बालों में आजकल कैमिकल युक्त उत्पादों का इतना ज्यादा प्रयोग किया जाता है कि वे कमजोर हो जाते हैं और शाइन नहीं करते. ऐसे में अगर बालों को स्वस्थ व मजबूत बनाए रखने के लिए तेल लगाने का सुझाव दिया जाए तो जवाब मिलता है कि तेल तो दादीनानी के जमाने में लगाया जाता था. अब भला कौन तेल लगाता है?

मगर क्या आप को पता है कि तेल बालों को घना बनाता है, उन में चमक लाता है? यही नहीं, स्कैल्प को सूखा भी नहीं होने देता और त्वचा को बैक्टीरिया और फंगल इन्फैक्शन से भी दूर रखता है. यानी तेल से बालों को पौष्टिक तत्त्व मिलते हैं. इसलिए अपनी व्यस्त दिनचर्या में से कुछ समय निकाल कर बालों की तेल से मालिश जरूर करें. नियमित रूप से अगर बालों में तेल से मालिश की जाए, तो इस के अनेक फायदे होते हैं. मसलन: 

अगर बालों की जड़ें सूखी हैं तो तेल की मालिश उन्हें ताकत देती है और नए बाल निकलने में मदद करती है.

तेल बालों को टूटने व उलझने से रोकता है, साथ ही तेल से सिर की मालिश करने से सिर का रक्तसंचार सुचारु रहता है.

बालों में सही मात्रा में तेल न लगाने से बाल दोमुंहे होने लगते हैं. पर्याप्त तेल लगाने से यह समस्या दूर हो जाती है.

मालिश से न केवल बाल स्वस्थ होते हैं, बल्कि शरीर को भी लाभ पहुंचता है. रात को अच्छी नींद आती है. दिमाग भी शांत होता है.

तेल से बालों में नमी आती है. वे मुलायम व चमकदार बनते हैं. जब भी बालों में तेल लगाएं तो इस बात का ध्यान रखें कि एक ही बार में पूरे बालों में तेल न लगाएं वरन सैक्शन बना कर तेल लगाएं. ऐसा करने से तेल स्कैल्प तक अच्छी तरह पहुंचता है.

बालों और सिर की त्वचा के लिए हौट स्टीम बाथ लेना भी फायदेमंद होता है. गरम तेल से सिर की त्वचा की मसाज करें और इस के बाद कुनकुने पानी से भीगे तौलिए को कुछ मिनट के लिए सिर पर लपेटें. ऐसा करने से सिर की त्वचा के रोमछिद्र खुल जाते हैं और बाल चमकदार बनते हैं.

तेल बालों की ग्रोथ के लिए जरूरी है. इस की मालिश से आप के सिर की कोशिकाएं काफी सक्रिय हो जाती हैं, जिस से बाल जल्दी लंबे होते हैं.

अगर आप की घने और सिल्की बालों की चाह है तो सरसों के तेल में दही मिला कर लगाएं. इस से बाल बढ़ेंगे भी और घने भी होंगे.

रात में सोने से पहले या फिर हफ्ते में कम से कम 2 बार सिर की मालिश जरूर करें. इस से बालों को तो पोषण मिलता ही है, तनाव भी कम होता है.

कौन सा तेल फायदेमंद

आज मार्केट में कई तरह के खुशबूदार तेल उपलब्ध हैं. उन से दूर रहें. प्राकृतिक तेल से ही मालिश करें. सिर की मसाज के लिए जैतून का तेल, नारियल तेल, तिल का तेल, बादाम तेल, भृंगराज तेल, नीम का तेल, जोजोबा, चमेली व पेपरमिंट तेल और मेहंदी का तेल आदि अच्छे विकल्प हैं. यदि आप नियिमित हेयरकलर कराती हैं तो जोजोबा का तेल आप के लिए बेहतरीन विकल्प है. इस से क्षतिग्रस्त रंगीन और रूखे बालों की रिपेयर होती है.

अपने बालों की जरूरत के अनुसार तेल का चुनाव ऐसे करें:

नौर्मल हेयर: इस तरह के बालों की कुदरती चमक बनाए रखने के लिए इन की आंवले या बादाम के तेल से मसाज करें.

ड्राई हेयर: रूखे बालों के लिए नारियल, तिल, सरसों और बादाम का तेल उपयुक्त है. सप्ताह में एक बार नारियल के दूध से बालों को धोना भी फायदेमंद है.

औयली हेयर: एक खास तरह का सीबम निकलने की वजह से बाल तैलीय दिखते हैं. ऐसे बालों में तिल या जैतून का तेल लगाने से फायदा मिलता है.

डैंड्रफ हेयर: स्कैल्प में रूसी हो जाने के कारण बालों की ग्रोथ भी रूक जाती है और वे कमजोर भी हो जाते हैं. इस समस्या से बचने के लिए टीट्री औयल और भृंगराज तेल का इस्तेमाल करें.

कैसे करें मसाज: जब सिर की त्वचा सेहतमंद रहेगी, तभी बाल मजबूत और घने होंगे. स्वस्थ बालों के लिए सब से जरूरी है कि मसाज सही तरीके से की जाए. बालों में तेल लगाने से पहले उसे हलका कुनकुना कर लें. इस के बाद पोरों से स्कैल्प की धीरेधीरे मसाज करें. इस से स्कैल्प में रक्तसंचार बढ़ता है और स्कैल्प के बंद छिद्र खुल जाते हैं. बालों में तेल लगाते वक्त उंगलियों का मूवमैंट महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता है. मसाज करते समय उंगलियों में प्रैशर दें और पूरे सिर की त्वचा में रोटेट करें. आप चाहें तो रात में तेल से अच्छी तरह मालिश कर के अगले दिन शैंपू कर सकती हैं. अगर आप रात भर तेल बालों में नहीं लगाए रखना चाहती हैं, तो सब से आसान तरीका यह है कि शैंपू करने से पहले अच्छी तरह मसाज करें और 1 घंटे के लिए छोड़ दें. इस के बाद शैंपू से बालों को धो लें.

COMMENT