Summer Tips: सनस्क्रीन लगाना क्यों है जरूरी

सनसक्रीन एक ऐसा स्किन केयर प्रौडक्ट है जिस का रोजाना इस्तेमाल करना हमारी स्किन के लिए बहुत जरूरी है. अधिकतर महिलाओं को लगता है सनस्क्रीन को सिर्फ गर्मियों में लगाया जाता है, लेकिन सनस्क्रीन को हर मौसम में इस्तेमाल करना चाहिए. सनस्क्रीन आप की स्किन को डैमेज होने से बचाता है.

गर्मियों में क्यों जरूरी है सनसक्रीन

गर्मियों में तेज धूप और सूरज की हानिकारक किरणों की वजह से स्किन पर टैनिंग, फ्रेक्ल्स, सनबर्न जैसी समस्या हो सकती है, जिस से आप की स्किन की खूबसूरती ढल सकती है. क्लीनिक डर्माटेक के डर्मेटोलौजिस्ट डाक्टर इंदु का कहना है, “यदि किसी को फ्रेक्ल्स, सनबर्न जैसी समस्या हो जाती है तो उसे सनस्क्रीन दिन में 3 बार जरूर लगाना चाहिए. फ्रेकलस बहुत आम समस्या है. चेहरे पर जब ब्राउन स्पौट हो जाते है, उन्हें फ्रेक्ल्स कहते हैं.

फ्रेक्ल्स को रोकने के लिए सनस्क्रीन लगाना बहुत जरूरी है. हालांकि इस का co2 लेज़र ट्रीटमेंट भी है. कई लोग घर में रहते हैं तो अपनी स्किन की देखभाल करने में आलस दिखाते हैं. अगर आप घर में किचन में ज्यादा समय बिताती हैं तो भी सनस्क्रीन का इस्तेमाल जरूर करें. सनस्क्रीन खरीदते समय एसपीएफ पर जरूर ध्यान दें.

सनसक्रीन और एसपीएफ

बढ़ती उम्र के साथ स्किन पर पडऩे वाली झुर्रियां, फाइन लाइंस, स्किन का फटना, रंगत पर प्रभाव, झांइयां इन सब का सब से बड़ा कारण अल्ट्रावायलेट किरणें हैं. जब हम ज्यादा समय धूप में बिताते हैं, तो स्किन की रंगत काली होने लगती है और स्किन से जुड़ी कुछ गंभीर समस्याएं भी उत्पन्न हो सकती हैं. इसलिए सनस्क्रीन का इस्तेमाल जरूरी है.

ये भी पढ़ें- 8 Tips: बढ़ती उम्र में स्किन टाइटनिंग के बेस्ट ट्रीटमेंट्स

सनस्क्रीन खरीदते समय उस में मौजूद सन प्रोटेक्शन फैक्टर यानी एसपीएफ की मात्रा की सही जानकारी होना बहुत जरूरी है. वैसे तो एसपीएफ 15 की मात्रा वाली सनस्क्रीन लगाना बेहतर रहता है. लेकिन बढ़ती गर्मी और प्रदूषण के दौरान एसपीएफ 15 से ले कर एसपीएफ 30 वाले सनस्क्रीन लोशन ज्यादा प्रभावी माने जाते हैं. अगर आप बिना सनस्क्रीन के घर से बाहर निकलती हैं तो आप की स्किन धूप में झुलस सकती है.

सनसक्रीन में एसपीएफ बहुत अहम है. एसपीएफ की मात्रा जितनी ज्यादा होती है हमारी स्किन को प्रोटेक्शन भी उतना ज्यादा मिलता है. अगर आप की सनस्क्रीन में 30 एसपीएफ है तो आप की स्किन पर प्रोटेक्शन 30 गुना ज्यादा बढ़ जाता है.

स्किन के अनुसार चुनें सनसक्रीन

  • अधिकतर महिलाओं की शिकायत होती है कि सनस्क्रीन लगाने के बाद स्किन चिपचिपी और काली दिखने लगती है. अगर आप की स्किन ज्यादा चिपचिपी दिख रही है, तो आपने गलत सनस्क्रीन को चुना है. सनस्क्रीन हमेशा अपनी स्किन के अनुसार चुनें.
  • अगर आप की स्किन नौर्मल है तो क्रीम बेस्ड सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें.
  • अगर आप की स्किन पर पिंपल्स, मुहांसे की समस्या ज्यादा है तो आप औयल फ्री सनस्क्रीन लगाएं और आप की स्किन औयली है तो जैल बेस्ड सनस्क्रीन का चुनाव करें.
  • ड्राई स्किन वालों को मौइश्चराइजर बेस्ड सनस्क्रीन का इस्तेमाल करना चाहिए.

कब कितना एसपीएफ है जरूरी

स्किन को डैमेज होने से बचाने के लिए 30 एसपीएफ काफी होता है. लेकिन आप बहुत देर तक बाहर हैं, धूप में ज्यादा समय बिता रही हैं और बारबार सनस्क्रीन नहीं लगा सकतीं तो आप एसपीएफ 50 वाले सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें.

रोजाना दिनों के लिए आप एसपीएफ 30 का इस्तेमाल कर सकती हैं. घर में भी सनस्क्रीन लगाना बहुत जरूरी है. दरअसल, घर में मौजूद आर्टिफिशियल लाइट भी स्किन पर असर डालती है. इसलिए घर में आप एसपीएफ 15 वाली सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें.

ये भी पढ़ें- आपके चेहरे की झाइयों को दूर करेंगे ये अचूक उपाय

अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें