घरेलू सामान और उत्पाद की आजादी

जैसे एक युग में स्टीम इंजन से चलने वाली फैक्ट्रियों ने लाखों छोटे कारीगरों का काम छीना था पर बदले में अपने वक्र्स को ज्यादा खुशनुमा रिहायश और ग्राहकों को अच्छा काम दिया था. वैसे ही आज की डिजिकल क्रांति छोटे दुकानदारों, सेवाएं देने वालों और छोटे मैकेनिकों आदि को समाप्त कर रही है और व्यापार की बागड़ोर बड़ी कंपनियों के हाथों में एब्म कर रही है. मोबाइल बेस्ड टैक्नोलौजी से मिली सुविधा के कारण आज किराना शौप्स, टेलर्स, पेंटर, खाने का समय बनाने वाले सब गायब होते जा रहे हैं. फिल्पकार्ट, अमेजान और उस जैसे प्लेटफौर्म खुद कुछ नहीं बना रहे पर दूसरों का सामान बेच कर मोटी कमाई कर रहे हैं.

ओला राइड कंपनी जिस ने सारे देश में लगभग कालीपीली टैक्सियां गायब कर दी है. वे आटो को भी समाप्त करने में लगे हैं. बाइक टैक्सी व्यवसाय भी उन की टैक्नोलौजी में फिट बैठता है. अब कारों को खरीदने में माहिर और अपनी पुरानी गाडिय़ों को बेचने में माहिर हो जाने के बाद वे पुरानी गाडिय़ों के व्यवसाय में उतर रहे हैं और देश भर में फैलसे पुरानी गाडिय़ों को बेचने वालों का सफाया कर देंगे.

इस तरह की कंपनियां कानून बदलवा सकती हैं. वे सरकार पर दबाव डालेंगी जब तक सॢटफाइड कार न हो, कोई पुरानी कार बेची न जाए और फिर सॢटफेशन बिजनैसों को खरीदना शुरू कर देंगे. वे सडक़ किनारे कि लगे बाजारों की जगह शहर के बाहर हजारों गाडिय़ां एक जगह खड़ी करने की जगह बना लेंगे. सुविधा के नाम पर  आप को गाड़ी का मेप, रंग, कितनी चली, ठीक हालत में है, कैसी गड्डियां हैं. कैसे बैलून हैं, कल और सेफ्टी फीचर सब मिल जाएगा, सिर्फ मोबाइल पर कोई झिकझिक नहीं, कोई डर नहीं कि गाड़ी  किसी अपराध में तो नहीं पकड़ी गर्ई है.

ये भी पढ़ें- कैसे हो प्रेम निवेदन

इस का मतलब है कि लाखों पुरानी कारों के विक्रताओं के बच्चों को अब ओला या उस जैसी एक्टो कंपनियों में नौकरी से संतुष्ट रहना होगा. एक स्वतंत्र व्यवसाय जिस में मालिक गर्व महसूस करता था उसी तरह गायब हो जाएगा जैसे कभी बरतन ठोक कर बना लेने वाला ठठेरा (यह शब्द आज की पीढ़ी के लिए अनजाना है) गर्व भी महसूस करता था और आजादी से अपना छोटा सा काम करता था.

यही टाटा एमजी कंपनी करने जा रही है जो दवाइयों को फार्मा कंपनियों से खरीद कर केवल अपने ऊंचाइयों के जरिए घरघर पहुंचाएगी. आप के पड़ोस का कैमिस्ट जो डाक्टर का भी काम करता था, गायब हो जाएगा. यह भी डिजिटल टैक्नोलौजी की कमाल है. ग्राहक चाहे इसे भी सुविधा माने पर असल में यह कैमिस्टों को लाभ डिलिवरी बौय बना देगा.

जैसे पहले राजा तलवार के बल पर किसान को लूटते थे, फिर फैक्ट्रियां के बल पर आप मजदूरों को गुलामी करनी पड़ी वैसेे ही अब डिजिटल मोनोपोली से आम आदमी गुलाबी की एक और जंजीर गले में डाल लेगा. इस गुलामी का असर घरों पर सब से ज्यादा पड़ता है. जब भी किसी समाज में गुलामी का दौर बढ़ा है, वहां की औरतें और गुलाम हो गई हैं. एक युग में पंडों के पाखंड ने कैरे समाज को वर्चस्व में ले लिया था. जहां भी धर्म का समाज पर मोनोपौली हुई वहां औरतों पर हजारों नए प्रतिबंध लगे. जब आम आदमी के अधिकारों को बल मिला चाहे शिक्षा के कारण या सरकार, उद्योगपति या पाखंडबाजों के खिलाफ विद्रोह से, औरतों ने राहत की सांस ली. यह पूरे समाज में बराबरी के अवसरों और आजादी का नतीजा है.

ये भी पढ़ें- नागरिकों के साथ खिलवाड़

जब आप घरेलू सामान, घरेलू सेवाओं और यहां तक कि घरों के लिए एकदो कंपनियों पर निर्भर रह जाएंगी. आप की आजादी छिन जएगी. व्हाट्सएप या फेसबुक पर जाने अनजानों के बारे में जान कर खुश न हो कि वाह क्या कमाल है तकनीक का. यह चूहेदान में लगी डबल रोटी है जिसे खाने के लालच में आप चूहेदानियों में फंस रहे हैं और फिर गुलाम हो जाते हैं. एमेजन, फ्लिपकार्ड, ओला ने शुरू में सस्ते में जो कुछ देना शुरू किया था, आज बंद कर दिया है. अब वे हर चीज अपनी मनचाही कीमत पर दे रहे हैं और चूंकि पड़ोस में दुकानदार कम हो गए हैं और आप आलस्य के मारे घर बैठे सामान खरीदने के आदी हो गए हैं, आप आॢथक गुलाम हो गए हैं.

कैसे हो प्रेम निवेदन

युद्ध मानव इतिहास का निरंतर हिस्सा रहे हैं. हर युग में आम  जनता को बेबात में युद्धों में घसीटा जाता रहा है और युद्ध का मतलब है कि हर रोज की जिंदगी का टूट जाना. युद्ध के दौरान शहर नष्ट हो जाते, युवा लड़ाई पर चले जाते, खाने के लाले पड़ जाते, घर में किसे मार डाला जाए पता नहीं रहता. फिर भी एक चीज जो प्रकृति की देन व आवश्यकता दोनों है, चलती रही. वह प्रेम है. युवा प्रेम हर तरह की कंटीली  झाडि़यों में भी पनपा, फूलों के बागों में भी पनपा, गोलियों में भी पनपा और आज प्रेम कोविड के खूनी पंजों में भी पनप रहा है.

आज कोविड का युद्ध पहले के सभी युद्धों से खतरनाक है क्योंकि यह हर व्यक्ति को अपनी खुद की वजह जेल में बंद कर रहा है. हजार बंदिशें लोगों पर लगी हैं जो विदेशियों के आक्रमणों में नहीं लगीं, दंगों में नहीं लगीं, अकाल और बाढ़ में नहीं लगीं, युद्ध क्षेत्रों में नहीं लगीं.

एकदूसरे से गले लगने और बात करने तक पर पाबंदी. कोविड ने हर जने को जो एक छत के नीचे पहले से नहीं रहता उसे छूने, उस से सहयोग करने, उस के पास बैठ कर बात करने पर पाबंदी लगा दी. ऐसे में नया प्रेम कैसे हो? कैसे प्रकृति को छूने की चाहत, एकदूसरे में समा जाने की जरूरत पूरी हो?

ये भी पढ़ें- नागरिकों के साथ खिलवाड़

कोविड ने जो कैद करी है, वह लौकडाउनों के हटने के बाद भी न के बराबर हट रही है. मास्क में चेहरों से प्रेम निवेदन कैसे हो सकते हैं? 2 गज की दूरी रखने से एकदूसरे का स्पर्श कैसे मिल सकता है?

अब जिन्हें वैक्सीन लगी है वे ढूंढ़ रहे हैं कि जिन्हें वैक्सीन लग चुकी है उन में से कौन उन के लायक है पर यह वैक्सीन ऐसी नहीं जिस का ठप्पा माथों पर लगा हो. इस वैक्सीन के बाद भी मास्क जरूरी है. अब वह प्राकृतिक जरूरत एक जीवनसाथी की कैसे पूरी हो? कोविड की दूसरी लहर जिस में एक छत के नीचे रह रहे पूरे परिवार बीमार पड़ गए सब को बुरी तरह डरा दिया है.

गनीमत है कि मौडर्न टैक्नोलौजी ने इंस्ट्राग्राम, फेसबुक, व्हाट्सऐप के दरवाजे खुले रखे पर ये तो कैदखानों की छोटी खिड़कियां थीं जहां से सिर्फ आंख दिखा सकते हैं. एक इंच बाई एक इंच के चेहरे को देख कर किसी के व्यक्तित्व की पहचान तो नहीं हो सकती.

हां, इस दौरान भारत में शादियां हुईं पर उन में चेहरा फेसबुक पर देखा गया, कुछ मिनट के लिए मास्क हटा और हां या न कर दी गई, 18वीं सदी की शादी की तरह. बाकी बातें सोशल मीडिया पर हुईं पर आधीअधूरी. जब तक कोई चाय के प्याले में अपनी उंगली डुबो कर न पिलाए, प्रेम थोड़े पनपता है. अब जो शादियां पक्की हो रही थीं, वे शारीरिक मिलन का सम झौता हैं, प्रेम का अंतिम लक्ष्य पूरा होना नहीं.

ये भी पढ़ें- आधी आबादी लीडर भी निडर भी

नागरिकों के साथ खिलवाड़

देश की मौजूदा सरकार ने ‘खाऊंगा भी, खाने भी दूंगा’ का  सिद्धांत पूरा कर दिखाया है. जब से केंद्र में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा सत्तारूढ़ हुई है तब से स्विस बैंकों में भारतीयों का पैसा लगातार बढ़ रहा है.

2020 में स्विस बैंक में 20,700 करोड़ रुपए से ज्यादा जमा हुए. मोदी सरकार के शासन के दौरान हर साल पैसा जमा हुआ है बावजूद इस के कि मोदी ने खुलेआम कहा था कि सारा ब्लैक पैसा देश में वापस ले आया जाए तो हरेक देशवासी को क्व15 लाख यों ही मिल जाएंगे.

भारतीय भारत में भी खूब कमा रहे हैं और बाहर भी. कोविड के दिनों में भी बहुत से अमीर व्यापारियों ने खूब कमाई की है क्योंकि सरकार ने उन्हें तरहतरह की छूट दी और उस बीच जनता अपनी परेशानियों में घिरी हुई थी.

भारतीय व्यापारियों ने अपना पैसा बाहर रखना शुरू कर दिया है क्योंकि यहां गंदगी, बदबू तो थी ही, अस्पतालों और दवाओं के लिए भी न जाने किसकिस से गिड़गिड़ाना पड़ा. भारतीय अमीर भारत में इसलिए हैं क्योंकि भारत में उन की कमाई हो रही है, ठीक ब्रिटिश हुक्मरानों की तरह जो पोस्टिंग पर भारत आते थे, यहां कमाते थे और फिर नौकरोंगुलामों को वापस ले कर चले जाते थे.

ये भी पढ़ें- आधी आबादी लीडर भी निडर भी

बड़े व्यापारी ही नहीं, नेताओं, आश्रमों के स्वामियों ने भी देश के बाहर विधर्मी ईसाई व मुसलिम देशों में पैसा जमा कर रखा है और वह कम नहीं हुआ है.

हर भारतीय वैसे भी 2 करोड़ रुपए हर साल मैडिकल ट्रीटमैंट, उपहार, विदेशों में बसे रिश्तेदारों, विदेशी पढ़ाई, मकान आदि के लिए भेज सकता है. सरकार इस पर टैक्स बढ़ा रही है लेकिन इसे रोक नहीं रही. पैसा हवाला के जरीए भी जाता है जिस में यहां भारतीय रुपए दो और विदेशों में लो किया जाता है.

इसी पैसे (हवाला के पैसे) के बल पर ललित मोदी, नीरव मोदी, मेहुल चौकसी विदेशों में भारतीय कानूनों की खामियों के चलते मौज कर रहे हैं. जो सरकार कालाधन लाने के वादे कर रही थी, वह असल में कालेधन के जाने की भरपूर इजाजत दे रही है, जो स्विस बैंकों में जा रहा है.

विदेशी भारतीय जो भारतीय पासपोर्टधारक हैं, असल में पैसे का लेनदेन अच्छी तरह सम झते हैं और हर संभव तरीके से भारत में टैक्स बचा कर नक्द स्विस बैंकों जैसे सैकड़ों बैंकों में रखते हैं. जहां से कमा रहे हैं वहां टैक्स न देना भी वे जानते हैं क्योंकि भारत सरकार इस बाबत उन्हें अच्छी तरह शिक्षा दे ही देती है.

भारतीय विदेशियों को रखने व अन्य सौदों में भी बिचौलिए होते हैं और काफी मोटा कमीशन विदेश में ही ले लेते हैं. इस पर सरकार ने कुछ नहीं किया, न बोफोर्स पर कुछ ढूंढ़ पाई, न औगस्टा हैलीकौप्टर पर. राफेल जैटों पर तो सरकार ने जांच तक न होने दी.

ये भी पढ़ें- Office में लेडीज टॉयलेट ज्यादा गंदे क्यों रहते हैं?

पैसा भारत का है, यहां के गरीबों का है, उन किसानों का है जो ठंड, गरमी, बरसात में दिल्ली की सीमाओं पर पड़े हैं. इन का पैसा विदेश में जाए और विदेश में काम कर रहे गरीब, मजदूर जो पैसा भारत में भेज रहे हैं, उसे उड़ा दिया जाए.

ऐसा किया जाना भारत के नागरिकों के साथ खिलवाड़ है, यह सरकार की कोरी वादाखिलाफी है. लेकिन भारतीय संस्कृति तो  झूठ बोलने को नैतिकता के पैमाने में लाती है. शक हो तो कोई भी पुराण पढ़ लो. सारी औरतें भी पुराणों के गुण गाती रहती हैं तो भुगतो.

आधी आबादी लीडर भी निडर भी

किचन से कैबिनेट और घर की चारदीवारी से खेल के मैदान तक, गुपचुप घर में सिलाईबुनाई करती, पापड़बडि़यां तोड़ने से बोर्डरूम तक एक लंबा सफर तय करने वाली आधी आबादी ने यह सिद्ध कर दिखाया है कि वह घर के साथसाथ बाहर का काम भी उतने ही बेहतर तरीके से संभाल सकती है. व्रतउपवास, कर्मकांड और उस के पांव में बेडि़यां डालने के लिए धर्म के माध्यम से फैलाए जा रहे अंधविश्वासों के घेरे से वह निकल सकती है, यह बात भी उस ने साबित कर दी है.

यह सही है कि किसी भी बड़े बदलाव के लिए जरूरी है समाज की सोच बदलना. बेशक अभी पुरुष समाज की सोच में 50% ही बदलाव आया हो, लेकिन महिलाओं ने अब ठान लिया है कि वे नहीं रुकेंगी और तमाम बाधाओं के बावजूद चलती रहेंगी. फिर चाहे वे शहरी महिला हो या किसी पिछड़े गांव की जो आज सरपंच बनने की ताकत रखती है और खाप व्यवस्था को चुनौती भी देती है.

बहुत समय पहले बीबीसी के एक कार्यक्रम में अभिनेत्री मुनमुन सेन ने कहा था कि महिलाएं किसी भी स्तर पर हों, किसी भी जाति या वर्ग से हों, वे एक ही होती हैं. उन के कुछ मसले एकजैसे होते हैं, उन में आपस में यह आत्मीयता होती है. आज वे मिलजुल कर अपने मसले जुटाने और अपनी पहचान की स्वीकृति पर मुहर लगाने में जुटी हैं, फिर चाहे कोई पुरुष साथ दे या न दे वे सक्षम हो चुकी हैं.

कर रही हैं निरंतर संघर्ष

यह समाज की विडंबना ही तो है कि घर हो या दफ्तर, राजनीति हो या देश, जब कभी और जहां भी महिलाओं को सशक्त बनाने, उन को मजबूत करने पर चर्चा होती है, तो ज्यादातर बात ही होती है, कोई कोशिश नहीं होती. लेकिन वे अपने स्तर पर कोशिश कर रही हैं और कामयाब भी हो रही हैं.

जिस देश की संसद में महिलाएं अब तक 33 फीसदी आरक्षण के लिए संघर्ष कर रही हैं, उसी देश के दूसरे कोनों में ऐसी भी महिलाएं हैं, जो अपने हिस्से का संघर्ष कर छोटीबड़ी राजनीतिक कामयाबी तक पहुंच रही हैं.

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा की पत्नी और अमेरिका की फर्स्ट लेडी होने के अलावा दुनियाभर में मिशेल ने अपनी एक अलग पहचान बनाई जो उन्होंने खुद अपने दम पर हासिल की. प्रिंसटन यूनिवर्सिटी में पढ़ाई करने के बाद हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से ला किया. सिडले और आस्टिसन के लिए काम करने के बाद मिशेल ने एक पब्लिलकएलाइजशिकागो ‘अमेरीकोर्प नैशनल सर्विस प्रोग्राम’ की स्थापना की.

उन का बचपन मुश्किलों भरा था, लेकिन मिशेल ने बहुत पहले ही यह सम झ लिया था कि उन्हें मुश्किलों के बीच से रास्ता बना कर जीत हासिल करनी है. मिशेल को अपनी पढ़ाई पूरी करने के लिए काफी संघर्ष करना पड़ा था, इसलिए उन्होंने 2015 में ‘लेट गर्ल्सलर्न’ इनीशिएटिव की शुरुआत की, जहां उन्होंने अमेरिकी लोगों को उच्च शिक्षा में जाने के लिए प्रोत्साहित किया.

ये भी पढ़ें- Office में लेडीज टॉयलेट ज्यादा गंदे क्यों रहते हैं?

पा ली है मंजिल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस आते ही औरतों की प्रगति, उन की समस्याओं, उन के साथ होने वाली हिंसा, अत्याचार, उन की असुरक्षा से घिरे प्रश्नों यानी उन से जुड़े हर तरह के सवालों की विवेचना व अवलोकन होना आरंभ हो जाता है. कहीं सेमीनार आयोजित किए जाते हैं तो कहीं नारीवादी संगठन फेमिनिज्म की बयार को और हवा देने के लिए नारेबाजी पर उतर आते हैं. इंटरनैशनल वूमंस डे की शुरुआत औरतों के काम करने के अधिकार, उन्हें समाज में सुरक्षा प्रदान करने के लक्ष्य के साथ हुई थी, लेकिन आज जब औरतों ने हर क्षेत्र में अपना वर्चस्व कायम कर लिया है और वे कामयाबी का परचम लहरा रही हैं.

आईटी, बीपीओ या बड़ीबड़ी कंपनियों में औरतों की उपस्थिति को देखा जा सकता है. वे मैनेजर हैं, बैंकर हैं, सीईओ हैं, फाउंडर है और प्रेसीडेंट भी है. आज बिजनैस के कार्यक्षेत्र में जैंडर को ले कर की जाने वाले भिन्नता के कोई माने नहीं रह गए हैं. वैसे भी अगर आर्थिक अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ करना है तो औरतों की सक्रिय भूमिका को स्वीकारना ही होगा.

वास्तव में देखा जाए तो अब नकारने की स्थिति है भी नहीं. हर ओर से महिलाएं उठ खड़ी हुई हैं. ममता बनर्जी हों या सोनिया की पीढ़ी या फिर मलाला और ग्रेटा कम उम्र की युवतियां, बदलाव की आंधी हर ओर से चल रही है.

रख चुकी हैं हर पायदान पर कदम

बेहद प्रभावशाली भाषण से संयुक्त राष्ट्र की बोलती बंद करने वाली ग्रेटा थनबर्ग किसान आंदोलन के दौरान भारत के खिलाफ दुष्प्रचार करने के आरोप में विवादों में अवश्य हैं, पर संयुक्त राष्ट्र में जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर अपनी बातों से दुनियाभर के नेताओं का ध्यान आकर्षित करने वाली 16 वर्षीय स्वीडिश छात्रा ग्रेटा थनबर्ग को टाइम मैगजीन ने 2019 का ‘पर्सन औफ द ईयर’ घोषित किया.

मलाला विश्व की कम उम्र में शांति का नोबेल पुरस्कार पाने वाली पहली युवती है. पाकिस्तान में तालिबानी आतंकवादियों ने इस की हत्या का प्रयास किया क्योंकि मलाला लड़कियों को पढ़ाने का काम कर रही थी जबकि तालिबान ने पढ़ाई पर रोक लगाई हुई थी.

आज वह करोड़ों लड़कियों की प्रेरणा बन चुकी है. उस के सम्मान में संयुक्त राष्ट्र ने प्रत्येक वर्ष 12 जुलाई को मलाला दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की.

जरमनी की चांसलर ऐंजेला मर्केल दुनिया की तीसरी सब से शक्तिशाली हस्ती हैं. उन्हें दुनिया की सब से शक्तिशाली महिला भी कहा जाता है. कमला हैरिस ने तो इतिहास ही रच दिया है. वे अमेरिका की पहली अश्वेत और पहली एशियाई अमेरिकी उप राष्ट्रपति हैं.

तोड़ रही हैं अंधविश्वासों की बेडि़यां

हर क्षेत्र में ऐसी महिलाओं के नामों की सूची इतनी लंबी है कि उन की उपस्थिति को सैल्यूट किए बिना नहीं रहा जा सकता है खासकर भारतीय समाज में जहां उन से केवल घर संभालने और धार्मिक कर्मकांडों में उल झे रहने की ही उम्मीद की जाती थी. सदियों से वे कभी पति की लंबी आयु के लिए व्रत रखती आ रही हैं, कभी बच्चों की सलामती के लिए पूजा करती आ रही हैं तो कभी घर की सुखशांति के लिए हवन और भजन करती आ रही हैं.

उन की कंडीशनिंग इस तरह की गई कि वे घर के बाहर जा कर अपनी पहचान बनाने के बारे में सोचेंगी तो उन्हें पाप लगेगा. लेकिन उन्होंने तमाम मिथकों को तोड़ा, परंपराओं का उल्लंघन किया, अपने अस्तित्व को आकार दिया. इस सब के बावजूद घर को भी बखूबी संभाला और परिवार की डोर को भी थामे रखा. असफल होने के डर से खुद को बाहर निकाला और जो थोड़ा डर अभी भी धार्मिक कुरीतियों के कारण उन के भीतर व्याप्त है उसे भी वह सांप की केंचुल की तरह छोड़ने को तत्पर हैं.

सपोर्ट सिस्टम खड़ा करना होगा

समाजशास्त्री मानते हैं कि औरतों को सब से पहले अपनी असफलताओं को ले कर परेशान होना छोड़ देना चाहिए. उन्हें परिवार व कैरियर के बीच एक बैलेंस बनाए रखना होगा क्योंकि समाज में ऐसी ही सोच व्याप्त है. पर इस मुश्किल से उभरने के लिए उन्हें एक सपोर्ट सिस्टम खड़ा करना होगा. उन्हें बीच राह में प्रयास करना छोड़ नहीं देना चाहिए.

कई औरतें जब डिलिवरी के बाद दोबारा काम पर आती हैं तो उन्हें लगता है कि इतने दिनों में जो एडवांस्मैंट हो चुकी है, वह कहीं उन्हें पीछे न धकेल दे. अपडेट रहना तरक्की की पहली शर्त है, इसलिए तमाम व्यवधानों के बावजूद अगर वे पुन: कोचिंग लें तो उन्हें सहायता मिलेगी. किसी गाइड की मदद ली जा सकती है. ताकि इन्फोसिस जैसी कंपनियां अपने कर्मचारियों को किसी बाहरी गाइड से मदद लेने के लिए प्रोत्साहित करती हैं जिस से उन के मानसिक क्षितिज का विस्तार हो सके. कार्यक्षेत्र में उन के लिए एक सपोर्ट सिस्टम की जरूरत है.

ये भी पढ़ें- Coviself की टेस्ट किट से रोकें महामारी की तीसरी लहर, पढ़ें खबर

जमीन से जुड़ी महिलाएं

  सोनी सोढ़ी

(आदिवासी समाज की लीडर)

एक छोटे से स्कूल में बच्चों को पढ़ाने वाली सोनी की जिंदगी 2011 में हुई उस घटना के बाद से हमेशाहमेशा के लिए बदल गई.

इस आदिवासी युवती को उस के भाई की पत्रकारिता की कीमत चुकानी पड़ी. जेल, लगातार बलात्कार और मानसिक शोषण, यहां तक कि गुप्तांग में पत्थर डाल कर उसे निहायत शर्मनाक ढंग से प्रताडि़त किया गया. उसे नक्सली बनाने पर तुली छत्तीसगढ़ सरकार को आखिरकार उसे रिहा करना ही पड़ा. जेल से मर्मस्पर्शी पत्र लिख कर अपने समर्थकों का हौसला बनाए रखा. अपने पर किए हर अत्याचार को उस ने अश्रु की स्याही से न लिख कर हिम्मत और शक्ति की लेखनी से लोगों तक पहुंचाया.

सोनी बताती है कि जब ये सब उस के साथ हुआ तो उसे लगा कि अब वह खड़ी नहीं हो पाएगी. औरतों को सिखाया जाता है कि उन की इज्जत ही उन का सबकुछ है. मैं भी यही सोचती थी और जब मेरे साथ ये सब हुआ तो मु झे लगा कि मैं अब किसी काबिल नहीं रह गई हूं. पर उसे हिम्मत देने वाली भी दो औरतें ही थीं. जेल में उसे दो औरतें मिलीं, जिन्होंने उसे अपने स्तन दिखाए. उन के निपल काट दिए गए थे. तभी सोनी ने ठान लिया कि वह लड़ेगी. उन्होंने अपने गुरु को एक चिट्ठी लिखी और यहीं से शुरु हुई उन की लड़ाई. आज सोनी बस्तर में आदिवासियों के हक के लिए उठने वाली एक बुलंद आवाज है.

शहनाज खान

(युवा सरपंच)

राजस्थान के भरतपुर जिले में रहने वाली  25 साल की शहनाज वहां की कामां पंचायत से सरपंच चुनी गई है. वह राजस्थान की पहली महिला एमबीबीएस डाक्टर सरपंच है. वह कहती है, ‘‘मु झ से पहले मेरे दादाजी भी यहां से सरपंच थे. लेकिन उन के बाद यह बात उठी कि चुनाव में कौन खड़ा होगा. परिवार वालों ने मु झे चुनाव में खड़ा होने को कहा और मैं जीत गई.’’

शहनाज मानती है कि लोग आज भी अपनी बेटियों को पढ़ने के लिए स्कूल नहीं भेजते हैं, इसलिए वह लड़कियों की शिक्षा पर काम करना चाहती है और उन सभी अभिभावकों के सामने अपना उदाहरण रखना चाहती है जो बेटियों को पढ़ने नहीं भेजते.

  सैक्सुअलिटी एक छोटा सा हिस्सा है

महिलाओं को आजादी व बराबरी का हक तभी सही मानों में मिल पाएगा जब स्त्री और पुरुष के बीच के अंतर को जरूरत से ज्यादा महत्त्व देना बंद कर दिया जाएगा. सैक्सुअलिटी जीवन का महज एक छोटा सा हिस्सा है. जैंडर का हमारे जीवन में रोल तो है पर यही सबकुछ नहीं है. यह हमारे जीवन का एक हिस्सा भर है. प्रजनन अंगों को हमारे जीवन में बस एक काम करना होता है, पर इसे पूरा जीवन तो नहीं माना जा सकता. लेकिन फिलहाल मानव आबादी इसी काम को पूरा जीवन बनाने में लगी है. 90 फीसदी आबादी के दिमाग में एक औरत का मतलब कामुकता है. इस सोच को बदलने के लिए ही आधी आबादी आज कटिबद्ध है.

महिलाओं और पुरुषों को 2 अलग प्रजातियां की तरह देखना ठीक नहीं है. अगर हम ने ऐसा किया तो आने वाले समय में अगर संघर्ष हुआ तो एक बार फिर से पुरुषों का वर्चस्व हो जाएगा. अगर फिर से युद्ध के हालात बने तो महिलाओं को चारदीवारी के भीतर जाना होगा.

यहां उन महिलाओं की जिम्मेदारी बढ़ जाती है जो समाज में किसी मुकाम पर पहुंच गई हैं. वे एक बदलाव ला सकती हैं. स्त्री और पुरुष की लड़ाई बनाने के बजाय आधी आबादी को समाज में अपनी काबिलीयत से पहचान बनानी होगी और वह इस में सफल भी हो गई है. कुछ कदम बेशक उसे और चलने हैं, उस के बाद मंजिल उस की मुट्ठी में होगी. महिलाओं ने खुद को सम झना शुरू कर दिया है. वे अपने अस्तित्व को जानने लगी हैं, अपनी शक्ति को पहचानने लगी हैं. नतीजतन समाज में बदलाव की हवा चलने लगी है.

ये भी पढें- भारत के लिए टोक्यो ओलंपिक बना एक गोल्डन इयर

  बिना डरे बिना घबराए

दुनियाभर में हो रहीं रिसर्च बताती हैं कि औरतें मल्टीटास्किंग होती हैं. अब हर परीक्षा में लड़कियां लड़कों को पीछे छोड़ रही हैं. हर लिहाज से औरतें ज्यादा ताकतवर हैं, लेकिन यह भी एक कड़वी सचाई है कि दुनिया की फौर्च्यून 500 कंपनियों में सिर्फ 4 फीसदी महिलाएं सीईओ हैं. समान वेतन और समान अधिकार तथा काम करने के बेहतर माहौल जैसी चीजों के लिए महिलाएं संघर्ष कर रही हैं. हैरानी की बात है कि इन अधिकारों की बात करने वाली महिलाओं को फेमनिस्ट कह कर नकार दिया जाता है. जरा सोचिए अगर आधी आबादी भी पूरी क्षमता से काम करे तो क्या होगा? नुकसान आधी आबादी का नहीं, पूरी मानवता का हो रहा है.

महिलाएं अब पहले की तरह पुरुषों की परछाईं में दुबक नहीं रहीं बल्कि उस से बाहर  निकल कर नुमाइंदगी कर रही हैं, दिशा दिखा रही हैं और वह भी बिना डरे, बिना घबराए.

Coviself की टेस्ट किट से रोकें महामारी की तीसरी लहर, पढ़ें खबर

कोरोना वायरस का दूसरा दौर सभी के लिए बेहद कठिन रहा, जिसने हमारे जीवन को अलग-अलग तरीकों से प्रभावित किया. अधिकतर परिवार ने अपने किसी प्रियजन को खोया है, लेकिन कोविड-19 लॉकडाउन में छूट मिलने के बाद से कई लोग पहले की तरह उन सारे काम करने की कोशिश कर रहे है,जिसकी कमी पिछले डेढ़ सालों में महसूस की गयी है.

इस बार तीसरी लहर की बात सुनकर अधिकतर लोगों के मन में इस बात की आशंका और डर है. क्या वे और उनके परिवार के सदस्य इस वायरस की चपेट में आने से बच सकेंगे? स्कूल वापस जाने के बाद बच्चे को इन्फेक्शन तो नहीं हो गया? काम से वापस आने के बाद कहीं मुझे इन्फेक्शन तो नहीं हो गया?ऐसे कई प्रश्न सबको डरा रही है. इसे जानने का एकमात्र तरीका, अपनी जांच करना, ताकि आपकी वजह से बाकी लोगों में कोरोना संक्रमण न फ़ैल जाय, ऐसे समय में टेस्टिंग किट की जरूरत है,जो ज़्यादा सुविधाजनक होने के साथ-साथ रिजल्ट भी जल्दी दें.

ये भी पढ़ें- भारत के लिए टोक्यो ओलंपिक बनी एक गोल्डन इयर

covi

माइलैब डिस्कवरी सॉल्यूशंस की हेड ऑफ सीरोलॉजी एंड माइक्रोबायोम के डॉ.श्रीकांत पवार कहते है कि कोविसेल्फ़, भारत की पहली सेल्फ़-टेस्ट किट है, जिसके द्वारा महामारी की तीसरी लहर में सबके लिए टेस्ट करना आसान होगा, जिससे संक्रमण को एक बार फिर रोका जा सकेगा. कोविसेल्फ़, कोविड-19 रैपिड एंटीजन टेस्ट (RAT) किट है, जिसकी मदद से लोग घर बैठे अपना कोविड टेस्ट केवल 15 मिनट में सटीक कर सकते है. यह आई सी एम् आर द्वारा प्रमाणित किट है. इसकी हर यूनिट में एक टेस्टिंग किट, इस्तेमाल के लिए निर्देश (IFU) हेतु लीफ़लेट और टेस्टिंग के बाद सुरक्षित तरीके से निपटाने के लिए एक बैग मौजूद होता है. एक मोबाइल ऐप से कनेक्ट होने वाला यह किट, एक मिड-नेज़ल स्वैब और एक क्यूआर कोड का उपयोग करता है, और केवल 15 मिनट में नतीजे दिखाता है.इसे प्रयोग करना आसान है, पर दिए गए  निर्देशों के अनुसार ही इसका प्रयोग किसी भी समय कर सकते है.

80 साल की दादी से लेकर गाँव में रहने वाले 18 साल के नौजवान तक, कोई भी इन निर्देशों को पढ़कर या डेमो वीडियो देखकर इसका इस्तेमाल कर सकते है. इसमें नाक के स्वाब के सैंपल को अच्छी तरह से लेकर किट पर दो बूंदे डालनी पड़ती है. अगर कार्ड एक रेड लाइन दिखाता है, तोरिजल्ट निगेटिव और अगर कार्ड 2 लाइन दिखाता है, तो व्यक्ति कोविड पॉजिटिव होता है. इसे दूबारा प्रयोग नहीं किया जा सकता. साथ ही इसमें गड़बड़ी की कोई संभावना नहीं होती. कोविसेल्फ़ के इस्तेमाल के लिए यूजर्स को मोबाइल ऐप पर इसे रजिस्टर करना होता है. एक ही ऐप में यूजर्स कई प्रोफ़ाइल बना सकते है.इसका मूल्य 250 रुपये है. ये हर फार्मेसी में मिलता है और डॉक्टर की पर्ची के बिना ही खरीदी जा सकती है. इस टेस्ट किट को अमेरिका बेस्ड कंपनी के साथ जोड़ने की कोशिश की जा रही है.

ये भी पढ़ें- देवी का दर्जा महज दिखावा

ठग बाबाओं के चंगुल में फंसे तो गए

ग्रहों के बारे में आप क्या जानते हैं? इतना तो सभी जानते हैं कि आकाश में दृष्टिगोचर होने वाले सभी ग्रह हमारी पृथ्वी के समान ही हैं और अपनीअपनी कक्षा में भ्रमण करते हैं तथा सूर्य की परिक्रमा करते हैं. आकार में भी सभी एक जैसे नहीं हैं, कोई छोटा तो कोई बड़ा है. सूर्य से सभी की दूरी भी अलगअलग है.

सभी ग्रहों पर तापमान की मात्रा भी अलगअलग है. उन ग्रहों में से कौनकौन से ग्रह पर जीवन है और कौनकौन से ग्रह पर नहीं, यह अभी ज्ञात नहीं हुआ है. ग्रहों में मुख्य सूर्य, चंद्र, मंगल, बुध, गुरु, शुक्र, शनि, राहू तथा केतू हैं.

यह है अब तक की सामान्य जानकारी. इसी जानकारी का प्रयोग कुछ चतुर या ठग किस्म के लोग अपने स्वार्थ के लिए या अपनी रोजीरोटी चलाने के इरादे से कर रहे हैं. ये लोग अपनेआप को महान ज्योतिषी, स्वामीजी, गुरुजी और बाबा के नाम से प्रचारित कर रहे हैं.

यह आज की बात नहीं है. 100 साल पहले भी इन्हीं ग्रहों को ऐसे ठगी के काम के लिए प्रयोग में लाया जाता था. लोगों को डर दिखाया जाता था कि ग्रहों के कुपित होने से ही उन पर संकट आते हैं, असाध्य बीमारियां हो जाती हैं, हर काम में असफलता मिलती है, गृहक्लेश, झगड़े, आर्थिक संकट, शादियों का टूटना, संतान सुख का अभाव. सभी कुछ ग्रहों के प्रकोप से ही होता है.

बेचारे भोलेभाले लोग इन ठगों की बातों में आ जाते थे. अपने ऊपर आई मुसीबतों से छुटकारा पाने के लिए इन लोगों की शरण में जाते थे और ये ठग लोग लोगों की समस्याओं का निवारण करने के बहाने उन से धन ऐंठते थे.

आंखों के सामने धोखा

आज भी चित्र बदला नहीं है. सबकुछ वैसा ही चल रहा है. अब ठग बाबाओं को अपने प्रचार के लिए टीवी चैनल्स और इंटरनैट की सुविधा भी मिल गई है. उन का काम जोरशोर से चल रहा है कुछ लोग अपनेआप को महान ज्योतिषी बताते हैं. ये ज्योतिषी लोगों से उन का जन्मदिवस, जन्म समय और जन्म साल पूछ कर फटाफट कुंडली बनाते हैं और ग्रहों के नाम ले कर भविष्य बताना शुरू कर देते हैं.

ये भी पढ़ें- सभी युद्धों से खतरनाक ‘कोविड का युद्ध’

शिकारी आएगा जाल बिछाएगा

सुनंदा भी एक भोलीभाली गृहिणी है. उस की 24 साल की एक कन्या है, जिस का नाम सपना है. सपना गणित विषय में एमए कर चुकी है, बुद्धिमान लड़की है. रंग सांवला है, लेकिन नयननक्श अच्छे हैं. कद औसत से कुछ छोटा ही है. सपना ने नौकरी करने की इच्छा जताई, लेकिन सुनंदा के पति को लड़कियों का घर से बाहर जा कर नौकरी करना पसंद नहीं है. सुनंदा भी चाहती है कि कोई सुयोग्य वर देख कर सपना के हाथ पीले कर दें क्योंकि सपना से 2 साल छोटी उन की एक और भी कन्या है. सपना के लिए सुयोग्य वर की तलाश शुरू हो गई. 2 साल ऐसे ही गुजर गए. अब सुनंदा को चिंता होनी शुरू हो गई. अपनी पड़ोसिन के साथ अपनी चिंता शेयर की.

बस फिर क्या था. पडोसिन ने कहा, ‘‘बहन, मेरे भाई की बेटी मेरी भतीजी की शादी भी नहीं हो रही थी. बड़ी अड़चनें आ रही थीं, क्या बताऊं? लड़की बहुत पढ़ीलिखी और सुंदर थी. भाई के एक दोस्त ने किसी पहुंचे हुए पंडितजी के बारे में बताया. भाई श्रीराम का भक्त है. ज्योतिषियों पर पूरा विश्वास करता है. तुरंत उस पंडितजी के पास पहुंच गया. पंडितजी ने फटाफट लड़की की कुंडली बनाई और शादी किस ग्रह के प्रकोप के कारण रुकी हुई है यह भी बताया.’’

‘‘तो क्या बहनजी उस लड़की की शादी  हो गई?’’

‘‘अजी हो गई. बहुत पैसे वाला और इंजीनियर दामाद मिल गया मेरे भाई को. लेकिन पंडितजी ने उपाय किया. उस पर बड़ा खर्चा आया. क्या आप…’’

‘‘खर्चा हो जाता है तो हो जाए बहनजी, मुझे उस पंडितजी का पता बताओ. मैं कल ही उन से मिलने चली जाऊंगी. अजी औलाद से बढ़ कर भी क्या कुछ होता है?’’

अनुष्ठान के बहाने

पड़ोसिन ने तुरतफुरत उस पहुंचे हुए पंडितजी का पता लिख कर दे दिया. फिर क्या था सुनंदा दूसरे ही दिन बेटी सपना को साथ ले कर वहां चली गई. अपने पति को बताया भी नहीं क्योंकि उन का ज्योतिषियों पर विश्वास ही नहीं था.

सुनंदा ने पंडितजी के कहे अनुसार सब से पहले बेटी सपना की कुंडली बनवाई.

कुंडली देखते ही पंडितजी बोले, ‘‘बहनजी, कन्या की कुंडली में सप्तम स्थान पर मंगल विराजमान है. लड़की मंगली है. शादी इतनी आसानी से हो नहीं सकती. हो भी गई तो सूर्य अष्टम स्थान में है. अष्टम स्थान मृत्यु का होता है.’’

‘‘इस का क्या मतलब पंडितजी?’’ सुनंदा सहम गई.

‘‘मतलब साफ है वैधव्य योग बनता है..’’

‘‘तो पंडितजी मेरी सपना के नसीब में शादी नहीं है? वैधव्य योग तो और भी बुरा. लड़की कुंआरी रहे यही सही,’’ सुनंदा के रोंगटे खड़े हो गए.

‘‘पंडितजी सचसच बताइए क्या इस का कोई उपाय है? मेरी मम्मी की हालत तो देखिए, कितनी घबरा गई हैं,’’ सपना भी मम्मी की हालत देख कर सकते में आ गई.

‘‘अरे हम बैठे हैं बहनजी. घबराना कैसा? मंगल का बुरा असर खत्म हो सकता है, लेकिन अनुष्ठान करवाना पडे़गा. ग्रह को प्रसन्न करवाना पडेगा. मंगल और सूर्य को अनुकूल बनाने के लिए एक यज्ञ करना पडेगा. देखिए आगे आप की मरजी है बहनजी. जैसी बेटी आप की, वैसी मेरी. मैं तो चाहता हूं सब कुशलमंगल हो. मैं किसी पर दबाव कभी नहीं डालता. आप किसी और ज्योतिषी के पास जाइए. वह भी यही कहेगा. अनुष्ठान किसी से भी करवाइए.’’

‘‘नहीं… नहीं… अब आप के पास आए हैं, तो इस का उपाय आप ही कीजिए पंडितजी,’’ सुनंदा ने कहा.

‘‘आप बिलकुल मत डरिए बहनजी. मंगल आप की बेटी का कुछ नहीं बिगाड़ सकता. वह तो मेरी मुट्ठी में है. मंगल का प्रकोप दूर करने में तो मुझे महारथ हासिल है. इस दिशा में तो मेरी बहुत ख्याति है. एक बार मंगल सुधर गया, फिर सूर्य की कुछ नहीं चलने वाली. वैधव्य योग भी समाप्त हो जाएगा.’’

आगे की कहानी सीधी है. पंडितजी ने सब से पहले कुंडली बनाने के ₹500 लिए. फिर  2 दिन बाद एक मंगल के नग वाली अंगूठी सपना के लिए बनवा कर दी. वह ₹15,000 की थी. फिर यज्ञ का खर्चा ₹5,000 आया. दक्षिणा बगैरा मिला कर कुल खर्चा ₹25,000 आया. एक मध्यवर्ग की गृहिणी के लिए यह खर्चा बहुत ज्यादा था, लेकिन सुनंदा ने अपनी बेटी के सुखी जीवन को ध्यान में रखते हुए कर ही दिया.

आज 4 साल हो गए सपना के लिए अब  भी योग्य वर की तलाश जारी है. सपना के पिताजी को भी पता लग ही गया कि पंडितजी ₹25,000 ले गए.

अब पति के गुस्से का प्रकोप सुनंदा को झेलना पड़ रहा है. आए दिन गृहक्लेश हो रहा है. सुनंदा की पड़ोसिन का कहना है, ‘‘फिर एक बार पंडितजी को जा कर मिल लेना चाहिए. मेरे भाई की बेटी तो पंडितजी की कृपा से इतनी सुखी है कि पूछिए मत बहनजी…’’

डरे तो फंसे

मगर अब सुनंदा समझ गई है कि ज्योतिषी ने मंगल और सूर्य का डर दिखा कर उसे ठग लिया था. अब वह फिर से पंडितजी के पास जाने की इच्छुक नहीं है.

ऐसे ठग बाबाओं का कहना है कि ऐसा नहीं है मंगल लड़कियों के लिए ही घातक है वह लड़कों का भी बहुत कुछ बिगाड़ने में सक्षम है. लड़कों की शादियों में भी यह रुकावटें डालता है. लड़कों को नौकरी न मिलने के लिए भी मंगल को जोतिषी कारणी भूत बताते हैं. मकान या फ्लैट खरीदने में अड़चनें आ रही हैं, तो ज्योतिषी इस के लिए भी मंगल को दोषी ठहराने में कतराते नहीं हैं.

ये भी पढ़े-ं आज के युग में समलैंगिक प्रेम

ठग ज्योतिषी कहते हैं कि बुद्धि भ्रष्ट करने वाला ग्रह गुरु है. परीक्षाओं में असफलता गुरु के बुरे प्रभाव के कारण होने की अनेक कहानियां ज्योतिषियों से सुनी जा सकती हैं. चंद्र के बुरे प्रभाव से पागलपन का दौरा पड़ने की बात कहते हैं ठग ज्योतिषी. लेकिन चंद्र को भी साधने का दमखम ज्योतिषी रखते हैं. सूर्य के कुपित होने पर कौनकौन सी बीमारियां जातक को घेर लेती हैं, यह ज्योतिषी आसानी से बता सकते हैं.

ठगों के ठग

इन बीमारियों का इलाज भी ठग ज्योतिषी करते हैं. सफलता की गारंटी भी देते हैं, लेकिन बीमारी ठीक नहीं हुई तो इलाज चालू रखने की सलाह देते हैं बशर्ते आप मोटा खर्चा उठा सकते हों. इलाज आप ज्योतिषियों के साथसाथ डाक्टर से भी करवा सकते हैं. लेकिन बीमारी ठीक हो जाती है तो उस का श्रेय ज्योतिषी ही ले जाते हैं.

शुक्र को संतानोत्पत्ति, सुंदरता और कला का कारक ग्रह बताते हुए ज्योतिषी कहते हैं कि शुक्र ग्रह के कुपित होने से बांझपन और बदसूरती मनुष्य को घेर लेती है और कला जगत में प्रसिद्धि या तो प्राप्त नहीं होती या प्राप्त हो चुकी भी है तो धुलमिट्टी में मिल जाती है.

ज्योतिषियों के अनुसार, राहुकेतू भी हमेशा कुपित ही रहते हैं, लेकिन उन के कहे पर चलने से राजा को रंक और रंक को राजा भी बना देते हैं.

शनि का भय

फिर शनि का गुस्सा तो ज्योतिषियों के मुताबिक जग प्रसिद्ध है. शनि ग्रह कुपित होने पर खूनखराबा करवाता है, कोर्टकचहरी के चक्कर लगवाता है, सलाखों के पीछे पहुंचा देता है, ऐक्सीडैंट करवाता है. लेकिन ज्योतिषियों के सामने यह घुटने टेक देता है. इस को भी काबू में करने के उपाय ज्योतिषियों के पास होते हैं. बस खर्चे की परवाह नहीं करनी चाहिए.

रोहित कंप्यूटर इंजीनियर है. रात के समय कार ड्राइव कर के कहीं जा रहा था. सड़क पर एक पदयात्री को बचाने के चक्कर में गलत साइड में कार मोड़ ली और एक ट्रक के साथ टक्कर हो गई, कार पलट गई. इस ऐक्सीडैंट में उस के पांव में भारी चोट आई. इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया, लेकिन रोहित की चाची ने उस की कुंडली एक पहुंचे हुए ज्योतिषी को दिखाई. रोहित की मम्मी भी साथ ही थीं.

ज्योतिषी ने बताया, ‘‘शनि की महादशा के कारण ऐक्सीडैंट हुआ है. शनि रोहित के पांव पर भारी है. अगर कुपित शनि को शांत नहीं किया गया तो रोहित की टांग कट सकती है. डाक्टर का क्या जाता है. अगर ऐसे संकट से बचना चाहते हैं तो उपाय मेरे पास है. शनि जैसे राक्षस ग्रह को शांत करने में खर्चा तो मोटा आएगा ही. मैं अपने लिए कुछ नहीं मांग रहा. बस अनुष्ठान का खर्चा लगभग ₹50,000 आएगा.’’

किसी काम का नहीं ज्योतिष

चाची ने अनुष्ठान के लिए सहमति दर्शाई, लेकिन रोहित की मम्मी का ज्योतिषियों पर विश्वास नहीं था. उन्होंने अनुष्ठान के लिए साफ मना कर दिया और डाक्टरों पर भरोसा करते हुए अस्पताल में ही रोहित का इलाज करवाया. रोहित 2 महीनों में ठीक हो गया और चलनेफिरने लग गया. खर्चा भी 25 से 30 हजार रुपए तक ही आया. इस से रोहित की चाची ने भी सबक  लिया और ज्योतिषियों पर अंधविश्वास करना छोड़ दिया.

ग्रहों को अपनी मुट्ठी में कर लेने की बात करने वाले ठग ज्योतिषी, गुरुजी या बाबा भोलेभाले लोगों से धन ऐंठने का ही काम करते हैं. इन के झंसे में आ कर अपनी जेबें खाली न करवाएं. आकाशीय ग्रहों ने न आप का कुछ बिगाड़ा है न बिगाड़ेंगे. आप की स्वयं की कोशिशें ही आप को समस्याओं और संकटों से मुक्ति दिलवा सकती हैं.

ये भी पढ़ें- उपवास के जाल में उलझी नारी

सभी युद्धों से खतरनाक ‘कोविड का युद्ध’

युद्ध मानव इतिहास का निरंतर हिस्सा रहे हैं. हर युग में आम जनता को बेबात में युद्धों में घसीटा जाता रहा है और युद्ध का मतलब है कि हर रोज की जिंदगी का टूट जाना. युद्ध के दौरान शहर नष्ट हो जाते. युवा लड़ाई पर चले जाते, खाने के लाले पड़ जाते, घर में किसे मारा डाला जाए पता नहीं रहता. फिर भी एक चीज जो प्रकृति की देन व आवश्यकता दोनों है, चलती रही. वह प्रेम है. युवा प्रेम हर तरह की कंडीली झाडिय़ों में भी पनपा, फूलों के बागों में पनपा, गोलियों में भी पनपा, आज प्रेम कोविड के खूनी पंजों में भी पनप रहा है.

आज कोविड का युद्ध पहले के सभी युद्धों से खतरनाक है क्योंकि यह हर व्यक्ति को अपनी खुद की वजह जेल में बंद कर रहा है. हजार बंदिशें लोगों पर लगी है जो विदेशियों के आक्रमणों में नहीं लगी, दंगों में नहीं लगीं. अकाल और बाढ़ में नहीं लगी, युद्ध क्षेत्रों में नहीं लगी. एकदूसरे से गले लगना और बात करने तक पर पाबंदी कोविड ने हर जने को जो एक छत के नीचे पहले से नहीं रहता. छूने, सहयोग, पास बैठ कर बात करने पर पाबंदी लगा दी. ऐसे में नया प्रेम कैसे हो, कैसे प्रकृति को छूने की चाहत, एकदूसरे में समा जाने की जरूरत पूरी हो.

कोविड ने जो कैद की है, वह लोकडाउनों के हटने के बाद भी न के बराबर हट रही है. मास्क में चेहरों से प्रेम निवेदशन कैसे हो सकते हैं? 2 गज की दूरी रखने से एकदूसरे का स्पर्श कैसे मिल सकता है?

ये भी पढ़ें- आज के युग में समलैंगिक प्रेम

अब जिन्हें वैक्सीन लगी है, वे ढूंढ रहे हैं कि जिन्हें वैक्सीन लग चुकी हैं. उन में से कौन उन के लायक हैं पर यह वैक्सीन ऐसी नहीं जिस का ठप्पा पार्कों पर लगा हो. इस वैक्सीन के बाद भी मास्क जरूरी है. अब वह प्राकृतिक जरूरत एक जीवन साभी को कैसे पूरी हो. कोविड की दूसरी लहर जिस में एक छत के नीचे रह रहे पूरे परिवार बिमार पड़ गए सब को बुरी तरह डस दिया है.

गनीमत है कि मौडर्न टैक्नोलौजी ने इंस्ट्राग्राम, फेसबुक, व्हाट्सऐप के दरवाजे खुले रखे पर ये तो कैद खानों की छोटी खिड़कियां थीं जहां से सिर्फ आंख दिखा सकते हैं. एक इंच बाई एक इंच के चेहरे को देख कर किसी के व्यक्तित्व की पहचान तो नहीं हो सकता.

हां इस दौरान भारत में शादियां हुईं पर उन में चेहरा फेसबुक पर देखा गया, कुछ मिनट के लिए मास्क हटा और हो या न कर दी गई, 18वीं सदी की शादी की तरह. बाकी बातें सोशल मीडिया पर हुईं पर आधी अधूरी. जब तक कोई चाय के प्याले में अपनी उंगली डुबा कर न पिलाए, प्रेम थोड़े पनपना है. अब जो शादियां पक्की हो रही थीं, वे शारीरिक मिलन का समझौता हैं प्रेम का अंतिम लक्ष्य पूरा होना नहीं.

ये भी पढ़ें- उपवास के जाल में उलझी नारी

आज के युग में समलैंगिक प्रेम

परिवार वालों द्वारा अपनी बेटी की जबरन शादी कराना आज भी नहीं रूक रहा है और प्रेमी के साथ भाग जाने पर औनर कीङ्क्षलग में प्रेमी और लडक़ी दोनों को मार तक डाला जा रहा है. उस में अब नया एंगल आने लगा है जब बेटी का प्रेम किसी लडक़े से न हो कर लडक़ी से हो. यह न केवल जाति और धर्म की चूलें हिला डालता है, परिवार के सारे अरमानों का खून करते हुए उन्हें सामाजिक उपहास के केंद्र बना डालता है.

अलीगढ़ की एक लडक़ी दिल्ली में अपनी प्रेमी के साथ रह रही थी पर उस का परिवार एक लडक़े से उस का जबरन विवाह करना चाह रहा था. वे उसे अलीगढ़ ले गए. प्रेमिका उसे घर से ले जाने के लिए पहुंची तो घरवालों ने उस की जम कर ठुकाई कर दी.

समलैंगिक प्रेम. अब धीरेधीरे खुल कर बाहर आने लगते हैं. लोग इसे स्वीकारने में घबराते नहीं हैं. बड़े शहरों में यह खुल कर संभव है क्योंकि 2 लडक़ों या 2 लड़कियों को आसानी से बिना ज्यादा सवालजवाब किए मकान किराए पर मिल जाते है क्योंकि हजारों लड़कियां रूम मेटों के साथ रूम शेयर कर रही हैं. उन में सैक्स संबंध भी हैं, यह कम को पता चलता है और बात आई गई हो जाती है. परिवार जब एक लडक़ी पर विवाह के लिए दबाव डालता है तो मुसीबत आती है. इस में वही दर्द और विरह की भावना पैदा होती है जो आमतौर पर प्रेमी प्रेमिका के अलगाव पर होती है.

समलैंगिक प्रेम आज के युग में असल में जम कर प्रोत्साहित किया जाना चाहिए. इस में कम कठिनाइयां हैं. इसे शादी का सॢटफिकेट मिले या न मिले, साथ रहना और परमानैंटली रहना लडक़ी लडक़े के साथ रहने से कम जोखिम वाले हैं. न बच्चे होने का डर है न तलाक की दुविधा है. आमतौर पर डोमैस्टिक वायलैंस की परेशानी भी नहीं है. जो चाहत किसी साथी की होती है जिस के साथ सोफो, किचन और बैड सब शेयर किए जा सकें, पूरे होते हैं. अब गनीमत है कि सुप्रीम कोर्ट ने उसे गैरकानूनी से कानूनी भी बना दिया ह ैऔर पुलिस दखलअंदाजी भी नहीं है.

विरासत के मामलों में थोड़ी परेशानियां हैं पर विवाह ही कोई गारंटी नहीं कि पत्नी या पति को सब कुछ मिले. कट्टरपंथियों को तो स्वागत करना चाहिए क्योंकि समलैंगिकता पौपुलर होगी तो जनसंख्या नहीं बढ़ेगी न.

उपवास के जाल में उलझी नारी

धर्म के नाम पर रखे जाने वाले कोई भी व्रत या उपवास से आज तक किसी का भला नहीं हुआ है . हां व्रत , उपवास के दौरान होने वाली कथा पूजन से धर्म के दुकानदारों की मौज जरूर होती रही है . इन कथा पूजन से न केवल  उन्हे दान दक्षिणा मिलती है , बल्कि पकवान युक्त मुफ्त का खाना भी मिलता है . हर धर्म के  पंडित , मौलवी , पादरी यह बात अच्छी तरह समझ गये हैं कि महिलाओं को धर्म का भय आसानी से दिखाया जा सकता है .यही बजह है कि धर्म के ये ठेकेदार उन्हें पाप का भय दिखाकर व्रत या उपवास में उलझाकर अपना उल्लू सीधा कर रहे हैं . आशाराम , रामपाल और राम रहीम जैसे  धर्मगुरू महिलाओं को धार्मिक कर्मकांड , कथा प्रवचन , व्रत उपवास का झांसा देकर उनका यौन शोषण करने से भी नहीं हिचकते.

धार्मिक कथा पुराणों और पंडे पुजारियों की बातों का असर भारतीय नारी के दिलो दिमाग पर कुछ इस तरह हावी है कि वे साल के बारह महिने संतोषी माता का व्रत,महालक्ष्मी व्रत ,संतान सप्तमी ,हरछठ ,दुर्गा पूजाजैसेकई तरह के व्रत उपवास के जाल में फंसी रहती है .इन्ही व्रत उपवासों में से एक व्रत है करवा चौथ का व्रत . दकियानूसी परम्पराओं के नाम पर मनाया जाने वाला करवा चौथ का पर्व सुहागनों के लिये भले ही सार्वजनिक तौर पर अपने आप को महिमामंडित करने का हो ,लेकिन अविवाहित ,परित्यक्ता,तलाकशुदा और बिधवा महिलाओं को अपमानित करने वाला पर्व रहता है.

मध्यप्रदेश की पिछली भाजपा सरकार में मंत्री रही कुसुम महदेले की करवा चौथ पर्व पर सोशल मीडिया पर की गई एक टिप्पणी में उन्होने लिखा कि हिन्दुस्तान में हिन्दू महिलायें अपने पति या पुत्रों की सलामती या उनकी लंबी आयु के लिये ब्रतरखती हैं ,क्या सारे पुरूष इतने कमजोर हो गये हैं?. उन्होने इस टिप्पणी के माध्यम से समाज पर सबाल उठाते हुये कहा कि पुरूष सत्तात्मक समाज में यैसा कोई व्रत नहीं है जो पुरूष महिलाओं के भले के लिये करें .जितने व्रत उपवास बनाये गये हैं वे सब महिलाओं को पुरूष की सलामती के लिये रखने पड़ते हैं . हरितालिका व्रत से लेकर करवा चौथतक सब पति की लंबी आयु के लिये रखे जाते हैं .

करवा चौथ का वैसे तो ज्यादातर उत्तर भारत में प्रचलित है . शादी शुदा महिलायें अपने पति की लम्बी उम्र के लिए पूरे दिन व्रत रखती हैं. इस दिन वह सुबह से रात तक चाँद निकालने तक कुछ नहीं खाती और पानी भी नहीं पीती. रात को चाँद देखकर पति के हाथ से जल पीकर व्रत समाप्त करती हैं.हालाकि दक्षिण भारत में इस प्रकार के व्रत या त्यौहार को महत्व नहीं दिया जाता है .करवा चौथ के व्रत की कहानी अंधविश्वास के साथ एक भय भी उत्पन्न करती है कि करवाचौथ का व्रत न रखने अथवा व्रत के खंडित होने से पति के प्राण खतरे में पड़ सकते हैं.व्रत उपवास की ये परम्परायें महिलाओं को अधविश्वास की बेड़ियों में जकड़े रहने को प्रेरित करती हैं

क्या है करवा चौथ व्रत की कथा

फुटपाथों पर बीस बीस रूपयो में विकने वाली करवा चौथव्रत कथा की पुस्तक में बताया गया है कि एक साहूकार के सात बेटे और उनकी एक बहन करवा थी. सभी सातों भाई अपनीबहन से इतनाप्यार करते थे कि वे पहले उसे खाना खिलाते और बाद मेंस्वयं खाते थे एक बार उनकी बहन ससुराल से मायके आई हुई थी.शाम को भाई जब अपनाकाम धंधा बंद कर घर आए तो देखा उनकी बहन बहुत व्याकुल थी-सभी भाईखाना खाने बैठे और अपनी बहन से भी खाने का आग्रह करने लगे, लेकिन बहन नेबताया कि उसका आज करवा चौथ का निर्जल व्रत है और वह खाना सिर्फ चंद्रमा कोदेखकर उसे अर्घ्‍य देकर ही खा सकती है.
सबसेछोटे भाई को अपनी बहन की हालत देखी नहीं जाती और वह दूर पीपल के पेड़ पर एकदीपक जलाकर चलनी की ओट में रख देता है- दूर से देखने पर वह चतुर्थी का चांद जैसे प्रतीतहोता है .

बहनउसे चांद समझकर अर्घ्‍य देकरखाना खाने बैठ जाती है.वहपहला टुकड़ा मुंह में डालती है तो उसे छींक आ जाती है. दूसरा टुकड़ा डालतीहै तो उसमें बाल निकल आता है और जैसे ही तीसरा टुकड़ा मुंह में डालने कीकोशिश करती है तो पति की मृत्यु का समाचार उसे मिलता है.उसकीभाभी उसे बताती है कि करवा चौथ काव्रत गलत तरीके से टूटने के कारण देवता उससे नाराज हो गए हैं.

करवानिश्चय करती है कि वह अपने पति का अंतिम संस्कार नहीं होने देगी और अपनेसतीत्व से उन्हें पुनर्जीवन दिलाकर रहेगी.वह पूरे एक साल तक अपने पति केशव के पास बैठी रहती है. एकसाल बाद फिर करवा चौथ का दिन आता है. उसकी सभी भाभियां करवा चौथ का व्रतरखती हैं. जब भाभियांउससे आशीर्वाद लेने आती हैं तो वह प्रत्येक भाभी सेअपनी जैसी सुहागिन बना दो’ ऐसाआग्रह करती है, लेकिन हर बार भाभी उसे अगली भाभी से आग्रह करने का कह चलीजाती है.इसप्रकार जब छठे नंबर की भाभी आती है तो करवा उससे भी यही बात दोहराती है.यह भाभी उसे बताती है कि सबसे छोटे भाई की वजह से उसका व्रत टूटा थाअतः उसकी पत्नी में ही शक्ति है कि वह तुम्हारे पति को दोबारा जीवित करसकती है, इसलिए जब वह आए तो तुम उसे पकड़ लेना और जब तक वह तुम्हारे पति कोजिंदा न कर दे, उसे नहीं छोड़ना.ऐसा कहकर वह चली जाती है.सबसे अंत में छोटी भाभी आती है. करवा उनसे भी सुहागिन बनने का आग्रह करती है, लेकिन वह टालमटोली करने लगती है.इसे देख कर वा उन्हें जोर से पकड़ लेती है और अपने सुहाग को जिंदा करने के लिए कहती है.यहदेख भाभी पसीज जाती है और अपनी छोटी अंगुली को चीरकर उसमें से अमृत उसके पति के मुंह में डाल देती है.करवा का पति तुरंत उठ बैठता है.

करवा चौथ की इस काल्पनिक कहानी को पढकर अंधभक्त समाज को कैसे भरोसा हो जाता है कि अंगुली चीरने से रक्त की जगह अमृत निकलता है या मरा हुआ आदमी एक साल बाद फिर से कैंसे जीवित हो सकता है ?अपने आपको आधुनिक मानने वाली महिलायें कैंसे इस प्रकार की दकियानूसी कथा कहानियां पर विश्वास कर लेती हैं यह समझ से परे है .

बैंक में काम करने वाली सोनाली शर्मा कहती हैं कि मुझे इस तरह के व्रत उपवास पसंद नहीं है ,लेकिन आफिस की अन्य सहकर्मी और कालोनी में रहने वाली महिलायें इस व्रत को रखती हैं तो मजबूरन मुझे भी व्रत  रखना पड़ता है .क्योंकि यैसा न करने पर लोग समझते हैं कि उन्हे अपने पति की फिक्र ही नहीं है . कुछ महिलायें इस प्रकार के व्रत को पति पत्नी के बीच प्यार के रिश्ते की बकालत करते हुये कहती हैं कि हमारे साथ पति भी यह व्रत रखते हैं ,उनका कहना है कि इस व्रत के बहाने पति से अच्छी साड़ी या ज्वेलरी का गिफट भी मिल जाता है . परन्तु गांव देहात की अधिकतर महीलायों ने इस व्रत को मजबूरी बताया हैं.गांव में रहने वाली सरकारी स्कूल की टीचर अनुराधा बताती हैं कि वो इस प्रकार के कोई व्रत नहीं रखती थी . दो साल पहले उनके पति का मोटर वाईक से स्लिप होने से एक पैर में फे्रक्चर हो गया था . उनकी सास ने उससे कहा कि पति की सलामती के लिये करवा चौथव्रत रखा कर तो मजबूरन उसे रखना पड़ा . उनका मानना हैं कि यहपारंपरिक और रूढ़िवादीव्रत हैं जिसे घर के बड़ो के कहने पर रखना पड़ता हैं क्योंकि कल को यदि उनके पति के साथ संयोग से कुछ हो गया तो उसे हर बात का शिकार बनाया जायेगा.

प्रश्न उठता है कि क्या पत्नी के भूखे प्यासे रहने से पति दीर्घायु या स्वस्थ्य हो सकता है ?यदि सच देखा जाये तो समाज में अनगिनत महिलायें यैसी हैं जो इन व्रत उपवासों को रखने के वावजूद भी अपने पति को खोकर विधवा हो चुकी हैं . सुहागनों के लिये बनाये गये जितने पर्व त्यौहार में महिलायें व्रत उपवास रखती हैं ,इसके बावजूद भी विधवा महिलाओं की संख्या हिन्दू धर्म में सबसे ज्यादा है .दिन भर बिना दाना ,पानी के रहना भी एक प्रकार का शारीरिक अत्याचार ही है . धर्म का मौज करने वाले दुकानदारों ने इस प्रकार के व्रतों की काल्पनिक कथायें गढकर इस देश की महिलाओं को भावनात्मक रूप से पाप पुण्य के जाल में फंसाकर यैसे पर्व त्यौहारों को बढ़ावा देने की कोशिश की है. वास्तव में इस पकार के व्रत त्यौहार आज के समय में निरर्थक ही है.

व्यवहारिक दृष्टिकोण से देखा जाये तो पति की सलामती की चिंता उन्ही महिलाओं को ज्यादा रहती है जो आर्थिक रूप से कमजोर हैं और पति के संरक्षण में रहती हैं . उन्हे हर वक्त यही डर रहता है कि पति के न रहने से वे अपना और बच्चों का पालन पोषण कैसे करेंगी . मु्फ्त की दक्षिणा वटोरने वाले पंडे इन महिलाओं को यही भय दिखाकर व्रत या उपवास के लिये उकसाते हैं . हमारी पौराणिक कथाये भी यही कहती हैं कि सती ,सीता ,उर्मिला,द्रोपदी और अहिल्या जैसी नारियां पति के संरक्षण में रहकर उनके हर एक आदेश को गुलाम बनकर स्वीकार करती रहीं . जबकि शूर्पणखा और हिडम्बा जैसी औरतें किसी के संरक्षण की बजाय अपने बलबूते पर जंगलों में अकेली रहती थी . आज भी देश विदेश में कामयाबी का परचम फहरा रही हजारों महिलायें वहीं हैं ,जिन्होने इन व्रत ,उपवासों के चोचलों से बाहर निकलकर अपनी योग्यता ,लगन और मेहनत से सफलता प्राप्त की है .

इन नये नये व्रत , पर्व और त्यौहारों को बढ़ावा देने में हमारे टीवी चैनलों के धारावाहकों की भी खास भूमिका है .महिलाओं के इन व्रत उपवासों पर आधारित सीरियलों ने निम्न मध्यम वर्ग की महिलाओं को अपने जाल में फांस लिया है.चिंता का विषय ये है कि उच्च वर्ग की महिलाओं का यह आधुनिक वर्ग करवा चौथ के बाजारीकरण से प्रभावित हो कर ज्यादा ढकोसले बाज हो गया है  .करवा चैथ के पूर्व की पार्टियां ,शापिंग ,और सजने संवरने के नाम पर व्यूटी पार्लरों में लंबी रकम खर्च कर दिन भर निर्जला उपवास कर अपने शरीर को कष्ट देकर सेहत के साथ खिलवाड़ ही है .

पुरूषवादी सोच आज भी महिलाओं के प्रति बदली नहीं है. निम्न मध्यम वर्ग के साथ पढ़े लिखे उच्च वर्ग मे भी महिलाओं के शोषण और उत्पीड़न की कहानियां आये दिन अखवारों की सुर्खियां बनती रहती हैं . समाज में महिलाओं को मानसिंक और शारीरिक उत्पीड़न का सामना करना पड़ता है . वास्तव में इस तरह के उपवास से न तो कोई देवी देवता प्रसन्न होते हैं और न ही कोई दीर्घायु होता हैं .

महिलाओं को व्रत ,उपवास या कथा पुराण में पंडे पुजारियों को मौज का अवसर देने की बजाय अपने पति या परिवार के कामकाज में सहभागी बनकर अपने आपको आर्थिक रूप से सुदृढ बनाने पर जोर देना चाहिये . आर्थिक मजबूती से ही पति और पूरा परिवार सलामत रह सकता है .

लेखकों को भारतीय साहित्य और संस्कृति से जोड़ेगी प्रधानमंत्री युवा योजना

  युवराज मलिक

 डायरेक्टर, नेशनल बुक ट्रस्ट, इंडिया

युवा लेखकों को भारतीय साहित्य और संस्कृति का प्रतिनिधित्व करने के लिए सक्षम बनाने की योजना नेशनल बुक ट्रस्ट, इंडिया द्वारा शुरू की गई है. प्रधानमंत्री युवा योजना नाम से इस योजना की शुरुआत हो चुकी है. नेशनल बुक ट्रस्ट के डायरेक्टर श्री युवराज मलिक की कुशल देखरेख में यह योजना चलाई जा रही है. युवराज मलिक इससे पहले भारत सरकार के लिए विभिन्न पदों पर रहते हुए अपनी नेतृत्वक्षमता साबित कर चुके हैं. पेश हैं, प्रधानमंत्री युवा योजना के सिलसिले में उनसे हुई बातचीत के कुछ अंश:

खास तौर पर केवल युवाओं के लिए योजना लाने के पीछे क्या वजह है?

बदलते वक्त के साथ हमारी संस्कृति कहीं खोती जा रही है तो आने वाली पीढ़ी का उसमें रूझान बढ़ाने के लिए यह योजना बनाई गई है. अगले वर्ष भारत की स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे हो रहे हैं, आजादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत इंडिया 75 प्रोजेक्ट में प्रधानमंत्री द्वारा लाई गई यह योजना आज के युवा लेखकों को देश के इतिहास से जोड़ने का काम करेगी.

ये भी पढ़ें- हम क्यों बोलते हैं झूठ

प्रधानमंत्री युवा योजना में हिस्सा लेने के लिए प्रतियोगियों को किनकिन बातों का ध्यान रखना होगा?

इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए युवा लेखकों के द्वारा आयोजित की गई अखिल भारतीय प्रतियोगिता में हिस्सा लेना होगा जिसके तहत वे अपने लेखन की एक 5000 शब्दों की पांडुलिपी प्रस्तुत करेंगे. उस पांडुलिपी के आधार पर एनबीटी द्वारा गठित एक समिति 75 प्रतियोगियों का चयन करेगी जिन्हें फिर आगे प्रशिक्षण और मार्गदर्शन दिया जाएगा. कोई भी भारतीय नागरिक जिसकी उम्र 30 वर्ष या उस से कम है या पीआईओ व भारतीय पासपोर्ट रखने वाले एनआरआई इस प्रतियोगिता में भाग ले सकते हैं. सिर्फ उन्हीं प्रविष्टियों को चयन के लिए स्वीकारा जाएगा जिनके प्रमुख विषय होंगे अज्ञात नायक (अनसंग हीरो), राष्ट्रीय आंदोलन के बारे में अल्प ज्ञात तथ्य, राष्ट्रीय आंदोलन में विभिन्न स्थानों की भूमिका, राष्ट्रीय आंदोलन आदि के राजनीतिक, सांस्कृतिक, आर्थिक या विज्ञान संबंधी पहलुओं  से संबंधित नए दृष्टिकोण.

योजना कब लागू की जाएगी और क्या होगा इसका  एक्शन प्लान?

यह प्रतियोगिता 1 जून से 31 जुलाई तक राष्ट्रीय स्तर पर शुरू की जा चुकी है. योजना 6 महीने की अवधि की होगी जिसमें प्रतियोगियों को मार्गदर्शित किया जाएगा और प्रशिक्षण भी दिया जाएगा. चयनित लेखकों के नामों की घोषणा 15 अगस्त, 2021 को स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर की जाएगी. योजना को 3-3 महीनों के 2 चरणों में बांटा गया है. पहला चरण प्रशिक्षण पर आधारित होगा और दूसरा प्रोत्साहन पर. योजना के आयोजन में इस बात का खास तौर पर ध्यान रखा गया है की प्रतियोगियों को प्रकाशन के  इको-सिस्टम की हर छोटी से छोटी जानकारी प्रदान की जाए. योजना की सारी जानकारी एनबीटी की वेबसाइट पर उपलब्ध है.

इस योजना में एनबीटी की क्या  भूमिका होगी?

इस योजना में एनबीटी कार्यान्वयन एजेंसी की भूमिका निभा रहा है. हम प्रतियोगियों के चयन से लेकर उनकी पुस्तकों के विमोचन तक, इस योजना के हर चरण से जुड़े रहेंगे. लेखकों को एनबीटी के निपुण लेखकों और रचनाकारों के पैनल से 2 प्रख्यात लेखकों/मार्गदर्शकों द्वारा प्रशिक्षित किया जाएगा. इसके अलावा, योजना के अंत में हम प्रतियोगियों की पुस्तकों का प्रकाशन, विमोचन और उनका अन्य भारतीय भाषाओं में अनुवाद भी करेंगे.

योजना में भाग लेने वाले चयनित युवा लेखकों को क्या लाभ मिलेगा?

इस योजना के माध्यम से नवोदित लेखकों को अपनी लेखन कौशल को  सुधारने का एक सुनहरा अवसर प्रशिक्षण  के रूप में मिलेगा. मेंटरशिप प्रोग्राम सफलतापूर्वक पूरा होने पर लेखकों को  उनकी पुस्तकों के सफल प्रकाशन के बाद  10% रॉयल्टी भी दी जाएगी. योजना में  चयनित लेखकों के लिए छात्रवृति का भी प्रावधान है जिसमें प्रत्येक लेखक को  50,000 रु. प्रति माह 6 माह तक प्रदान  किये जाएंगे.

इस सबके अलावा चयनित लेखकों को विभिन्न प्रकार के अंतराष्ट्रीय कार्यक्रम जैसे कि साहित्य उत्सव, पुस्तक मेले, आभासी पुस्तक मेले, संस्कृत आदान प्रदान कार्यक्रम आदि के माध्यम से अपने ज्ञान का विस्तार करने का एवं कौशल विकास करने का अमूल्य अवसर प्राप्त होगा.

क्या इससे ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ को बढ़ावा मिलेगा?

यह योजना लेखकों का एक वर्ग विकसित करने में मदद करेगी जो भारतीय विरासत, संस्कृति और ज्ञान-प्रणाली को बढ़ावा देने के लिए विविध वर्णी विषयों पर लिख सकते हैं.

ये भी पढ़ें- पत्नी हो तो ऐसी

पाठकों के लिए कोई खास संदेश?

यह युवा लेखकों के लिए एक बेहतरीन योजना है. एनबीटी ऐसी योजनाओं को  सामने लाने के लिए निरंतर काम कर रहा  है जिससे भारतीय संस्कृति और कला को बढ़ावा मिलेगा. जब देश के युवा नागरिक रीडिंग कल्चर को बढ़ावा देंगे तो जाहिर है  देश भी आगे बढ़ेगा. जैसा कि माननीय प्रधानमंत्रीजी कहते हैं, ‘‘पढ़ेगा भारत तभी तो बढ़ेगा भारत’’.

अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें