सीमा शाही सिंह, लखनऊ

पहली बार मां बनने के बाद जब बेटे को लेकर मैके आयी तो माता पिता की ख़ुशी का ठिकाना न था. अब नाती घर आया तो नानी मालिश का अवसर क्यूं गंवाती. बैठ गयीं सुबह सुबह सरसों का उबटन और तेल लेके. मालिश के बाद दूध पीते ही बेटा तो सो गया पर मां उसका एक एक अंग ध्यान से देखने लगीं. जैसे जब नया नया खाना बनाना सीखा था और थाली मां के आगे परोसते ही वो सबसे पहले जांच करतीं कि टेबल पर धूल तो नहीं , फिर थाली में दाल की कटोरी और सब्जी बायीं तरफ है या नहीं वगैरह वगैरह सब ठीक है तो अब खाने की विवेचना की जाए.

ये भी पढ़ें- Mother’s Day 2019: मां मुझमें हर पल बसती है…

वैसी ही कुछ जांच-परख मां ने शुरू किया , पहले कान , फिर नाक को उंगलियों से उठा के आकार देने की कोशिश की , फिर भौंहें , ललाट पर से बालों को रगड़ के पीछे किया , बंद मुट्ठी खोल के उंगलियों को सीधा करके देखा , अब पैर ........ मुझसे रहा न गया पूछ ही लिया ,' मां क्या चेक कर रही हैं ?'

ये भी पढ़ें- Mother’s Day 2019: अनमोल है मां की ममता

मां ने गंभीर मुद्रा में मेरी तरफ देखा और बोली ,' देखो सीमा अब पहली बार मां बनी हो तो ध्यान रखना , एक सृजन भगवान करता है , तो दूसरा सृजन मां करती है. बच्चा जब गोद में सो जाए तो उसके शरीर को ठीक से देखो कि कहीं कोई विकृति तो नहीं है. कान, नाक, सर,गर्दन, उंगलियों को मालिश के समय सही आकार दो' कहकर मां बेटा गोद में देकर चली गयी. बड़े बुज़ुर्ग कई बार बातों बातों में कितनी बड़ी बात बोल जाते हैं. सच ही है 'एक सृजन भगवान करता है तो दूसरा मां'

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT