REVIEW: पंजाब की पृष्ठभूमि में लड़की के जन्मते ही हत्या पर सवाल करती फिल्म ‘काली खुही’

रेटिंगः ढाई स्टार

निर्माताः रमन छिब,  संजीव कुमार नायर, अंकु पांडे, श्रीराम रामनाथन

निर्देशकः तेरी सॉन्मुद्रा

कलाकारः शबाना आजमी, संजीदा शेख, रीवा अरोड़ा, सत्यदीप मिश्रा, लीला सैम्सन,  हेतकी भानुशाली, रोज राठौड़, सैम्युअल जॉन, पूजा शर्मा, अमीना शर्मा व अन्य

अवधिः एक घंटा तीस मिनट

ओटीटी प्लेटफार्मः नेटफ्लिक्स पर, तीस अक्टूबर, दोपहर बाद

पंजाब के गांवों में अब भी लड़कियों को जन्मते ही मार देने की सदियों से चली आ रही प्रथा है. लड़की के पैदा होते ही मां के हाथ से नवजात शिशु को लेकर उन्हें काला जहर चटाकर मार देने की घटनाएं सिर्फ कबीलों और गांवों में ही नहीं बल्कि शहरों में भी खूब होती हैं. उसी को हॉरर फिल्म् का जामा पहनाकर निर्देशक टेरी समुंद्र ने कुछ कहने का प्रयास किया है. इस डेढ़ घंटे की फिल्म को ‘नेटफ्लिक्स’पर देखा जा सकता है.

कहानीः

पंजाब की पृष्ठभूमि पर यह कहानी दस वर्षीय लड़की शिवांगी (रीवा अरोड़ा)  के इर्द गिर्द घूमती है. शिवांगी के कंधे पर पूरे गांव को श्रापमुक्त करने की जिम्मेदारी है. और उसके लिए जीवन मरण की. फिल्म शुरू होती है शहर से, जहां शिवांगी के पिता दर्शन (सत्यदीप मिश्रा) को खबर मिलती है कि शिवांगी की दादी (लीला सैम्सन)  बीमार हैं. दर्शन रात में ही बेटी शिवांगी और पत्नी प्रिया (संजीदा शेख) को लेकर रवाना होते हैं. गांव मे दर्शन की मां के पास सत्या मौसी (शबाना आजमी)  बैठी हुई हैं. सत्या मौसी की नाती चांदनी (रोज राठौड़)व शिवांगी सहेली हैं. चंादनी, शिवांगी को बताने का प्रयास करती है कि गांव में भूत का साया है. लोगो की जान ले रहा है. हर इंसान बीमार होता है, फिर उसे काली उलटी होती है और वह मर जाता है. इसके पीछे एक अतीत भी है, जिसका गवाह कुंआ है, जिसके अंदर कई नवजात लड़कियों के साथ ही कई औरतें दफन हैं. इस गुप्त अतीत की जानकारी दर्शन की मौसी सत्या मौसी(शबाना आजमी) हैं, जिन्होंने अपने अनुभवों को एक पुस्तक में दर्ज किया है. अतीत यह है कि यह एक ऐसी फिल्म है, जिसमें पंजाब के गांवों में अब भी लड़कियों को जन्मते ही मार देने की सदियों से चली आ प्रथा है. लड़की के पैदा होते ही मांओं के हाथों से बच्चियां ले लेने और फिर उन्हें काला जहर चटा देने की घटना है. अतीत में दर्शन की छोटी बहन की भी जन्मते ही हत्या की गयी थी.  शिवांगी के माता-पिता दर्शन (सत्यदीप मिश्रा) और प्रिया (संजीदा शेख) के बीच का घनिष्ठ संबंध अतीत की भयावहता का एक और सुराग प्रदान करता है जो खुले में अपना रास्ता बना रहे हैं.

लेखन व निर्देशनः

लेखक द्वय टेरी समुद्र और छेविड वाल्टर तथा निर्देशक टेरी समुद्र ने शुरुआती दृश्यों में ही भूत की अवधारणा स्पष्ट कर दी है. इसलिए रहस्य तो रह नहीं जाता. फिर भी कुछ कमजोरियों के बावजूद फिल्म अपनी गतिशीलता को बरकरार रखती है. पर हॉरर के नाम पर ऐसा कुछ नही है कि लोगों को डर लगे. हां डराने का प्रभाव संगीत जरुर कुछ पैदा करता है. इसके अलावा शिवांगी के माता पिता के गांव पहुंचने,  शिवांगी का बचपन की सहेली चांदनी से मिलना,  गांव,  तालाब,  नदी,  नाले,  बरसात,  मेंढक,  भैंस,  कीचड़ और घना कोहरा, सब कुछ मिलाकर निर्देशक ने हॉरर का पूरा माहौल बनाने का प्रयास जरुर किया है. कुछ दृश्य अच्छे ढंग से फिल्माए गए हैं. निर्देशन प्रभावशाली है. जन्मते ही बेटियों की हत्या से लेकर  भ्रूण हत्या पर यह फिल्म बिना किसी भाषण के कई सवाल खड़े कर जाती है. सबसे बड़ी कमजोर कड़ी इसका संगीत है. पंजाबी पृष्ठभूमि की इस फिल्म में पंजाब की लोकसंस्कृति और वहां के भूले बिसरे लोकगीत लाकर इसे अंतर्राष्ट्रीय स्तर दिया जा सकता था. संवाद प्रभाव पैदा नही करते. कई दृश्य स्पष्ट नही है.

कैमरामैन सेजल शाह की तारीफ करनी ही पड़ेगी.

अभिनयः

संजीदा शेख व सत्यदीप मिश्रा ने बेहतरीन अभिनय किया है. संजीदा शेख के हिस्से संवाद कम हैं, मगर वह अपनी आंखों से बहुत कुछ कह जाती है. कमाल का अभिनय है. वेब सीरीज‘तैश’की तरह यहां भी चुप रहकर वह अपने अभिनय को नया आयाम देते हुए नजर आती हैं. दस साल की लड़की शिवांगी के किरदार में बाल कलाकार रीवा अरोड़ा के साथ ही चांदनी के किरदार में बाल कलाकार रोज राठौड़ ने शानदार अभिनय किया है. लीला सैम्सन का किरदार काफी छोटा है, पर उसमें भी वह अपना प्रभाव डालने में सफल रही. भयानक बोझ वाली महिला सत्या मौसी के किरदार में प्रोस्थेटिक मेकअप का सहारा लेकर शबाना आजमी भयानक ही नजर आती हैं, मगर जब बात रिश्ते निभाने की हो, तो उनके चेहरे पर करूणा भी आ ही जाती है. अंततः वह एक शानदार अभिनेत्री हैं.

REVIEW: जानें कैसी है यामी गौतम और विक्रांत मेस्सी की फिल्म ‘गिनी वेड्स सनी’

रेटिंगः दो स्टार

निर्माताः विनोद बच्चन
निर्देशकः पुनीत खन्ना
कलाकारः विक्रांत मेस्सी,  यामी गौतम, आएशा रजा मिश्रा,  संचिता पुरी,  सुनील नायर.
अवधि: 2 घंटे 5 मिनट
ओटीटी प्लेटफॉमर्ः नेटफ्लिक्स


 स्वतंत्र निर्देशक की हैसियत से पुनीत खन्ना पहली रोमकॅाम फिल्म ‘‘गिन्नी वेड्स सनी’’लेकर आए हैं. कोरोना के माहौल में वह दर्शकों के चेहरे पर मुस्कान लाने का असफल प्रयास करते हैं.

कहानीः

फिल्म की कहानी दिल्ली में रह रहे पंजाबी परिवारों की है. एक पंजाबी परिवार की मुखिया शोभा जुनेजा(आएशा रजा मिश्रा) हैं, जो कि मैच मेकर यानीकि कुंवारे लड़के व लड़कियों की शादियां करवाती हैं. उनकी इकलौटी बेटी गिन्नी(यामी गौतम)को प्रेम विवाह करना है, उसके कई दोस्त हैं. पर वह खुद कफ्यूज्ड है. पहले वह सुमित(गुरप्रीत सैनी)के संग शादी के सपने देखती थी, मगर फिर बात नही बनी. इन दिनों वह निशांत के साथ घूमती है. निशंात धनवान है. नई गाड़ी खरीदी है, मगर जब भी गिन्नी उससे शादी की बात करती है, तो वह टाल जाता है. उसके माता पिता रोहतक में रहते हैं.

उधर एक हार्डवेअर दुकान के मालिक सेठी(राजीव गुप्ता)हैं, उनकी एक बेटी निम्मी सेठी(मजेल व्यास) व बेटा सनी(विक्राम मैसे)हैं. सनी बहुत अच्छा शेफ है, यानी कि बहुत अच्छा भोजन पकाता है. सनी अपना रेस्टारेंट खोलना चाहता है. सनी के माता पिता चाहते हैं कि सनी जल्दी से शादी कर ले, फिर वह उसकी रूचि के अनुरूप रेस्टारेंट खुलवा देंगे. सेठी जी एक दिन शोभा जुनेजा से कहते हैं कि वह उनके बेटे सनी की शादी करवाने में मदद करें. शोभा कहती हैं कि वह अपने बेटे सनी को उनके पास मिलने के लिए भेजें. सनी से मिलते ही शोभा जुनेजा को लगता है कि यह लड़का तो उनकी बेटी गिन्नी के उपयुक्त है. मगर उन्हें पता है कि उनकी बेटी गिन्नी जिद्दी है और उस पर प्रेम विवाह का भूत सवार है. इसलिए शोभा जुनेजा, सनी को राह दिखाती है कि वह किस तरह पहले गिन्नी से दोस्ती करे, फिर उसे प्रभावित  कर उसे शादी के लिए राजी करे. षुरूआत में सनी के हाथ असफलता ही लगती है. पर इसी बीच सनी का उठना बैठना गिन्नी के साथ ही गिन्नी के दोस्त निशांत व प्रेरणा(संचिता पुरी) वगैरह के संग होने लगती है. गिन्नी से प्रेरणा कहती है कि सनी अच्छा लड़का है. इसी बीच गिन्नी के सभी दोस्त मसूरी जा रहे है, मगर ऐन वक्त पर निशांत नहीं जा पाता, तब उसकी जगह पर गिन्नी,  सनी को साथ में ले जाती है. मसूरी में दोनो काफी नजदीक आ जाते हैं. गिन्नी व सनी एक दूसरे को ‘किस’ करने वाले होते हैं कि तभी वहां पर अपनी गाड़ी से निशांत पहुंच जाता है और गिन्नी को सगाई की अंगूठी पहना देता है. सनी को निराशा होती है. वह मायूस हो जाता है. पर फिर गिन्नी की मां उसका हौसला बढ़ाती है. एक दिन निशांत व गिन्नी में झगड़ा हो जाता है. तब गिन्नी, सनी संग शादी के लिए तैयार होकर सनी को अपनी मां से मिलवाने के लिए घर पर रात्रिभोज के लिए बुलाती है. मगर सनी के पहुंचने से पहले ही निशांत अपने माता पिता के साथ गिन्नी के घर पहुंच जाता है. सनी भी पहुंचता है और सुमित भी पहुंच जाता है. काफी कुछ ड्रामा होता है. अंततः गिन्नी , सनी, निशांत और सुमित से संबंध खत्म कर देती है. तब हार कर  सनी नेहा संग शादी के लिए तैयार हो जाता है, पर फिर कई घटनाक्रम तेजी से बदलते हैं. अंततःगिन्नी व सनी की शादी हो जाती है.

ये भी पढ़ें- दूल्हा-दुल्हन बने अनूप जलोटा और जसलीन मथारू! फैंस हुए Shocked

लेखनः

अति कमजोर पटकथा के चलते प्रतिभाशाली कलाकारों की मेहनत ही बेकार हो गयी. इस तरह की कहानी पर‘मनमर्जियां’सहित सैकड़ों फिल्में बन चुकी हैं. लेखकद्वय को पंजाबी रहन, सहन वगैरह की भी कोई खास समझ नही आती. क्लायमेक्स बहुत घटिया है. संवाद भी अजीब से हैं. . मसलन-‘‘दिल्ली की सड़के फिलाॅसफी सिखा देती हैं’’

निर्देशनः
जब पटकथा कमजोर हो, तो निर्देशक भी बहुत संभाल नहीं पाता है. इसमें हास्य व रोमांस कहीं नजर ही नही आता. फिल्म की गति बहुत धीमी है.

अभिनयः
विक्रांत मैसे व यामी गौतम दोनो ही बेहतरीन कलाकार है, मगर इस फिल्म के किरदारों मे ंवह फिट नही बैठते. दोनों के बीच केमिस्ट्री भी नही जमती. आएषा रजा मिश्रा, राजीव गुप्ता ने ठीक ठाक अभिनय किया है.

नेटफ्लिक्स पर रिलीज होगी विक्रांत मैसे और यामी गौतम की फिल्म ‘गिन्नी वेड्स सनी’

यामी गौतम और विक्रांत मैसे के अभिनय से सजी फिल्म ‘गिन्नी वेड्स सनी’ को लेकर लंबे समय से कई तरह की अफवाहें गर्म रही हैं. पर अब तय हो गया है कि इस फिल्म का भी विश्व प्रीमियर 9 अक्टूबर को दोपहर 12:30 बजे ओटीटी प्लेटफॉर्म ‘नेटफ्लिक्स’ पर होगा.

‘नेटफ्लिक्स’ ने इसके प्रदर्शन की तारीख जारी करते हुए फिल्म को टीजर के साथ ही एक गाना “लोल”( LOL ) जी रिलीज किया है. इस गाने में पंजाबी धुनों पर यामी और विक्रांत ठुमके लगाते हुए नजर आ रहे हैं. गीतकार कुणाल वर्मा के इस गीत को संगीत से संवारा है पायल देव ने. जबकि इस गीत को पायल देव ने स्वयं देव नेगी के साथ स्वर बध्द किया है .

रोमांटिक कॉमेडी फ़िल्म की कहानी के केंद्र में दिल्ली की लड़की गिन्नी (यामी गौतम) है. गिन्नी के सिर पर प्यार का भूत सवार है. उनकी मां ने गिन्नी की शादी सनी(विक्रांत मैसे) से तय की है, पर यह जोड़ी साधारण नहीं है. इसमें कई मोड़ आने वाले हैं .क्योंकि मां द्वारा शादी तय किए जाने पर गिन्नी, सनी से मिलती है, पर गिन्नी, सनी को अस्वीकार कर देती हैं. फिर सनी, गिन्नी की मां के साथ मिलकर कैसे गिन्नी का प्यार जीतता है.

ये भी पढ़ें- BB14:  सिद्धार्थ के बाद घरवालों को झटका देते नजर आईं हिना और गौहर खान, प्रोमो वायरल

रोमांटिक कॉमेडी फिल्म “गिनी वैसे सनी” के गाने के शीर्षक “लोल”( LOL) से ही पता चलता है कि यह बहुत ही मजेदार और हास्यप्रद गाना होगा. फिल्म की कहानी और स्थिति को ध्यान में रखते हुए पायल देव ने इस गाने को कंपोज किया है, जो इस गाने को और भी धमाकेदार बनाता है.

सोनी म्यूजिक इंडिया के सीनियर डायरेक्टर – मार्केटिंग, सानुजीत भुजबल कहते हैं -” फिल्म ‘गिन्नी वेड्स सनी’ एक फील गुड फिल्म है और संगीत फिल्म की कहानी का एक अभिन्न हिस्सा है. हम इस फिल्म का पहला गाना ‘ LOL ‘ रिलीज कर दर्शकों और श्रोताओं का मूड सेट करना चाहते हैं, ताकि वह इस फिल्म के म्यूजिक एल्बम से उम्मीद बनाए रखें. मैं पायल देव, कुनाल और देव की सराहना करता हूं कि उन्होंने मिलकर इतना बेहतरीन गाना बनाया है.”

वही गाने के रिलीज़ से उत्साहित पायल देव ने कहा- ” मुझे ‘लोल’ गाने की धुन बनाने में बहुत मज़ा आया. कुणाल ने इसे बहुत ही बेहतरीन तरीके से लिखा है. युवा पीढ़ी इस गाने से ज़रूर रिलेट कर पाएंगे. इस तरह की क्रिएटिव कंपोजिशन पर नियंत्रण रखने की सबसे खास बात यह है कि आपको रोकने टोकने वाला कोई नहीं. मुझे इस गाने को बनाने के लिए पूरी छूट दी गई थी. ताकि मैं एक अच्छा और मज़ेदार गाना बना सकूं. मुझे लोगों की प्रतिक्रिया का बेसब्री से इंतज़ार है.”

पुनीत खन्ना निर्देशित इस फिल्म में पहली बार यामी गौतम और विक्रांत मैसे की जोड़ी नजर आएगी.फिल्म का निर्माण ‘सौंदर्य प्रोडक्शन’ के बैनर तले विनोद बच्चन ने किया है. विनोद बच्चन इससे पहले ‘तनु वेड्स मनु’, ‘जिला गाजियाबाद’ और ‘शादी में जरूर आना’ जैसी फिल्मों के निर्माण से जुड़े रहे हैं.

ये भी पढ़ें- 40 साल की हुईं करीना कपूर, फैमिली के साथ किया सेलिब्रेशन

फिल्म ‘गिन्नी वेड्स सनी’ का फिल्मांकन 20 सितंबर 2019 से नवंबर 2019 के बीच मनाली, दिल्ली, नोएडा ,गाजियाबाद में किया गया था.

अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें