तारा गुप्ता , (लखनऊ)

गांव में अपने मम्मी-पापा और भाई-बहनों के साथ जो जीवन बीत रहा था उसमें कड़वी यादों के सिवा कुछ न था. हम सब आकाश में उड़ान भरना चाहते थे, जो संभव नहीं लग रहा था. पापा की बीमारी और मां की चिंता, दोनों ने ही हम सबके जीवन को कष्टमय बना दिया था. हम भाई-बहनों ने वहां से निकलने का निश्चय किया. अपने मामा से बात कर, हमने शहर जाने का निर्णय लिया.

शहर में भी हमारा जीवन पतंग के समान  डगमगाता रहा. लगता था अब गिरी तब गिरी. परंतु हम सब ने हिम्मत नहीं हारी. मां हमारी प्रेरणा बनी रही और घर संभालती रही. हम सब भाई-बहन छोटे-छोटे काम कर भविष्य की ओर बढ़ चले. धीरे-धीरे हमारी मेहनत रंग लाने लगी. छोटे भाई को बैंक में जौब मिल गई. बड़े भाई ने बिजनेस संभाला. हमने भी अपनी पढ़ाई पूरी कर जौब कर ली.

ये भी पढ़ें- Mother’s Day Special: बच्चों के नाम की जिंदगी

बड़े भाई ने पापा को संभाला, अच्छा सा मकान किराए पर लिया गया, तभी दीदी की शादी तय हो गई. हमारे घर भी शहनाई बज उठी. दीदी के बाद भैया की शादी और फिर छोटे भाई की शादी बाद में मेरी भी शादी बड़ी धूमधाम से हो गई.

आज हम सब अपने परिवार में बहुत खुश हैं. मां ने भाई के साथ मिलकर अपना खुद का मकान बनवा लिया, हालांकि, पापा जी बीमारी की वजह से नहीं रहे, लेकिन कष्टों ने सीख दी. हम सबने हिम्मत नहीं हारी और मां का सहारा बने.

ये भी पढ़ें- Mother’s Day 2019: मां मुझमें हर पल बसती है…

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT