टीनेएजर्स के ऐसे हों इनरवियर

इनरवियर चाहे पुरुषों के हों या महिलाओं के विशेष महत्त्व रखते हैं. लेकिन जब बात महिलाओं द्वारा इस्तेमाल होने वाले इनरवियर की हो तो बहुत ज्यादा सचेत रहने की जरूरत होती है. पहनावा बुटीक की गुरलीन संधू की सलाह है कि आमतौर पर 13-14 साल की होते ही लड़की को अपने शारीरिक बदलावों के चलते इनरवियर का चुनाव करते समय विशेष ध्यान रखने की जरूरत होती है, क्योंकि यदि उन की फिटिंग और आकार ठीक नहीं होगा तो उन्हें पहनने पर असुविधा होगी. इस की हर मां को जानकारी होनी चाहिए कि उस की बेटी के लिए क्या ठीक रहेगा. शरीर के सही विकास के लिए भी सही फिटिंग के इनरवियर का चुनाव जरूरी है.

सही इनरवियर चुनें ऐसे

इनरवियर में ब्रा और लिंजरी के चुनाव में खास सावधानी बरतनी चाहिए. वैसे यह साधारण बात लगती है लेकिन है नहीं. यह एक जटिल काम है. इस के लिए सब से पहले तो अपनी नाप का सहीसही पता होना जरूरी है. विकसित होेते शरीर के लिए तो उचित नाप का पता होना बहुत आवश्यक है. सही नाप पता होने पर ही सही ब्रा का चुनाव हो पाता है. कहने को तो यह मात्र अंडरवियर ही होता है, लेकिन यदि इस का आकार गलत हो तो इस से कमर में दर्द, मांसपेशियों में खिंचाव हो सकता है, जो अंत में सिरदर्द तक जा पहुंचता है. यदि कपड़ा अनावश्यक रूप से टाइट होगा तो सारे शरीर में दर्द कर सकता है. शारीरिक बदलाव के दौर में विकसित होती लड़कियों को ट्रेनिंग ब्रा की जरूरत होती है. ट्रेनिंग ब्रा परफैक्ट फिटिंग वाली नहीं होती, लेकिन उसे पहनने से शरीर का विकास सही होता है. यह दुबलीपतली लड़कियों के लिए होती है जिन का कप साइज कम होता है. लेकिन शहरी माहौल में पलीबढ़ी लड़कियों का शरीर भराभरा होता है, अत: उन का कप साइज रैग्युलर होता है. उन्हें रैग्युलर ब्रा पहननी चाहिए. लेकिन टीनएजर्स के लिए स्पोर्ट्स ब्रा ही ठीक रहती है क्योंकि इसे पहनने से खेलकूद के दौरान ब्रैस्ट पर ज्यादा दबाव नहीं पड़ता.

अमूमन 50% स्त्रियां गलत साइज की ब्रा पहनती हैं. इस से उम्र के बढ़ने के साथ ब्रा का ढलकना आम बात हो जाती है. लेकिन यदि शुरू से ही कप साइज ठीक रखेंगी तो ब्रैस्ट की शेप काफी उम्र तक ठीक रहेगी.

लिंजरी के प्रकार

स्ट्रैपलेस: अगर आप बस्टियर नहीं पहनना चाहतीं तो स्ट्रैपलेस ब्रा फिगर को उभारने के लिए उचित चुनाव होगा.

बस्टियर: यह ब्रा बस्ट और वेस्ट दोनों को सपोर्ट करती है.

सीमलेस: लाइट कलर्स और लाइट फैब्रिक के साथ सीमलेस ब्रा ठीक रहती है क्योंकि उस की स्टिचिंग नजर नहीं आती.

निपल कवर: बैकलैस ड्रैस के साथ इन का उपयोग अच्छा लगता है. ये ड्रैस के भीतर रखे जा सकते हैं.

पारदर्शी बैकलेस ब्रा: स्किन कलर की होने की वजह से यह नजर नहीं आती. इसे बैकलेस ड्रैस के साथ पहन सकती हैं.

लिंजरी आमतौर पर हौजरी कौटन की बनी होती है, लेकिन पहनने वाली अगर स्पोर्ट्स में हिस्सा लेती है तो उस के लिए सिंथैटिक फाइबर से बनी लिंजरी ठीक रहेगी. ट्रैक ऐक्टिविटीज, वर्कआउट, ऐरौबिक्स करने वाली अंडरगारमैंट का चयन बहुत ध्यान से करें. मोटी लाइनिंग या चौड़ी लाइनिंग वाले अंडरगारमैंट पहनने से बचें क्योंकि ये वर्कआउट के दौरान लोअर से झलकते रहेंगे यदि बस्ट लाइन और टमी एरिया हैवी है तो ऐसी लिंजरी का चुनाव करें, जो भारी हिस्सों को छिपाए. टू पीस लिंजरी और पारदर्शी लिंजरी पहनने से बचें.

गरबा 2022: त्यौहार पर स्मार्ट शॉपिंग करने के 7 टिप्स

त्यौहारों का सीजन प्रारम्भ हो चुका है..भांति भांति के सामान और नए फैशन के कपड़ों से बाजार सजा हुआ है. इसके साथ ही अनेकों ऑफर्स की भी विभिन कम्पनियों में होड़ भी लगी हुई है अक्सर जब भी हम बाजार जाते हैं तो काफी कुछ खरीदने का मन करने लगता है और कई बार तो हम बिना सोचे विचारे सामान खरीद भी लाते हैं परन्तु घर आकर लगता है कि नाहक ही खरीद लिया बिना इसके भी काम चल सकता था. यही नहीं कई बार इस चक्कर में हमारा बजट भी बिगड़ जाता है. आज हम आपको त्यौहारी सीजन में शॉपिंग करने के कुछ टिप्स बता रहे हैं जिन्हें ध्यान में रखकर आप स्मार्टली शॉपिंग भी कर पाएंगे और आपका बजट भी नहीं गड़बड़ायेगा.

-बजट और लिस्ट बनाएं

सबसे पहले आप शॉपिंग के लिए एक बजट निर्धारित करें फिर बाजार जाने से पूर्व पूरे घर और किचिन पर एक नजर डालें और फिर बाजार से लाये जाने वाले सामान की एक लिस्ट बनाएं. अब इस लिस्ट को अपने बजट के अनुसार जांचें यदि लिस्ट का सामान ओवर बजट है तो कुछ कटाई छंटाई करें इससे अनावश्यक सामान खरीदने से आप बची रहेंगी.

-ऑफर चेक करें

आजकल कम्पनियां डेबिट और क्रेडिट कार्ड पर अनेकों ऑफर देतीं हैं बाजार जाने से पहले ऑफर्स को चेक करें ताकि आप उनका लाभ ले सकें. यदि कोई महंगा आयटम ले रहीं हैं तो नो कॉस्ट ई एम आई पर भी लिया जा सकता है पर लेने से पहले आप सेलरी में से किश्त निकालना अवश्य सुनिश्चित कर लें. एक से अधिक कार्ड होने पर सभी ऑफर्स की तुलना कर लें ताकि आप अधिक से अधिक लाभ प्राप्त कर सकें.

-बकाया चुकाएं

यदि आपके क्रेडिट कार्ड पर कुछ राशि पहले से बकाया है तो उसे पहले चुकाएं फिर अगली शॉपिंग करें. इससे आपको अपने बजट का अंदाजा रहेगा. टी. वी. फ्रिज. ए सी जैसी बड़ी चीजों को छोड़कर छोटी मोटी चीजों को लोन पर लेने से बचें.

-लोन से बचें

लोन प्राप्त करने के एवज में आपको कुछ कागजात या गहने आदि गिरवी रखने पड़ते हैं इससे आप बर्डन में आ जाते हैं इसकी अपेक्षा आप आजकल बाजार में बहुप्रचलित नो कॉस्ट ई एम आई सुविधा का लाभ उठाएं  या फिर क्रेडिट कार्ड से ई एम आई से शॉपिंग करें.

-नजर रखें

कोरोना के बाद से ऑनलाइन शॉपिंग के बढ़े चलन को देखकर अनेकों कम्पनियां त्यौहारी सीजन में सेल निकालतीं हैं जिन पर कई बार सामान काफी सस्ता मिल जाता है ऐसी कम्पनियों नजर रखें क्योकिं ये अपने ऑफर्स को सीमित अवधि के लिए ही खोलतीं हैं. हां आपको क्या लेना है इसकी लिस्ट भी पहले से बनाकर रखें.

-कवर्ड पर डालें नजर

यदि आप कपड़े खरीदने जा रहे हैं तो बाजार जाने से पहले अपनी कवर्ड पर नजर अवश्य डालें ताकि आप अपनी जरूरत को समझ सकें और उसी के अनुसार शॉपिंग भी कर पाएं. मसलन यदि आपके पास कोई  फैंसी दुपट्टा और लेगिंग्स है तो उसकी मैचिंग का कुर्ता खरीदकर आप काफी बचत कर लेंगी.

-थोक बाजार भी हैं उपयोगी

त्यौहारी सीजन में गिफ्ट्स का लेनदेन भी काफी बड़ी मात्रा में होता है. यदि आपको कोई भी सामान अधिक मात्रा में लेना है तो फुटकर की अपेक्षा थोक मार्केट से शॉपिंग करें इससे आप काफी उचित दाम में शॉपिंग कर सकेंगी.

Festive Special: बजट में ब्यूटी शौपिंग टिप्स

त्योहारों का सीजन आ चुका है और मार्केट में ब्यूटी प्रोडक्ट्स की धूम मची हुई है. अलगअलग ब्रैंड्स लुभावने औफर्स से सब को आकर्षित कर रहे हैं क्योंकि त्योहारों के सीजन में हर महिला अपनेआप को खूबसूरत दिखाने के लिए मार्केट में आए हर ब्यूटी प्रोडक्ट को ट्राई करना चाहती है. ऐसे में आप के लिए यह जानना बहुत जरूरी है कि आप कौन से ब्यूटी प्रोडक्ट खरीदें, किन बातों का ध्यान रखें, कब खरीदें, कहां से खरीदना ज्यादा उपयुक्त है ताकि आप की सुंदरता में चार चांद भी लग जाएं और साथ ही आप का बजट भी कंट्रोल में रहे.

तो आइए, जानते हैं कुछ खास टिप्स के  बारे में:

लिपकेयर

लिप्स को फैस्टिवल के लिए तैयार करने की तरफ आप का कोई ध्यान ही नहीं है तो थोड़ा ध्यान इस ओर भी लगाएं क्योंकि पूरे चेहरे की जान होती है लिपस्टिक और चाहे आप कितने भी अच्छे आउटफिट्स पहन लें, लेकिन लिप्स को यों ही फीकाफीका छोड़ दिया तो न तो आप के आउटफिट्स पर किसी का ध्यान जाएगा और न आप में वह अट्रैक्शन नजर आएगा.

तो हम आप को बताते हैं टौप लिपस्टिक ब्रैंड्स के बारे में, जिन्हें आप स्मार्टली खरीद कर खुद को स्मार्ट लुक दे सकती हैं.

टौप 5 लिपस्टिक ब्रैंड्स इन ट्रैंड्स:

हम यहां बात कर रहे हैं मैट से ले कर हाई शाइन फिनिश लिपस्टिक की, जिन्हें आप अपनी पसंद के हिसाब से चूज करें और फिर उन्हें लगा कर फैस्टिवल पर दिखें सैक्सी. अरे भई, सैक्सी सिर्फ फिगर से नहीं बल्कि लिप्स से भी दिख सकती हैं. लैक्मे 9 टू 5 मैट लिप कलर, इस में हैं सैक्सी कलर्स चूज करने के औप्शंस. नायका सो मैट लिपस्टिक, जिस के रैड व क्रंची कलर आप के लिप्स पर क्रंच लाने के साथसाथ काफी पौकेट फ्रैंडली भी हैं.

लैक्मे एब्सोल्यूट मसाबा रेंज, जिस के  10 से ज्यादा शेड्स उपलब्ध होने के साथ  इंडियन स्किन के लिए परफैक्ट हैं. वहीं शुगर  की लिक्विड लिपस्टिक परफैक्ट भी है और  बजट में भी है, जिसे आप नायका की साइट से डिस्काउंट्स पर खरीद सकती हैं.

नेलकेयर

जब है ड्रैस रैडी तो नेल्स को ट्रैंडी नेलपौलिश या नेल आर्ट से दें स्टाइलिश लुक  वह भी घर बैठे.

नेलपौलिश इन ट्रैंड्स: जब नेलपौलिश खरीदें, तो सब से पहले अपने माइंड को सैट कर लें कि आप को मैट या फिर ग्लौसी नेलपौलिश कौन सी खरीदनी है क्योंकि दोनों ही आजकल ट्रैंड में चल रही हैं. रही बात कलर्स की तो उस में हम आप की हैल्प करेंगे टौप ट्रैंडी कलर्स बता कर जो हर ड्रैस व हर स्किन टोन पर सूट करेंगे, जिन्हें आप को अपनी फैवरिट साइट से चूज करने में आसानी होगी.

अगर आप ग्लिटर नेलपेंट लगाने की शौकीन हैं तो स्विस ब्यूटी हाई शाइन ग्लिटर नेलपौलिश खरीदने के औप्शन को चूज कर सकती हैं. जूसी रैड कलर, जो हर किसी की फैवरिट लिस्ट में शामिल होता है क्योंकि इस से हाथ खिल जो उठते हैं. इस के लिए आप नायका, रैवलोन व कलरबार जैसे ब्रैंड्स को चूज कर सकती हैं. रौयल डार्क टील कलर आप के हाथों को रौयल लुक देने का काम करेगा.

इस का लैक्मे 9 टू 5 में अच्छाखासा कलैक्शन है. वहीं मिल्क चौकलेट कलर, जो हाथों को और ब्राइट बनाने का काम करता है. इस के लिए फेसेस कनाडा, लैक्मे जैसे ब्रैंड को चूज कर के अमेजन, नायका से इसे स्मार्टली खरीद सकती हैं. इन दिनों बरगंडी कलर भी काफी डिमांड में है. आप औनलाइन 3डी नेल आर्ट स्टीकर से खुद घर बैठे नेल आर्ट का लुत्फ भी उठा सकती हैं.

फेसकेयर

फेस पर कुछ ही घंटों में ग्लो लाने के लिए परफैक्ट हैं कुछ स्किन प्रोडक्ट्स, जिन्हें लगाएं और थोड़ी ही देर में देखें स्किन पर कमाल का असर.

ट्रैंड में हैं काफी: चारकोल फेस मास्क, जितना इस मास्क का इन दिनों नाम है, उतना ही यह स्किन पर अच्छा असर भी देता है खासकर  मामा एअर्थ का ष्३ फेस मास्क, जिस में है चारकोल, कौफी व क्ले, जो स्किन की सारी गंदगी को मिनटों में निकाल कर ग्लोइंग स्किन देने का काम करता है. वहीं आप इस का उबटन फेस स्क्रब भी खरीद सकती हैं.

यह चेहरे को क्लीन करने के साथसाथ ब्राइडल जैसा ग्लो मिनटों में देने का काम करता है. तभी तो है नाम उबटन फेस स्क्रब. और अगर आप फेस मास्क नहीं खरीदना चाहतीं तो आप सारा का डीटेन पैक खरीद लें क्योंकि यह आप के फेस को पार्टी, फैस्टिव के लिए  झट से क्लीन, स्मूद व ग्लोइंग बना देगा. इसे आप फैस्टिव सीजन में हैवी डिस्काउंट के साथ खरीद कर स्किन को ग्लोइंग बना सकती हैं.

मेकअप किट में ये हैं क्या

हो सकता है कि आप मेकअप की शौकीन हों भी या नहीं, लेकिन फैस्टिवल्स पर तो थोड़ाबहुत मेकअप अच्छा लगता ही है क्योंकि उस के बिना लुक फीकाफीका सा जो लगता है. और अलग दिखने के लिए त्योहारों पर थोड़ा अलग बनना भी जरूरी होता है और इस में कुछ मेकअप प्रोडक्ट्स का अहम रोल होता है जो तुरंत आप की स्किन पर ग्लो लाने के साथसाथ आप के पूरे फेस के लुक को ही बदलने का काम करेंगे.

फैशन में इन: प्राइमर और फाउंडेशन स्किन पर स्मूद बेस बनाने के साथसाथ कौंप्लैक्शन को ब्राइट बनाने का भी काम करते हैं. लेकिन स्मार्ट बाई करना है तो स्मार्ट बन कर आप अलगअलग इन्हें न खरीदें बल्कि लैक्मे का 9 टू 5 प्राइमर+मैट पाउडर फाउंडेशन कौंपैक्ट खरीदें जो दोनों का काम कर के आप के फेस को ओवर नहीं बनाता, बल्कि नैचुरल टचअप देने का काम करता है. आंखों को स्विस ब्यूटी की 9 कलर आईशैडो किट से संवारें.

ये काफी सस्ती है, जिसे आप ब्लशर के तौर पर भी इस्तेमाल कर के इस का मल्टीपर्पज इस्तेमाल कर सकती हैं. इन्हें आप औनलाइन ब्यूटी साइट्स से सस्ते में खरीद सकती हैं क्योंकि फैस्टिवल्स के आसपास औनलाइन साइट्स काफी डिस्काउंट देती हैं.

हेयरकेयर

फैस्टिवल्स पर बालों को और स्टाइलिश बनाएं इन ब्यूटी प्रोडक्ट्स से.

फौर नौर्मल हेयर: अगर आप फैस्टिवल्स पर स्ट्रेट और स्मूद बाल चाहती हैं तो ट्राई करें मामा अर्थ का राइस वंडर वाटर विद केराटिन. यह बालों की फ्रिजीनैस को कम कर उन्हें ज्यादा शाइनी बनाने का काम करता है और वह भी आप के बजट में.

ट्रैंडी लुक: अगर आप अपने बालों को कलर या फिर हाईलाइट करना चाहती हैं तो ट्राई करें ट्रैंड में चल रहे चौकलेट ऐंड कैरामेल बलायाग, लाइट ब्राउन हेयर, रैडिश ब्राउन हाईलाइट, पार्टिकल कैरामेल हाईलाइट, डार्क चौकलेट लोक्स, ब्रैंड हेयर कलर, ब्लीच हेयर, ब्राउन हेयर कलर, ब्लैक कलर विद डार्क कौपर हाईलाइट, शाइनी रोजवुड हाईलाइट्स, गोल्डन हाईलाइट्स इत्यादि.

  5 पौइंट्स

– आप अगर लिक्विड लिपस्टिक खरीद रही हैं तो उसे मल्टीपर्पज के तौर पर आईशैडो के तौर पर भी इस्तेमाल कर सकती हैं.

– आईशैडो को ब्लशर की तरह और ब्लशर को आईशैडो की तरह इस्तेमाल किया जा सकता है.

– जैल काजल से लाइनर, बिंदी भी लगा सकती हैं.

– लिपस्टिक को आप ब्लशर के लिए भी यूज कर सकती हैं.

– लिप बाम से भी आप चीक्स पर शाइन ला सकती हैं.

जरूरी बात

स्किन टाइप की तरह स्किन टोन की सही जानकारी होना बहुत जरूरी है. स्किन टोन  3 तरह के होते हैं, कूल, वार्म व न्यूट्रल. अगर आप की कलाई की नसें ब्लू हों तो स्किन टोन कूल है, अगर नसें ग्रीन हों तो स्किन टोन वार्म है और अगर दोनों में से कुछ सम झ नहीं आ रहा तो इस का मतलब आप की स्किन टोन न्यूट्रल है. इसी के हिसाब से स्किन प्रोडक्ट्स को खरीदें.

 किन बातों का ध्यान रखें

– जब भी कोई ब्यूटी प्रोडक्ट खरीदें, तो अपनी स्किन टोन का ध्यान जरूर रखें.

– एक्सपायरी डेट चैक कर के ही ब्यूटी प्रोडक्ट खरीदें.

– चाहे बात हो औफलाइन की या औनलाइन की, जहां से प्रोडक्ट अच्छा व सस्ता मिले, वहीं से खरीदें.

– प्रोडक्ट्स के रिव्यु चैक करने के बाद  ही खरीदें.

– अगर कोई नया प्रोडक्ट इस्तेमाल करने की सोच रही हैं तो अगर संभव हो तो उस  का सैंपल या फिर उस का छोटा पैक ही पहले खरीदें.

– प्रोडक्ट की रिटर्न पौलिसी के बारे में  जरूर जानें.

– हमेशा मल्टीपर्पज कौस्मैटिक ही खरीदने पर जोर देना चाहिए.

– हमेशा सील पैक प्रोडक्ट ही खरीदें.

– ब्यूटी प्रोडक्ट्स विश्वसनीय दुकान या साइट से ही खरीदें.

कैसे चुनें सही एअरकंडीशनर

बाजार में इन दिनों कई कंपनियों के एअरकंडीशनर उपलब्ध हैं. लेकिन एअरकंडीशनरों की बहुतायत के कारण अपने घर के लिए सही एअरकंडीशनर का चुनाव करने में काफी माथापच्ची करनी पड़ती है. आप अपनी जरूरत के अनुसार उपयुक्त एअरकंडीशनर कैसे चुनें, इस के लिए यहां कुछ नुसखे आप को बताए जा रहे हैं.

सही एअरकंडीशनर का चुनाव करते समय सब से पहले इस पर विचार करना चाहिए कि उपयोग के लिए किस तरह का सिस्टम सही रहेगा. बाजार में आजकल अनेक प्रकार के एअरकंडीशनिंग सिस्टम उपलब्ध हैं:

विंडो एअरकंडीशनर

कमरे के लिए इस का सब से ज्यादा इस्तेमाल होता है. इस के कंप्रेसर, कंडेंसर, क्वाइल, इवैपरेटर और कूलिंग क्वाइल वगैरह सामान एक ही बौक्स में रहते हैं और इस यूनिट को कमरे की दीवार में बने खांचे में या आमतौर पर खिड़की में लगा दिया जाता है. विंडो एसी को लगाना या उसे एक जगह से दूसरी जगह पर ले जाना आसान होता है.

हाई वाल स्प्लिट एअरकंडीशनर

स्प्लिट एअरकंडीशनर के 2 हिस्से होते हैं – आउटडोर यूनिट और इनडोर यूनिट. आउटडोर यूनिट को कमरे या घर के बाहर लगाया जाता है. इस में कंप्रेसर, कंडेंसर और ऐक्सपैंशन वाल्व होते हैं. इनडोर यूनिट में इवैपरेटर, कूलिंग क्वाइल और कूलिंग फैन होते हैं. इस यूनिट के लिए आप को कमरे की दीवार में कोई खांचा नहीं बनाना पड़ता है और इसे किसी भी दीवार पर फिट किया जा सकता है.

विंडो यूनिट से अलग इसे स्थायी तौर पर लगाया जाता है. इस की शुरुआती लागत ज्यादा होती है, क्योंकि इसे फिट करने की प्रक्रिया कुछ जटिल होती है और इस के लिए पेशेवर जानकारों की जरूरत पड़ती है. अगर आप के कमरे में खिड़कियां नहीं हैं, तो यह एक अच्छा विकल्प हो सकता है.

सीलिंग कैसेट एअरकंडीशनर

छत में लगने वाला यह एअरकंडीशनर उन कमरों के लिए उपयुक्त होता है, जिन की दीवारों पर इसे लगाने की जगह या खिड़कियां नहीं होतीं. यह शोर नहीं करता है और सोने के मुख्य कमरे, बैठकखाने और व्यावसायिक इस्तेमाल के लिए उपयुक्त होता है.

ये भी पढ़ें- Holi Special: फर्नीचर चमके, तो घर दमके

फ्लोर स्टैंडिंग एअरकंडीशनर

यह बड़े और भव्य घरों के अनुकूल है. इसे कहीं भी खड़ा किया जा सकता है और एक जगह से दूसरी जगह पर इसे ले जा कर रखना भी आसान होता है. लेकिन इसे खिड़की के पास रखना उचित होता है, क्योंकि विंडो एअरकंडीशनर की तरह ही इस के ऐग्जौस्ट वैट को खिड़की के पास रखना जरूरी होता है.

मौजूदा दौर में इन्वर्टर टैक्नोलौजी युक्त एअरकंडीशनर भी बाजार में उपलब्ध है, जो सामान्य तापक्रम बनाए रखता है. इन्वर्टर एसी को परिचालन खर्च और आवश्यकतानुसार बढि़या एअरकंडीशनिंग को ध्यान में रख कर तैयार किया गया है. परंपरागत एअरकंडीशनर की तुलना में इन्वर्टर एअरकंडीशनर के निम्नलिखित फायदे हैं:

1. इन्वर्टर एसी में कम बिजली खर्च होती है जिस से बिजली की खपत में 30-50% तक की बचत होती है.

2. यह अधिक तेजी से वांछित तापक्रम हासिल करता है. इसे चालू करने में 30% कम समय लगता है.

3. यह बिना आवाज किए चलता है.

4. स्थिर तापक्रम के साथ अधिकाधिक आरामदेह है.

5. कंप्रेसर में वोल्टेज नहीं बढ़ता है.

6. कुछ इन्वर्टर एसी में हीट पंप लगे होते हैं, जो गरमियों के मौसम में एसी के सही ढंग से काम करने के लिए बहुत उपयोगी होते हैं.

आकार और क्षमता का चुनाव

ठंडी होने वाली जगह के आकार के अलावा एअरकंडीशनिंग सिस्टम की उचित क्षमता निर्धारित करने के और भी अनेक कारण हैं. जरूरी क्षमता तय करने के लिए ताप भार का अनुमान सब से जरूरी है. ताप भार का अनुमान लगाने के लिए निम्नलिखित बिंदुओं पर ध्यान देना चाहिए:

1. जगह का आकार.

2. अभिविन्यास (ओरिएंटेशन).

3. ठंडा करने की जगह के आसपास और ऊपरनीचे की बनावट.

4. शीशा लगे स्थान.

5. शीशों पर छाया की मात्रा और स्वरूप.

6. इंसुलेशन (रोधन) डेक के ऊपर/नीचे की स्थिति और प्रयुक्त सामग्री.

7. इस्तेमाल की जगह आवासीय, शोरूम, अस्पताल आदि.

8. स्थान पर कौपियर, सर्वर आदि जैसे उपकरणों की मौजूदगी.

9. मकान बनाने में इस्तेमाल हुई सामग्री.

बेहतर है कि ठंडा करने वाली जगह के हिसाब से बिलकुल सही क्षमता का निर्धारण करने के लिए किसी पेशेवर व्यक्ति की मदद ली जाए.

ये भी पढ़ें- फ्रिज ऑर्गेनाइजेशन के 14 टिप्स

ऊर्जा दक्षता और ऊर्जा बचत की जांच: विंडो एसी और हाई वाल यूनिटों के लिए बीईई स्टार रेटिंग की जांचपड़ताल कर लेना बेहद जरूरी है. एअरकंडीशनर की कूलिंग क्षमता और विद्युत खपत के अनुपात को मापने वाली ऊर्जा दक्षता अनुपात (ईईआर) के विचार से रेटिंग जितनी उच्च होगी, उतनी ही ज्यादा दक्षता होगी. उच्चतर दक्षता से कूलिंग ज्यादा असरदार और बिजली की खपत कम होती है.

विशेषताएं: उपकरण के आसान इस्तेमाल के लिए रिमोट कंट्रोल, एलसीडी डिस्प्ले और बिल्ट इन टाइमर महत्त्वपूर्ण विशेषताएं हैं. अन्य फायदेमंद विशेषताओं में सस्ती क्रियाशीलता प्रणाली, फिल्टर और वायुशोधक शामिल हैं. इन के अलावा खरीदारी का फैसला करते समय इस्तेमाल में आसानी पर भी ध्यान देना जरूरी है. खरीदारी के पहले आवाज और कंपन स्तर पर अवश्य ही गौर करें. अधिक स्टाइलिश एअर कंडीशनर से आराम तो मिलेगा ही, जीवनशैली भी खूबसूरत हो जाएगी.

वारंटी: हमेशा अधिकृत विक्रेता से ही एअरकंडीशनर खरीदें. आप जो ब्रैंड ले रहे हैं, उस की वारंटी की जानकारी प्राप्त कर लें. कंपनी का सुव्यवस्थित सेवा नैटवर्क होना और बुलाने पर मैकेनिक का तुरंत आना जरूरी है.

घर के लिए एअरकंडीशनर लेना आप के लिए सब से खर्चीली खरीदारी होती है. भले ही आप पुराने एसी को बदल रहे हों या कोई नया एसी ले रहे हों, एक बार खरीद लेने पर हो सकता है कि 10 वर्ष के बाद ही इसे बदलने की जरूरत पड़े. चूंकि आप उसे लंबे समय तक इस्तेमाल करेंगे, इसलिए उपर्युक्त बिंदुओं पर ध्यान देने से आप को न केवल गरमी में ज्यादा राहत मिलेगी, बल्कि बिजली के बिल में भारी कमी का लाभ भी मिलेगा.

– संजय महाजन, वाइस प्रैसिडैंट-विक्रय एवं विपणन, कैरियर माइडिया इंडिया

ये भी पढ़ें- सिंगल मौम ऐसे करें बच्चे की परवरिश

कार्पेट खरीदने से पहले जरूर पढ़ लें ये टिप्स

घर के लिए अच्छा कार्पेट खरीदना मुश्किल कामों में से एक होता है. कारण बाजार में अनेक रंगों, सामग्री और अनेकों डिजाइन में उपलब्ध कार्पेट हैं. कालीन या कार्पेट से बच्चों को खेलने के लिए आरामदायक और सुरक्षित फर्श मिलता है. कार्पेट खरीदने से पहले कार्पेट खरीदने के कुछ टिप्स जानना बेहद जरूरी है.

कुछ कार्पेट्स को नियमित रूप से साफ करना आवश्यक होता है जो कि व्यस्त दिनचर्या में बहुत मुश्किल है. बेकार कार्पेट्स का रंग छूटता है, ये खराब जल्दी होती हैं और इनमें लगे दागों को हटाना भी मुश्किल होता है. आप पैसा खर्च कर रही हैं इसलिए जरूरी है कि अच्छी चीज खरीदें. तो चलिए हम आपको कार्पेट खरीदने के टिप्स बता रहे हैं.

1. कार्पेट की गद्दी अच्छी हो

कार्पेट के नीचे भराव या गद्दीदार परत रखें. कार्पेट के लिए अच्छी भराव सामग्री चुनें. इससे फर्श के साथ कुछ परेशानी होने पर भी यह जल्दी नहीं उधड़ती है. रबर या फोम की भराव सामग्री लें. अनेक प्रकार के कार्पेट स्टाइल देखें ऐसी कार्पेट चुनें जो कि आपकी स्टाइल के अनुसार हो. कुछ कार्पेट्स पर पैरों के निशान, वैक्यूम के निशान आदि रह जाते हैं, जैसे मखमल की कार्पेट्स. सेक्शन कार्पेट्स काफी सामान्य कार्पेट्स हैं जिन्हें ऐसी जगह बिछाया जा सकता है जहां लोग कम आते-जाते हैं जैसे कि लिविंग रूम, मास्टर बेड रूम आदि.

ये भी पढ़ें- किचन में कीटाणुओं को दावत न दें

2. कैसी कार्पेट चुनें

ऐसी कार्पेट चुनें जिसमें कोई वाष्पशील पदार्थ ना हो जैसे कि फोरमलडेहाइड या अन्य कोई केमिकल जो कि इन्स्टालेशन के बाद एक विशेष बदबू दे. ऊन या जैविक सामग्री जैसे प्राकृतिक उत्पादों से बने कार्पेट्स चुनें.

3. मेंटेनेंस की जरूरत को भी समझें

ऐसी कार्पेट चुनें जिसमें कम मेंटेनेंस खर्च कम हो और सावधानी भी कम रखनी पड़े. दाग प्रतिरोधक कार्पेट चुनें और ज्यादा भारी मेंटेनेंस खर्च वाली कार्पेट्स को छोड़ दें. वारंटी पर भी ध्यान दें किसी कार्पेट को सिर्फ इसलिए नहीं खरीदें कि उसकी लंबी वारंटी है. कार्पेट्स की सबसे बड़ी समस्या उसका मैनुफैक्चरिंग डिफेक्ट नहीं बल्कि गलत इन्स्टालेशन होता है.

4. पैसा खराब ना करें

ऐसा नहीं है कि महंगी कार्पेट्स आरामदायक होते हैं. उस पर खर्च करने लायक कीमत और इन्स्टालेशन चार्ज ध्यान से देख लें, ये तुलना आप विभिन्न डीलर्स के पास कर सकती हैं. यह कार्पेट खरीदने का सबसे अच्छा तरीका है. कार्पेट प्रोवाइडर का चुनाव ध्यान से करें. आप कहां-कहां से कार्पेट खरीद सकती हैं इसके सभी विकल्पों पर ध्यान दें. ऐसे स्टोर से खरीदें जहां बहुत वैराइटी हो और आपके बजट में सूट करे.

ये भी पढ़ें- प्रैगनैंट वूमन के लिए ड्राइविंग टिप्स

Festive Special: कम बजट में करें स्मार्ट शॉपिंग

कम बजट में ट्रेंडी आउटफिट्स और एक्सेसरीज खरीदकर आप भी बन सकती हैं स्मार्ट शॉपर. कम बजट में कैसे करें स्मार्ट शॉपिंग? आइए, हम आपको बताते हैं.

बजट फ्रेंडली फेस्टिव वेयर

स्मार्ट शॉपिंग के लिए मिक्स एंड मैच फॉर्मूला बेस्ट है, जैसे, आप यदि दीपावली के लिए महंगा आउटफिट नहीं खरीदना चाहतीं, लेकिन ट्रेंडी भी दिखना चाहती हैं, तो सिर्फ एक लॉन्ग जैकेट खरीदें और उसे अपने पुराने लहंगे के साथ पहनें.

इसी तरह आप अपनी पुरानी हैवी चोली को प्लेन स्कर्ट, साड़ी आदि के साथ पहन सकती हैं.

अगर आप फेस्टिव सीजन में साड़ी पहननना चाहती हैं, तो अपने किसी हेवी ब्लाउज के साथ पहनने के लिए कोई प्लेन साड़ी खरीद लें. इसके साथ हेवी या ट्रेंडी एक्सेसरीज पहनकर आप फेस्टिव लुक पा सकती हैं.

अपनी रेग्युलर जीन्स के साथ एथनिक कुर्ती, ट्यूनिक, कॉर्सेट आदि पहनकर आप फेस्टिव लुक पा सकती हैं.

बजट फ्रेंडली कैजुअल वेयर

कैजुअल वेयर के लिए हॉट पैंट, कार्गो, केप्री, स्कर्ट आदि बॉटम वेयर अपने कलेक्शन में जरूर रखें. इनके साथ आप कोई भी स्टाइलिश टॉप पहनकर न्यू लुक पा सकती हैं.

इसी तरह डेनिम की शर्ट, जैकेट, शॉर्ट कुर्ती आदि को भी आप कई आउटफिट्स के साथ मिक्स एंड मैच करके पहन सकती हैं.

प्लेन टीशर्ट, स्पेगेटी, शर्ट आदि को जैकेट, स्टोल या फिर ट्रेंडी नेकपीस के साथ पहनकर न्यू लुक पा सकती हैं.

अपने कैजुअल कलेक्शन में स्मार्ट बेल्ट, हेयर एक्सेसरीज, नेकपीस, ईयररिंग, ट्रेंडी शूज आदि जरूर रखें. ये भी आपके मिक्स एंड मैच फॉर्मूले में बहुत काम आएंगे.

ये भी पढ़ें- तो कहलाएंगी Wife नं. 1

बजट फ्रेंडली ऑफिस वेयर

यदि आप सेल में शॉपिंग कर रही हैं और आपको फॉर्मल आउटफिट खरीदने हैं, तो व्हाइट, ब्लैक, बेज, पीच, पिंक आदि कलर की प्लेन शर्ट, ट्राउजर और स्कर्ट खरीद सकती हैं. इन्हें आप मिक्स एंड मैच करके कई बार रिपीट कर सकती हैं.

इसी तरह आप ब्लैक, बेज, व्हाइट जैसे बेसिक कलर के ट्रेंडी कलर के बैग और शूज खरीदकर अपने फॉर्मल कलेक्शन को फैशनेबल बना सकती हैं.

ऑफिस में यदि इंडियन वेयर पहनती हैं, तो अलग-अलग कलर की प्लेन लेगिंग्स और कुर्ती को स्टोल, नेकपीस आदि के साथ मिक्स एंड मैच करके रोजाना न्यू लुक पाया जा सकता है.

इसी तरह ब्लैक, व्हाइट, रेड, ब्लू जैसे रेग्युलर कलर के कुछ ब्लाउज सिलवाकर उन्हें कई साड़ियों के साथ पहन सकती हैं.

स्मार्ट आइडियाज

बजट फ्रेंडली शॉपिंग का सबसे जरूरी टिप यही है कि फिजूलखर्च से बचें और वही चीज खरीदें जिसकी आपको वाकई जरूरत हो.

शॉपिंग के लिए घर से निकलने से पहले एक लिस्ट बनाएं, जिसमें उन सभी स्टाइलिश ड्रेसेस और ट्रेंडी एक्सेसरीज को नोट करें, जो आपके वॉर्डरोब और ऑफिस के लिए जरूरी हैं.

अच्छे ब्रांड की सेल लगी है, तो वहां से अच्छी फिटिंग वाली जीन्स, जैकेट, बेसिक शर्ट, ट्राउजर, स्कर्ट आदि जरूर खरीदें.

वेडिंग या फेस्टिव सीजन के लिए जरूरत से ज्यादा महंगा आउटफिट खरीदना पैसे की बर्बादी है, थोड़ी-सी समझदारी से आप कम बजट में भी ट्रेंडी और गॉर्जियस नजर आ सकती हैं.

ऑनलाइट शॉपिंग करते समय उस चीज की कीमत अलग-अलग साइट्स पर चेक कर लें. हो सकता है, दूसरी साइट पर सेल, डिस्काउंट, कूपन आदि के चलते वही चीज आपको कम दाम में मिल जाए.

ये भी पढ़ें-  महिलाओं के लिए Insurance

विंडो शॉपिंग के बहाने आप अलग-अलग स्टोर्स में जाकर डिस्काउंट या स्पेशल ऑफर के बारे में जानकारी हासिल कर सकती हैं.

शॉपिंग करते समय क्रेडिट कार्ड का उपयोग करने की बजाय कैश पेमेंट करें, इससे आप बजट के बाहर शॉपिंग नहीं कर सकेंगी और फिजूलखर्च से बच जाएंगी.

ऐसे आउटफिट्स खरीदने से बचें, जिन्हें बार-बार ड्राईक्लीन करवाना पड़े. सेल में शॉपिंग करते समय मटेरियल, फैब्रिक और क्वालिटी से समझौता न करें. हर चीज अच्छी तरह देख-परखकर ही खरीदें.

ऐसे लोकल स्टोर्स जहां स्टाइलिश आउटफिट व एक्सेसरीज कम दाम में मिल जाते हैं, वहां से शॉपिंग करके आप अपने पैसे बचा सकती हैं.

नए कपड़े पहनते समय रखें इन 4 बातों का ध्यान

हम सभी विभिन्न अवसरों के लिए नए कपड़े खरीदते हैं. भले ही कोरोना के आगमन के बाद से बाजार जाने पर रोक लगी हो परन्तु कपड़ों की शॉपिंग तो जारी ही है , कपड़े भले ही ऑनलाइन लिए जाएं या ऑफलाइन हम सभी को उन्हें पहनने की जल्दी रहती है परन्तु इन्हें पहनने के लिए की गई जल्दबाजी कई बार काफी महंगी पड़ जाती है और हम स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओं से घिर जाते है. आज हम आपको नए कपड़े पहनने से पूर्व ध्यान रखने वाले कुछ टिप्स के बारे में बता रहे हैं जिनका ध्यान रखकर आप अनेकों समस्याओं से बचे रहेंगे-

1. धोना है जरूरी

-कपड़ो को बनाये जाते समय अनेकों केमिकल का प्रयोग किया जाता है. आजकल तो नेचुरल की अपेक्षा केमिकल रंगों से ही डाई किया जाता है. इन केमिकल्स के अनेकों दुष्प्रभाव होते हैं जिनके कारण इन्हें अवश्य धोएं अन्यथा केमिकल के कारण दाद, खाज, खुजली जैसे संक्रमण हो सकते हैं.

-कपड़े स्टोर्स में काफी लंबे समय तक रखेरहते हैं. हमें पता ही नहीं होता कि वे कहां और किस वातावरण में रखे हैं इसलिए इन्हें धोकर पहनने से इन पर चढ़ी धूल मिट्टी साफ हो जाती है जिससे किसी भी प्रकार की एलर्जी से बचाव हो जाता है.

-आजकल हर स्टोर में ट्रायल रूम होते हैं जहां अनेकों लोग कपड़ों का ट्रायल करते हैं  ऐसे में उनके शरीर की किसी त्वचा संबंधी बीमारी और पसीना उनमें लग जाता है इसलिए धोना बहुत जरूरी होता है.

-टाई डाई, बंधेज, बटिक तथा बाघ प्रिंट जैसे फेब्रिक को नेचुरल रंगों से बनाया जाता है. इन्हें प्रयोग करने से पूर्व नमक के पानी में भिगो देने से इनका रंग पक्का हो जाता है.

ये भी पढ़ें- Gardening Tips: ऐसे गुलजार करें गुलदाऊदी आशियाना

2. कोरोना से करें बचाव

आप चाहे ऑनलाइन शॉपिंग करें या ऑनलाइन कोरोना से बचाव अत्यंत आवश्यक है. कोरोना के आगमन के बाद से यदि ट्रायल करते समय किसी को जरा सा भी संक्रमण है तो कपड़ों के जरिये यह संक्रमण आप तक भी आसानी से पहुंच जाता है. इसके अतिरिक्त पैकेजिंग करने वाले व्यक्ति, या ट्रांसपोर्ट करने वाले व्यक्ति ने छींका या खांस दिया हो तो भी संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है. इसलिए कोरोना काल में नए कपड़ों को पहनने से पूर्व गुनगुने पानी में डेटॉल या अन्य किसी एंटीसेप्टिक की कुछ बूंदें डालकर 2 घण्टे के लिए भिगो दें इससे संक्रमण की आशंका पूरी तरह खत्म हो जाएगी. ऑनलाइन खरीदे कपड़ों के पैकेट्स को पहले सेनेटाइज करें फिर खोलें.

3. टैग्स और बिल्स को संभालें

कपड़ों के टैग्स और बिल्स को संभालना अत्यंत आवश्यक है क्योंकि कई बार साइज के छोटा होने या फेब्रिक और रंग के पसन्द न आने पर इन्हें बदलना पड़ता है, बिल्स और टैग्स के होने से इन्हें बदलना या वापस करना आसान हो जाता है.

4. रखें सावधानी

कई बार घर पर कपड़े ट्राय करते समय जरा सी असावधानी से कपड़ों पर कुछ गिर जाता है या कपड़ा कहीं उलझकर फट जाता है तो उसकी वापसी असम्भव हो जाता है इसलिए जब तक आप कपड़े को खरीदना सुनिश्चित न कर लें तब तक उन्हें बहुत सावधानी से ट्राय करें.

ये भी पढ़ें- गार्डनिंग: प्रकृति का बसेरा

5 TIPS: सोच समझकर खरीदें गहनें

गहने पहनना किसे पसंद नहीं होता. गहनों को पहनने में जितना मजा आता है उससे ज्यादा कुछ लोगों को उनकी खरीददारी करने का शौक होता है. लेकिन गहने पहनना और खरीदना ही काफी नहीं होता. इसके लिए आपको गहनों की परख, समझदारी, और सूझ-बूझ की भी जरूरत होती है. अक्सर हम में से कई लोगों के साथ ऐसा होता है कि जब भी हम किसी ज्वेलरी शॉप में जाते हैं, तो ऐसे कई तरह के गहने होते हैं जिनकी खूबसूरती हमारी आँखों को आपनी ओर आकर्षित कर ही लेती है. और हम उसे खरीद लेते हैं. लेकिन ये कितना समझदारी का काम है? क्या गहनों की खरीददारी के लिए इतनी जानकारी काफी है? तो हमारा जवाब होगा नहीं.

1. जानिए आपका स्टाइल- गहनों को खरीदते समय आपको बस यूँ ही खरीददारी नहीं करनी, आपको अपने स्टाइल के बारे में भी पता होना चाहिए. आपको पता होना चाहिए कि आपको आखिर चाहिए क्या. अगर आप ट्रेडिशनल गहनें खरीदना चाहती हैं या आज कल के ट्रेंडी फंकी गहनें. आपको ज्वेलरी शॉप में घुसते समय ही अपने दिमाग में इस बात को क्लियर कर लेना है. वहीं अगर आपको कोई रत्न पसंद है तो आप उस रत्न के बारे में जान लें, ताकि आप दुकानदार से बात कर सकें. अगर आपने किसी भी तरह की शैली का चुनाव पहले कर लिया तो आपके लिए गहनों का चुनाव भी आसान हो जाएगा.

2. अपना बजट करें तय- आपको गहनें अपने लिए लेने हों या किसी को गिफ्ट देना हो. आप सबसे पहले अपना बजट तय करें. क्योंकि आपने खरीददारी करते समय अगर अपने बजट की लाइन ड्रा कर ली तो आपके लिए ही आसानी होगी. लेकिन हां आपके लिए विकल्प थोड़े कम हो सकते हैं. लेकिन आपकी जेब पर गहरा असर नहीं पड़ेगा.

ये भी पढ़ें- गांरटीड नौकरी चाहिए तो करियर को दें अप्रेंटिस का कवच

3. गहनों के बारे में नॉलेज जरूरी- आपको जिस चीज की खरीदारी करनी है, उसके बारे में सिर्फ थोड़ी सी जानकारी काफी नहीं है. आपको समय के साथ और अन्य चीजों के लिए भी खुद को अपग्रेड करने की जरूरत है. किसी भी तरह की खरीददारी करने से पहले उसके बारे में नॉलेज प्राप्त करना और पढ़ना सबसे अच्छा विकल्प है. आप जब भी गहनों की खरीददारी करते हैं तो आपको कैरेट के बारे में पता होना चाहिए. अगर किसी दुकानदार को ये पता चल गया कि आपको कोई नॉलेज है ही नहीं, तो वो आपको आसानी से ठग भी सकता है.

4. हमेशा अच्छी दुकान से करें शॉपिंग- अगर आप कीमती गहनों की खरीददारी करने वाले हैं, तो हमेशा अच्छे, प्रतिष्ठित और विश्वसनीय दुकानदार से ही खरीददारी करें. क्योंकि अच्छी दुकानें हमेशा हीरे, सोने या अन्य जवाहारात खरीदने से वो आपको प्रमाण भी देंगे.

5. होलमार्क वाले खरीदें गहनें- गहनें खरीदते समय भले ही दुकानदार कितना ही विश्वसनीय क्यों ना हो, वो कितना ही खुद को खरा क्यों ना बताता हो, लेकिन समझदारी हमेशा आपको ही दिखानी होगी. आपको गहनें खरीदते समय उसमें होल्मार्किंग हो इसका ध्यान रखना होगा. क्योंकि असली सोने के गहनों में कैरेट की संख्या का एक होल्मार्किंग इशारा होता है. इसका मतलब यही होता है कि सोना खरा है और आप इस पर विश्वास कर सकते हैं. सबसे बड़ी बात भविष्य में आप जब भी उस जेवर को बेचेंगे तो आपको पूरी कीमत मिलेगी.

ये भी पढ़ें- जानें कैसे धोएं महंगे कपड़े

अब जब आपको गहने खरीदने जाना हो तो हमारी बताई हुई इन बातों का ख्याल जरुर रखें. इससे आपकी समझदारी झलकेगी और आपको दुकानदार ठगेगा भी नहीं.

सही ब्रा चुनना है जरूरी

सब से बढि़या फैशन लुक पाना हर लड़की और स्त्री की चाह होती है. आप के फैशन कोशंट को बढ़ाने में सही ब्रा की भूमिका बहुत महत्त्वपूर्ण होती है. आइए, जानें इस संदर्भ में विस्तार से जिवामे की किरूबा देवी से:

आर्नेट ग्लिट्ज ब्रा:

यह बहुत ही सुंदर, शानदार, हाई ग्लैम ब्रा है, जिसे बहुत ही छोटे और सुंदर स्पार्कल्स से सजाया जाता है. किसी भी लहंगे या साड़ी के साथ यह ब्रा खूब जंचती है. रिच वाइन और बेज कलर के इस कलैक्शन में ब्लाउज ब्रा भी होती है, जो स्टाइलिश होने के साथसाथ बेहतर फिटिंग वाली भी होती है. इसे पहन लेने पर ब्लाउज पहनने और उस के अंदर ब्रा की कोई जरूरत नहीं.

स्वीट कैरोलाइन ब्रा:

फूलों के प्रिंट्स से सजाई गई टीशर्ट ब्रालेट दिन में आउटिंग के समय पहनने के लिए बिलकुल सही है. हाई ग्लैम लुक्स से थोड़ा ब्रेक लेना चाहती हैं तो इस फ्लोरल ब्रालेट पर कोई भी श्रग, हाई वेस्टेड पैंट और स्नीकर्स पहन लीजिए और अपने दोस्तों के साथ किसी कौफी शौप में चिल टाइम के लिए तैयार हो जाएं. इतना ही नहीं, इस डे लुक को आप बड़ी आसानी से नाइट लुक में भी बदल सकती हैं. जींस की जगह कोई भी फ्लोरल स्कर्ट पहन लीजिए. उस पर मैचिंग ज्वैलरी और दुपट्टे के साथ पूरा हो जाता है आप का चिक लुक.

ये भी पढ़ें- ऐसे सजाएं बच्चों का कमरा

विंटेज लेस ब्रा:

पुरानी बौलीवुड अभिनेत्रियों ने क्लासिक साडि़यों, नो मेकअप लुक्स और बेजोड़ अदाकारी से विंटेज जमाने को यादगार बनाया है. अत: विंटेज लेस ब्रा पहन कर आप भी वही खूबसूरती, वही रोमांस अपने फैशन के जरीए दिखा सकती हैं. इस शानदार ब्रा के साथ पफ्ड स्लीव ब्लाउज और अपनी दादी या नानी की सब से प्यारी साड़ी पहनिए. आप की खूबसूरती को चार चांद लग जाएंगे.

ट्रिव्लाइट ब्लूम ब्रा

पुराने स्टाइल के ब्लाउज से ऊब चुकी हैं तो इस ब्रा के साथ परफैक्ट फिट होने वाला व्हाइट क्रौप टौप पहनिए. साथ में फ्लेयर्ड पैंट्स, चंकी सिल्वर ज्वैलरी और कूल फ्लैट्स के साथ पूरे आत्मविश्वास से बाहर निकलिए. दोपहर में किसी त्योहार में जाना हो या पंडाल में दोस्तों के साथ समय बिताना हो तो यह लुक सब से अच्छा है.

यह भी जानें

बेहतर हैल्थ और आकर्षक लुक के लिए सही साइज और शेप की ब्रा चुननी जरूरी होती है. यही नहीं ब्रा का ध्यान कैसे रखा जाए, अपने शरीर के आकारप्रकार और जरूरत के अनुसार किस ब्रा का चुनाव किया जाए, इस की जानकारी भी आवश्यक है.

ये भी पढ़ें- महिलाओं के लिए ड्राइविंग हुई आसान

आइए, जानें कि ऐसी जानकारी जो हमें प्राय: अपने मित्रों, जानकारों और इंटरनैट से मिलती है वह कितनी सही होती है और

कितनी झूठी:

ब्रा को रोज धोना जरूरी नहीं

यह बिलकुल सही नहीं है. क्या ऐसा किसी ने आप के दूसरे अंतर्वस्त्रों के लिए कहा है? आखिर सभी अंतर्वस्त्र त्वचा के ठीक ऊपर पहने जाते हैं. उन पर शरीर से निकलने वाली गंदगी, पसीना और चिकनाई एकत्रित होती है. ऐसे में अगर इन कपड़ों की ठीक ढंग से सफाई न की जाए तो ये न केवल कम समय तक चलते हैं, बल्कि इन का लचीलापन भी कम हो जाता है.

सफेद कपड़ों के नीचे सफेद ब्रा

दरअसल, सफेद कपड़ों के नीचे रंगीन ब्रा से भी ज्यादा आसानी से सफेद ब्रा दिखती है. अत: बेहतर यही है कि आप हलके गुलाबी, न्यूड और भूरे रंग की ब्रा ही पहनें.

अंडर वायर ब्रा पहनने से कैंसर होता है:

इस बात का कोई भी वैज्ञानिक सुबूत नहीं है. ब्रा का उपयोग ब्रैस्ट कैंसर का कारण नहीं हो सकता. फिर वह भले गहरे रंग की हो या अंडरवायर्ड. अत: इस बात को तुरंत अपने दिमाग से निकल दें. हां, यह कहना सही है कि सही माप की ब्रा पहनना महत्त्वपूर्ण है ताकि यह वायर ब्रैस्ट टिशू में धंस कर आप की परेशानी का कारण न बने.

साइज:

ध्यान रखें कि अलग-अलग ब्रैंड्स के अपने अलगअलग साइज चार्ट्स होते हैं. ये साइज मौडल के शरीर के आकारप्रकार के अनुसार तय किए जाते हैं और हर ब्रैंड का अपना अलग ही फिट मौडल होता है. अत: किसी नए ब्रैंड की ब्रा खरीदने से पहले अपना साइज जरूर माप लें.

ये भी पढ़ें- 8 टिप्स: ऐसे करें Shoe रैक की सफाई

ब्रा का उपयोग:

शारीरिक गतिविधियों के दौरान ब्रैस्ट को बेहतर सपोर्ट देने के लिए स्पोर्ट्स ब्रा पहनी जाती है. यह सामान्य ब्रा से थोड़ी अलग होती है. हर स्त्री को दौड़ते या व्यायाम करते समय सही स्पोर्ट्स ब्रा पहननी चाहिए.

अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें