फेस स्टीम से स्किन को रखें क्लीन व हाइड्रेट 

स्किन को क्लीन व नौरिश कौन नहीं करना चाहता. क्योंकि इससे न सिर्फ आपकी स्किन हैल्दी बनी रहती है, साथ ही आपको ग्लोइंग स्किन भी मिलती है. लेकिन क्या आप जानती हैं कि ग्लोइंग व हाइड्रेट स्किन के लिए सिंपल व इजी प्रोसेस है फेस स्टीमिंग. जिसे आप घर पर भी खुद से कर सकती हैं या फिर पार्लर में जाकर भी करवा सकती हैं . ये पोर्स को ओपन करके उसमें जमी धूलमिट्टी व गंदगी को क्लीन करके स्किन को क्लीन, क्लियर , ग्लोइंग व हाइड्रेट करने में मदद करता है. साथ ही ये स्किन में ब्लड के सर्कुलेशन को भी इम्प्रूव करके चेहरे में नई जान डालने का काम करता है.

कैसी कैसी फेस स्ट्रीमिंग 

1.  स्किन को हाइड्रेट करना 

अगर आप स्किन को हाइड्रेट करना चाहती हैं तो आप थोड़े से सूखे हुए कैमोमिल के फूल में बराबर मात्रा में सूखी हुई गुलाब की पत्तियां डालकर व उसमें थोड़ा सा लेमन जेस्ट डालकर उसकी स्टीम लें. कम से कम 10 मिनट तक स्टीम लें. इससे आपकी स्किन हाइड्रेट हो जाएगी.

कैसे वर्क करता है– 

– कैमोमिल में एंटीओक्सीडैंट्स प्रोपर्टीज होने के कारण ये स्किन को फ्री रेडिकल्स से बचाने के साथसाथ हैल्दी सेल्स को प्रमोट करने का काम करते हैं. जिससे स्किन पर ग्लो नजर आने लगता है. वहीं गुलाब की पत्तियों में विटामिन सी होने के कारण ये स्किन के नेचुरल ग्लो को बनाए रखकर सेल्स में मोइस्चर को सील करके स्किन को नेचुरली हाइड्रेट रखने का काम करता है. और लेमन जेस्ट एन्टिओक्सीडेंट में रिच होने के कारण स्किन को डीटोक्स करने में मदद करता है.

2. सूथिंग इफेक्ट के लिए 

स्किन को अगर सूथिंग यानि उसे ठंडक देकर आराम पहुंचना चाहते हैं तो उसके लिए आप गरम पानी के बाउल में कुछ खीरे के टुकड़े ,  कैमोमिल टी बैग व उसके साथ एसेंशियल आयल की  कुछ बूंदें  डालकर उससे चेहरे को 10 – 15 मिनट तक स्टीम दें. स्किन में अंतर आपको मिनटों में नजर आने लगेगा.

ये भी पढे़ं- फेस वैक्स करने से पहले जान लें ये बातें

कैसे वर्क करता है–  

– खीरे में एन्टिओक्सीडेंट्स प्रोपर्टीज होने के कारण ये स्किन को ठंडक पहुंचाने का काम करती

है. इससे स्किन की रेडनेस, पफीनेस धीरेधीरे कम होने लगती है. कैमोमिल टी में एंटीइंफ्लेमेटरी प्रोपर्टीज होने के कारण ये स्किन इर्रिटेशन को दूर कर हीलिंग प्रोसेस को तेज करने का काम करता है. वहीं एसेंशियल आयल स्किन टेक्सचर को इम्प्रूव करके स्किन को सूदिंग इफेक्ट देने  का काम करता है.

3. डीटोक्स योर स्किन 

धूलमिट्टी , प्रदूषण के कारण हमारी स्किन पर डस्ट जमा हो जाती है, जो स्किन पर एक्ने, ब्लैकहेड्स, वाइटहेड्स का कारण बनती है. ऐसे में स्टीम से स्किन को डिटोक्स करना जरूरी होता है. ताकि स्किन नैचुरली निखर सके.  इसके लिए आप गरम पानी में थोड़ा सा लेमन जेस्ट , ग्रीन टी बैग को डालकर उससे स्किन को डिटोक्स करें. इस प्रोसेस से स्किन डिटोक्स होने से प्रोब्लम फ्री हो जाएगी.

कैसे वर्क करता है– 

– ग्रीन टी में टैनिन होता है, जो एस्ट्रिंजेंट का काम करता है. जो आंखों के आसपास की सूजन को कम करने के साथसाथ स्किन को टाइट करके उसे यंग लुक देने का काम करता है. वहीं लेमन जेस्ट पिगमेंटशन को कम कर स्किन को बेहतरीन तरीके से डिटोक्स करता है.

4. स्किन एजिंग को रोकने के लिए 

आज महिलाएं स्किन की एजिंग को रोकने के लिए महंगीमहंगी क्रीम्स टाई करने से लेकर हर वो ब्यूटी ट्रीटमेंट लेने की कोशिश करती हैं , जिससे स्किन से एजिंग को दूर रखकर खुद को हमेशा जवां बनाए रख सके. ऐसे में स्किन एजिंग को रोकने के लिए बेस्ट है , कुछ ड्राई रोजमेरी , कुछ ड्राई कैमोमाइल के फूल के साथ कुछ बूंदे एसेंशियल आयल के कॉबिनेशन से मिलाकर फेस को स्टीम देने की. ये स्किन पर मिनटों में मैजिक इफेक्ट देने का काम करता है.

कैसे वर्क करता है– 

– कैमोमाइल के फूल अपनी ब्लीचिंग प्रोपर्टी के कारण स्किन को ब्राइट बनाने का काम करते हैं. साथ ही ये स्पोट्स को फेड करके फाइन लाइन्स को कम करने का काम करते हैं . तो वहीं रोजमेरी स्किन को फर्म करके स्किन पर एजिंग के साइन को कम करने का काम करता है. एसेंशियल आयल तो है ही कई खूबियों से भरपूर, जो स्किन को हाइड्रेट, फ्रेश लुक देने का काम करता है.

5. ड्राईनेस दूर करने के लिए 

अगर आप स्किन की ड्राईनेस से तंग आ चुकी हैं, जिसके कारण न तो आपको अपने फेस को टच करने को मन करता है और न ही खुद को बारबार निहारने को दिल करता है , तो ये फेस स्टीम खासकर के आपके लिए ही है, जिसे जरूर टाई करें. जिसमें है ड्राई रोज पेटल्स व लैवेंडर आयल. इससे आपकी स्किन का मोइस्चर लौक होने के साथ स्किन नेचुरली ग्लो भी करने लगती है.

कैसे वर्क करता है– 

– गुलाब की पत्तियों में कोलेजन के उत्पादन को बढ़ाने की क्षमता होने के कारण ये हैल्दी स्किन सेल्स को प्रमोट करके उनमें मोइस्चर को लौक करके स्किन को हाइड्रेट करने का काम करती है. साथ ही इसकी एन्टिओक्सीडेंट्स प्रोपर्टी चेहरे से काले घेरे को भी कम करके स्किन को क्लीन बनाने का काम करती है. इसी के साथ जब इसमें लैवेंडर आयल को शामिल किया जाता है , जिसमें एंटीफंगल व हाइड्रेट प्रोपर्टीज होने के कारण ये स्किन की रेडनेस को दूर करने के साथ उसे प्रोपर मोइस्चर प्रदान करने का काम करती है, जिससे स्किन की ड्राईनेस दूर होने लगती है.

ये भी पढ़ें- इन 20 Body Massage से रखें खुद को एनर्जेटिक

फेस स्टीमिंग के फायदे 

– ये पोर्स को ओपन करके उसमें जमा गंदगी को रिमूव करके स्किन को क्लीन बनाने में मदद करता है. इस प्रोसेस के बाद ब्लैकहेड्स भी सोफ्ट होकर उन्हें बाहर निकालने में भी आसानी होती है.

– वार्म स्टीम से स्किन में ब्लड फ्लो बढ़ता है, जिससे स्किन नेचुरली ग्लो करने लगती है.

– जब गंदगी के कारण पोर्स क्लोग हो जाते हैं , तो उससे डेड स्किन सेल्स के साथ उसमें बैक्टीरिया के होने से स्किन पर एक्ने, इंफेक्शन के चांसेस बहुत ज्यादा बढ़ जाते हैं. जबकि स्टीम से डेड स्किन निकलने से स्किन हैल्दी बन पाती है.

– स्टीम स्किन में आयल के उत्पादन को नेचुरली बढ़ाकर स्किन को हाइड्रेट रखने में मदद करती है.

– फेसिअल स्टीम कोलेजन और इलास्टिन के उत्पादन को बढ़ाकर स्किन को फर्म और यंगर लुक देने का काम करता है.

– इसमें एसेंशियल आयल स्किन को रिलैक्स करने में मदद करती है. फेस को स्टीम देने के लिए आप फेस स्टीमर, बाउल या फिर हॉट टोवेल की मदद ले सकती हैं.

स्टीम लेने के बाद

– चेहरे पर स्टीम के बाद उसे हलके हाथों से एक्सफोलिएट करें, जिससे सारी गंदगी अच्छे से बाहर निकल जाए.

– फिर चेहरे को हलके हाथों से साफ कर उस पर मॉइस्चराइजर अप्लाई करें. इस तरह फेस को स्टीम देकर आप अपनी स्किन को हाइड्रेट व क्लीन बना सकती हैं.

ये भी पढ़ें- ओवरनाइट मेकअप के बैड इफैक्ट्स

अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें