5 टिप्स: बदलते मौसम में स्किन का रखें खास ख्याल

बदलते मौसम का स्किन पर बहुत गहरा असर पड़ता है. आपकी स्किन भी क्या धूप के गहरे प्रभाव में आ जाती है या फिर ठंडी हवा से रुखी हो जाती है. आज हम आपको बता रहे हैं कैसे बदलते मौसम में आप अपनी स्किन की देखभाल करें. बदलते मौसम के दौरान ये जरूरी होता है कि स्किन को एक अच्छे क्लीनजर और मॉइस्चराइजर से सुरक्षित किया जाए. आपके शरीर के अन्य हिस्सों के मुकाबले चेहरे की स्किन के टिश्‍यूज ज्यादा नाजुक होते हैं, इसीलिए इन्हें अतिरिक्त देखभाल की आवश्यकता होती है.

आपके चेहरे के लिए सही प्रोडक्‍ट्स के चयन से आप हर मौसम में अच्‍छी स्किन पा सकते हैं. जैसे सर्दियों में स्किन को मॉइस्चराइज रखना बहुत जरूरी होता है, क्योंकि सर्दियों में स्किन की नमी खोकर यह रूखी हो जाती है. वैसे ही गर्मियों के दिनों में स्किन को तैलीय होने से बचाना चाहिए. बदलते मौसम में स्किन की सुरक्षा के लिए जरूरी बातें..

1. स्किन के हाइड्रेशन का रखें ख्याल

ये बात न भूलें कि आपके शरीर के हर जगह पर स्किन की मोटाई, अलग-अलग होती है, इसलिए इनके उपाय भी अलग-अलग होते हैं. आप ये बात नहीं जानते होंगे कि आपके शरीर में हाथ और पैर कम तेल उत्पन्न करते हैं, इसलिए इन्हें बार-बार मॉइस्चराइज करने की जरूरत पड़ती है. आपको रात में सोते समय मॉइस्चराइज का इस्तेमाल करना चाहिए. स्किन को मुलायम, लचीला तथा युवा बनाए रखने के लिए मिनरल ऑइल आधारित बॉडी लोशन लगाएं.

ये भी पढ़ें- 200 से कम की कीमत के ये 4 लिप बाम, रखेंगे आपके होठों का ख्याल

2. खरीदने से पहले जानें साबुन के बारे में

साबुन खरीदते समय ध्यान दें कि आप 5 से 5.5 की पीएच वैल्यू के बीच का ही मुलायम साबुन खरीदें. आपको यह बात भी ध्यान रखना चाहिए कि आपके साबुन में पर्याप्त मात्रा में मिनरल ऑयल या ग्लिसरीन मौजूद हो. यदि बाजार में आपको ऐसा साबुन नहीं मिलता. तो आप नहाने के बाद मिनरल्स ऑयल पर आधारित बॉडी लोशन या मॉइस्चराइज भी लगा सकते हैं.

3. मौइस्चराइज से जुड़ी बातें जानें

मिनरल ऑइल आपकी स्किन के लिए बहुत फायदेमंद होता है. अलग-अलग उम्र में शरीर विभिन्न हॉर्मोन्स पैदा करते हैं और एक उम्र के बाद ऐसा होना बंद हो जाता है, जिससे आपकी स्किन रूखी होने लगती है. इसलिए शरीर को नियमित तौर पर मॉइस्चराइज करना बहुत जरूरी होती है.

4. नहाते समय ध्यान रखें ये बात

अपने शरीर में हमेशा नमी बनाए रखने के लिए एक बात यह ध्यान रखें कि नहाने के बाद आप शरीर को पूरी तरह न सुखाकर, इसे हल्के से पोंछ कर एक अच्छी मॉइस्चराइज क्रीम लगाना चाहिए.

ये भी पढ़ें- Valentine’s Day: खास दिन के लिए ऐसे करें मेकअप

5. पैर का रखें ख्याल

पैरों को सबसे ज्यादा एक्सफोलिएट करने और मॉइस्चराइज करने की जरूरत होती है. आप ये कर सकते हैं कि एक हिस्सा मिनरल ऑइल के साथ दो हिस्सा ग्लिसरीन लें और इसे लगाकर पूरी रात लगाकर रखें. इससे आपकी स्किन हाइड्रेट होती है और नर्म एवं मुलायम भी बनेगी. गर्मियों के मौसम में भी पैरों को इसकी जरूरत होती है.

कुछ ही पलों में अपने फटे हाथों को बनाएं खूबसूरत

आप अपने हाथों की देखभाल के लिए क्‍या-क्या करती हैं, फिर भी कई बार तेज ठण्ड और तेज गर्मी में आपके हाथों की त्‍वचा फट जाती है. यह समस्‍या सर्दियों में ज्यादा बढ़ जाती है. अगर आप आपने हाथों की फटी त्‍वचा को गंभीरता से नहीं लेते तो आगे चलकर यह आपके लिए बड़ी समस्या बन जाते हैं. आपके शरीर के अन्‍य अंगों की अपेक्षा हाथ अधि‍क सूखे हो जाते हैं. एक बहुत छोटी सी बात को आपको ध्यान रखना चाहिए कि हाथों के फटने जैसी शिकायत होने पर अच्‍छी कि‍स्‍म की और केवल एंटीसेप्‍टि‍क क्रीम का ही  इस्‍तेमाल करना चाहि‍ए, वो भी नि‍यमि‍त रूप से.

अगर आप दिन में बार-बार अपने हाथो को धोते रहती हैं, तो हम आपको बता देना चाहते हैं कि में कई बार हाथों को धोने से उनकी नमी खोने लगती है और हाथों की त्वचा कठोर और  खुरदुरी हो जाती है, फिर फटने भी लगती है. आपके हाथों को उचित देखभाल की खासी जरुरत होती है. शायद ये बात आपको मालूम नहीं होगी कि आपके हाथों को चेहरे से ज्यादा देखभाल की आवश्यकता होती है. हाथों के फटने की समस्या अक्सर महिलाओं में सबसे ज्यादा देखी जाती है.

आइए हम आपको बताते हैं कि आप कैसे फटे हुए हाथों को जल्द ही खूबसूरत बना सकते हैं. इसके लिए यहां कुछ आसान उपाय दिए गये हैं..

1. फटे हुए हाथों को जल्द ही सुंदर बनाने के लिए हाथों पर नियमित रूप से मॉश्‍चराइजर लगाएं. मॉश्चराइजर लगाने से हाथों का रुखापन व फटी हुई त्वचा जल्दी ठीक हो जाती है.

2. रात को सोने से पहले अच्छे से मॉश्चराइजर लगाकर, ग्लोव्स पहन लें. ऐसा करने से हाथ फटने और खुरदुरे होने से बचते हैं.

3. सर्दी के मौसम में तो हाथों का बार-बार रूखा हो जाना स्वाभाविक है. अगर आपको भी घर में कपड़े और बरतन धोने होते हैं तो ऐसे में जरूरत है कि हाथों को नियमित तौर पर मॉश्चराइजर किया जाए.

4. एक बहुत ही सामान्य सा उपाय है जो अक्सर आप करते भी होंगे, ग्लिसरीन और गुलाबजल को मिलाकर एक बोतल में भर कर फ्रिज में रख लें. कुछ भी काम करने के बाद इसे को अपने हाथों पर लगा कर मसाज करना चाहिए. ऐसा नियमित रूप से ऐसा करने से आपको कुछ ही दिनों आपके हाथों में अंतर नजर आने लगेगा.

6. आपको दिन भर में कम से कम आठ से दस गिलास पानी पीना चाहिए. इससे त्वचा को नमी मिलती रहेगी और जाहिर तौर पर हाथों की फटने की समस्या कम होगी. ऐसा करना जरुरी है क्योंकि बॉडी लोशन या मॉश्चराइजर या किसी अन्य क्रीम्स आपकी त्वचा को केवल बाहर से ही नमी देता है और ज्यादा पानी पीने से आपको अंदर से नमी मिलती है.

7. हाथों पर कैमिकल मिले हुए उत्पादों के स्थान पर प्राकृतिक उत्पादों का इस्तेमाल करना चाहिए. प्राकृतिक रुप से बना लोशन जिसमें शीया बटर, एलोविरा व ऑलिव ऑयल युक्‍त पदार्थ मिले हुए हों उनका उपयोग करना चाहिए.

8. आपकी हथेलि‍यों के खुरदुरेपन को मि‍टाने के लि‍ए सि‍रका को अपने हाथों में लगाऐं. बाद में गर्म पानी में हथेलि‍यों को भि‍गोकर ब्रश से हल्‍के-हल्‍के रगड़ लेना चाहिए. अब हाथों को एक साफ और गर्म सूती कपड़े से पोंछकर कोई अच्छी क्रीम या बादाम तेल लगा लें. आपके हाथों पर तुरंत असर दिखेगा.

9. सबसे जरुरी और खास बात जो याद रखने योग्य है कि आपको अपने हाथों को धोने के लिए मॉश्चराइजर युक्त साबुन का ही उपयोग करना चाहिए, इससे आपके हाथ न रुखे होंगे न ही फटेंगे. साबुन में ऑलिव ऑयल मिक्स हो तो और भी अच्छी बात है.

उम्र के हिसाब से ऐसे करें स्किन केयर

कविता की शादी 23-24 साल की उम्र में हुई थी. वह बहुत खूबसूरत थी. अपनी शादी में जब वह अपना ब्राइडल मेकअप कराने गई थी तो ब्यूटीशियन ने कहा था कि तुम्हारी स्किन से तो उम्र का पता ही नहीं चल रहा है. जब वह ससुराल गई तो वहां भी लोगों ने यही कहा. खूबसूरत स्किन से कविता की उम्र कई साल कम दिखती.

शादी के 2 साल के बाद कविता का पहला बच्चा हुआ. इस के 4 साल बाद दूसरा बच्चा हुआ. अब तक कविता परिवार की जिम्मेदारी संभालने में पूरी तरह लीन हो गई थी. अब उसे अपनी केयर करने का खयाल ही नहीं रहता था. लगभग 15 साल बाद जब बच्चे बड़े हो गए और कविता ने घर से बाहर निकल कर देखना शुरू किया तो उसे लगा उम्र का असर उस पर दिखने लगा है.

समय पर अपना खयाल न रख पाने के कारण कविता अब अपनी उम्र से बड़ी दिखने लगी है. उस ने अपने बारे में सोचना शुरू किया तो उसे लगा कि पहले हमेशा उस की केयर करने वाला पति भी अब उस से दूरदूर रहने लगा है. कविता ने खुद को जब दूसरों की नजर से देखना शुरू किया तो लगा कि उस में जो आकर्षण पहले था वह खत्म हो गया है. इस में बहुत बड़ा हाथ उस की अपनी स्किन का था, जो देखभाल के अभाव में खराब हो गई थी. खराब स्किन ने उस की सुंदरता को खत्म कर दिया था. अब कविता को अपनी स्किन की देखभाल करने के लिए पहले से ज्यादा केयर की जरूरत थी. अगर उस ने पहले ही स्किन का खयाल रखा होता तो आज यह परेशानी नहीं होती.

लखनऊ के ‘पर्पल इन’ ब्यूटी सैलून की सौंदर्य विशेषज्ञा पायल श्रीवास्तव कहती हैं, ‘‘अपनी स्किन की प्राकृतिक सुंदरता बनाए रखने के लिए जरूरी है कि हर उम्र में उस का सही खयाल रखा जाए खासतौर पर सर्दियों के मौसम में. उम्र बढ़ने के हिसाब से स्किन को ज्यादा देखभाल और पोषण की जरूरत होती है. आमतौर पर महिलाएं इस बात का खयाल नहीं रखती हैं. ज्यादातर सुंदरता का मतलब मेकअप करने से लगाती हैं. मेकअप करने में इस्तेमाल होने वाले सौंदर्यप्रसाधन स्किन को नुकसान भी पहुंचा सकते हैं. इसलिए इस का भी ध्यान रखना जरूरी होता है.’’

1. किशोरावस्था का नाजुक दौर

इस अवस्था में लड़कियां मेकअप करने लगती हैं. 14 साल की उम्र तक उन की स्किन बहुत कोमल होती है. इतनी मुलायम होती है कि उसे देखभाल की जरूरत ही नहीं होती है. उन्हें इस उम्र में इस बात का खयाल रखना चाहिए कि वे अपनी स्किन पर कोई ऐसी चीज न लगाएं जो उन की स्किन की कोमलता को नुकसान पहुंचाए.

ये भी पढ़ें- कैसे चुनें सही फेस क्रीम

इस उम्र में स्किन पर वह क्रीम नहीं लगानी चाहिए, जिस में कैमिकल मिला हो. ठंड में कच्चे दूध या दही से स्किन को साफ करना चाहिए.

2. कालेज गर्ल्स रखें खास खयाल

स्किन की देखभाल का पहला कदम 18 साल की उम्र के करीब शुरू होता है. इस उम्र में लड़कियों के शरीर में हारमोनल बदलाव होते हैं. इस का प्रभाव स्किन पर भी पड़ता है. तैलीय स्किन होने पर चेहरे पर मुंहासे होने शुरू हो जाते हैं. इस बदलाव से पूरे चेहरे पर औयली लुक दिखने लगता है. देखभाल न करने पर स्किन पर छोटेछोटे दाने पड़ जाते हैं. कभीकभी इन में पस भी भर जाता है.

इस से बचने के लिए औयली चीजों का सेवन बंद कर देना चाहिए. अचार, मांसमछली और मसाला युक्त खाना नहीं खाना चाहिए. ताजे फल और सब्जियां खानी चाहिए. पानी भी खूब पीना चाहिए. इस से खूब पसीना निकलेगा, जिस से स्किन के रोमछिद्र खुल जाएंगे और उन्हें ताजा हवा मिलेगी. ठंड के मौसम में रसदार फलों का सेवन करना चाहिए.

मुंहासों को कभी नाखून से नहीं नोचना चाहिए. दबा कर भी ठीक करने की कोशिश नहीं करनी चाहिए. उन की सफाई करने के लिए गरम पानी में एक छोटा टौवेल डाल कर उस से मुंहांसों की सफाई करनी चाहिए. रात में सोते समय अच्छी किस्म का औयल फ्री मौइस्चराइजर लगाना चाहिए.

3. शादी से पहले स्किन केयर

स्किन की देखभाल की असली जरूरत 25 साल के बाद आती है. इस दौर में शादी और कैरियर का दबाव बढ़ता है. यह औरतों के लिए चैलेजिंग काम होता है. उम्र के इस दौर में उन्हें घर, परिवार, कैरियर, पति और बच्चों के बीच तालमेल बैठाना होता है. गर्भावस्था का भी स्किन पर बहुत प्रभाव पड़ता है. इस समय शरीर में तमाम तरह के हारमोनल बदलाव होते हैं, जिन से स्किन की खूबसूरती प्रभावित होती है. जो औरतें धूप में रहती हैं वे सनबर्न का शिकार हो जाती हैं. इस से स्किन पर तमाम तरह के दागधब्बे पड़ जाते हैं.

उम्र बढ़ने के बाद स्किन की देखभाल करने के साथसाथ सेहत का भी खयाल रखना पड़ता है. इस उम्र के बाद औरतों में मेनोपौज की शुरुआत हो जाती है. इस से भी हारमोनल बदलाव होते हैं, जिस से चिड़चिड़ापन, आराम करने का मन, मोटापा बढ़ना और दूसरी कई बीमारियां होने लगती हैं, जो स्किन को प्र्रभावित करती हैं. इस उम्र में चेहरे पर  झांइयां और  झुर्रियां भी होने लगती हैं.

इस उम्र में स्किन की देखभाल करने के लिए सब से पहले अपने खानपान का खयाल रखना चाहिए. अंकुरित अनाज को सुबह के नाश्ते में शामिल करें. खाने में फल और सलाद को प्रमुखता से शामिल करें. जिन चीजों में प्रोटीन ज्यादा मात्रा में पाया जाता है उन का सेवन करें. दाल, पनीर और अंडा इन में खास हैं. चावल सप्ताह में 1 बार ही खाएं. सुबह सैर जरूर करें. हलकी ऐक्सरसाइज स्किन को खूबसूरत बनाती है.

4. ये तरीके भी आजमाएं-

जिन की स्किन औयली न हो उन्हें मलाई चेहरे पर लगानी चाहिए. 5 मिनट इस मलाई से चेहरे की मालिश करनी चाहिए. 1 बादाम घिस कर उस का लेप चेहरे पर लगाएं. आधे घंटे बाद कच्चे दूध से इसे हटा दें. फिर चेहरे को ठंडे पानी से धो लें.

दूध में ब्रैड मिला कर स्क्रबर जैसा बना लें. इसे स्किन पर लगाएं. कुछ समय बाद रगड़ कर छुड़ा लें. इस से स्किन में चमक आएगी. वह साफ हो जाएगी और उसे किसी तरह का कोई नुकसान भी नहीं होगा.

ये भी पढ़ें- 10 टिप्स: सर्दियों में ऐसे दें लिप्स को नमी और शाइन

1 चम्मच मुलतानी मिट्टी, 1 चम्मच कैथोरिन पाउडर को 1 चम्मच प्याज के रस में मिला कर पेस्ट तैयार कर चेहरे पर लगाएं. आधे घंटे बाद चेहरे को धो लें. इससे स्किन की चमक बनी रहेगी.

बादाम और लौंग को बराबर मात्रा में ले कर पाउडर बना लें. आधा चम्मच पाउडर को कच्चे दूध में मिला लें. इस में चुटकीभर हलदी मिला लें. फिर इसे स्किन पर लगाएं. थोड़ी देर बाद चेहरे को साफ पानी से धो लें. स्किन चमक उठेगा

शौपिंग प्लाजा: फेस्टिव सीजन में खरीदे ये यूजफुल चीजें

टाइटन के नए ब्रैंड तनाएरा ने दिल्ली के क्राफ्ट्स म्यूजियम में एक विशेष कार्यक्रम ‘परिचय’ का उद्घाटन किया, जिस में हाथ से बनी खादी की 150 साडि़यां प्रदर्शित की गईं. खादी से बनी तनाएरा की ये साडि़यां पूरी तरह स्वदेशी हैं.

1. नाम्या की पेशकश

नाम्या ले कर आया है नया बौडी टोनिंग और स्कल्पटिंग वंडर औयल जो प्राकृतिक गुणों से बना है. इस बौडी औयल को पूरे शरीर पर इस्तेमाल किया जा सकता है. यह स्ट्रैच मार्क्स, ड्राइनैस, क्षतिग्रस्त त्वचा, फाइन लाइनों और झुर्रियों की स्थिति में मददगार है. इस के 200 एमएल पैक की कीमत ₹800 है.

ये भी पढ़ें-अलग लुक के लिए ऐसे करें इंडोर लाइटिंग

2. हवाइयंस का ऐनिमल प्रिंट

हवाइयंस ले कर आया है ट्रैंडी ऐनिमल प्रिंट्स से सजे नए फ्लिप फ्लाप, जो आप के व्यक्तित्व की मजबूती को दर्शाते हैं. ये बोल्ड और एलिगैंट होने के साथ ही इंस्टैंट फैशन स्टेटमैंट बनाते हैं. किसी भी लुक को ग्लैमरस या आकर्षक बनाने के लिए आप मेटैलिक स्ट्रैप वाले इस प्रिंटेड फुटवियर को अपना सकती हैं. हवाइयंस स्लिम ऐनिमल्स की कीमत ₹999 है.

3. फेबइंडिया सिल्वर कौइन

कमल, मयूर और बरगद के पेड़ जैसी खूबसूरत पारंपरिक डिजाइनों से सजे फेबइंडिया सिल्वर कौइन फैस्टिव सीजन के दौरान शानदार गिफ्टिंग सौल्यूशन बन सकते हैं. ये 99.9% चांदी से बने हैं. 10 ग्राम सिक्के की कीमत ₹990 और 50 ग्राम के सिक्के की ₹3,990 है. ये सिक्के फेबइंडिया स्टोर्स में और औनलाइन उपलब्ध है.

4. एस्टाबेरी की पेशकश

एस्टाबेरी बायोसाईंसेस ने अपना नया पपाया फेस वाश बाजार में उतारा है, जो त्वचा को मौइस्चराइज करने के साथ अनचाही पिगमैंटेशन कम करता है. यह गाजर और सोया प्रोटीन के एक्सट्रैक्ट्स जैसे प्राकृतिक तत्त्वों से युक्त है और त्वचा की समस्याओं से निबटता है. यह रंगत सुधारने का काम करता है और टैनिंग को दूर करता है. इस के 100 एमएल पैक की कीमत ₹110 है. यह एक फ्री फेयरनेस क्रीम के साथ आता है. इस के 50 एमएल पैक की कीमत ₹85 है.

ये भी पढ़ें- आ गया बागबानी का सीजन

5. मोदीकेयर की अर्बन कलर प्रो व्हाइट स्किन रेंज

मोदीकेयर ले कर आया है अर्बन कलर प्रो व्हाइट स्किन रेंज. इस में 4 इन 1 रैडिएंस व्हाइटनिंग कौंप्लैक्स है, जो स्किन टोन का निखार बढ़ाने और उस की सुरक्षा के लिए डिजाइन किया गया है. यह गहरे धब्बों को कम करता है तथा लंबे समय तक हाइड्रेशन प्रदान करता है. मोदीकेयर प्रो व्हाइट रेंज उत्पाद ₹499 से ₹1699 के बीच हैं.

6. मैजिकल मिसलर

ब्लू हैवन ले कर आया है बी फेज मिसलर क्लींजिंग वाटर. इस के प्रयोग से आप बहुत आसानी से एक हलके से स्वाइप के साथ अपना सारा मेकअप रिमूव कर सकती हैं. यही नहीं यह त्वचा को हाइड्रेशन और नरिशमैंट भी देता है. इस के 125 एमएल पैक की कीमत ₹150 है.

7. ओशिया का रेडिएंस डी-टैन फेस पैक

ओशिया हर्बल्स ने नया ओशिया रेडिएंस डी-टैन फेस पैक बाजार में उतारा है, जिस में लिकोराइस के ऐक्सट्रैक्ट्स की अच्छाई है. यह सनटैन से छुटकारा पाने के लिए प्रभावी है. लिकोराइस के अलावा इस में मौजूद बादाम का तेल, शियाबटर, ग्लिसरीन, शहतूत, एलोवेरा धूप व प्रदूषण के कारण त्वचा में हुए क्षति को कम करता है. साथ ही यह त्वचा को पर्याप्त पोषण प्रदान कर फिर से जीवंत, तरोताजा, तेल मुक्त और असमान त्वचा टोन प्रदान करता है. इस के 120 ग्राम पैक की कीमत ₹285 है.

8. हिबिस्कस मंकी के उत्पाद

हिबिस्कस मंकी ने ब्यूटी, वूमन पर्सनल केयर और मैंस्ट्रुएशन से जुड़ी रूढि़वादी सोच को तोड़ने के लिए कुछ परंपरागत उत्पाद बाजार में पेश किए हैं. इन उत्पादों की रेंज में 5 खास उत्पाद हैं जो बालों, त्वचा और माहवारी के दौरान नैचुरल और कैमिकल फ्री केयर देते हैं. वहीं हिबिस्कस हेयर औयल भारतीय महिलाओं को ठंडीठंडी चंपी का वही पुराना एहसास याद दिला देता है.

ये भी पढ़ें- DIWALI 2019: इस दीवाली ट्राय करें ये 9 रंगोली

नवजात को स्किन एलर्जी से बचाएं ऐसे

बच्चों की स्किन खासकर नवजातों की बहुत नाजुक होती है. कमजोर होने के कारण वे बहुत जल्दी एलर्जी व इन्फैक्शन के संपर्क में भी आ जाते हैं, इसलिए उन्हें खास केयर की जरूरत होती है. इस संबंध में एशियन इंस्टिट्यूट औफ मैडिकल साइंस के डा. सुमित चक्रवर्ती शिशु को एलर्जी से बचाने के कुछ खास टिप्स बता रहे हैं:

क्या है स्किन एलर्जी

जब बेबी की स्किन ऐलर्जन यानी एलर्जी पैदा करने वाले तत्त्वों से प्रभावित होती है या फिर बौडी जब एक एलर्जी द्वारा ट्रिगर रासायनिक हिस्टामाइन का उत्पादन करता है तो स्किन ऐजर्ली होती है.

बच्चों में आमतौर पर यह एलर्जी डायपर से, खाने से, साबुन व क्रीम से, मौसम में आए बदलाव व कई बार कपड़ों के कारण भी हो जाती है. इस का प्रभाव खासकर सैंसिटिव स्किन पर सब से ज्यादा पड़ता है, जिसे स्पैशल केयर की जरूरत होती है.

ये भी पढ़ें-जानें किन वजहों से होती है वेजाइना में इचिंग

कैसी-कैसी स्किन एलर्जी

ऐक्जिमा: यह अक्सर 3-4 महीनों के बच्चों में देखने को मिलता है. इस में बौडी के किसी भी हिस्से पर लाल रंग के रैशेज दिखाई देने लगते हैं, जिन में इतनी खुजली होती है कि बच्चे के लिए उसे सहन करना मुश्किल हो जाता है.

कारण: यह बीमारी अकसर या तो जेनेटिक या फिर कपड़े, साबुन, गंदगी व बदलते मौसम के कारण होती है. ऐसे में आप को जब भी अपने बच्चे की स्किन पर लाल रंग के रैशेज दिखाई दें तो तुरंत डाक्टर से संपर्क करें.

क्या करें: अपने बच्चे की स्किन को रोजाना माइल्ड सोप से क्लीन करें. स्किन को ज्यादा देर तक गीला न रखें वरना उस पर एलर्जी के चांसेज बढ़ जाते हैं.

डायपर रैश से बचें ऐसे

बच्चा साउंड स्लीप ले, इस के लिए पेरैंट्स उसे हर समय डायपर पहनाए रखते हैं, लेकिन लंबे समय तक डायपर पहनाए रखना बच्चे की स्किन पर सूजन व रैशेज का कारण बनता है. इस के कारण बच्चे को इतनी ज्यादा खुजली होती है कि कई बार स्किन छिल तक जाती है.

कारण: लंबे समय तक डायपर चेंज न करना, अधिक गीला डायपर, जरूरत से ज्यादा टाइट डायपर रैशेज का कारण बनता है.

ये भी पढ़ें-इलाज से पहले जानें आखिर क्यों होती है एलर्जी

क्या करें: हर 2-3 घंटों में डायपर को चेंज करें और चेंज करने से पहले स्किन को अच्छी तरह क्लीन करें, साथ ही डाक्टर की सलाह पर डायपर रैशेज क्रीम भी लगाएं. अगर बच्चे को डायपर पहनने में दिक्कत हो रही हो तो उस की स्किन को खुला छोड़ें. इस से धीरेधीरे रैशेज सूखने लगेंगे, जिस से खुजली व जलन में कमी आएगी.

बग बाइट रैशेज में करें ये

अकसर गरमियों में मच्छर या फिर बैड बग की वजह से बच्चों की स्किन पर रैशेज पड़ जाते हैं और उन में खुजली करने के कारण ये बाकी जगह को भी प्रभावित करने लगते हैं, जिस से बच्चे चैन की नींद नहीं सो पाते हैं.

कारण: अकसर गंदगी के कारण घर में कीड़ेमकोड़े होेते हैं, जिन से बचने के लिए घर की रोज अच्छी तरह सफाई करें.

क्या करें: तुरंत डाक्टर को दिखाएं ताकि ऐंटीबायोटिक क्रीम से रैशेज व जलन को कम करने में मदद मिले. बच्चे को ज्यादा टाइट कपड़े पहनाने से बचें.

हीट रैशेज से बचें ऐसे

गरमियों में बच्चों की स्किन खासकर उन के चेहरे, गरदन, अंडरआर्म व जांघों के पास हीट रैशेज हो जाते हैं, जिन में खुजली होने के कारण उन्हें काफी परेशानी होती है.

कारण: बौडी पर पसीने का जमा होना व तंग कपड़े पहनना हीट रैशेज का कारण बनता है.

क्या करें: बच्चे को ठंडी जगह रखें. उसे टाइट कपड़े पहनाने से बचें.

रिंग वार्म में करें ये

यह एक तरह का फंगल इन्फैक्शन होता है, जो आमतौर पर स्कैल्प, पैरों पर अपना प्रभाव डालता है और छूने पर एक से दूसरी जगह फैलता है.

कारण: यह गंदे टौवेल, कपड़ों, खिलौनों व पसीने के एक जगह इकट्ठा होने के कारण होता है.

क्या करें: जब भी बच्चे को प्रौब्लम हो तो उसे डाक्टर की सलाह पर ऐंटीफंगल क्रीम लगाएं और इस बात का खास ध्यान रखें कि जब भी क्रीम लगाएं तो प्रभावित जगह को पहले अच्छी तरह साफ कर लें.

सिर पर पपड़ी जमना

जन्म के समय शिशु के सिर पर पपड़ी जमा रहती है, जो आम बात है. लेकिन कई बार बाद में भी शिशुओं में इस तरह की समस्या देखने को मिलती है, जो काफी तकलीफदेह होती है. इसे क्रेड कैप स्किन रोग भी कहते हैं.

कारण: बौडी की तेल ग्रंथियों में ज्यादा तेल बनने की वजह से शिशु को यह समस्या

होती है.

क्या करें: साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें. स्थिति गंभीर होने पर तुरंत डाक्टर को दिखाएं.

इन स्किन केयर टिप्स का भी रखें ख्याल

इन बातों का ध्यान रखकर नवजातों को स्किन इन्फैक्शन से बचाया जा सकता है:

– शिशु को नहलाने के बाद बेबी क्रीम लगाना न भूलें, क्योंकि इस से स्किन ड्राई नहीं होती है.

– बेबी के कपड़े साफ जगह रखें और उन्हें रोज धोएं ताकि शिशु इन्फैक्शन से दूर रहे.

ये भी पढ़ें-मामूली जख्मों के लिए ट्राय करें ये होममेड टिप्स

– नवजात के लिए सोप व शैंपू डाक्टर की सलाह पर ही खरीदें.

– अगर परिवार के किसी सदस्य को स्किन एलर्जी है, तो उस से नवजात को दूर रखें.

– गंदे हाथों से बच्चों की स्किन को टच न करें.

– सौफ्ट फैब्रिक से बने कपड़े ही पहनाएं.

– खानेपीने में साफसफाई का खास ध्यान रखें.

– बेबी को कवर कर के रखें ताकि कीड़े-मकोड़ों के काटने का डर न रहे.

त्वचा से लेकर वीर्य के लिए लाभकारी है प्याज, जानिए और भी गुण

हमारे रोज रोज के खानपान में प्याज एक अहम हिस्सा है. खाने में स्वाद बढ़ाने के लिए प्याज जरूरी है, साथ में अपने सेहतमंद गुणों के कारण ये और अधिक खास हो जाता है. इस खबर में हम आपको प्याज से होने वाले फायदों के बारे में बताएंगे.

सर्दी जुकाम में है लाभकारी

सर्दी जुकाम और कफ की समस्या में भी प्याज काफी असरदार होता है. इस दौरान इसके सेवन से गले को काफी आराम मिलता है. कफ होने पर प्याज के रस में मिश्री मिलाकर चाटने से काफी फायदा मिलता है.

बालों का रखे ख्याल

बालों के झड़ने में भी ये काफी असरदार होता है. अगर आपके बाल झड़ रहे हो तो आपको प्याज का सेवन खाने में करना चाहिए. इससे बालों की जड़ें मजबूत होती हैं.

त्वचा के लिए है फायदेमंद

आपको बता दें कि प्याज में एंटी-इंफ्लेमेट्री, एंटी-एलर्जीक, एंटी-औक्सीडेंट और एंटी-कार्सिनोजेनिक गुण होते हैं. अपने इन गुणों के कारण ये कई तरह के रोगों में बेहद लाभकारी हो जाता है. इससे बहुत सी बीमारियां दूर होती हैं, कई लोगों का ये भी मानना है कि प्याज के नियमित सेवन से लोगों की आयु भी अधिक होती है. इसके साथ साथ त्वचा की झुर्रियों में भी ये बेहद लाभकारी है   और इससे त्वचा में रौनक बरकरार रहती है.

वीर्य के लिए है फायदेमंद

अपनी इन खूबियों के अलावा वीर्यवृद्धि के लिए भी सफेद प्याज के रस को शहद के साथ इस्तेमाल किया जाता है. नपुंसकता को दूर करने में ये काफी असरदार होता है.

डायबीटिज में है असरदार

डायबिटीज के मरीजों के लिए भी कच्चा प्याज काफी लाभकारी होता है. इसे खाने से शरीर में इंसुलिन पैदा होती है. शरीर में शुगर के लेवल को बैलेंस करने में भी प्याज का अहम योगदान होता है.

 

त्वचा संबंधी इन परेशानियों का इलाज है अंडा

अंडा प्रोटीन का प्रमुख स्रोत होता है. इसके सफेद हिस्से में प्रोटीन और एलबुमिन की प्रचूर मात्रा होती है है. त्वचा संबंधी कई समस्याओं में ये बेहद कारगर होता है. आपको बता दें कि एलबुमिन वही तत्व है जिससे स्किन टोनिंग की जाती है. इस गुण के कारण झुर्रियों की समस्या कम होती है.

सूरज की रोशनी, प्रदूषण, स्मोकिंग, एल्कोहल, मोटापा, खानपान की आदतें, कैमिकल भरे स्किन प्रोडक्ट, डिहाइड्रेशन की वजह से त्वचा का इलैसटिन और कोलेजन नष्ट हो जाता है. इससे त्वचा पर पिंपल्स, झुर्रियां और उम्र के निशान नजर आने लगते हैं. आपको बता दें कि अंडे के सफेद हिस्से का फेस मास्क बना कर इस्तेमाल करने से स्किन टाइट होती है. यह त्वचा का सारा तेल सोक लेता है. इसके अलावा इसके विटामिन्स और मिनरल्स त्वचा के लिए बेहद फायदेमंद होते हैं.

इस खबर में हम आपको बताएंगे कि अंडा हमारी त्वचा के लिए कैसे फायदेमंद है.

औयली स्किन के लिए शानदार

औयली स्किन में मुहांसो और एक्ने की समस्या बेहद आम है. एग व्हाइट इस परेशानी में भी काफी कारगर है. इससे आपकी त्वचा में मौजूद अतिरिक्त तेल बाहर हो जाता है. मास्क लगाने से पहले चेहरे को गुनगुने पानी से धो लें. इसके बाद चेहरे पर मास्क लगाएं. मास्क सूखने के बाद चेहरे को ठंडे पानी से धो लें. नियमित तौर पर ऐसा करने से कुछ ही दिनों में आपको अंतर महसूस होगा.

स्किन टाइटनिंग

अंडे के सफेद हिस्से में ऐसे गुण होते हैं जो त्वचा के पोरों को छोटा कर त्वचा को टाइट करते हैं. एग व्हाइट मास्क बना कर उसमें नींबू डाल लें. उसे चेहरे पर लगाएं. कुछ देर तक उसे छोड़ दें. बाद में इसे गुनगुना पानी से धो लें. हफ्ते में दो बार इसका इस्तेमाल करने से आपको अंतर दिखेगा.

चेहरे के बाल हटाए

चेहरे पर छोटेछोटे बालों का आना एक आम परेशानी है. इससे नीजात पाने में एग व्हाइट मददगार है. माथे, गाल और अपर लिप्स पर छोटेछोटे बाल हटाने के लिए एग व्हाइट लगा सकती हैं. जब यह सूख जाए तो मास्क को खींचकर हटा लें.

कीलमुंहासों से छुटाकरा दिलाए

ऐक्ने या औयली स्किन त्वचा की ऊपरी परत पर धूल जमा होने की वजह से होते हैं. एग व्हाइट से आपकी त्वचा का एक्स्ट्रा तेल निकल जाता है जिससे अपने आप ऐक्ने और पिंपल खत्म हो जाते हैं.

इन 5 आसान उपायों से हटाएं ब्लैकहेड्स

क्‍या आपके चेहरे पर भी ब्‍लैकहेड हो गए हैं और आप काफी परेशान हैं. कई उपाय अपनाकर थक चुकी हैं पर ब्‍लैकहेड बार बार आपके चेहरे पर अपनी जगह बना लेता है. तो अब परेशान होने की जरूरत नहीं है क्योंकि , जिसमें सरसों के दानों से स्‍क्रबिंग की जाती है.

सरसों और मलाई

अपने चेहरे को सुंदर और आकर्षक बनाने के लिये सरसों और मलाई का प्रयोग कीजिये. 1 चम्‍मच दूध की मलाई और 1 चम्‍मच राई लेकर अपने चेहरे पर 3-4 मिनट तक के लिये रगड़िये. जब आप अपना चेहरा धोएंगी तो आप पाएंगी की चेहरा गोरा हो गया होगा और ग्‍लो करने लग गया होगा.

सरसों, नींबू और शहद

इस स्‍क्रब से चेहरे के डेड सेल हटेंगे, ब्‍लैकहेड हटेंगे, जिससे मिलेगा ग्‍लो करता हुआ चेहरा. 1 चम्‍मच राई, 1 चम्‍मच शहद और 1 चम्‍मच नींबू का रस ले कर मिला लीजिये और 2-3 मिनट तक चेहरे पर रगडिये.

सरसों और एलो वेरा

मसटर्ड और एलोवेरा जेल चेहरे के लिये एक बहुत ही अच्‍छा कौम्‍बिनेशन है, जो चेहरे को साफ करता है और गंदगी को निकाल फेकता है. 1 चम्‍मच सरसों और 2 चम्‍मच एलोवेरा जेल मिला कर अपने चेहरे पर स्‍क्रब कीजिये.

सरसों और कार्नफ्लोर

1 चम्‍मच सरसों का दाना, 1 चम्‍मच पानी और 1 चम्‍मच कार्नफ्लोर मिलाइये और 3 मिनट तक के लिये रगडिये. अपने चेहरे को पानी से धो लीजिये और फिर देखिये अंतर.

सरसों और तेल

1 चम्‍मच सरसों लीजिये और 2 चम्‍मच बादाम या कोई अन्‍य तेल ले कर मिला लीजिये. इस मिक्‍सचर को अपने चेहरे पर पहले क्‍लाकवाइज घुमाइये और फिर एंटी क्‍लाकवाइज दिशा में रगड़िये. इसको 3 से 4 बार करने के बाद चेहरे को पानी से धो लीजिये. ब्‍लैकहेड गायब हो जाएंगे.

बनाना फेस मास्क से पाइये दमकती त्वचा

केला आपकी त्वचा की देखभाल कर उसे आकर्षक, मुलायम व चमकदार बनाने में बड़ा महत्‍वपूर्ण रोल अदा करता है. इसके पेस्‍ट को लगाने से त्‍वचा पर असमय झुर्रियां नहीं पड़ती. यहां पर केले से बनाएं जाने वाले कुछ प्राकृतिक फेस मास्‍क दिये जा रहे हैं जिनका उपयोग कर आप कुछ ही दिनों में दमकती त्वचा पा सकती हैं.

केला

केले को पीस लें और अपने चेहरे तथा गर्दन पर लगाएं. इसको 10-15 मिनट के लिये चेहरे पर लगा रहने दें और बाद में ठंडे पानी से धो लें. आप चाहें तो इसके बाद अपने चेहरे पर बरफ भी लगा सकती हैं. केला लगाने से आपका चेहरा ग्‍लो करने लगेगा.

केला और तेल

एक पिसा हुआ केला और 1 चम्‍मच औलिव आयल या बादाम तेल को आपस में मिलाइये. अब इस पेस्ट को अपनी त्‍वचा पर लगाइये. इसे 10-15 मिनट तक के लिये लगा रहने दीजिये और फिर पानी से धो लीजिये.

केला और दूध

आधा केला लीजिये और उसमें 1 चम्‍मच दूध डालिये. इसे पीस लीजिये और चेहरे पर 15-20 मिनट के लिये लगा लीजिये. इसे लगाने के बाद आपका चेहरा ग्‍लो करेगा और कोमल हो जाएगा.

केला और शहद

केला और शहद दोनो ही एक अच्‍छे मौइस्‍चराइजर होते हैं. आधा केला पीस लें और उसमें 1 चम्‍मच शहद मिलाएं. अब इसे अपने चेहरे तथा गर्दन पर लगाएं और 15 मिनट के बाद चेहरा धो लें. इसके बाद स्‍टीमिंग लें और फिर मौइस्‍चराइजर लगा लें.

केला और ओट

एक कटोरे में आधा कप ओट और आ‍धा केला मिला लीजिये. अब इसे अपने चेहरे पर लगाइये और 10 मिनट तक लगा रहने दीजिये, उसके बाद इसे हल्‍के हाथों से पानी से रगड़ कर छुडा़ लीजिये. इससे ब्‍लैकहेड और डेड स्‍किन हट जाएगी.

अब नहीं होगी सर्दियों में स्किन ड्राई

सर्दी के मौसम का अपना ही मजा होता है. मौसम की ठंडक दिलोदिमाग को सुकून देती है और साथ ही ब्यूटी कौंशियस महिलाओं और युवतियों को इस बात की तसल्ली होती है कि अब त्वचा के चिपचिपेपन की समस्या से उन्हें दोचार नहीं होना पड़ेगा.

लेकिन सर्दियों की जो सब से बड़ी समस्या है वह है त्वचा का रूखापन. इसलिए सर्दियों में स्किन को मौइस्चराइज करना बेहद जरूरी है.

ठंड के कारण हम गरम पानी से नहाते हैं, लेकिन इस से स्किन ड्राई हो जाती है. इसलिए त्वचा की नमी बरकरार रहे इसकेलिए शरीर पर क्रीम व लोशन लगाना बहुत जरूरी है. हो सके तो नारियल या जैतून के तेल से शरीर की ठीक से मालिश करें, इस से त्वचा मुलायम बनती है.

नहाते वक्त माइल्ड सोप का इस्तेमाल करें. कैमिकलयुक्त सोप त्वचा की नमी को सोख कर उसे शुष्क बनाती है.

चेहरा दमकता रहे

शरीर के लिए धूप बहुत जरूरी है और सर्दियों में धूप सेंकना काफी अच्छा लगता है लेकिन ध्यान रहे कि धूप सेंकते वक्त चेहरे पर सूर्य की अल्ट्रावायलेट किरणें न पड़ें. इसलिए बेहतर रहेगा कि धूप में बैठने से पहले त्वचा पर सनस्क्रीन क्रीम लगा लें.

दिन में एक बार पपीते या केले का फेस पैक लगाएं, जिस से चेहरे की स्किन में नमी बनी रहेगी.

रात में सोने से पहले गुलाबजल से चेहरे को अच्छी तरह साफ कर ले और कोल्डक्रीम से हलकी सी मसाज करें. सुबह चेहरे की ताजगी बनी रहेगी.

चेहरे की त्वचा पर ताजगी बरकरार रखने के लिए नीबू व दही का उपयोग करें. दही में मौजूद लेक्टिक एसिड त्वचा पर फेशियल मास्क का काम करता है और त्वचा की अंदरूनी गंदगी को बाहर निकालता है.

नरम मुलायम होंठ

जी हां, यदि सर्दियों में आप नरम मुलायम होंठ रखना चाहती हैं तो लिप मौइस्चराइजर को होंठों पर जरूर लगाएं. होंठ न फटें इसलिए समयसमय पर विटामिन ई युक्त लिपबाम लगाते रहें. लिपस्टिक भी ऐसी हो जो औयल बेस्ड हो. रात को होंठों पर नारियल या जैतून का तेल या फिर मलाई लगा कर सोएं. सुबह आप के होंठ नरम मुलायम होंगे.

हाथों को बनाएं कोमल

हमारे हाथ सारा दिन काम करते हैं, इसलिए हर वक्त ढक कर या फिर दस्ताने पहन कर रहना नामुमकिन है. लगभग सारा दिन साबुनपानी के संपर्क में रहते हैं, इसलिए सर्दियों में हाथ की त्वचा रूखी हो जाती है और उंगलियां की स्किन भी फटने लगती है ऐसे में हैड मौइस्चराइचर जब भी मौका मिले हाथों पर लगा लें. डाइनैस बिलकुल न आने दें. माइल्ड हैंडवौश का प्रयोग करें.

एडि़यों को न करें नजरअंदाज

सर्दियों में पैरों को गरम रखने के लिए हम जुराब पहन लेते हैं जिन से वे छिप जाते हैं लेकिन ऐसा कर उन्हें नजरअंदाज करना खुरदरा बना देगा. इसलिए जुराब पहनने से पहले पैरों को अच्छी तरह से मौइस्चराइज करें.

एडि़यां फटे नहीं इस के लिए रात में फुटक्रीम एडि़यों पर अच्छी तरह मलें रोजाना ऐसा करने से एडि़यां पूरी सर्दी फटेंगी नहीं.

इस तरह इन छोटीछोटी बातों को ध्यान में रखते हुए अपनी खुद की देखभाल करें और सर्दियों को बनाएं अपने लिए खुशगवार.

अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें