बंदिनी- भाग 2 : रेखा ने कौनसी चुकाई थी कीमत

लाखों में एक न होने पर भी रेखा के चेहरे का अपना आकर्षण था. लंबी, छरहरी देह, गेहुआं रंग, सुतवां नाक, और ऊंचे उठे कपोल. बड़ी आंखें जिन में चौबीसों घंटे एक उज्ज्वल हंसी चमकती रहती, काले रेशम जैसे बाल और दोनों गालों पर पड़ने वाले गड्ढे जिस में पलभर का पाहुना भी सदा के लिए गिरने स्वयं ही चला आए. अशोक तो पहली नजर में ही दिल हार बैठा था.

अशोक एक व्यापारी मोहनलाल के घर में काम करता था. मोहनलाल ग्वालियर का एक बहुत बड़ा व्यापारी था. गांव में उस की बहुत जमीनें थीं जिन की देखभाल के लिए उस ने अशोक और उस के बड़े भाई को लगा रखा था. वह साल में कई बार गांव आता था. मंडी में आई अकसर हर कुंआरी लड़की का खरीदार वही होता था. शादीशुदा, अधेड़ उम्र का आदमी और 4 बच्चों का पिता, परंतु पुरुष की उम्र और वैवाहिक स्थिति उस की इच्छाओं के आड़े नहीं आती.

समाज के नियम बनाने वालों के ऊपर कोई नियम लागू नहीं होता. जाति से ब्राह्मण और व्यवसाय से बनिया मोहनलाल बहुत ही कामी और धूर्त पुरुष था. वह अपना व्यवसाय तो बदल चुका था परंतु जातीय वर्चस्व का झूठा अहंकार आज भी कायम था. बहुत जल्द ही वह राजनीतिक मंच पर पदार्पण करने वाला था. इसी व्यस्तता के कारण पिछले कुछ वर्षों में उस का गांव आना थोड़ा कम हो गया था.

अशोक इसी बात से निश्ंिचत था. उस ने रेखा को खरीद कर कहीं दूर भाग जाने की साहसी योजना भी बना रखी थी. शुरू में रेखा केवल अशोक के प्रेम से अवगत थी, वह न तो उस के अस्तित्व के बारे में जानती थी और न ही उस की योजना के बारे में. परंतु कल्पना की  विदाई ने उसे वास्तविकता से अवगत करा दिया था. रेखा को यह भी मालूम हो गया था कि उस के धनलोलुप परिवार के मुंह में खून लग चुका है.

शीघ्र ही रेखा को अपने परिवार की नई योजना की भनक भी लग गई थी. अशोक सदा रेखा से किसी बड़े काम के लिए पैसे बचाने की बात करता था. उस समय रेखा को लगा करता था, वह शायद किसी व्यवसाय हेतु बचत कर रहा है. परंतु अब वह इस बचत के पीछे का मतलब समझ गई थी. किंतु अब रेखा के परिवार वालों के पास एक नया और प्रभावशाली ग्राहक आ गया था. इस में कोई शक नहीं था कि वे रेखा का सौदा उस के साथ तय करने वाले थे.

इस प्रथा की बात छिपाने की वजह से रेखा अशोक से नाराज थी, परंतु अशोक ने उसे समझाबुझा कर शांत कर दिया था. रेखा इस गांव से पहले ही भाग जाना चाहती थी, अशोक के तर्कों से हार गई थी. बदली हुई परिस्थितियों ने उसे भयभीत कर दिया था और उस ने अपना गुस्सा अशोक पर जाहिर किया था कि, ‘‘जिस बहुमूल्य को खरीदने के लिए तू इतने महीनों से धन जोड़ रहा था, उस के कई और खरीदार आ गए हैं.’’

एकाएक हुए इस आघात के लिए अशोक तैयार नहीं था, वह लड़खड़ा गया. न जाने कितने महीनों से पाईपाई जोड़ कर उस ने 2 लाख रुपए जमा किए थे. रेखा की यही बोली उस के भाई ने लगाई थी. अशोक जानता था कि रेखा को अपना बनाने के लिए उस का प्रेम थोड़ा कम पड़ेगा, इसलिए वह धन जोड़ रहा था. परंतु आज रेखा के इस खुलासे ने जाहिर कर दिया था कि विक्रेता अपनी वस्तु के दाम में परिस्थिति के अनुसार बदलाव कर सकता है.

थोड़ी देर पहले रेखा को उस पर गुस्सा आ रहा था, परंतु अब अशोक की दशा देख कर उसे दुख हो रहा था. उस ने करीब जा कर अशोक को अपनी बांहों में भर लिया, ‘‘तूने कैसे भरोसा कर लिया उस भेडि़ए पर. अरे पगले, जो अपनी बहन का व्यापार कर सकता है, वह क्या कभी सौदे में लाभ से परे कुछ सोच सकता है?’’

‘‘जान से मार दूंगा मैं, उन सब को भी और तेरे भाई को भी,’’ रेखा के बाजुओं को जोर से पकड़ कर उसे अपनी ओर खींचते हुए चिल्ला पड़ा था अशोक.

‘‘अच्छा, मोहनलाल को भी?’’ रेखा ने उस की आंखों में झांकते हुए पूछा था.

वह एक ही पल में छिटक कर दूर हो गया,

‘‘क्य्याआआ?’’

एक दर्दभरी मुसकान खिल गई थी रेखा के चेहरे पर, ‘‘बस, प्यार का ज्वार उतर गया लगता है.’’

काफी समय तक दोनों निशब्द बैठे रहे थे. फिर अशोक ने चुप्पी तोड़ी, ‘‘रेखा, तू अपने भाई की बात मान ले. हां, परंतु मोहनलाल से पहले तू मेरी बन जा.’’

‘‘पागल हो गया है क्या? मैं…’’ रेखा को अपनी बात पूरी भी नहीं करने दी उस ने और दोबारा बोल पड़ा था, ‘‘रेखा, सारा चक्कर तेरे कौमार्य का है. एक बार तेरा कौमार्य भंग हो गया तो तेरा दाम भी कम हो जाएगा. मोहनलाल ज्यादा से ज्यादा तुझे एक साल रखेगा. चल, हो सकता है तेरी सुंदरता के कारण अवधि को एकदो साल के लिए बढ़ा दे परंतु उस के बाद तो तुझे छोड़ ही देगा. फिर तुझे मैं खरीद लूंगा. लेकिन…’’

‘‘लेकिन?’’

‘‘मैं मोहनलाल को जीतने नहीं दूंगा. कुंआरी लड़कियों का कौमार्य उसे आकर्षित करता है न, तू उसे मिलेगी तो जरूर, पर मैली…’’

रेखा अशोक के ऐसे आचरण के लिए तैयार नहीं थी. पुरुष चाहे कितनी ही लड़कियों के साथ संबंध रखे, वह हमेशा पाक, परंतु स्त्री मैली. वह यह भूल जाता है मैला करने वाला स्वयं पाक कैसे हो सकता है. परंतु कोई भी निर्णय लेने से पहले वह कुछ और प्रश्नों का उत्तर चाहती थी, ‘‘यदि मेरा कोई बच्चा हो गया तो?’’

ये भी पढ़ें- Serial Story: कीर्तन, किट्टी पार्टी और बारिश

‘‘न, न. तुझे गर्भवती नहीं होना है. किसी और का पाप मैं नहीं पालूंगा.’’

एक आह निकल गई थी रेखा के मुख से. इस पुरुष की कायरता से ज्यादा उसे स्वयं की मूर्खता पर क्रोध आ रहा था. उस की वासना को प्रेम समझने की भूल उस ने स्वयं की थी. रेखा ने एक थप्पड़ के साथ अशोक के साथ अपने संबंधों पर विराम लगा दिया था. परंतु अब अपने परिवार द्वारा रचित व्यूह में वह अकेली रह गई थी.

चक्रव्यूह की रचना तो हो गई थी, उसे भेदने के लिए महाभारत काल में अभिमन्यु भी अकेला था और आज रेखा भी अकेली ही थी. तब भी केशव नहीं आए थे और आज भी कोई दैवी चमत्कार नहीं हुआ था. पराजित दोनों ही हुए थे.

पराजित रेखा मोहनलाल की रक्षिता बन ग्वालियर चली गई थी. दूर से ही जिस के जिस्म की सुगंध राह चलते को भी मोह कर पलभर को ठिठका देती थी, वही रेखा अब सूखी झाडि़यों के झंकार के समान मोहनलाल के घर में धूल खा रही थी.

केवल शरीर ही नहीं, वजूद भी छलनी हो गया था उस का. मोहनलाल के घर में बीते वो 10 साल अमानुषिक यातनाओं से भरे हुए थे. उस का शरीर जैसे एक लीज पर ली हुई जमीन थी, जिसे लौटाने से पहले मालिक उस का पूरी तरह से दोहन कर लेना चाहता था. कभी मालिक खुद रौंदता था, कभी उस के रिश्तेदार, तो कभी उस के मेहमान. घर की स्त्रियों से भी सहानुभूति की उम्मीद बेकार थी.

आगे पढें- रेखा का शारीरिक शोषण घर के पुरुष करते थे

ये भी पढ़ें- हैलोवीन: गौरव ने कद्दू का कौन सा राज बताया

सोने का घाव : मलीहा और अलीना बाजी के बीच क्या थी गलतफहमी

लेखिका- शकीला एस हुसैन

जैसे ही मैं अपने कमरे से बाहर निकली, अन्नामां, जो मम्मी के कमरे में उन्हें नाश्ता करा रही थी, कहने लगी, ‘‘मलीहा बेटी, बीबी की तबीयत ठीक नहीं है. उन्होंने नाश्ता नहीं किया. बस, चाय पी है.’’

मैं जल्दी से मम्मी के कमरे में गई. कल से कमजोर लग रही थीं, पेट में दर्द बता रही थीं, आज तो ज्यादा ही निढाल लग रही थीं. मैं ने अन्नामां से कहा, ‘‘अम्मी के बाल संवारो, उन्हें जल्द तैयार करो. मैं गाड़ी गेट पर लगाती हूं.’’

मम्मी को ले कर हम दोनों अस्पताल पहुंचे. जांच होने पर पता लगा कि हार्ट अटैक है. उन का इलाज शुरू हो गया. इस खबर ने जैसे मेरी जान ही निकाल दी पर अगर मैं हिम्मत हार जाती तो यह सब कौन संभालता. मैं ने खुद को कंट्रोल किया, अपने आंसू पी लिए. इस वक्त पापा बेहद याद आए.

मेरे पापा बहुत मोहब्बत करने वाले, केयरिंग व्यक्ति थे. उन की मृत्यु एक ऐक्सिडैंट में हो गई थी. मुझ से बड़ी बहन अलीना बाजी, जिन की शादी हैदराबाद में हुई थी, का 3 साल का एक बेटा है. मैं ने उन्हें फोन कर के खबर देना जरूरी समझा.

मैं आईसीयू में गई. डाक्टर ने काफी तसल्ली दी, ‘‘इंजैक्शन लग चुके हैं, इलाज शुरू है, खतरे की कोई बात नहीं है. अभी दवाओं के असर में सो रही हैं, आराम उन के लिए जरूरी है, उन्हें डिस्टर्ब न करें.’’

मैं ने बाहर आ कर अन्नामां को घर भेज दिया और खुद वेटिंगरूम में जा कर एक कोने में बैठ गई. अच्छा था वेटिंगरूम, काफी खाली था. सोफे पर आराम से बैठ कर मैं ने अलीना बाजी को फोन लगाया. मेरी आवाज सुन कर बड़े ही रूखे अंदाज में सलाम का जवाब दिया. मैं ने अपने गम समेटते हुए आंसू पी कर उन्हें मम्मी के बारे में बताया. वे परेशान हो गईं, कहां, ‘‘मैं जल्द पहुंचने की कोशिश करती हूं.’’

बिना मुझे तसल्ली का एक शब्द कहे उन्होंने फोन बंद कर दिया. मेरे दिल को बड़ा सदमा लगा. मेरी यह वही बहन थी जो मुझे बेइंतहा प्यार करती थी. मेरी जरा सी उदासी पर दुनिया के जतन कर डालती थी. इतनी चाहत, इतनी मोहब्बत के बाद यह बेरुखी. मेरी आंखें आंसुओं से भर गईं. मैं अतीत में खो गई.

ये भी पढ़ें- अब आओ न मीता: क्या सागर का प्यार अपना पाई मीता

पापा की मौत को थोड़ा समय ही गुजरा था कि मुझ पर एक कयामत टूट पड़ी. पापा ने बहुत देखभाल कर एक अच्छे खानदान में मेरी शादी करवाई थी. शादी काफी शानदार हुई थी. मैं बड़े अरमान ले कर ससुराल गई. मैं ने एमबीए किया था और एक अच्छी कंपनी में जौब कर रही थी. शादी के पहले ही जौब करने के बारे में बात हो गईर् थी. उन लोगों को मेरे जौब करने पर एतराज न था. वे लोग भी मिडिल क्लास के थे. उन की 2 बेटियां थीं, जिन की शादी होनी थी. मुझ नौकरी करने वाली बहू का अच्छा स्वागत हुआ.

मेरी सास अच्छे मिजाज की थीं. मुझ से काफी अच्छा व्यवहार करती थीं. ससुर भी स्नेह रखते थे. मेरे पति देखने में सामान्य थे जबकि मैं खूबसूरत थी. कभीकभी उन की बातों में खुद को ले कर हीनभावना झलकती थी.

शादी के 2-3 महीने के बाद पति का असली रंग खुल कर सामने आ गया. मुझे ले कर नएनए शक उन के दिल में पनपने लगे. पूरे वक्त उन्हें लगता कि मैं उन से बेवफाई कर रही हूं. जराजरा सी बात पर नाराज हो जाते, झगड़ना शुरू कर देते. पर इसे मैं उन का कौंपलैक्स समझ कर टालती रही, निबाह करती रही.

मगर एक दिन तो हद कर दी उन्होंने. मुझे मेरे बौस के साथ एक मीटिंग में जाते देख लिया था. शाम को घर आने पर जबरदस्त हंगामा खड़ा कर दिया. मुझ पर बेवफाई व बदकिरदारी का इलजाम लगाया. कई लोगों के साथ मेरे ताल्लुक जोड़ दिए.

ऐसे वाहियात इलजाम सुन कर मैं गुस्से से पागल हो उठी और फैसला कर लिया कि यहां जिऊंगी तो इज्जत के साथ, वरना जुदाई बेहतर है. मैं ने सख्त लहजे में कहा, ‘नादिर, अगर आप का रवैया ऐसा ही रहा तो मेरा आप के साथ रहना मुश्किल होगा. आप को अपने लगाए इलजामों के सुबूत देने पड़ेंगे. मुझ पर आप ऐसे फालतू इलजाम नहीं लगा सकते.’

सासससुर ने अपने बेटे को समझाने की कोशिश की. लेकिन वे गुस्से से उफनते हुए बोले, ‘मुझे कुछ साबित करने की जरूरत नहीं. मुझे सब पता है. तुम जैसी आवारा औरतों को घर में नहीं रखा जा सकता. मुझे बदलचन औरतों से नफरत है. मैं ऐसी औरत के साथ नहीं रह सकता. मैं तुम्हें तलाक देता हूं, तलाक देता हूं, तलाक देता हूं.’

और सबकुछ पलभर में खत्म हो गया. मैं मम्मी के पास आ गई. उन पर तो जैसे आसमान टूट पड़ा. मेरे अहं, मेरे चरित्र पर चोट पड़ी थी. मेरे चरित्र पर लांछन लगाए गए थे. मैं ने धीरेधीरे खुद को संभाल लिया क्योंकि मैं कुसूरवार न थी. यह मेरी इज्जत और अस्मिता की लड़ाई थी. 20-25 दिनों की छुट्टी करने के बाद मैं ने जौब पर जाना शुरू कर दिया.

संभल तो गई मैं, पर खामोशी व उदासी मेरे साथी बन गए. मम्मी मेरा बेहद खयाल रखती थीं. बड़ी बहन अलीना भी आ गईं. वे हर तरह से मुझे ढाढ़स बंधातीं. काफी दिन रुकीं. जिंदगी अपने रूटीन पर आ गई. अलीना बाजी ने इस संकट से निकलने में बड़ी मदद दी. मैं काफी हद तक सामान्य हो गई थी.

उस दिन छुट्टी थी. अम्मी ने 2 पुराने गावतकिए (दीवान के गोल तकिए) निकाले और कहा, ‘ये तकिए काफी सख्त हो गए हैं, इन में नई रुई भर देते हैं.’

मैं ने पुरानी रुई निकाल कर नीचे डाल दी. मैं और अलीना बाजी तख्त पर रखी नई रुई साफ कर रहे थे. मम्मी उसी वक्त कमरे से आ कर हमारे पास ही बैठ गईं. उन के हाथ में एक प्यारी सी चांदी की डब्बी थी. मम्मी ने खोल कर दिखाई. उस में बेपनाह खूबसूरत एक जोड़ी जड़ाऊ कर्णफूल थे. जिस पर पन्ना और रूबी की बड़ी खूबसूरत जड़न थी. इतनी चमक और महीन कारीगरी थी कि हम देखते ही रह गए.

अलीना बाजी की आंखें कर्णफूलों की तरह जगमगाने लगीं. उन्होंने बेचैनी से पूछा, ‘मम्मी ये किस के हैं?’ मम्मी बोलीं, बेटा, ये तुम्हारी दादी के हैं. उन्होंने ये कर्णफूल और माथे का जड़ाऊ झूमर मुझे दिया था. माथे का झूमर मैं ने शादी में तुम्हें दे दिया. अब ये कर्णफूल हैं, इन्हें मैं मलीहा को देना चाहती हूं. दादी की यादगार निशानियां तुम दोनों बहनों के पास रहेगीं, ठीक है न.’

अलीना बाजी के चेहरे का रंग फीका पड़ गया. उन्हें जेवरों का जनून की हद तक शौक था, खासकर एंटीक ज्वैलरी की तो जैसे वे दीवानी थीं. जरा सा गुस्से से वे बोलीं, ‘मम्मी, आप ने ज्यादती की, खूबसूरत और बेमिसाल चीज आप ने मलीहा के लिए रख दी. मैं बड़ी हूं, आप को कर्णफूल मुझे देने चाहिए थे.’

मम्मी ने समझाया, ‘बेटी, तुम बड़ी हो, इसलिए कुंदन का सैट तुम्हें अलग से दिया था, साथ में, दादी का झूमर और एक सोने का सैट दिया था. मलीहा को एक सोने का ही सैट दिया था, उसे मैं ने कर्णफूल (टौप्स) भी उस वक्त नहीं दिए थे. अब दे रही हूं. तुम खुद सोच कर बताओ, क्या गलत किया मैं ने.’

अलीना बाजी अपनी ही बात कहती रहीं. मम्मी के बहुत समझाने पर कहने लगीं, ‘अच्छा, मैं दादी वाला झूमर मलीहा को दे दूंगी, तब आप ये कर्णफूल मुझे दे दीजिएगा. अगली बार मैं आऊंगी, तो झूमर ले कर आऊंगी और कर्णफूल ले जाऊंगी.’

मम्मी ने बेबसी से मेरी तरफ देखा. मेरे सामने अजीब दोराहा था. बहन की मोहब्ब्त या कर्णफूल, मैं ने दिल की बात मानी और कहा, ‘ठीक है बाजी, अगली बार झूमर मुझे दे देना और आप ये कर्णफूल ले कर जाना.’

ये भी पढ़ें- Short Story: पांव पड़ी जंजीर

मम्मी को यह बात पसंद नहीं आई. पर क्या करतीं, चुप रहीं. अभी ये सब बातें चल ही रही थीं कि घंटी बजी. मम्मी ने जल्दी से कर्णफूल और डब्बी तकिए के नीचे रख दी. पड़ोस की आंटी कश्मीरी सूट वाले को ले कर आईर् थीं. हम सब सूट व शौल वगैरह देखने लगे. काफी अच्छे थे, कीमतें भी सही थीं. हम ने 2-3 सूट लिए. उन के जाने के बाद मम्मी ने वह चांदी की डब्बी निकाल कर दी और कहा, ‘मलीहा, इसे संभाल कर अलमारी में रखे दो.’ मैं डब्बी रख कर आई. फिर हम ने जल्दीजल्दी तकिए के खोलों में रुई भर दी. उन्हें सी कर तैयार कर कवर चढ़ा दिए और दीवान पर रख दिए. 3-4 दिनों बाद अलीना बाजी चली गईं. जातेजाते मुझे याद करा गईं, ‘मलीहा, अगली बार मैं कर्णफूल ले कर जाऊंगी, भूलना मत.’

दिन अपने अंदाज में गुजर रहे थे. एक शादी में शामिल होने चाचाचाची, उन के बच्चे आए. 5-6 दिन रहे. घर में खूब रौनक रही. खूब घूमेफिरे. चाची मेरी मम्मी को कम ही पसंद करती थीं क्योंकि मेरी मम्मी दादी की चहेती बहू थीं. दादी ने अपनी खास चीजें भी मम्मी को दी थीं. चाची की दोनों बेटियों से मेरी खूब बनती थी, हम ने खूब एंजौय किया.

नादिर की मम्मी 2-3 बार आईं. बहुत माफी मांगी, बहुत कोशिश की कि इस मसले का कोई हल निकल जाए, पर जब अहं और चरित्र पर चोट पड़ती है तो औरत बरदाश्त नहीं कर पाती. मैं ने किसी भी तरह के समझौते से साफ इनकार कर दिया.

अलीना बाजी के बेटे की सालगिरह फरवरी में थी. उन्होंने फोन कर के कहा कि वे अपने बेटे अशर की सालगिरह नानी के घर में मनाएंगी. मैं और मम्मी बहुत खुश हुए. बड़े उत्साह से पूरे घर को ब्राइट कलर से पेंट करवाया. कुछ नया फर्नीचर भी लिया. एक हफ्ते बाद अलीना बाजी अपने शौहर समर के साथ आ गईं. घर की डैकोरेशन देख कर बहुत खुश हुईं.

सालगिरह के दिन सुबह से ही सारे काम शुरू हो गए. दोस्तोंरिश्तेदारों सब को बुलाया था. मैं और मम्मी नाश्ते के बाद अरेंजमैंट के बारे में बातें करने लगे. खाना और केक बाहर से और्डर पर बनवाया था. उसी वक्त अलीना बाजी आईं, मम्मी से कहने लगीं, ‘मम्मी, लीजिए, आप यह झूमर संभाल कर रख लीजिए और मुझे कर्णफूल दे दीजिए. आज मैं अशर की सालगिरह में पहनूंगी.’ अम्मी ने मुझ से कहा, ‘जाओ मलीहा, वह डब्बी निकाल कर ले आओ.’ मैं ने डब्बी ला कर मम्मी के हाथ पर रख दी. बाजी ने बेसब्री से डब्बी उठा कर खोली. डब्बी खोलते ही वे चीख पड़ीं, ‘मम्मी, कर्णफूल तो इस में नहीं हैं.’

मम्मी ने झपट कर डब्बी उन के हाथ से ली. सच ही, डब्बी खाली पड़ी थी. मम्मी एकदम सन्न रह गईं. मेरे तो जैसे हाथपैरों की जान निकल गई. अलीना बाजी की आंखों में आंसू थे. उन्होंने ऐसी शकभरी नजरों से मुझे देखा कि मुझे लगा, काश, जमीन फट जाए और मैं उस में समा जाऊं. बाजी गुस्से में जा कर अपने कमरे में लेट गईं.

मैं ने और मम्मी ने अलमारी का कोनाकोना छान मारा, पर कहीं कर्णफूल न मिलें. अजब पहेली थी. मैं ने अपने हाथ से डब्बी अलमारी में रखी थी. उस के बाद कभी निकाली ही नहीं. फिर कर्णफूल गए कहां?

एक बार खयाल आया, ‘अभी चाचाचाची आए थे. और चाची दादी के जेवर की वजह से मम्मी से बहुत जलती थीं कि सब कीमती चीजें उन्होंने मम्मी को दी थीं. कहीं उन्होंने तो मौका देख कर, हक समझ कर निकाल लिए.’ मैं ने मम्मी से अपने मन की बात कही तो वे कहने लगीं, ‘मैं ऐसा नहीं सोचती कि वे ऐसा कर सकती हैं.’

फिर मेरा ध्यान घर पेंट करने वालों की तरफ गया. उन लोगों ने 3-4 दिनों काम किया था. भूल से कभी अलमारी खुली रह गई हो और उन्हें हाथ साफ करने का मौका मिल गया हो. मम्मी कहने लगीं, ‘नहीं बेटा, बिना देखे, बिना सुबूत के किसी पर इलजाम लगाना गलत है. जो चीज जानी थी वह चली गई. बेवजह किसी पर इलजाम क्यों लगाएं.’

सालगिरह का दिन बेरंग हो गया. किसी का दिलदिमाग ठिकाने न था. अलीना बाजी के हस्बैंड समर भाई ने परिस्थिति संभाली. सब काम ठीकठाक हो गए. दूसरे दिन अलीना बाजी ने जाने की तैयारी शुरू कर दी. मम्मी ने हर तरह से समझाया, कई तरह की दलीलें दीं. समरभाई ने भी समझाया, पर वे रुकने को तैयार न हुईं. मैं ने उन्हें कसम खा कर यकीन दिलाना चाहा, ‘मैं बेकुसूर हूं. कर्णफूल गायब होने में मेरा कोई हाथ नहीं है.’

उन्हें किसी बात पर यकीन न आया. उन के चेहरे पर छले जाने के भाव देखे जा सकते थे. शाम को वे चली गईं. पूरे घर में एक बेबस सी उदासी पसर गई. मेरे दिल पर अजब सा बोझ था. मैं अलीना बाजी से शर्मिंदा थी कि अपना वादा निभा न सकी.

पिछले 2 सालों में अलीना बाजी सिर्फ 2 बार मम्मी से मिलने आईं वह भी 2-3 दिनों के लिए. आने पर मुझ से तो बात ही न करतीं. मैं ने बहन के साथसाथ एक अच्छी दोस्त भी खो दी. बारबार सफाई देना फुजूल था. मैं ने चुप्पी साध ली. मेरी खामोशी ही शायद मेरी बेगुनाही की जबां बन जाए. वक्त बड़े से बड़ा जख्म भर देता है. शायद यह गम भी मंद पड़ जाए. हलकी सी आहट हुई और मैं अतीत से वर्तमान में आ गई. सिर उठा कर देखा, नर्स खड़ी थी, कहने लगी, ‘‘पेशेंट आप से मिलना चाहती हैं.’’

ये भी पढ़ें- भयंकर भूल: मोबाइल लेने की सनक का क्या हुआ अंजाम

मुंह धो कर मैं मम्मी के पास आईसीयू में गई. मम्मी काफी बेहतर थीं. मुझे देख कर उन के चेहरे पर हलकी सी मुसकराहट आ गई. वे मुझे समझाने लगीं, ‘‘बेटी, तुम परेशान न हो. उतारचढ़ाव तो जिंदगी में आते रहते हैं. उन का हिम्मत से मुकाबला कर के ही हराया जा सकता है.’’

मैं ने उन्हें हलका सा नाश्ता कराया. डाक्टर ने कहा, ‘‘उन की हालत काफी ठीक है. आज रूम में शिफ्ट कर देंगे.

2-4 दिनों में छुट्टी कर देगें. पर दवा और परहेज का बहुत खयाल रखना पड़ेगा. ऐसी कोई बात न हो जिस से उन्हें स्ट्रैस पहुंचे.’’

शाम तक अलीना बाजी आ गईं. मुझ से सिर्फ सलामदुआ हुई. वे मम्मी के पास रुकीं, मैं घर आ गई. 3 दिनों बाद मम्मी भी घर आ गईं. अब उन की तबीयत अच्छी थी. हम उन्हें खुश रखने की ही कोशिश करते. एक हफ्ता तो मम्मी को देखने आने वालों में गुजर गया. मैं ने भी औफिस जौइन कर लिया. मम्मी के बहुत कहने पर बाजी ज्यादा रुकने को राजी हो गईं. जिंदगी सुकून से गुजरने लगी. अब मम्मी भी हलकेफुलके काम कर लेती थीं.

अलीना बाजी और उन के बेटे की वजह से घर में अच्छी रौनक रहती. उस दिन छुट्टी थी, मैं घर की सफाई में जुट गई. मम्मी कहने लगीं, ‘‘बेटा, गावतकिए फिर बहुत सख्त हो गए हैं, एक बार खोल कर रुई तोड़ कर भर दो.’’ अन्नामां तकिए उठा लाईं. उन्हें खोलने लगी. फिर मैं और अन्नामां रुई तोड़ने लगीं. कुछ सख्त सी चीज हाथ को लगी, मैं ने झुक कर नीचे देखा. मेरी सांस जैसे थम गई. दोनों कर्णफूल रुई के ढेर में पड़े थे. होश जरा ठिकाने आए तो मैं ने कहा, ‘देखिए मम्मी, ये रहे कर्णफूल.’’

बाजी ने कर्णफूल उठा लिए और मम्मी के हाथ पर रख दिए. मम्मी का चेहरा खुशी से चमक उठा. जब दिल को यकीन आ गया कि कर्णफूल मिल गए और खुशी थोड़ी कंट्रोल में आई तो बाजी बोलीं, ‘‘ये कर्णफूल यहां कैसे?’’

मम्मी सोच में पड़ गईं, फिर रुक कर कहने लगीं, ‘‘मुझे याद आता है अलीना, उस दिन भी तुम लोग तकिए की रुई तोड़ रही थीं. तभी मैं कर्णफूल निकाल कर लाई थी. हम उन्हें देख रहे थे जब ही घंटी बजी थी. मैं जल्दी से कर्णफूल डब्बी में रखने गई, पर हड़बड़ी में घबरा कर डब्बी के बजाय रुई में रख दिए और डब्बी तकिए के पीछे रख दी थी. कर्णफूल रुई में दब कर छिप गए. कश्मीरी शौल वाले के जाने के बाद डब्बी मैं ने अलमारी में रखवा दी, लेकिन कर्णफूल रुई में दब कर रुई के साथ तकिए के अंदर चले गए और मलीहा ने तकिए सिल कर कवर चढ़ा कर रख दिए. हम समझते रहे, कर्णफूल डब्बी में अलमारी में सेफ रखे हैं.

‘‘जब अशर की सालगिरह के दिन अलीना ने तुम से कर्णफूल मांगे तो पता चला कि उस में कर्णफूल नहीं हैं और अलीना तुम ने सारा इलजाम मलीहा पर लगा दिया.’’ मम्मी ने अपनी बात खत्म कर के एक दुखभरी सांस छोड़ी.

अलीना के चेहरे पर पछतावा था. दुख और शर्मिंदगी से उस की आंखें भर आईं. वे दोनों हाथ जोड़ कर मेरे सामने खड़ी हो गईं. रूंधे गले से कहने लगीं, ‘‘मेरी बहन, मुझे माफ कर दो. बिना सोचेसमझे तुम पर दोष लगा दिया. पूरे 2 साल तुम से नाराजगी में बिता दिए. मेरी गुडि़या मेरी गलती माफ कर दो.’’

मैं तो वैसे भी प्यारमोहब्बत को तरसी हुई थी. जिंदगी के मरूस्थल में खड़ी हुई थी. मेरे लिए चाहत की एक बूंद अमृत के समान थी. मैं बाजी से लिपट कर रो पड़ी. आंसुओं में दिल में फैली नफरत व जलन की गर्द धुल गई. अम्मी कहने लगीं, ‘‘अलीना, मैं ने तुम्हें पहले भी समझाया था कि मलीहा पर शक न करो. वह कभी भी तुम से छीन कर कर्णफूल नहीं लेगी. उस का दिल तुम्हारी चाहत से भरा है. वह कभी तुम से छल नहीं करेगी.’’

ये भी पढ़ें- विश्वास के घातक टुकड़े: इंद्र को जब आई पहली पत्नी पूर्णिमा की याद

बाजी शर्मिंदगी से बोलीं, ‘‘मम्मी, आप की बात सही है, पर एक मिनट मेरी जगह खुद को रख कर सोचिए, मुझे एंटीक ज्वैलरी का दीवानगी की हद तक शौक है. ये कर्णफूल बेशकीमत एंटीक पीस हैं. मुझे मिलना चाहिए थे पर आप ने मलीहा को दे दिया. मुझे लगा, मेरी इल्तजा सुन कर वह मान गई, फिर उस की नीयत बदल गई. उस की चीज थी, उस ने गायब कर दी. यह माना कि  ऐसा सोचना मेरी खुदगर्जी थी, गलती थी. इस की सजा के तौर पर मैं इन कर्णफूल को मलीहा को ही देती हूं. इन पर मलीहा का ही हक है.’’

मैं जल्दी से बाजी से लिपट गईर् और बोली, ‘‘ये कर्णफूल आप के पहनने से जो खुशी मुझे होगी वह खुद के पहनने से नहीं होगी. ये आप के हैं, आप ही लेंगी.’’

मम्मी ने भी समझाया, ‘‘बेटा, जब मलीहा इतनी मिन्नत कर रही है तो मान जाओ. मोहब्बत के रिश्तों के बीच दीवार नहीं आनी चाहिए.’’

‘‘रिश्ते फूलों की तरह नाजुक होते हैं, नफरत व शक की धूप उन्हें झुलसा देती है. फिर ये टूट कर बिखर जाते हैं,’’ यह कहते हुए मैं ने बाजी के कानों में कर्णफूल पहना दिए.

जीवनज्योति

लड़की- भाग 3 : क्या परिवार की मर्जी ने बर्बाद कर दी बेटी वीणा की जिंदगी

लेखक- रमणी मोटाना

आज उसे लग रहा था कि उस ने व उस के पति ने बेटी के प्रति न्याय नहीं किया. क्या हमारी सोच गलत थी? उस ने अपनेआप से सवाल किया. शायद हां, उस के मन ने कहा. हम जमाने के साथ नहीं चले. हम अपनी परिपाटी से चिपके रहे.

पहली गलती हम से यह हुई कि बेटी के परिपक्व होने के पहले ही उस की शादी कर देनी चाही. अल्हड़ अवस्था में उस के कंधों पर गृहस्थी का बोझ डालना चाहा. हम जल्द से जल्द अपनी जिम्मेदारी से मुक्त होना चाहते थे. और दूसरी भूल हम से तब हुई जब वीणा ने अपनी पसंद का लड़का चुना और हम ने उस की मरजी को नकार कर उस की शादी में हजार रोडे़ अटकाए. अब जब वह अपनी शादी से खुश नहीं थी और पति से तलाक लेना चाह रही थी तो हम दोनों पतिपत्नी ने इस बात का जम कर विरोध किया.

बेटी की खुशी से ज्यादा उन्हें समाज की चिंता थी. लोग क्या कहेंगे, यही बात उन्हें दिनरात खाए जाती थी. उन्हें अपनी मानमर्यादा का खयाल ज्यादा था. वे समाज में अपनी साख बनाए रखना चाहते थे, पर बेटी पर क्या बीत रही है, इस बात की उन्हें फिक्र नहीं थी. बेटी के प्रति वे तनिक भी संवेदनशील न थे. उस के दर्द का उन्हें जरा भी एहसास न था. उन्होंने कभी अपनी बेटी के मन में पैठने की कोशिश नहीं की. कभी उस की अंतरंग भावनाओें को नहीं जानना चाहा. उस के जन्मदाता हो कर भी वे उस के प्रति निष्ठुर रहे, उदासीन रहे.

अहल्या को पिछली बीसियों घटनाएं याद आ गईं जब उस ने वीणा को परे कर बेटों को कलेजे से लगाया था. उस ने हमेशा बेटों को अहमियत दी जबकि बेटी की अवहेलना की. बेटों को परवान चढ़ाया पर बेटी जैसेतैसे पल गई. बेटों को अपनी मनमानी करने की छूट दी पर बेटी पर हजार अंकुश लगाए. बेटों की उपलब्धियों पर हर्षित हुई पर बेटी की खूबियों को नजरअंदाज किया. बेटों की हर इच्छा पूरी की पर बेटी की हर अभिलाषा पर तुषारापात किया. बेटे उस की गोद में चढ़े रहते या उस की बांहों में झूलते पर वीणा के लिए न उस की गोद में जगह थी न उस के हृदय में. बेटे और बेटी में उस ने पक्षपात क्यों किया था? एक औरत हो कर उस ने औरत का मर्म क्यों नहीं जाना? वह क्यों इतनी हृदयहीन हो गई थी?

ये भी पढ़ें- Father’s day Special: चेहरे की चमक- माता-पिता के लिए क्या करना चाहते थे गुंजन व रवि?

बेटी के विवर्ण मुख को याद कर उस के आंसू बह चले. वह मन ही मन रो कर बोली, ‘बेटी, तू जल्दी होश में आ जा. मुझे तुझ से बहुतकुछ कहनासुनना है. तुझ से क्षमा मांगनी है. मैं ने तेरे साथ घोर अन्याय किया. तेरी सारी खुशियां तुझ से छीन लीं. मुझे अपनी गलतियों का पश्चात्ताप करने दे.’

आज उसे इस बात का शिद्दत से एहसास हो रहा था कि जानेअनजाने उस ने और उस के पति ने बेटी के प्रति पक्षपात किया. उस के हिस्से के प्यार में कटौती की. उस की खुशियों के आड़े आए. उस से जरूरत से ज्यादा सख्ती की. उस पर बचपन से बंदिशें लगाईं. उस पर अपनी मरजी लादी.

वीणा ने भी कठपुतली के समान अपने पिता के सामंती फरमानों का पालन किया. अपनी इच्छाओं, आकांक्षाओं का दमन कर उन के इशारों पर चली. ढकोसलों, कुरीतियों और कुसंस्कारों से जकड़े समाज के नियमों के प्रति सिर झुकाया. फिर एक पुरुष के अधीन हो कर उस के आगे घुटने टेक दिए. अपने अस्तित्व को मिटा कर अपना तनमन उसे सौंप दिया. फिर भी उस की पूछ नहीं थी. उस की कद्र नहीं थी. उस की कोई मान्यता न थी.

प्रतीक्षाकक्ष में बैठेबैठे अहल्या की आंख लग गई थी. तभी भास्कर आया. वह उस के लिए घर से चायनाश्ता ले कर आया था. ‘‘मांजी, आप जरा रैस्टरूम में जा कर फ्रैश हो लो, तब तक मैं यहां बैठता हूं.’’

अहल्या नीचे की मंजिल पर गई. वह बाथरूम से हाथमुंह धो कर निकली थी कि एक अनजान औरत उस के पास आई और बोली, ‘‘बहनजी, अंदर जो आईसीयू में मरीज भरती है, क्या वह आप की बेटी है और क्या वह भास्करजी की पत्नी है?’’

‘‘हां, लेकिन आप यह बात क्यों पूछ रही हैं?’’

‘‘एक जमाना था जब मेरी बेटी शोभा भी इसी भास्कर से ब्याही थी.’’

‘‘अरे?’’ अहल्या मुंहबाए उसे एकटक ताकने लगी.

‘‘हां, बहनजी, मेरी बेटी इसी शख्स की पत्नी थी. वह इस के साथ कालेज में पढ़ती थी. दोनों ने भाग कर प्रेमविवाह किया, पर शादी के 2 वर्षों बाद ही उस की मौत हो गई.’’

‘‘ओह, यह सुन कर बहुत अफसोस हुआ.’’

‘‘हां, अगर उस की मौत किसी बीमारी की वजह से होती तो हम अपने कलेजे पर पत्थर रख कर उस का वियोग सह लेते. उस की मौत किसी हादसे में भी नहीं हुई कि हम इसे आकस्मिक दुर्घटना समझ कर मन को समझा लेते. उस ने आत्महत्या की थी.

‘अब आप से क्या बताऊं. यह एक अबूझ पहेली है. मेरी हंसतीखेलती बेटी जो जिजीविषा से भरी थी, जो अपनी जिंदगी भरपूर जीना चाहती थी, जिस के जीवन में कोई गम नहीं था उस ने अचानक अपनी जान क्यों देनी चाही, यह हम मांबाप कभी जान नहीं पाएंगे. मरने के पहले दिन वह हम से फोन पर बातें कर रही थी, खूब हंसबोल रही थी और दूसरे दिन हमें खबर मिली कि वह इस दुनिया से जा चुकी है. उस के बिस्तर पर नींद की गोलियों की खाली शीशी मिली. न कोई चिट्ठी न पत्री, न सुसाइड नोट.’’

‘‘और भास्कर का इस बारे में क्या कहना था?’’

‘‘यही तो रोना है कि भास्कर इस बारे में कुछ भी बता न सका. ‘हम में कोई झगड़ा नहीं हुआ,’ उस ने कहा, ‘छोटीमोटी खिटपिट तो मियांबीवी में होती रहती है पर हमारे बीच ऐसी कोई भीषण समस्या नहीं थी कि जिस की वजह से शोभा को जान देने की नौबत आ पड़े.’ लेकिन हमारे मन में हमेशा यह शक बना रहा कि शोभा को आत्महत्या करने को उकसाया गया.

ये भी पढ़ें- कर्मफल: क्या हुआ था मुनीम के साथ

‘‘बहनजी, हम ने तो पुलिस में भी शिकायत की कि हमें भास्कर पर या उस के घर वालों पर शक है पर कोई नतीजा नहीं निकला. हम ने बहुत भागदौड़ की कि मामले की तह तक पहुंचें पर फिर हार कर, रोधो कर चुप बैठ गए. पतिपत्नी के बीच क्या गुजरती थी, यह कौन जाने. उन के बीच क्या घटा, यह किसी को नहीं पता.

‘‘हमारी बेटी को कौन सा गम खाए जा रहा था, यह भी हम जान न पाए. हम जवान बेटी की असमय मौत के दुख को सहते हुए जीने को बाध्य हैं. पता नहीं वह कौन सी कुघड़ी थी जब भास्कर से मेरी बेटी की मित्रता हुई.’’

अहल्या के मन में खलबली मच गई. कितना अजीब संयोग था कि भास्कर की पहली पत्नी ने आत्महत्या की. और अब उस की दूसरी पत्नी ने भी अपने प्राण देने चाहे. क्या यह महज इत्तफाक था या भास्कर वास्तव में एक खलनायक था? अहल्या ने मन ही मन तय किया कि अगर वीणा की जान बच गई तो पहला काम वह यह करेगी कि अपनी बेटी को फौरन तलाक दिला कर उसे इस दरिंदे के चंगुल से छुड़ाएगी.

वह अपनी साख बचाने के लिए अपनी बेटी की आहुति नहीं देगी. वीणा अपनी शादी को ले कर जो भी कदम उठाए, उसे मान्य होगा. इस कठिन घड़ी में उस की बेटी को उस का साथ चाहिए. उस का संबल चाहिए. देरसवेर ही सही, वह अपनी बेटी का सहारा बनेगी. उस की ढाल बनेगी. हर तरह की आपदा से उस की रक्षा करेगी.

एक मां होने के नाते वह अपना फर्ज निभाएगी. और वह इस अनजान महिला के साथ मिल कर उस की बेटी की मौत की गुत्थी भी सुलझाने का प्रयास करेगी.

ये भी पढ़ें- ऊपर तक जाएगी : ललन ने कैसे करवाया अपना काम

भास्कर जैसे कई भेडि़ये सज्जनता का मुखौटा ओढ़े अपनी पत्नी को प्रताडि़त करते रहते हैं, उसे तिलतिल कर जलाते हैं और उसे अपने प्राण त्यागने को मजबूर करते हैं. लेकिन वे खुद बेदाग बच जाते हैं क्योंकि बाहर से वे भले बने रहते हैं. घर की चारदीवारी के भीतर उन की करतूतें छिपीढकी रहती हैं.

सपनों की उड़ान: भाग 3- क्या हुआ था शांभवी के साथ

शादी होते ही 15 दिन तो शांभवी ने संयुक्त परिवार में घूंघट के भीतर यह सोच कर बिता दिए कि दिल्ली जाते ही वे इन सब बंधनों से आजाद हो जाएगी. मगर दिल्ली पहुंच कर उस के सारे सपने भरभरा टूट गए.

विजय बेहद लापरवाह और आलसी इंसान निकला. पूरे घर में सामान फैला कर रखता. घरेलू कार्य में मदद करने को अपनी तोहीन समझता. उस की वैस्टर्न ड्रैस को ले कर भी टीकाटिप्पणी करता.

हनीमून के लिए हिल स्टेशन का प्रताव रखने पर बोला, ‘‘हनीमून तो वे जाते हैं जो

अपने परिवार की बंदिशों में रहते हैं. हम तो यहां आजाद पंछी हैं. हमें कहीं जाने की क्या जरूरत? तुम ने तो कभी दिल्ली भी नहीं देखी है. वीकैंड में तुम्हें अलगअलग जगह जैसे इंडिया गेट, कुतुबमीनार, कनाट प्लेस, अक्षरधाम सब आराम से घुमा दूंगा.’’

शांभवी मन मसोस कर रह जाती. इशिता अभी भी उत्सुकता से उस के फोन का इंतजार करती. मगर शांभवी हां हूं, ठीक हैं कह कर बात टाल जाती.

शांभवी की शादी अच्छे से संपन्न होते ही भानुप्रताप ने इशिता की कुंडली रिस्तेदारों के माध्यम से अनेक जगह भिजवा दी. 2-4 जगह से अच्छे प्रस्ताव भी मिल गए. फिर क्या था भानुप्रताप अपनी पत्नी रितिका के पीछे पड़ गए, ‘‘सुनो, तुम इशिता को एक दिन बैठा कर अच्छे से समझओ. इतने अच्छे रिश्ते आसानी से नहीं मिलते. अभी उस की उम्र कम है जैसेजैसे उम्र बढ़ेगी रिश्ते मिलने भी कम हो जाएंगे.’’

‘‘जब इशिता पहले जौब करना चाहती हैं तो उसे कर लेने दो, फिर रिश्ते भी देख लेंगे,’’ रितिका ने समझया.

‘‘तुम ने भी तो शादी के 4 महीने बाद जौइन की थी वैसे ही वह भी कर लेगी,’’ भानुप्रताप लापरवाही से बोले.

‘‘आप ने कभी ध्यान भी दिया कि ससुराल और नौकरी के बीच तालमेल बैठाने में मुझे कितनी मुश्किल होती थी? आप तो हाथ झड़ कर निकल जाते थे सारी बातें मुझे ही सुननी पड़ती थीं,’’ रितिका का मन कड़वाहट से भर गया.

ये भी पढ़ें- सूनापन : जिंदगी में ऋतु को क्या अफसोस रह गया था

‘‘एक लड़का रेलवे में इंजीनियर है दूसरा एमबीए है, सालाना 24 लाख का पैकेज है. कुंडली और फोटो देख कर दोनों परिवार सहमत हैं. तुम बस इसे राजी कर लो तो मैं उन लोगों को अपने घर आमंत्रित करूं,’’ भानुप्रताप ने रितिका को समझया.

‘‘मैं उसे कुछ नहीं कहूंगी जब आप को पता है वह अभी शादी करने को राजी नहीं है तो आप ने बिना बताए उस के फोटो और कुंडली क्यों भेजी?’’

‘‘बेकार बहस न करो. इतना अच्छा रिश्ता घर बैठे नहीं मिलता,’’ भानुप्रताप ऊंची आवाज

में बोले.

रितिका बहस में न पड़ कर वहां से उठ कर रसोई में चली गई. थोड़ी देर

में इशिता भी रसोईघर में आ गई.

‘‘मम्मी मैं क्या सुन रही हूं पापा ने मेरे लिए रिश्ता ढूंढ़ा है? आप ने मुझ से पूछे बिना इतना बड़ा फैसला कैसे ले लिया?’’

‘‘मुझे भी नहीं पता… तुम्हारे पापा हमेशा अपनी मरजी ही तो चलाते आए हैं इस घर में.

‘‘सब आप की वजह से हुआ है आप कभी दमदार आवाज में विरोध नहीं करती हैं न, इसी बात का फायदा पापा को मिल जाता है.’’

इशिता की बात सुन कर रितिका को एक झटका लगा. इशिता सही कह रही है वो कभी भी किसी बात का विरोध ही नहीं करती बस समझता ही करती आई है.

1 हफ्ता तो यही तमाशा चलता रहा. भानुप्रताप और इशिता दोनों ही रितिका से एकदूसरे की शिकायत करते रहते. एक दिन परेशान हो रितिका ने दोनों को आमनेसामने बैठा दिया और बोलीं, ‘‘जो तुम दोनों मुझ से कहते रहते हो कि इसे यह बता दो, उसे यह बता दो. आज फुरसत में हो आमनेसामने बैठ कर बात कर लो कि लड़के वालों को क्या जवाब भिजवाना है.’’

भानुप्रताप ने इशिता से कहा, ‘‘पहले मेरी बात ध्यान से सुनना बीच में बिलकुल नहीं बोलना, फिर मैं तुम्हारी बात सुनूंगा.’’

इशिता सहमत हो गई. भानुप्रताप ने उसे दोनों रिश्तों के विषय में समझया. उन दोनों युवकों का बायोडेटा, फोटोग्राफ, पारिवारिक रहनसहन के विषय में बताया.

इशिता अनमनी सी सुनती रही. पापा की बात समाप्त होते ही बोली, ‘‘आप भाई को अभी कितने साल और तैयारी के लिए देने जा रहे हैं?’’

‘‘कम से कम 3 साल तो देने ही पड़ेंगे. इतना आसान नहीं है आईएएस बनना.’’

‘‘तो ठीक है मुझे बस सालभर का समय दे दीजिए, फिर मैं आप की बात मान जाऊंगी.’’

‘‘सालभर कोई रिश्ता इंतजार नहीं करेगा. नौकरी के लिए आवेदन करती रहना शादी के बाद.’’

‘‘कहा न कि पहले नौकरी करूंगी फिर शादी की सोचूंगी. मन करेगा तो करूंगी नहीं तो खुद कमाऊंगी, खुद पर उड़ाऊंगी,’’ इशिता ने लापरवाही से कहा.

‘‘यह क्या बकवास है… रितिका तुम इसे कुछ समझती क्यों नहीं?’’

पितापुत्री जब भी आमनेसामने आते बहस शुरू हो जाती. रितिका ने भी उन की बहस के बीच बोलना बंद कर दिया.

ये भी पढ़ें- इंग्लिश रोज: क्या सच्चा था विधि के लिए जौन का प्यार

इशिता ने अपना लक्ष्य केद्रिंत कर लिया. वह हर दिन कम से कम 5-6 कंपनियों में आवेदन करती. उस दिन वह सुबह से साक्षात्कार में व्यस्त थी. शाम को चाय का कप पकड़ कर वह सोच में बैठी थी कि पिछले 15 दिनों में दिए साक्षात्कार के परिणाम भी अब जल्द ही आने शुरू हो जाएंगे. उसे पूरी उम्मीद है कि इस बार उसे नौकरी मिल ही जाएगी.

तभी सामने से पापा को बिस्कुट का डब्बा लाते देख वह समझ गई कि फिर से उसे शादी के लिए फुसलाने को पापा बिस्कुट का सहारा ले कर आ रहे हैं और उसी विषय पर चर्चा करेंगे. उस का सिर अब भारी हो चला था सुबह से लैपटौप पर आंखें गड़ाए वह थक चुकी थी. पापा से बहस कर अपना मूड खराब नहीं करना चाहती थी. अत: वहां से उठ कर बरामदे में रखी कुरसी पर बैठ गई.

भानुप्रताप भी सब समझ गए. अपनी बेटी की जिद देख कर उन्हें बहुत क्रोध आया तो वहीं से जोरजोर से बोलने लगे, ‘‘एक शांभवी है अपनी ससुराल वालों का दिल उस ने जाते ही जीत लिया. अपनी गृहस्थी में रचबस गई है. किसी से उसे कोई शिकायत नहीं. उस के मांपापा भी निश्चिंत हो गए हैं. एक हम हैं इतने अच्छे रिश्ते पकड़ कर बैठे हैं. रोज लड़के वालों से संपर्क कर उन्हें रोके हुए हैं. मगर हमारी बेटी सब से ज्यादा जिद्दी हैं. शांभवी को देखो उसे तो बीएड कर कैरियर बनाने की नहीं पड़ी है. एमबीए कर दिमाग खराब हो गया है इस का…’’

बरामदे तक आ रही बड़बड़ की आवाज से ध्यान हटाने के लिए वह फोन पर मेल चैक करने लगी. एक मेल को पढ़ कर वह उछल पड़ी. उसे एमएलसी में जौब मिल गई थी. उस ने मम्मीपापा को यह खुशखबरी देने के लिए बरामदे से अंदर झंका तो उसे मम्मी सिर पकड़ कर बैठी दिखीं और पापा फोन पर अच्छा, हां, फिर लगातार बोलते हुए दिखे.

‘‘क्या हुआ?’’ उस ने रोआंसा मुंह ले कर बैठी रितिका से पूछा.

‘‘शशश…’’ भानुप्रताप ने उसे चुप रहने को कहा.

वह सोफे पर बैठ गई.

फोन के बंद होते ही भानुप्रताप चुपचाप दूसरे सोफे पर बैठ गए.

‘‘कोई कुछ बोलेगा?’’ उस ने अपने मम्मीपापा से पूछा.

‘‘शांभवी के घर पुलिस आई थी उस के पति की पिटाई कर के गई,’’ मम्मी ने कहा.

‘‘क्या? मगर क्यों? पड़ोसियों से झगड़ा हुआ क्या?’’ इशिता ने पूछा.

‘‘ विजय और शांभवी की बहस हो गई थी तो विजय ने हाथ उठा दिया. शांभवी सामने दीवार से टकरा गई. उस के माथे से खून निकलने लगा. उसी समय दोनों भाई शांभवी से मिलने उस के घर पहुंच गए. शांभवी की यह हालत देख कर दोनों ने पुलिस बुला ली. पुलिस ने आ कर विजय की ठुकाई की. फिर शांभवी के कहने से छोड़ दिया वरना वे विजय को घरेलू हिंसा एक्ट में थाने ले जाने को तैयार थे,’’ भानुप्रताप एक सांस में बोल गए.

‘‘अब शांभवी बता रही है कि वह तो पहले भी 1-2 बार हाथ उठा चुका है मगर इस ने किसी को कानोंकान खबर न होने दी. कह रही थी कि वह ये सब बता कर आप लोगों को परेशान नहीं करना चाह रही थी,’’ रितिका ने कहा.

‘‘बेवकूफ है. वह कहती थी कि शादी के बाद घूमनेफिरने और मनमरजी करने की आजादी मिल जाएगी. मिल गई उसे आजादी? पिता के पहरे से निकली तो पति की बंदिशों में कैद हो गई. मैं ने कहा था बीएड कर लो, जौब पकड़ लो, आर्थिक आजादी तभी मिलेगी. मगर मैडम को तो शादी करनी थी,’’ इशिता ने बौखला कर कहा.

ये भी पढ़ें- New Year 2022: हैप्पी न्यू ईयर- नए साल में आखिर क्या करने जा रही थी मालिनी

रितिका ने उसे चुप रहने का इशारा किया.

‘‘मुझे ग्रेटर नोएडा में जौब मिल गई है. सालाना 7 लाख का पैकेज है. अब आप को मेरी बात सुननी पड़ेगी पापा. जब मेरा मन होगा मैं तभी शादी करूंगी. चाहे 1 साल बाद हो या फिर 4 साल बाद,’’ यह कह कर उस ने पापा की प्रतिक्रिया जाननी चाही.

भानुप्रताप ने उस के सिर पर हाथ फेरते हुए कहा, ‘‘तुम ठीक कहती हो बेटा, खूब तरक्की करो, सदा सुखी रहो.’’

सपनों की उड़ान: भाग 2- क्या हुआ था शांभवी के साथ

सुबह से ही पूरे घर में जैसे भूचाल सा आ गया था. लड़के वाले फर्रुखाबाद से

हरदोई लंच टाइम तक आने वाले थे. दोनों गृहिणीयां भोजन के इंतजाम में व्यस्त हो गईं. शांभवी और इशिता कमरे में कपड़ों के ढेर के सामने खड़े हो एकदूसरे के ऊपर टीकाटिप्पणी में व्यस्त हो गईं.

‘‘यह ड्रैस कैसी है दी?’’ इशिता ने लौंग स्कर्ट और सफेद टौप पहन इठलाते हुए पूछा.

‘‘कुछ भी पहन ले… वैसे भी तुझे सब के सामने आने की मनाही है,’’ शांभवी ने मुंह बिचका कर चिढ़ाया.

‘‘अरे, तुम्हारे विजय के लिए तैयार नहीं हो रही हूं. अपने लिए तैयार हो रही हूं,’’ कह कर उस ने कपड़ों के ढेर से कपड़े निकाल कर सहेजने शुरू कर दिए.

‘‘ मेरा विजय… अभी हमारा रिश्ता तय नहीं हुआ है,’’ शांभवी ने कहा.

‘‘तेरे बौयफ्रैंड को पता है यह?’’ रिश्ता इशिता ने पूछा.

‘‘कालेज फ्रैंड हैं बौयफ्रैंड नहीं… वह जौब करने चंडीगढ़ चला गया है अब ज्यादा बात नहीं होती,’’ शांभवी ने लापरवाही से कहा.

‘‘तब ठीक है मुझे लगा कि तू उसे धोखा दे रही है,’’ इशिता ठंडी सांस भर कर बोली.

‘‘तू सुना, अभी तक कोई बौयफ्रैंड नहीं बना?’’

‘‘नहीं, मुझे बौयफ्रैंड, शादी इन सब में फिलहाल कोई इंटरैस्ट नहीं है. मेरा सारा ध्यान अच्छी नौकरी ढूंढ़ने में लगा है. सच कहूं तो पापा का तानाशाही रवैया देख मेरा तो शादी करने का मन ही नहीं करता है. मम्मी इतनी मेहनत कर कमाती हैं पर पापा 1-1 रुपए का हिसाब रखते हैं. सारी शौपिंग, इनवैस्टमैंट सबकुछ पापा की मरजी से ही होता है.’’

तभी उन के कमरे का दरवाजा खटखटा कर रितिका ने कहा, ‘‘यह साड़ी शांभवी को पहना दो… विजय की दादी भी साथ आ रही हैं.’’

इशिता ने दरवाजा खोल कर पूछा, ‘‘साड़ी?’’

‘‘हां. बिचौलिए से पता चला है कि उस की दादी भी गाड़ी में सवार हो गई हैं… लगता है रिश्ता पक्का करने ही आ रहे हैं.’’

शांभवी सिर पकड़ कर बैठ गई.

‘‘क्या हुआ दी?’’

‘‘मैं ने सोचा था दिखनेदिखाने और रिश्ता पक्का होने के बीच कुछ समय मिल जाएगा, जिस से विजय से खुल कर बातचीत भी हो जाएगी, मगर सब इतनी जल्दी हो रहा है कि मुझे तो कुछ सम?ा में ही नहीं आ रहा?’’

‘‘शादी तो करना चाहती हो न?’’

ये भी पढ़ें- दर्पण: क्या रिश्ते में आई दरार दोबारा ठीक हो सकती है

‘‘हां, विजय दिल्ली में जौब करता है. अच्छा कमाता है. अब पहली बार इस शहर से बाहर निकलने को मिलेगा. बेटों को तो बाहर पढ़ने भेज दिया, मगर हमें जाने को नहीं मिला. सोचती हूं शादी के बाद इस रोकटोक से आजाद हो जाऊंगी. अपनी मरजी का पहनंगी और घूमूंगी.’’

‘‘तो फटाफट तैयार हो जा. साड़ी का पल्लू सिर पर रख ले और सब पर इंप्रैशन जमा देना. मुझे तो सामने आने को मना किया है, शायद रिश्ता पक्का हो जाने के बाद मिलवा दें,’’ इशिता अपनी आंखें मटका कर बोली.

विजय के मम्मीपापा, चाचाचाची, दादी

और बिचौलिए समेत 7 लोग बैठक में मौजूद थे. चायपानी के बाद शांभवी को उस की मम्मी ले कर चली गईं.

इशिता बेचैनी से कमरे के चक्कर काटने लगी. जब न रहा गया तो धीरे से बैठक की ओर बढ़ चली. परदे की ओट से सोफे में बैठे विजय और शांभवी दिखाई दे रहे थे. शांभवी की नजर परदे की ओट से झांकती इशिता के ऊपर पड़ गई. उस ने बड़ी मुश्किल से अपनी हंसी रोकी और उसे आंखों से वहां से जाने का इशारा किया, जिसे रितिका ने भी देख लिया. वे तुरंत उठ कर खड़ी हो गईं और परदे के पीछे आ कर इशिता का हाथ थाम कर उसे कमरे की ओर खींच ले गईं और बोलीं, ‘‘क्या कर रही हो? उस का रिश्ता पक्का हो जाने दो, फिर मिलना सब से… इतनी बड़ी हो गई हो, मगर बचपना नहीं गया तुम्हारा.’’

उस के पापा भी पूरा माजरा सम?ा कर कमरे में आ गए.

‘‘जब मुझे एमबीए के लिए पूना में एडमिशन मिला तो आप ने नहीं भेजा तब मैं छोटी थी और आज कह रहे हैं कि बड़ी हो गई हो.’’

‘‘देखो यहां मुझे कोई तमाशा नहीं चाहिए. अब तो रिश्ता तय हो जाने के बाद भी तुम्हें बाहर आने की जरूरत नहीं, यहीं बैठी रहना,’’ पापा गुस्से से बोले.

‘‘मैं आऊंगी भी नहीं… मुझे अब बुलाना भी नहीं,’’ कह कर वह अपमानित हो तकिए में सिर रख कर सिसकने लगी. उस के मम्मीपापा उसे वैसे ही छोड़ कर कमरे से बाहर चले गए. कुछ ही देर में वह नींद के आगोश में समा गई.

सारे मेहमानों को विदा कर पूरा परिवार तनावमुक्त हो बैठक में हासपरिहास में व्यस्त हो गया. शांभवी जब कमरे में आई तो इशिता बेसुध सोई हुई थी.

‘‘ कितना सोएगी इशिता, यह मेरे ब्लाउज में फंसी पिन निकाल दे, मेरा हाथ पीठ नहीं पहुंच रहा है… यह पिन कहां लगा दी तूने?’’ उस ने अपनी साड़ी को निकालते हुए कहा.

इशिता आंख मलते हुए उठी सामने शांभवी को साड़ी से उल?ा हुआ देख हंस पड़ी और बोली, ‘‘फाइनल हो गया?’’

‘‘हां, 2 महीने बाद सगाई और शादी साथ ही हैं,’’ कह कर अपने गले में पड़ी सोने की चेन दिखाते हुए कहा, ‘‘यह विजय की दादी ने पहनाई है.’’

‘‘तुझे भी विजय पसंद आया?’’

‘‘पता नहीं… कुछ सम?ा नहीं आ रहा है. घर वालों को तो बहुत पसंद आया. मुझे विजय नहीं अपनी आजादी चाहिए. शादी के बाद घर में मेरी मरजी चलेगी. अपने मन का खाना, पहनना बस इस से ज्यादा मुझे जिंदगी से कुछ नहीं चाहिए.’’

‘‘पता नहीं आप क्या सोचती हैं दी, मगर मेरी नजर में आर्थिक आजादी ज्यादा महत्त्व रखती है. मुझे तो बस एक अच्छी सी नौकरी मिल जाए. फिर मैं आत्मनिर्भर बन जाऊंगी. ध्यान रहे यह सोने की चेन कही खूंटे से बांधने वाली रस्सी में न बदल जाए.’’

‘‘चल हट, पूरा समय बकवास… देखना विजय को मैं कैसे अपने आगेपीछे नचाती हूं,’’ शांभवी ने अपनी ऊंगली में चेन को लपेटते हुए कहा.

शादी की खरीदारी व अन्य तैयारी के लिए शांभवी का परिवार लखनऊ आ गया. उन 15 दिनों में इशिता को शांभवी और विजय की रसभरी बातें, व्हाट्सऐप्प पर पढ़नेसुनने को मिलीं.

‘‘सोच रहा हूं जब तुम मेरे साथ दिल्ली में रहोगी तो मैं रोज तुम्हारे लिए अलगअलग रंग के बुके लाऊंगा.’’

‘‘और मैं हर शाम अलग अंदाज में सज कर तुम्हें चौंका दूंगी कभी मराठी, कभी पंजाबी और कभी…’’

‘‘तुम्हें पता है तुम्हारी आंखें कितनी नशीली हैं… तुम्हें देखते ही मुझे पहली नजर का प्यार हो गया है.’’

‘‘मैं तो बस यही कहूंगी, ‘आए हो मेरी जिंदगी में तुम बहार बन के, मेरे संग यों ही रहना तुम प्यारप्यार बन के.’’’

ये भी पढ़ें- महबूबा के प्यार ने बना दिया बेईमान: पुष्पक ने क्या किया था

‘‘गलत बात इशिता तुझे मैं ने अपना फोन लहंगे की डिजाइन पसंद करने के लिए दिया था न कि मेरी और विजय की चैट पढ़ने के लिए,’’ कह शांभवी ने फोन छीन लिया.

‘‘सौरी दी, पर चैट पढ़ कर बड़ा मजा आ रहा है. क्या आप को वाकई प्यार हो गया है?’’ इशिता ने पूछा.

‘‘अरे वह तो यों ही लिख दिया, अब उस ने इतना कुछ लिखा तो…’’

‘‘यह क्या बात हुई? मैं इसीलिए शादी नहीं करना चाहती. इतना ?ाठ मु?ा से न बोला जाएगा.’’

‘‘मुझे भी बस शादी कर अपने मायके की कैद से बाहर निकलना हैं. विजय कहता है कि उसे नईनई जगह घूमना बहुत पसंद हैं हम हर साल एक नई लोकेशन में फोटोशूट करते मिलेंगे.’’

‘‘और बीएड का क्या?’’

‘‘देखा जाएगा, मन करेगा तो पूरा कर लूंगी.’’

‘‘देखती हूं, अगर आप को अपनी शादी में इतना रोमांस, सैरसपाटा और उन्मुक्तता मिल गई तो शायद शादी के प्रति मेरी धारणा भी बदल जाए.’’

आगे पढ़ें- विजय बेहद लापरवाह और …

ये भी पढ़ें- ऐसा तो होना ही था: क्या हुआ था ऋचा के साथ

Serial Story: भाभी- क्या अपना फर्ज निभा पाया गौरव?

बहार: भाग 3- क्या पति की शराब की लत छुड़ाने में कामयाब हो पाई संगीता

लेखिका- रिचा बर्नवाल

पार्क में आरती ने संगीता को कुछ ऐक्सरसाइजें सिखाईं. लौटने के समय संगीता बहुत खुश थी.

‘‘मम्मी, शादी के बाद से मेरा वजन लगातार बढ़ता जा रहा है. क्या व्यायाम से मैं पतली हो जाऊंगी,’’ आंखों में आशा की चमक ला कर संगीता ने अपनी सास से पूछा.

‘‘इन के अलावा वजन कम करने का और क्या तरीका होगा? पर एक समस्या है,’’ आरती की आंखों में उलझन  के भाव पैदा हुए.

‘‘कैसी समस्या?’’

‘‘सुबह पार्क में आने की.’’

‘‘मैं जल्दी उठ जाया करूंगी.’’

अचानक आरती ताली बजाती हुई बोलीं, ‘‘मैं तुम्हारे ससुर को जोश दिलाती हूं कि वे

रवि को नाश्ते की चीजें बनाना सिखाएं. उन दोनों को रसोई में उलझ कर हम पार्क चली आया करेंगी.’’

‘‘बिलकुल ऐसा ही करेंगे, मम्मी. आम के आम और गुठलियों के दाम. मेरा वजन भी कम होने लगेगा और नाश्ता भी बनाबनाया मिल जाएगा,’’ संगीता प्रसन्न नजर आने लगी.

उधर रसोई में रमाकांत अपने बेटे को समझ रहे थे, ‘‘रवि, मैं ने कुछ चीजें तेरी मां

से बनानी सीखीं क्योंकि अब उस की तबीयत ज्यादा ठीक नहीं रहती. मैं ने देखा है कि तू भी अधिकतर डबलरोटी मक्खन खा कर औफिस जाता है. मैं तुझे ये 5-7 चीजें बनानी सिखा देता हूं. ढंग का नाश्ता घर में बनने लगेगा, तो तेरा और बहू दोनों का फायदा होगा.’’

‘‘पोहा बनाने में आप की सहायता करना मुझे अच्छा लगा, पापा. आप मुझे बाकी की चीजें भी जरूर सिखाना,’’ रवि खुश नजर आ रहा था.

‘‘अब ब्रश कर के आ. फिर हम दोनों साथ बैठ कर नाश्ता करेंगे.’’

‘‘मम्मी और संगीता के आने का इंतजार नहीं करेंगे क्या?’’

‘‘अरे, तेरी बहू जितनी ज्यादा देर घूमे अच्छा है. अपनी मां के साथ उसे रोज पार्क भेज दिया कर. उस का बढ़ता मोटापा उस की सेहत के लिए ठीक नहीं है.’’

रमाकांत की यह सलाह रवि के मन में बैठ गई. उस दिन ही नहीं बल्कि रोज उस ने सुबह उठ कर अपने पिता के मार्गदर्शन में कई नईर् चीजें नाश्ते में बनानी सीखीं.

आरती और संगीता रसोई में आतीं, तो बापबेटा उन्हें फौरन बाहर कर देते. तब आरती अपनी बहू को पार्क में ले जाती.

वहां से सैर और व्यायाम कर के दोनों लौटतीं, तो उन्हें नाश्ता तैयार मिलता. सब बैठ कर नाश्ते की खूबियों व कमियों पर बड़े उत्साह से चर्चा करते. सुबह की शुरुआत अच्छी होने से बाकी का दिन अच्छा गुजरने की संभावना बढ़ जाती.

संगीता अपने सासससुर के आने से अब सचमुच बड़ी प्रसन्न थी. सास के द्वारा काम में मदद करने से उसे बड़ी राहत मिलती. बहुत कुछ नया सीखने को मिला उसे आरती से.

रवि का मन बहुत होता अपने दोस्तों के साथ शराब पीने का, पर हिम्मत नहीं पड़ती. अपनी खराब लत के कारण वह अपने मातापिता को लड़तेझगड़ते नहीं देखना चाहता था.

धीरेधीरे शराब पीने की तलब उठनी बंद हो

गई उस के मन में. उस में आए इस बदलाव के कारण संगीता की खुशी का ठिकाना नहीं रहा.

सप्ताहभर तक नियमित रूप से पार्क जाने का परिणाम यह निकला कि संगीता के पेट का माप पूरा 1 इंच कम हो गया. उस ने यह खबर बड़े खुश अंदाज में सब को सुनाई.

‘‘आज पार्टी होगी मेरी बहू की इस सफलता की खुशी में और सारी चीजें संगीता और मैं घर में बनाएंगे,’’ आरती की इस घोषणा का बाकी तीनों ने तालियां बजा कर स्वागत किया.

उस रविवार के दिन के भोजन में मटरपनीर, दहीभल्ले, बैगन का भरता, सलाद, परांठे और मेवों से भरी खीर सबकुछ संगीता और आरती ने मिल कर तैयार किया.

खाना इतना स्वादिष्ठ बना था कि सभी उंगलियां चाटते रह गए. आरती ने इस का बड़ा श्रेय संगीता को दिया, तो वह फूली न समाई.

‘‘मैं कहता हूं कि किसी होटल में क्व2 हजार रुपए खर्च कर के भी ऐसा शानदार खाना नसीब नहीं हो सकता,’’ रवि ने संतुष्टि भरी डकार लेने के बाद घोषणा करी.

‘‘चाहे वह स्वादिष्ठ खाना हो या दिल को गुदगुदाने वाली खुशियां, इन्हें घर से बाहर ढूंढ़ना मूर्खता है,’’ बोलते

हुए आरती की आंखों में अचानक आंसू छलक आए.

‘‘मम्मी, आप की आंखों में आंसू क्यों आए हैं?’’ रवि

ने अपनी मां का कंधा छू कर भावुक लहजे में पूछा.

‘‘हम से कोई गलती हो गई क्या?’’ संगीता एकदम घबरा उठी.

‘‘नहीं, बहू,’’ आरती ने उस का गाल प्यार से थपथपाया, ‘‘सब को एकसाथ इतना खुश देख कर आंखें भर आईं.’’

‘‘यह तो आप दोनों के आने का आशीर्वाद है मम्मी,’’ संगीता ने उन का हाथ पकड़ कर प्यार से अपने गाल पर रख लिया.

रमाकांत ने गहरी सांस छोड़ कर कहा, ‘‘आज शाम को हम वापस जा रहे हैं. शायद इसीलिए पलकें नम हो उठीं.’’

‘‘यों अचानक जाने का फैसला क्यों कर लिया आप ने?’’ रवि ने उलझन भरे स्वर में पूछा.

‘‘नहीं, आप दोनों को मैं बिलकुल नहीं जाने दूंगी,’’ संगीता ने भरे गले से अपने दिल की इच्छा जाहिर करी.

‘‘हम दोनों तो आज के दिन ही लौटने का कार्यक्रम बना कर आए थे, बहू. तेरे जेठजेठानी व दोनों भतीजे बड़ी बेसब्री से हमारी प्रतीक्षा कर रहे हैं,’’ आरती ने मुसकराने की कोशिश करी, पर जब सफल नहीं हुईं तो उन्होंने संगीता को गले लगा लिया.

संगीता एकाएक सुबकने लगी. रवि की आंखों में भी आंसू ?िलमिलाने लगे.

‘‘मम्मीपापा, आप दोनों अभी मत जाइए. मेरे घर में आई खुशियों की बहार कहीं आप

दोनों के जाने से खो न जाए,’’ रवि उदास नजर आने लगा.

रमाकांत ने उस का माथा चूम कर समझया, ‘‘बेटा, अपने घर की

खुशियों, सुखशांति और मन के संतोष के लिए किसी पर भी निर्भर मत रहना. तुम दोनों समझदारी से काम लोगे, तो यह घर हमारे जाने के बाद भी खुशियों से महकता रहेगा.’’

‘‘बस, सदा हमारी एक ही बात याद रखो तुम दोनों,’’ आरती उन दोनों से प्यारभरे स्वर में बोलीं.

‘‘आपसी मनमुटाव से दिलोदिमाग पर बहुत सा कूड़ाकचड़ा जमा हो जाता है. इंसान को प्यार करने व लड़नेझगड़ने दोनों के लिए ऊर्जा खर्चनी पड़ती है. तुम दोनों चाहे लड़ो चाहे प्यार करो, पर सदा ध्यान रखना कि ऊर्जा के बहाव में दिलोदिमाग पर जमा वह कूड़ाकचरा जरूर बह जाए. बीते पलों की यादों को फालतू ढोने से इंसान कभी भी नए और ताजे जीवन का आनंद नहीं ले पाता.’’

रवि और संगीता ने उन की बात बड़े ध्यान से सुनी. जब उन दोनों की नजरें आपस में मिलीं, तो दोनों के दिलों में एकदूसरे के लिए प्र्रेम की ऊंची लहर उठी.

‘‘आप अगली बार आएंगे, तो मुझे पूरी तरह बदला हुआ पाएंगे,’’ संगीता ने फौरन अपने सासससुर से मजबूत स्वर में वादा किया

‘‘हमारी आंखें खोलने के लिए आप दोनों को धन्यवाद,’’ कह रवि ने अपने मातापिता के हाथों को चूमा.

‘‘मिल कर अपने बच्चों का शुभ सोचना हमारी एकमात्र इच्छा है. हमारे लड़नेझगड़ने को तो तुम दोनों नाटक समझना,’’ आरती बोलीं.

आरती के इस बचन को सुना कर रमाकांत रहस्यमयी अंदाज में मुसकराने लगे.

ये भी पढ़ें- पलटवार : जब स्वरा को दिया बहन और पति ने धोखा

अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें