ज्योति- सुमित और उसके दोस्तों ने कैसे निभाया प्यारा रिश्ता

न कोई रिश्ता, न खास जानपहचान. बस, नेकनीयत व अपनापन ज्योति को सुमित और उस के दोस्तों मनीष व रोहन के साथ धीरेधीरे ऐसे भावनात्मक एहसास से जोड़ते गए जो खून के रिश्ते से बढ़ कर था.

गृहशोभा डिजिटल सब्सक्राइब करें
मनोरंजक कहानियों और महिलाओं से जुड़ी हर नई खबर के लिए सब्सक्राइब करिए
अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें