नए साल के नए संकल्प

अपनी जिंदगी के 30-35 वसंत देखने के बाद भी हमारी बेसिक प्रौब्लम अभी तक सौल्व नहीं हो पाई है. हमारी समस्या है, नए साल पर नएनए संकल्प लेने और फिर शीघ्र ही उन्हें तोड़ डालने की. ज्यों ही नया साल आने को होता है, लोग न्यू ईयर सेलिब्रेशन की तैयारियों में डूब जाते हैं, किंतु हमें तो हमारी प्राथमिक समस्या सताने लगती है.

हम आदत से मजबूर हैं. संकल्प लेना हमारा जनून है तो उन्हें तोड़ना हमारी आदत या मजबूरी है. संकल्प लिए बिना हम नहीं रह सकते. भला नए साल का स्वागत बिना रिजोल्यूशन के कैसे संपन्न हो सकता है? हम अल्पमात्रा में ही सही, लेकिन अंगरेजी पढ़ेलिखे हैं. 10वीं की परीक्षा, अंगरेजी की असफलता के कारण, 10 बार के सतत प्रयासों के बाद पास की है. अंगरेजी का महत्त्व हम से ज्यादा कौन समझेगा भला?

जब हम ने जवानी की दहलीज पर पहला कदम रखा, तब हम ने जमाने के साथ कदमताल मिलाते हुए, नए साल के स्वागत के लिए अपने पारिवारिक पैटर्न को ‘आउटडेटेड’ समझ कर त्याग दिया. हमारे दादा, पिताश्री तो जमाने के हिसाब से निश्चित रूप से बैकवर्ड रहे होंगे. तभी तो वे फाइवस्टार कल्चर के अनुरूप मदिरा से थिरकते, लड़खड़ाते कदमों से कभी भी ‘न्यू ईयर सेलिब्रेशन’ के महत्त्व को नहीं समझ पाए. वे लोग तो ब्रह्ममुहूर्त में स्नानादि, पूजाअर्चना, देव आराधना, दानदक्षिणा या गरीबों की सहायता कर के नए साल की शुरुआत करते थे. हम ने ‘सैल्फ डिपैंडेंट’ होते ही ऐसे दकियानूसी खयालातों को तुरंत छोड़ने में ही अपनी समझदारी समझी. अंगरेजी कल्चर के चार्म से हम अपनेआप को कैसे दूर रख सकते थे?

हमें याद है कि नए साल पर संकल्प लेने का फैशन आज से 20 बरस पहले भी था. उस समय लड़कपन में हमारे ऊपर भी यह शौक चढ़ा और आज तक यह कायम है.

अगले नववर्ष पर हमारा संकल्प था- समयबद्धता. हम ने निश्चय किया कि हम नए साल में सब कुछ समय से करेंगे. समय का सदुपयोग करने का जनून चढ़ चुका था. आननफानन में हम ने अपने लिए एक आदर्श दिनचर्या निर्धारित कर डाली. इसे तैयार करने हेतु न जाने कितने महापुरुषों की जीवनियों का गहन अध्ययन करना पड़ा. लेकिन शीघ्र ही हमें एहसास हो गया कि महापुरुषों की  नकल करने में हमारा जीवन तो मशीन जैसा कृत्रिम बन चुका था.

हम गच्चा खा गए थे. शीघ्र ही हमारा टाइमटेबल गड़बड़ाने लगा. सुबह की सैर से ले कर स्टडी तक सब कुछ तो था, लेकिन मनोरंजन का तो नामोनिशान ही न था. जीवन बेहद बोरिंग लगने लगा. 2-4 दिनों बाद ही हमारे ऊपर से महापुरुष बनने का जनून उतर चुका था. कुछ दिन बाद ही हमारा जीवन पुराने ढर्रे पर उतर आया. सुबह लेट उठने में हमें तो स्वर्गिक आनंदानुभूति होती थी, इसलिए शीघ्र ही इस संकल्प से पीछा छुड़ाने की युक्ति खोज डाली गई.

युवा थे, इसलिए हमारे ऊपर देशभक्ति का जनून सवार था. अब तीसरे वर्ष हम ने एक ऐसा संकल्प चुना, जो यूनीक और सकारात्मक सोच से परिपूर्ण था. हमारा संकल्प था- ‘नए वर्ष से अब समाचारपत्र उसी दिन पढ़ेंगे, जिस दिन फ्रंट पेज पर हत्या, लूट, डकैती, बलात्कार की खबरें न छपी होंगी.’

घर में अनेक अखबार आने के बाद भी हम उन्हें पढ़ने में असमर्थ थे. कारण, हमेशा फ्रंट पेज ऐसी खबरों से भरा पड़ा रहता था, जिन से हमें एलर्जी थी अर्थात जिन्हें न पढ़ने का हम ने संकल्प ले रखा था. बड़े दुख के साथ यह संकल्प भी छोड़ना पड़ा.

चौथा संकल्प लेने वाले नए साल तक हमारा विवाह संपन्न हो चुका था. उस वर्ष हम ने ‘मृदु भाषण’ का संकल्प ले डाला. इस संकल्प में हमें कोई ‘साइड इफैक्ट’ नहीं दिख रहा था. लेकिन यह संकल्प तो शीघ्र ही समस्या की जड़ बन गया. आफिस हो या घर, भला हमारे ‘मृदु भाषणों’ को कौन सुनता? पत्नीजी हमारे मानसिक स्वास्थ्य पर ही शक करने लगीं. विवश हो कर हमें इस संकल्प से भी मुक्त होना पड़ा.

5वें वर्ष हम ने अपनी पत्नीजी को केंद्रित करते हुए संकल्प लिया कि उन पर कभी गुस्सा नहीं करेंगे. लेकिन इस संकल्प की भी हवा निकलते देर न लगी. पहले दिन से ही ठंडी चाय और गरम झिड़की ने हमारा सारा जोश ठंडा कर दिया. संकल्प का नशा उन की तनी हुई भृकुटियां देख कर ही रफूचक्कर हो गया. अंत में हमें उन के आगे नतमस्तक हो कर अपना संकल्प छोड़ना पड़ा.

छठे वर्ष हमारा संकल्प था- ‘मातापिता की सेवा में नववर्ष बिताना.’

यह संकल्प हमें सामाजिक, पारिवारिक और धार्मिक विचार से अत्यंत श्रेष्ठ लग रहा था. लेकिन कुदरत को शायद हमारी सफलता मंजूर ही न थी. हमारे संकल्प से पत्नीजी का गुस्सा सातवें आसमान पर जा पहुंचा. उन के तानों और व्यंग्यबाणों की अटूट वर्षा होने लगी, ‘अपने मातापिता का इतना खयाल? कभी सासससुर की सुध भी ली होती. बेचारे कितना प्रेम करते हैं आप से. वे तो पराए हैं न.’

7वें वर्ष एक बार फिर नववर्ष की तैयारियां होने लगीं. घरपरिवार से मुक्त हो कर हम ने अपने संकल्प का दायरा विस्तृत करते हुए ‘समाज सुधार’ पर केंद्रित किया. अब समाज सुधार का बीड़ा उठाते हुए हम नए साल पर लोगों को धूम्रपान, मदिरापान न करने की सलाह देने लगे. अब चूंकि हमारे अंदर तो कोई भी व्यसन था नहीं, इसलिए दूसरों पर सुधार पहल ही हमारा संकल्प था.

उस वर्ष नववर्ष की पूर्व संध्या पर आयोजित पार्टी से ही हम ने अपने महान संकल्प की घोषणा कर डाली. लेकिन हमारे सारे जोश, उत्साह से पार्टी के रंग में भंग पड़ गया. हमें पागल, सनकी समझ कर पार्टी से बाहर कर दिया गया. शीघ्र ही कालोनी वाले हमारा बहिष्कार करने लगे. कोई हमारी भावना समझने को तैयार नहीं था, इसलिए इस संकल्प ने भी शैशवावस्था में ही दम तोड़ दिया.

 

हम ने नियमित रूप से ‘डायरी लेखन’ का संकल्प शुरू किया. हम गंभीरतापूर्वक प्रतिदिन अपने दिल की बात सत्यानुरागी की तरह अपनी पर्सनल डायरी में लिखने लगे. लेकिन हमारी साफगोई, हमारी सचाई लोगों के लिए सिरदर्द बन गई. डायरी में वर्णित काल्पनिक प्रेमानुभूति और अपने शृंगाररस की पंक्तियों ने पत्नीजी के कान खड़े कर दिए. उन के द्वारा हमारी डायरी पढ़ते ही भूचाल आ गया. गृहस्थी टूटने के कगार पर जा पहुंची. इसलिए समझदारी का परिचय देते हुए हम ने तुरंत इस संकल्प की इतिश्री कर दी.

रचनात्मक कार्य करने के जनून के तहत हम ने 11वें संकल्प के रूप में अपनी कालोनी में सफाई अभियान चलाने का संकल्प लिया. हम ने लोगों को घरघर जा कर अच्छा नागरिक बनने और डस्टबिन में कूड़ा डालने के उपदेश देने शुरू किए. लेकिन इस कृत्य का परिणाम यह हुआ कि लोग हमें ही कूड़ाकचरा संग्रहकर्ता समझने लगे.

12वें वर्ष हम ने अपनी कालोनी में ‘योगा क्लासेज’ शुरू करने का संकल्प धारण किया. हम निशुल्क ही लोगों को बौडी फिटनैस के गुर सिखाने लगे. लेकिन हमारा यह संकल्प भी खतरे में पड़ गया. हमारे कैंप में महिलाओं की अपार भीड़ ने पत्नीजी का दिमाग घुमा कर रख दिया. इसलिए पत्नीजी की कृपा से यह संकल्प भी टूट कर बिखर गया.

13वें वर्ष में हमारा संकल्प था- ‘सब की सेवा करना.’ लेकिन सेवा से मेवा तो दूर, हम तो कंगाली के कगार पर जा पहुंचे, क्योंकि

लोग हमारी भावना को समझते हुए हमें बेवकूफ बनाने का प्रयास करने लगे. यह संकल्प भी असफल हो कर इतिहास की गाथा बन कर रह गया.

अब हमें लगता है कि हमारे संकल्प संभवत: होते ही तोड़ने के लिए हैं. हम प्रयास कर के भी उन्हें पूरा नहीं कर पा रहे हैं.

ये भी पढ़ें- मुसकान : क्यों टूट गए उनके सपने

अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें