संसद में 33 प्रतिशत महिला आरक्षण का मामला बेशक अब तक अधर में लटका हुआ हो, लेकिन महिलाओं की बढ़ती प्रतिभा के चलते अन्य क्षेत्रों में इस एकतिहाई आरक्षण की कवायद जारी है. खासकर कारपोरेट जगत, जहां महिलाओं ने अपनी काबिलीयत को बतौर एक शक्ति सिद्ध किया है और इस को पहचान कर ही कारपोरेट जगत महिलाओं के लिए बढ़त बनाने की कवायद में लगा हुआ है. यह राजनीति की तरह कथनी और करनी का अंतर नहीं बल्कि महिलाओं की प्रतिभाओं को भुनाने की कोशिश है.

Digital Plans
Print + Digital Plans

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT