वो एक लड़की: जिस लड़की से वह बेतहाशा प्यार करती थी

अब इस की हत्या के अलावा और कोई विकल्प ही नहीं बचा मेरे पास. मैं क्या करूं, कुछ समझ नहीं पा रही हूं. इस मामले से छुटकारा पाने का बस एक ही तरीका दिख रहा है कि इस लड़की की हत्या कर दी जाए. मैं इस लड़की को अच्छी तरह से जान गई हूं. हल्ला मचा रखा है इस ने बैगन की सब्जी खाने के लिए. उस दिन मेरे औफिस में मेरी सहेली ने मुझे बैगन की सब्जी ला कर दी. बैगन मुझे बिलकुल पसंद नहीं हैं… बैगन यानी बेगुण. बचपन मेें हम अपनी कक्षा की एक सांवली लड़की रामकली को ऐसे ही चिढ़ाया करते थे- कालीकलूटी, बैगन लूटी.

मैं ने बहुत झिझकते हुए बैगन लिए थे, जबकि बैगन की सब्जी वास्तव में देखने में बहुत अच्छी दिख रही थी. बिलकुल ताजगी से भरी, जबकि जब भी मैं बैगन बनाती हूं तो वे बनने के बाद बिलकुल सिकुड़ जाते हैं. ठीक है, बैगन बहुत खूबसूरत दिख रहे थे पर खाने में तो बेस्वाद और कसैले ही होंगे न.

वैसे आप को बताऊं यदि मेरा बस चले तो मैं यह सब्जी कभी बनाऊं ही नहीं पर क्या करूं. घर में बाकी सब इसे बड़े शौक से खाते हैं और मैं भी मन मार के खा ही लेती हूं. अब कौन अपने लिए अलग से कुछ बनाए.

अरे मैं भी कहां की कहां पहुंच गई. हां तो जब मैं ने अपनी सहेली के बनाए बैगन झिझकते हुए खाए तो इतने स्वादिष्ठ लगे कि मैं पूरा डब्बा ही चट कर गई. बस मुझ से गलती यह हुई कि मैं ने इस लड़की को भी वह सब्जी खिला दी. कमबख्त बिना मुझे बताए मेरी सहेली से बैगन बनाने की पूरी विधि सीख आई.

तब से यह लड़की रोज मेरे पीछे पड़ी है. कहती है दीदी बैगन तो फ्रिज में रखे ही हैं. चलो बनाते हैं और तो और मेरी बचत के पैसों से गोडा मसाला भी खरीद लाई. पूरे क्व50 का. इस महंगाई के जमाने में जब अपने बच्चों की जरूरतें भी पूरी नहीं होतीं तो ऐसे में इस कमबख्त की जुर्रत तो देखिए.

मैं रोज इसे बहला रही हूं कि चल आज बच्चों की पसंद के भरवां बैगन बना लेते हैं या पति की पंसद के इमली दाल वाले बैगन बना लेते हैं पर यह कपटी लड़की मुझ से मनुहार करती है कि नहीं दीदी वैसे वाले बैगन बनाओ न जैसे आशा ने बनाए थे. अब बताइए सब की फरमाइशें पूरी करने के लिए मैं समय कहां से लाऊं.

मैं ने आप से बताया नहीं इस के बारे में अभी तक. मुझ से भूल हुई कि शादी के बाद मैं इसे भी अपने साथ ले आई ससुराल में. तूफान मचा रखा है इस ने मेरी जिंदगी में. जरा भी कहना नहीं मानती मेरा. क्याक्या बताऊं आप को इस के बारे में. मेरी तो जगहंसाई कराती है. कभी सड़क पर यह ऊंट सी लड़की गुनगुनाने लगती है तो कभी बच्चों की तरह किसी को भी देख कर बिना वजह मुसकराने लगती है.

ये भी पढ़ें- साथी: रजत को छवि से झुंझलाहट क्यों होने लगी थी?

तंग आ गई हूं इस से. मरी के अंदर कोलंबस कौंप्लैक्स भरा पड़ा है. नएनए रास्तों पर मुझे भी घुमा लाती है. बीच सड़क पर किसी से भी बतियाने लगती है. मुझ सदगृहस्थन की इतनी बदनामी कराती है. बहुत समझाया कि अच्छी लड़कियों की तरह सलीके से रह पर यह सुनती ही नहीं.

अब मैं इस की हत्या की योजना बना रही हूं. मरना ही होगा इसे. एक म्यान में एक ही तलवार रह सकती है. इस घर में या तो यह रहेगी या मैं. यह सोचते ही मेरे मन में ठंडक सी पड़ जाती है. यह जीएगी तो मैं रोज मरती रहूंगी और यह जब मर जाएगी तो मैं चैन की जिंदगी जी सकूंगी. आज बस इस की जिंदगी का आखिरी दिन होगा. कल से इस की आवाज भी नहीं सुननी पड़ेगी मुझे और इस की हत्या ऐसे करूंगी कि किसी को कानोंकान खबर भी नहीं पड़ेगी.

चलो इस के पहले मैं उस जी के जंजाल बैगन को बच्चों के पसंदीदा ढंग से बना कर चलता करूं. पड़ेपड़े मुरझा रहे हैं. कहीं इस नासपीटी ने मुझे देख लिया तो कहर ढाएगी कि वैसे वाले बैगन बनाओ. वैसे वाले…

मैं रसोई में पहुंची ही थी कि यह नासपीटी खिलखिलाती हुई मेरे पीछेपीछे आ पहुंची. बोली कि दीदी आज तो इतवार है. अब तो बनाओ न वैसे वाले बैगन. कैसे समझाऊं इस नासपीटी को कि हम कामकाजी औरतों का कौन सा इतवार होता है.

छुट्टी के दिन तो दोगुना काम होता है हमें. बच्चों की पसंद का, पति की पसंद का नाश्ता, खाना बनाओ, हफ्तेभर के पैंडिंग काम करो. सांस लेने की भी फुरसत नहीं मिलती. मैं झुंझला उठी. मेरा गुस्सा चरम सीमा पर पहुंच गया. पगली ने अपनी मौत को खुद न्योता दिया है.

मैं सिलबट्टे से इस का सिर फोड़ने जा ही रही थी कि इस ने पीछे से आ कर मेरे मुंह में कपड़ा ठूंस दिया. जकड़ दिया मेरे हाथपैरों को रस्सी से. मैं फटी आंखों से देखती रही… अपने मन की कर ही ली इस ने. बना ही लिए इस ने वैसे वाले बैगन जिस के लिए हफ्ते भर से किचकिच कर रही थी.

बैगन बना कर न केवल तसल्ली से उंगलियां चाटचाट कर खाए इस ने बल्कि मुझे भी जबरदस्ती खिला दिए. इस को खिलखिलाते देख कर में चौंक गई. आज तो मुझे इसे मार डालना था पर यहां तो सब उलटा पड़ गया. इस ने बड़ी चतुराई से खुद को भी बचा लिया और मुझे भी जिंदा छोड़ दिया.

यह लड़की मुझ से जीत गई. मेरी आंखें भर आईं… मैं कहां मारना चाहती हूं इसे. कितना प्यार करती हूं इस बच्ची से मैं… कितना छिपछिप कर दुलारती भी तो हूं इसे. कभी बाजार घुमा लाती हूं इसे तो कभी इस का जन्मदिन चुपचाप इस के साथ मनाती हूं. इसे इस की पसंद का उपहार भी देती हूं.

आप हैरान हो रहे होंगे न कि क्या लगती है यह लड़की मेरी जो पिछले 20 सालों से जोंक की तरह मेरे साथ चिपकी हुई है जो न खुद मरती है और न मुझे मरने देती है. जिस से मैं नफरत भी करती हूं और बेतहाशा प्यार भी. आखिर क्या रिश्ता है इस का और मेरा?

अरे, आप ने पहचाना नहीं इसे? यह लड़की मेरे भीतर की सदगृहस्थन के अंदर बैठी है… मेरी बालसुलभ अस्मिता जो अपने लिए भी जीना चाहती है और मुट्ठी भर खुशी भी ढूंढ़ती है अपने लिए. आम औरतों की तरह मैं ने भी इस लड़की को मारने की कोशिश तो की पर मार न सकी.

आज आम औरतें गहने बनवातीं और गहने तुड़वातीं, साडि़यां की सेल में घूमतीं, किट्टी पार्टियों में जातीं, पति और बच्चों की पसंद के नशे में अपने वजूद को मार डालती हैं. किताबों, पत्रपत्रिकाओं से रिश्ता ही तोड़ लेती है… अपनी पसंद को भूल जाती हैं.

ये भी पढ़ें- हम तीन: आखिर क्या हुआ था उन 3 सहेलियों के साथ?

शुक्र है कि वो लड़की मेरे भीतर अभी भी जिंदा है जो शादी के इतने सालों बाद भी खुल कर सांस लेने की कोशिश करती है और कभीकभी अपने लिए भी सोचती है. चाहे पल भर के लिए ही सही, खिलखिला कर हंसती है और जी हां, जिस ने मेरी पसंद के बैगन भी मुझे बना कर खिला दिए.

काश, हर औरत अपने भीतर की उस लड़की की हत्या न करे और हंसती रहे वो लड़की.

अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें