, तो उस की पत्नी, बेटाबहू और 3 साल का पोता विनम्र उसे लेने आए थे. हौस्पिटल की औपचारिकताएं पूरी करने में 2-3 घंटे का समय लग गया. फिर दिनकर जैसे ही वार्ड से बाहर आया उसे लेने आए सभी की आंखों में चमक दौड़ गई. खुशी के मारे सभी के आंसू छलक पड़े. दिनकर ने जैसे ही बांहें फैलाईं सब के सब दौड़ कर लिपट गए. नन्हा विनम्र दिनकर के गले से लिपट गया और दादूदादू कह कर प्यार से अपने कोमल हाथ उस के चेहरे पर फिराने लगा. दिनकर की आंखों से अश्रुधारा बह निकली. विनम्र आंखें पोंछने लगा दादू की. बड़ा भावपूर्ण दृश्य था.

पत्नी कविता भी रह नहीं पाई, दिनकर के पांवों में गिर पड़ी, ‘‘मुझे माफ कर दीजिए,’’ कह कर बिलख पड़ी.

दिनकर ने दोनों हाथ आगे बढ़ा कर उसे उठाया, फिर कहा, ‘‘चलो चलते हैं.’’

सरिता को ले कर दिनकर को मानसिक आघात लगा था, जिस के इलाज के लिए वह अस्पताल में था. सरिता से उस की मुलाकात 15 साल पहले एक रिश्तेदार की शादी में हुई थी. उसे जो भी देखता, देखता ही रह जाता. गजब का आकर्षण था उस में. उस की शादी को 10 बरस हो गए थे, लेकिन आज भी ऐसा लगता था जैसे जवानी की दहलीज पर कदम रखा है. किसी को विश्वास ही नहीं होता था कि 30 वसंत देख चुकी सरिता 2 बच्चों की मां भी है. शादी में कविता ने दिनकर से सरिता का परिचय कराया.

‘‘ये मेरी फ्रैंड है सरिता और रिश्ते में बहन भी. और सरिता, ये मेरे हसबैंड दिनकर.’’

‘‘हैलो जीजू, हाऊ आर यू?’’ सरिता ने हाथ आगे बढ़ाया.

‘‘फाइन,’’ दिनकर ने हाथ मिला कर संक्षिप्त सा जवाब दिया.

अपने आप में सिमट कर रहने वाला दिनकर कुछ शर्मीले स्वभाव का था, लेकिन सरिता बिलकुल विपरीत. एकदम बिंदास. सरिता और कविता शादी के उस माहौल में एकदूसरे से बतियातीं अपने बचपन की यादें ताजा कर रही थीं और दिनकर बीचबीच में कुछ बोल लेता.

‘‘अरे जीजू, आप तो कुछ बोल ही नहीं रहे. क्या बात है कविता, बोलने पर पाबंदी लगा कर आई हो क्या? हमारे पतिदेव तो ऐसे नहीं है, भई.’’

‘‘अरे ऐसा कुछ नहीं है. बस थोड़ा कम बोलते हैं,’’ कविता ने कहा.

सरिता कविता से बातें कर रही थी, लेकिन उस की नजरें बारबार दिनकर से टकरा रही थीं. लगता था उस की दिलचस्पी कविता में कम दिनकर से बात करने में ज्यादा थी. दिनकर स्मार्ट और अच्छी कदकाठी का धीरगंभीर था. जबकि कविता थुलथुल काया की थी. वह कब क्या बोल दे, कब कटाक्ष कर दे और कब बातोंबातों में किसी का अपमान कर दे कोई भरोसा नहीं रहता था. कविता और सरिता 10-12 साल बाद इस शादी में मिल रही थीं, इसलिए देर तक बात करती रहीं. फिर एकदूसरे को अपनेअपने शहर में आने का निमंत्रण भी दिया. कुछ दिनों बाद नववर्ष का आगमन हुआ तो दिनकर के मोबाइल फोन पर बधाइयों, शुभकामनाओं का दौर चल रहा था. दिनकर ने सब को नववर्ष की शुभकामनाएं एसएमएस से भेजीं. तभी अचानक दिनकर के मोबाइल की घंटी बजी तो मोबाइल स्क्रीन पर सरिता, मुंबई का नाम दिखाई दिया. दिनकर ने जैसे ही मोबाइल औन किया, ‘‘हैलो जीजू, आप को नववर्ष बहुतबहुत मुबारक हो. आप के लिए ढेरों खुशियां ले कर आए वह,’’ एक सांस में सरिता बोल गई.

‘‘आप को भी मुबारक हो,’’ दिनकर ने कहा.

‘‘आप का एसएमएस मिला. मुझे तो करना आता नहीं, सोचा बात ही कर लेती हूं.’’ और उस दिन नववर्ष की वह बातचीत लंबी चली. दिनकर को भी अच्छा लगा सरिता से बातें कर के. दिनकर को शेरोशायरी के शौक था. वह मोबाइल पर अपने दोस्तों से शेरों का आदानप्रदान करता था. उस दिन के बाद उस ने सरिता को भी उन्हें भेजना शुरू कर दिया. और सरिता तो जैसे मौके की तलाश में ही रहती. जैसे ही एसएमएस मिलता, दिनकर को फोन कर लेती. एक नया सिलसिला चल पड़ा दोनों के बीच. घंटों बातें होतीं. सरिता अपनी लाइफ की हर छोटीबड़ी बात उस से शेयर करने लगी. फिर उस ने एसएमएस करना भी सीख लिया.

‘‘दिनकरजी, आप मुंबई आइए न कभी. आप से मिलने को बड़ा मन कर रहा है,’’ एक दिन सरिता ने अपने दिल की बात कही.

‘‘मन तो मेरा भी बहुत कर रहा है सरिताजी. आप से मिलने का.’’

‘‘आप सरिताजी क्यों बोलते हैं? मैं आप से छोटी हूं. सरिता कह कर बोलेंगे तो मुझे अच्छा लगेगा. और हां, ये आपआप कहना भी बंद कीजिए. तुम बोलिए.’’

उस दिन सरिता ने दिनकर को यह अधिकार दे दिया तो वह उसे सरिता और तुम ही बोलने लगा. एक दिन दिनकर को अपने कारोबार के सिलसिले में मुंबई जाने का अवसर मिला तो उस ने सरिता को बताया.

वह खुशी से झूम उठी और बोली, ‘‘आप सीधे मेरे घर ही आओगे. किसी होटलवोटल में नहीं जाना.’’

‘‘अरे भई, मैं ने कहा न कि मैं काम से आ रहा हूं. दिन में काम निबटा कर तुम से और तुम्हारे पतिदेव से मिलने आ जाऊंगा.’’

‘‘ऐसा बिलकुल नहीं चलेगा. आप एअरपोर्ट से सीधे मेरे घर आओगे.’’

‘‘अच्छा बाबा देखता हूं. पर यार बड़ा अजीब लगेगा. तुम्हारे पति व बच्चे तो अनकंफर्टेबल महसूस करें.’’

‘‘नहीं करेंगे. सब ठीक होगा तभी तो आप को घर आने के लिए कह रही हूं न. आप तो बस एअरपोर्ट पर पहुंच कर मुझे फोन कर देना. हमारा ड्राइवर आप को मिल जाएगा.’’

सरिता ने आखिर दिनकर को घर आने के लिए मना लिया. फिर मुंबई एअरपोर्ट पर उसे सरिता का कार ड्राइवर मिल गया तो कुछ समय बाद वह सरिता के घर के सामने था. घर की बालकनी में खड़ी सरिता ने हाथ हिला कर दिनकर का अभिवादन किया. ऐसा लग रहा था कि वह बड़ी बेसब्री से दिनकर का इंतजार कर रही थी. उस के बच्चे स्कूल जा चुके थे और पति विजय सो रहे थे.

‘‘आइए दिनकरजी, हम यहां गैस्टरूम में बैठते हैं, आप चाय लेंगे या कौफी?’’ सरिता ने पूछा.

‘‘जो भी मिल जाए,’’ दिनकर ने कहा.

‘‘बस 5 मिनट में आई, तब तक आप फ्रैश हो लें,’’ सरिता ने किचन में जाते हुए कहा.

थोड़ी देर बाद गरमगरम चाय की चुसकियां लेते हुए सरिता ने कहा, ‘‘आखिर आप आ ही गए यहां.’’

‘‘आना तो था ही, तुम ने जो बुलाया था.’’

‘‘अच्छा जी. वैसे हम आप के होते कौन हैं?’’ सरिता ने शरारती अंदाज में पूछा.

‘‘सब कुछ. मेरी दुनिया, मेरी सांसें, मेरा जीवन, क्या नहीं हो तुम.’’

दिनकर की बातों के इस अंदाज से सरिता मुंह फाड़ कर दिनकर को देखने लगी. फिर दिनकर की आंखों में झांकते हुए बोली, ‘‘जानती हूं मिस्टर, लेकिन सरिता के लिए भी आप बहुत कुछ हो.

‘‘विनय कुछ देर में उठने वाले हैं, आप तब तक तैयार हो जाइए, मैं नाश्ता तैयार करती हूं,’’ कह कर सरिता ने उठना चाहा तो दिनकर ने उस का हाथ थाम कर कहा, ‘‘बैठो न कुछ देर, क्या जल्दी है?’’

दिनकर का हाथ थामना और प्रेमपूर्वक आग्रह करना सरिता को अच्छा लगा. पर बातों में पता ही नहीं चला कि विजय कब उठ कर फ्रैश हो चुका था. उस ने अचानक कमरे में प्रवेश किया.

‘‘ओहो विजय, आप उठ गए?’’ सरिता ने संभलते हुए कहा. फिर, ‘‘विजय ये दिनकर हैं. आप से मैं ने जिक्र किया था न,’’ कह कर दिनकर से परिचय कराया.

‘‘हैलो.’’ विजय ने हाथ आगे बढ़ाते हुए कहा.

‘‘बहुत खुशी हुई विजयजी आप से मिल कर,’’ दिनकर ने कहा.

‘‘और मुझ से मिल कर नहीं?’’ सरिता ने तपाक से कहा तो तीनों खिलखिला कर हंस पड़े.

उस दिन विजय को औफिस जाना था. उस ने सरिता से कहा, ‘‘मुझे तो औफिस जाना है. तुम दिनकरजी को जहां जाना है गाड़ी से छोड़ देना.’’

‘‘ठीक है, बस मैं भी तैयार होती हूं. फिर इन्हें जहां कहेंगे छोड़ दूंगी.’’

आगे पढ़ें- विजय के जाने के बाद सरिता को दिनकर से खुल कर…

अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें