इन 4 नैचुरल नुस्खों के भी हैं साइड इफेक्ट्स

भारतीय लोग अमूमन घरेलू और पारंपरिक उपचार पर यकीन करते हैं, जिनमें कि हर्ब्स, सब्जियां आदि नैचुरल तत्व शामिल होते हैं. ज्यादातर लोगों का यकीन होता है कि नैचुरल चीज का इस्तेमाल अन्य चीजों के मुकाबले ज्यादा सेफ है और इसके साइड इफेक्ट भी नहीं होते. लेकिन लोगों की यह धारणा दरअसल गलत है. आइए आपको बताते हैं कि नैचुरल चीजों से कैसे हो सकता है आपको नुकसान.

1. हर्बल चाय

अगर आपको कफ की शिकायत है तो काली मिर्च, शहद से बनने वाली हर्बल चाय का इस्तेमाल करने से बचना चाहिए. एक्सपर्ट के मुताबिक, काली मिर्च बहुत गर्म और सूखी होती है. अगर आपको सूखा कफ आ रहा है तो इसके इस्तेमाल से घरघराहट बढ़ सकती है.

2. शहद भी है घातक

चेहरे पर शहद का इस्तेमाल करना सौ फीसदी चमक की गारंटी बताया जाता है. शहद और दूध जैसे नैचुरल प्रॉडक्ट्स चेहरे पर सफेद या काले धब्बे डाल सकते हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि ये तैलीय होते हैं.

आपकी उम्र चाहे कितनी ही क्यों न हो, सूखी त्वचा के मुकाबले शहद या दूध का इस्तेमाल करना ज्यादा एलर्जिक होता है. सूखी त्वचा ऐक्टिव नहीं होती है और ऐसे में उसमें मुंहासे निकलने की आशंका कम रहती है. शहद या दूध का इस्तेमाल ऑयल ग्लैंड्स को ब्लॉक कर देता है और इसके चलते मुंहासे निकल आते हैं.

3. चंपी

नारियल, सरसों आदि के तेल का इस्तेमाल करने से आपको इंफेक्शन भी हो सकता है. अगर आपकी त्वचा सेंसटिव है तो आपके सिर में छोटे—छोटे दाने निकल सकते हैं.

4. तो कानों में होगा दर्द

कान में दर्द होने पर कई बार हम अदरक का जूस इस्तेमला कर लेते हैं. इसके पीछे लॉजिक देते हैं कि यह कान के इंफेक्शन से लड़ने में कारगर है. जबकि विशेषज्ञों की मानें तो इसके इस्तेमाल से कान ब्लॉक भी हो सकता है. इसमें इयर ड्रम के जरिए कान में इंफेक्शन की आशंका भी बढ़ जाती है. जूस सीधा कान की कैविटी में जाकर आपकी सुनने की क्षमता को भी खत्म कर सकता है.

अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें