राजू की फाइनल परीक्षा नजदीक आती जा रही थी. परीक्षा की तारीख भी बता दी गई थी. राजू अपनी तैयारी में लगा हुआ था. राजू तैयारी इस तरह कर रहा था, जैसे परीक्षा हौल में बैठ कर प्रश्न पत्र हल कर रहा हो. यदि उसे किसी प्रश्न को हल करने में कोई दिक्कत होती, तो वह किताब पलट कर देख लेता. लेकिन इस तरह की तैयारी में उसे एक दिक्कत आ रही थी.

वह एक बार किसी कागज पर लिख लेता, तो दोबारा उस कागज पर नहीं लिख सकता था. वह कागज बरबाद हो जाता था. राजू जानता था कि कागज बनाने के लिए कई पेड़ों को काटना पड़ता है. वह सोच रहा था कि कैसे वातावरण को भी अच्छा रखा जाए और परीक्षा की तैयारी भी अच्छी तरह की जा सके.

एक दिन राजू इन्हीं बातों में उलझा हुआ था, तभी पापा ने आ कर उसे एक उपहार दिया, जो पैक था. राजू के पापा ने कहा, ‘‘देखो, मैं औफिस से तुम्हारे लिए क्या ले कर आया हूं.’’ राजू ने बिना देरी किए उपहार को खोला.

hindi stories for kids pariksha ki taiyyari

एक बड़ा सा मोबाइल देख कर राजू चिल्लाया, ‘‘वाह, कितना बड़ा मोबाइल है.’’ राजू के पापा हंसते हुए बोले, ‘‘यह मोबाइल नहीं, टैबलैट है. यह मोबाइल की तरह दिखता है,

लेकिन इसे कंप्यूटर की तरह इस्तेमाल किया जा सकता है.’’ राजू गौर से पापा की बातें सुन रहा था.

‘‘यह कहीं भी, कभी भी उपयोग किया जा सकता है और यह लैपटौप से भी हलका और सस्ता है,’’ पापा ने कहा. तभी पापा ने टैबलैट के बगल से एक पेन जैसी कोई चीज निकाली और कहा, ‘‘यह इस के लिए बहुत महत्त्वपूर्ण चीज है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
COMMENT