सुबह शुरू होते ही फोन के साथ घर से निकलते हैं तो इयर फोन कान में लगा लेते हैं .ऑफिस पहुंचते ही कंप्यूटर स्क्रीन के सामने बैठ जाते हैंसुबह शुरू होते ही फोन के साथ घर से निकलते हैं तो इयर फोन कान में लगा लेते हैं .ऑफिस पहुंचते ही कंप्यूटर स्क्रीन के सामने बैठ जाते हैं .. ऑफिस से घर पहुंचने तक यही सब चलता रहता है .पहले जो सुविधाएं थी उसकी अब लत लग गई है. जरूरत ना भी हो फिर भी हम सोशल नेटवर्क पर लगातार बने रहते हैं .लोगों का कहना है कि इससे कभी अकेलेपन का एहसास नहीं होता. कभी बोर नहीं होते. लेकिन सोच कर देखें क्या यह एक लत नहीं बन गई है? आपको जिस लत ने अपनी गिरफ्त में लिया है वह एक बीमारी का रूप लेती जा रही है. शोध बताते हैं कि इस लत से आप डिजिटल डिटॉक्स के माध्यम से छुटकारा पा सकते हैं.

अपने फोन, स्मार्टफोन ,टेबलेट, लैपटॉप और कंप्यूटर से कुछ निश्चित समय के लिए दूर रहना डिजिटल डिटॉक्स कहलाता है. डिजिटल डिटॉक्स आपको स्क्रीन फ्री समय व्यतीत करने का मौका देता है. इससे ना केवल आप रिचार्ज महसूस करते हैं, बल्कि आप क्वालिटी समय  बिता पाते हैं. डिजिटल डिटॉक्स का समय आप अपने अनुसार बना सकते हैं .यह समय 12 घंटे से 24 घंटे तक का हो सकता है.

करें खुद को डिजिटल डिटॉक्स

1. अपना मोटिवेशन चुने

डिजिटल डिटॉक्स होने के लिए सबसे पहले अपना माइंड मेकअप करना चाहिए. आपको कुछ समय यह सोचना चाहिए कि आपका डिजिटल डिटॉक्स क्यों करना चाहते हैं ?आपको यह ना करने पर क्या नुकसान हो रहे हैं! जब आप इन सभी बातों में क्लियर हो जाएंगे तब आप खुद-ब-खुद डिजिटल डिटॉक्स की ओर प्रेरित हो जाएंगे.

ये भी पढ़ें- किचन के पौल्यूशन से भी बचना जरूरी

2. ऐप डाउनलोड करें

अगर आप सचमुच खुद को डिजिटल डिटॉक्स करना चाहते हैं तो सबसे पहले “क्वालिटी टाइम चेकि” जैसे ऐप डाउनलोड कर ले! यह आपको  बताते रहेंगे कि आपने कितना समय डिजिटल दुनिया में बिताया. यह  एक तरह से आपको अलर्ट करते रहेंगे .

3. इंजॉय करने कुछ प्लान

डिजिटल डिटॉक्स के लिए सबसे अधिक जरूरी है कि जो समय आपको मिलने वाला है उसका उपयोग आप किस तरह करेंगे. उसके लिए आप कहीं घूमने , कुकिंग,किसी के घर जाने का कार्यक्रम बना सकते हैं. इस तरह आप डिजिटल डिटॉक्स के समय बोर नहीं होंगे.

4. टाइम लिमिट सेट करें

फोन को 24 घंटे हाथ में लिए रहने की आदत से छुटकारा पाने के लिए जरूरी है कि इस साइलेंट मोड में रहना चाहिए .जिससे आपको बार-बार आने वाले मैसेज या मेल पर ना जाये.

5. नोटिफिकेशन ऑप्शन को बंद करें

अपने मेल, व्हाट्सएप मैसेज आदि के अलर्ट या फेसबुक नोटिफिकेशन को टर्न ऑफ कर दें .इससे भी आपका ध्यान मोबाइल फोन पर नहीं जाएगा. हर दो-चार मिनट पर आने वाले नोटिफिकेशन हमें फोन चेक करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं.

6. अपने फोन को दूसरे रूम में रखें

यह भी एक तरीका हो सकता है कि जब भी आप डिजिटल डिटॉक्स होना चाहते हैं तब तक आप अपना स्मार्टफोन दूसरे कमरे में रख दे .फोन सामने रखने से आदतन हमारा ध्यान चला जाता है.

डिजिटल डिटॉक्स से लाभ

7. मन मस्तिष्क में रहेगी शांति

डिजिटल डिटॉक्स करने से आप अपना कीमती समय व्यायाम योगा में दे सकते हैं. आपको बार-बार मेल या मैसेज चेक करने की कोई टेंशन नहीं रहेगी. इस सब का मिलाजुला असर होगा कि आपके मन को एक सुकून पहुंचेगा.

8. परिवार  के साथ  बॉन्डिंग

परिवार बच्चे और दोस्तों के साथ एक अच्छा समय बिता सकते हैं .आपको हमेशा लगता होगा कि इंटरनेट या व्हाट्सएप में उलझे रहने से आप अपने आसपास के लोगों को समय नहीं दे पाते हैं .जब आप डिजिटल डिटॉक्स करके दोस्तों और परिवार के साथ हंसी खुशी के पल बिताते हैं तो आप खुद ही अपने को ऊर्जावान समझेंगे.

ये भी पढ़ें- 20 गैजेट्स एंड टूल्स बनाएं आपकी लाइफ बैटर

9. आप की कार्य क्षमता में वृद्धि होगी

कुछ समय के लिए इंटरनेट की दुनिया से दूर होने के बाद जब आप दोबारा लॉग इन करते हैं तब आपके अंदर एक उत्साह होने के कारण आपके काम करने की शक्ति में इजाफा हो जाता है. इसे आप खुद महसूस करके देखिए.

10. हेल्थ अच्छी रहेगी

डिजिटल डिटॉक्स की दुनिया में बहुत समय तक रहने से ना केवल हमारे स्वास्थ्य खराब होता है बल्कि हमारा बॉडी पोस्टर भी बिगड़ जाता है. एक ही स्थिति में फोन या कंप्यूटर पर काम करने से बैक पेन,नेक पेन और रिस्ट पेन तक होने लग जाता है. डिजिटल डिटॉक्स के कारण आपको इन सब से अच्छा और आराम फील होगा.

Tags:
COMMENT